UP मे Congress का Mega Plan || ईंट का जवाब पत्थर से देने की तैयारी || - Kabrau Mogal Dham

UP मे Congress का Mega Plan || ईंट का जवाब पत्थर से देने की तैयारी ||

नमस्कार मेरा नाम है प्रदीप चौहान और आप
देख रहे हैं मेरा चैनल खबर हार्ट बात
समझनी है तो पूरी सुननी होगी और उसके लिए
अगर आपने अब तक मेरा चैनल सब्सक्राइब नहीं

किया है तो सबसे पहले चैनल को सब्सक्राइब
कर लीजिए क्योंकि बात सुनने का तभी मजा
आता है जब बात पूरी हो और आपसे एक और
गुजारिश थी कि अगर आप हमारी कुछ मदद करना

चाहते हैं तो हमारे चैनल की मेंबरशिप आप
जवाइन कर सकते हैं या हमें सुपर थैंक्स के
जरिए भी मदद कर सकते हैं वह कहते हैं ना
कि ईंट का जवाब पत्थर से देने में कुछ मजा

अलग ही होता है मुझे लगता है कि इस वक्त
जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने
और बीजेपी के पूरी टीम ने 2024 के चुनाव
को लेकर यानी दो महीने के अंदर जो चुनाव
हो जाएंगे उसको लेकर जिस तरह से कांग्रेस

पर हमला बोला है संसद में भी संसद के बाहर
भी सड़क पर भी विधानसभाओं में भी और आपको
मालूम है अलग-अलग राज्यों में जिस तरह से
राहुल गांधी की यात्रा को डिस्टर्ब करने

के लिए या उसका इंपैक्ट कम करने के लिए जो
हथकंडे अपनाए गए हैं उस तरह का प्रहार
पिछले 10 साल में मैंने मोदी सरकार को
कांग्रेस पर करते नहीं देखा था मैंने क्या

हम सब ने नहीं देखा था क्योंकि जब भी आप
एक्सपेक्ट करते हैं कि जो सत्ता में
पार्टी है जो सरकार में है वह जब हमला
करेगी तो पूरे विपक्ष पर करेगी खास कर के

तब जब विपक्ष एक जूट होने की कोशिश कर रहा
मुख्य विपक्षी पार्टियां एक गठबंधन में
आने की कोशिश करी लेकिन इस बार हो यह रहा
है कि सिंगल पार्टी को निशाना बनाया जा

रहा है यानी कांग्रेस को कहीं ना कहीं
बीजेपी को यह लगता है कि अगर कांग्रेस
कमजोर हुई तो इंडिया गठबंधन का खत्म होना
अपने आप हो जाएगा इंडिया गठबंधन अगर जो

रहेगा भी तो कमजोर हो जाएगा
क्योंकि जो प्रधानमंत्री के भाषण है
लोकसभा और राज्यसभा में और जिस तरह से राम
मंदिर के बाद से लेकर लगातार कांग्रेस में

हमला हो रहा है उसने एक बात पूरे
हिंदुस्तान को साफ कर दी है कि दरअसल खतरा
बीजेपी को कांग्रेस से ही है कहीं
कांग्रेस ने परफॉर्म अच्छा कर दिया तो

साहिब की कुर्सी को खतरा हो जाएगा हालांकि
अभी जितने भी प्री पोल सर्वे आ रहे हैं या
जितने पंडित बैठे हैं वह चाहे प्रो बीजेपी
है चाहे दूसरे सभी बीजेपी को फिलहाल

एडवांटेज दे रहे हैं प्रधानमंत्री मोदी ने
तो सदन में बाकायदा दावा ठोक दिया कि
बीजेपी 370 पार होगी इस बार और एनडीए 400
पार

होगा हालांकि उन्होंने अभी तक यह नहीं कहा
कि हमें राजीव गांधी का रिकॉर्ड तोड़ना है
वह तो शायद ना ही टूटे लेकिन 370 का
आंकड़ा भी एक ऐसा आंकड़ा प्रधानमंत्री ने

ऐसा शगुफा छोड़ दिया है जो शायद वह खुद भी
जानते हैं कि नामुमकिन है इसको अचीव करना
लेकिन आपको मालूम है कि राजनीतिक

प्रोस्पेक्टिव की गेम होती है एक नैरेटिव
बनाया जाता है और इस नैरेटिव बनाने में
पिछले 10 साल में यह सरकार बहुत काम रही
है और यह खूबी भी है इस सरकार की इसके लिए

तारीफ भी आपको करनी पड़ेगी और वही नैरेटिव
बनाने की कोशिश की जा रही 370 पार की
लेकिन इस
बार खास करके पिछले दो दिनों में मैं जो

देख रहा हूं वह बदलाव यह है कि अब
कांग्रेस ने ईट का जवाब पत्थर से देने की
रणनीति अपना ली है आज अगर आप कांग्रेस का
पूरा दिन का एक्टिविटी देखिए तो आपको समझ

में आएगा कि किस तरह से अब वह कांग्रेस
नहीं दिख रही है जो कांग्रेस अभी तक दिखती
थी कि बीजेपी हमलावर होती थी और कांग्रेस
डिफेंड करती थी आज कांग्रेस अटैक का जवाब

अटैक से दे रही है आज दो बहुत
महत्त्वपूर्ण घटनाएं हुई लेकिन उस घटना से
आने से पहले एक चीज और मैं आपको बताना
चाहता हूं जो शायद आप लोगों में में से

बहुत सारे लोग इंटरेस्टेड है यह जानने के
लिए कि दरअसल अब जो राहुल गांधी की भारत
जोड़ो यात्रा है भारत जोड़ो न्याय यात्रा
है आज झारखंड में में एंटर कर गई है और

जल्द ही उत्तर प्रदेश में एंटर करने वाली
है और उसी से पहले उसी की वजह से उसी
यात्रा की वजह से ये जयंत चौधरी वाला खेल
हुआ है और इंडिया गठबंधन को तोड़ने की
कोशिश की गई लेकिन खबर यहीं तक नहीं खबर

उससे ज्यादा अलग है मुझे लगता है कि
कांग्रेस को मालूम था शायद कि कहीं ना
कहीं यह जयंत चौधरी जो है वह निशाने पर
हैं कांग्रेस इसके लिए तैयार थी इसलिए

कांग्रेस ने जो 20 सीटों का दावा किया है
ना 20 सीटें मांग रही है जो कांग्रेस
अखिलेश यादव से वो अभी तक ये लग रहा था कि
कांग्रेस हवाहवाई है लोग कह रहे थे कि

उनके पास 20 कैंडिडेट भी नहीं है लेकिन अब
कांग्रेस की रणनीति से समझ में आ रहा है
कि व हवाहवाई नहीं था वो प्लान बी
कांग्रेस ऑलरेडी एक्टिवेट कर चुकी थी अभी

इसी प्लान बी में एक बहुत अहम जानकारी जो
शायद आपने सुनी हो और मुझे भी दो दिन से
पता थी लेकिन कंफर्म नहीं हो रही थी अब
काफी हद तक सूत्र कह रहे हैं कि कंफर्म है

कि गांधी परिवार ने तय किया है कि इस बार
तीन में से कोई दो ही चुनाव लड़ेंगे वह दो
कोई भी हो सकते हैं वह राहुल गांधी सोनिया
गांधी हो सकते हैं राहुल गांधी प्रियंका

गांधी हो सकते हैं चांसेस ज्यादा यह हैं
कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी चुनाव
लड़ेंगे सोनिया गांधी राज्यसभा जाएंगी
राज्यसभा भी कर्नाटक तेलंगाना और हिमाचल

तीनों से ऑप्शन है और लग यह रहा है कि
शायद सोनिया गांधी हिमाचल से राज्यसभा में
जाएंगी क्योंकि प्रियंका गांधी का घर
हिमाचल में है शिमला में है और सोनिया

गांधी काफी वक्त वहां गुजारती हैं इसलिए
हिमाचल के साथ उनका एक लगाव है माना जा
रहा है कि हिमाचल से व राज्यसभा जा सकती
है लेकिन कहीं से भी जाए राज्यसभा जाना तय

है अब सवाल यह उठता है कि अगर सोनिया
गांधी राज्यसभा जाएंगी तो रायबरेली से
क्या प्रियंका गांधी चुनाव लड़ेंगी और अगर
रायबरेली से प्रियंका गांधी चुनाव लड़ेंगी

तो क्या राहुल गांधी वापस अमेठी आ रहे हैं
ये दोनों सवाल उठते हैं पहले सवाल का जवाब
यह है कि संभावना यह है कि राय बरेली से

प्रियंका गांधी चुनाव मैदान में उतर सकती
है इसमें कोई दोराहे नहीं है इसकी काफी
पुख्ता संभावना है अगर सोनिया गांधी ी वो

अमेठी को को लेकर जो मेरे पास जानकारी है
उसके हिसाब से राहुल गांधी अभी इंटरेस्टेड
नहीं है अमेठी से चुनाव लड़ने में वोह
वायनाड से ही चुनाव लड़ना चाहते हैं लेकिन

यहां पेच यह है कि अगर राहुल गांधी अमेठी
से चुनाव नहीं लड़ना चाहते तो उनकी जो
भारत जोड़ो न्याय यात्रा है फिर व राय
बरेली और अमेठी से होकर क्यों गुजर रही है

बहुत वाजिब सवाल है अब इसका जवाब जो निकल
के आ रहा है वो यह आ रहा है कि अमेठी से
कांग्रेस शायद वरुण गांधी को उतार सकती है

जी हां बहुत पुख्ता जानकारी है कि वरुण
गांधी और कांग्रेस के बीच में इन दिनों
संवाद चल रहा है अब सवाल सिर्फ इस पे अटका
है कि क्या वरुण गांधी कांग्रेस के
उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ेंगे या फिर

आजाद उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ेंगे
और वह लड़ेंगे तो कहां से लड़ेंगे अमेठी
से या सुल्तानपुर से कोशिश ये कर रही है
कांग्रेस की उन्हें अमेठी से उतारे वह

चाहे कांग्रेस की टिकट पर उतरे चाहे
निर्दलीय उतरे अगर व निर्दलीय उतरते हैं
तो कांग्रेस उनको समर्थन करेगी और जो
गठबंधन की सीट शेयरिंग है उसमें जो राहुल

वरुण गांधी की सीट होगी वह कांग्रेस के
कोटे में गिनी जाएगी कांग्रेस उन्हें अपने
कोटे से सीट देगी तो अगर ऐसे में वरुण
गांधी अमेठी से उतरते हैं और राहुल गांधी

उससे पहले यात्रा वहां से गुजारते हैं तो
मुकाबला इस बार अमेठी में बड़ा
इंटरेस्टिंग होने वाला

है मुझे लगता है पूरे चुनाव में इस बार के
लोकसभा चुनाव है सबसे ज्यादा नजर अगर कहीं
रहेगी तो वह अमेठी के चुनाव पर ही रहेगी
और यही फ्रस्ट्रेशन अभी आपको स्मृति रानी

के चेहरे पर भी दिख रही है जब व संसद में
अमेठी में किए गए कामों का बखान कर रही थी
तो वहीं आपको समझ जाना चाहिए था कि खबरें
उनके लिए अच्छी नहीं आ रही तो यह एक अपडेट

था उत्तर प्रदेश को लेकर कांग्रेस को लेकर
अब आइए बात कि कांग्रेस का जो अटैक मोड प
आने का जो एक तरीका अपनाया है इसका सबसे
बड़ा उदाहरण आज उस वक्त मिला जब राहुल

गांधी ने उड़ीसा में प्रधानमंत्री की जाति
को लेकर उन पर हमला किया आपको मालूम है कल
राज्यसभा में प्रधानमंत्री ने बड़े जोरो
शोरों से यह मुद्दा उठाया कि जो न्याय की

बात करी सामाजिक न्याय की कांग्रेस बात
करी उसको लेकर उनका खूब खरी कोटी कांग्रेस
को सुनाई उन्होंने उन्होंने जवाहरलाल
नेहरू तक को कोट कर दिया कि उन्होंने

आरक्षण की खिलाफत की थी हालांकि वह बात
सही नहीं है यह अब प्रूव हो चुका है जब
उनके तथ्य निकल के सामने आए
खैर लेकिन उसके जवाब में आज राहुल गांधी

का जो अंदाज था वह अंदाज बड़ा निराला था
एक्चुअल में राहुल गांधी नॉर्मली मेरे को
ऐसे दिखते नहीं जहां वह प्रधानमंत्री की
नकल भी कर रहे हैं और साथ में जो बोलते

हुए उनके एक्सप्रेशन और उसमें जो एक दम
दिख रहा था ना उस अंदाज से साफ लग रहा था
कि राहुल गांधी अब वन टू वन मोदी के साथ
इस जाति के मुद्दे को लेकर लड़ना चाहते

हैं क्योंकि राहुल गांधी कहीं ना कहीं मान
चुके हैं कि जातिगत जनगणना का मुद्दा या
उनका सामाजिक न्याय का मुद्दा 2024 में

उनका सबसे बड़ा प्लैंक होने वाला है
इसीलिए आज प्रधानमंत्री पर सीधा हमला उनकी
जाति को लेकर किया गया और साथ ही उनके सूट
बूट को लेकर भी मैंने जाति जनगणना की बात
की सामाजिक न्याय की बात की नरेंद्र मोदी

जी ने भाषण दिया कहते हैं भाइयों और
बहनों इस देश में
सिर्फ दो जाते है एक अमीर है एक गरीब
है अच्छा भैया अगर दोही जाते हैं तो आप

कौन सी जात के
हो आप गरीब तो नहीं हो आप 24 घंटा नया सूट
पहनते
[संगीत]
हो करोड़ों रुपए का सूट पहनते हो आप गरीब
और अगर दोही जात है तो आप ओबीसी कहां के

बन

है भैया भैया सुबह एक नई ड्रेस आती
है उसके बादर अल दोपहर में अलग शाम को अलग
और हर रोज अलग अलग अलग और फिर ये झूठ बोल
रहे हैं कि मैं ओबीसी वर्ग का आदमी हूं
नरेंद्र मोदी ओबीसी नहीं पैदा हुआ नरेंद्र
मोदी जनरल कास्ट का आदमी पैदा हुआ

उसकी जात को ओबीसी बीजेपी ने सिर्फ गुजरात
में
बनाया य 24 घंटा हिंदुस्तान के पिछड़े
लोगों से झूठ बोल रहे हैं सर्टिफिकेट से
सर्टिफिकेट का
इसलिए मैं उनकी बात पर बात नहीं कहना

चाहता हूं कांग्रेस के नेता ने या
उन्होंने क्या कहा है मैं उस पर बात अपनी
बात नहीं कहना चाहता हूं
लेकिन जन्म से नहीं बहुत से लोग

पिछड़े राहुल गांधी की यात्रा जैसे मैंने
कहा उड़ीसा से झारखंड पहुंच गई है और
धीरे-धीरे अपने मुकाम की तरफ जा रही है 10
मार्च के आसपास शायद याय उसके एक दो दिन

बाद यात्रा समाप्त होनी है शायद लेकिन इधर
कांग्रेस ने दिल्ली में जो लग रहा था
पिछले कुछ दिनों से मेरे मन में भी ये
सवाल उठ रहा था कि ये राहुल गांधी तो

यात्रा कर रहे हैं लेकिन वो अकेला आदमी
क्या-क्या करेगा बाकी कांग्रेस थोड़ी
शिथिल सी नजर आ रही थी कुछ नहीं हो रहा था
लेकिन आज दिल्ली में कांग्रेस ने बीजेपी

ने कहा कि हम पिछले यूपीए सरकार पर श्वेत
पत्र लाएंगे तो उससे पहले कांग्रेस ने आज
बीजेपी के 10 सालों पर ब्लैक पेपर जारी कर
दिया जिसे नाम दिया 10 साल अन्याय काल

जिसमें बहुत सारे मुद्दे उठाए हैं जिस पर
डेमोक्रेसी को लेके किसानों के आंदोलन को
लेके एमएसपी को लेके महिलाओं के साथ
अत्याचार यह सारी चीजें जो भी इश्यूज रहे

हैं उनको उठाया उस ब्लैक पेपर में लेकिन
आज एक डेवलपमेंट इसके बीच में यह हुई कि
महाराष्ट्र के कांग्रेस के कद्दावर नेता
बाबा सिद्दीकी ने कांग्रेस छोड़ दी अलविदा

कह दिया 48 साल बाद और माना जा रहा है कि
वो शायद अजीत पवार के साथ अजीत पवार की
पार्टी में जाएंगे और उसके पीछे की वजह
सिर्फ वही है जो अब तक पिछले 10 साल में

दिखी है वो है कि उनके खिलाफ भी ईडी और
सीबीआई की फाइलें तैयार थी उसी प्रेशर में
उन्होंने पार्टी छोड़ी इसी को लीफ लेकर आज
जब ब्लैक पेपर कांग्रेस ने जारी किया तो
मल्लिकार्जुन खड़गे ने

बाकायदा जिक्र किया कि किस तरह से पिछले
10 सालों में पैसे के दम पर इस पार्टी ने
कांग्रेस को और कांग्रेस के विधायकों को
तोड़ने की कोशिश की है खरीद फरोख्त की है

इससे पहले 10 साल पहले अगर उनके आइडियो
जीी पे ही है फिर इतने पैसे क्यों नहीं
जमा होते थे अब क्यों जमा सो ये
इनडायरेक्टली हरासमेंट

प्रेशराइज करके आप इलेक्शन में पैसा ले
रहे हैं और यह पैसा डेमोक्रेसी को खत्म
करने के लिए यूज कर रहे हैं
411 एमएलए को 10 साल में उन्होंने अपने

तरफ लिया अब मैं यह नहीं कहता कितना पैसा
देकर खरीदे क्या करे व नहीं लेकिन आपको तो
मालूम है कितने सरकार हमारे इलेक्टेड थे
जैसा कि मध्य प्रदेश कर्नाटक मणिपुर गोवा

उत्तराखंड यह सब आप जानते हैं कैसे गिरे
कि उनको इसमें य डेमोक्रेसी को खत्म करना
उनका काम है यह तो कांग्रेस के बी प्लान
किया कांग्रेस के जो मोड है उसकी बात करें

एक सवाल लेकिन अभी भी मेरे मन में है और
बहुत सारे लोग यह सवाल पूछ रहे आज की डेट
में कि दरअसल प्रियंका गांधी कहां है आजकल
प्रियंका गांधी इतनी शांत क्यों बैठी है

प्रियंका गांधी यदा कदा एक्स पर कुछ ट्वीट
कर देती हैं बाकी प्रियंका गांधी कहीं
नहीं दिखाई दे रही यह सवाल आपके मन में भी
होगा यह सवाल मेरे मन में भी है लेकिन

कांग्रेस की तरफ से अभी इसका कोई जवाब
नहीं दिया जा रहा और अगर प्रियंका गांधी
सच में रायबरेली से चुनाव मैदान में
उतारने की तैयारी में है तो वह रायबरेली

में क्यों नहीं दिख रही शायद वह इस वजह से
कि मुझे ऐसा लग रहा है कि राहुल गांधी की
यात्रा यूपी में आनी है राय बरेली में ही
अखिलेश यादव ने भी उस यात्रा को जवाइन

करना है प्रियंका गांधी माना जा रहा है कि
उत्तर प्रदेश में इस यात्रा के साथ जुड़ें
और प्रियंका गांधी के यात्रा से जुड़ने के
साथ ही औपचारिक तौर पर मुझे लगता है कि

प्रियंका गांधी के रायबरेली से उतरने की
शुरुआत हो जाएगी और हो सकता है वहां पर
आपको बहुत सारे इंडिकेशन मिल जाए कि

प्रियंका गांधी अब रायबरेली से चुनाव
लड़ने वाली हैं क्योंकि वजह जैसे मैंने
पहले कहा वजह साफ है अमेठी रायबरेली जाने
की वजह साफ है कि कहीं ना कहीं राहुल

गांधी वहां दोनों सीटों को लेकर अपनी
तैयारी पूरी करना चाहते हैं और गांधी
परिवार को लेकर ही वह सीटें की तैयारी हो

रही है लेकिन तब तक प्रियंका गांधी इतनी
शांत क्यों बैठी इतनी खामोश क्यों बैठी है
यह सवाल तो बहुतों के मन में है यहां तक
कि कांग्रेस के नेताओं के भी मन में है अब

इसका जवाब तो प्रियंका गांधी ही दे सकती
है और कोई नहीं दे सकता या फिर गांधी
परिवार दे सकता है और आपको मालूम है गांधी

परिवार में एक और जो है वो प्रियंका गांधी
का हमेशा से ट्रैक रिकॉर्ड रहा है मुझे
ऐसा लगता है कि जब राहु गांधी कुछ कर रहे
होते हैं तो प्रियंका गांधी लाइमलाइट शेयर

नहीं करती वह नहीं चाहती कि वह धयान ध्यान
जो है राहुल गांधी से हट के प्रियंका
गांधी प आ जाए इसलिए लगता है मुझे कि
प्रियंका गांधी आजकल थोड़ी सी शांत बैठी

है कि सारा फोकस राहुल गांधी की यात्रा पर
रहे अब इसे आप बहन का भाई के लिए प्यार कह
लीजिए एक समझदार पॉलिटिशियन की निशानी कह
लीजिए कुछ भी कह लीजिए लेकिन मुझे एक बहुत

बड़ी वजह प्रियंका गांधी के गायब होने की
यही लग रही है
खैर आपको क्या लगता है यह जो बातें मैंने
कही प्रियंका गांधी को लेकर खास करके
कमेंट बॉक्स में जरूर बताइएगा कि क्या

प्रधानमंत्री का सच में 370 का सपना पूरा
हो पाएगा या जो कांग्रेस ने तरीका अपनाया
है यह तरीका कारगर साबित होगा फिलहाल इस
वीडियो को यही खत्म करता हूं अगर आपको

वीडियो पसंद आए तो लाइक बटन जरूर दबाइए
दोस्तों के साथ शेयर कीजिएगा और कमेंट
बॉक्स में कमेंट करना मत भूलिए और आपने तक
मेरा चैनल अगर सब्सक्राइब नहीं किया है तो

प्लीज चैनल को सब्सक्राइब जरूर कर लीजिए
नमस्कार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *