Kali kavach ( in hindi ) | काली कवच ( हिंदी में ) | Mantra Sarovar | By - Bhaskar Pandit 🙏 - Kabrau Mogal Dham

Kali kavach ( in hindi ) | काली कवच ( हिंदी में ) | Mantra Sarovar | By – Bhaskar Pandit 🙏

अजय को

को

अच्छी तरह गण मंगल दायक कवच प्रेम से

बोलिए जय माता की

भक्तजनों मां कालिका यह कवच भोग व मोक्ष

प्रदान करने वाला मोहिनी शक्ति देने वाला

पापों का नाश करने वाला विजयश्री दिलाने

वाला अद्भुत अवश्य इसका नित्य पाठ या

श्रवण करने से मनुष्य में

अनुिार मन होता है जिसके प्रभाव से तीनों

लोकों के जी हुए उस मनुष्य के वशीभूत हो

जाते हैं अतिरिक्त प्रभाव के गुण से योग्य

माधवी को अतिप्रिय है मां भैरवी गोली हे

नाथ हे प्रभु मैंने काली पूजा और उसके

विविध भावों को सुना अब पूर्व व्याख्यान

सुनने की इच्छा हुई है उसका वर्णन करके

मेरी ईएस दुख संकट से रक्षा कीजिए आप ही

सृष्टि की रचना करते हैं आप ही रक्षा करते

हैं और आप ही संघार करते हैं हे नाथ आप ही

मेरे आश्रय हैं श्री भैरों ले हे

प्राणवल्लभे अब मैं श्री जगन्मंगल नमक

काली कवच कहता सुनो इस कवच का पाठ करने

अथवा इसे धारण करने से त्रिभुवन को

आकर्षित करने की शक्ति प्राप्त होती है

अर्थात इस खबर से त्रिलोकी को भी शीघ्र

मोहित किया जाता है श्री हरि नारायण ने भी

इस कवच को धारण कर गई ना रूप से योगेश्वर

शिव को मोहित किया था अ कि श्रीराम ने भी

इस कवच को धारण करके देख रावण व अन्य

राक्षसों का संहार किया जाना

चाहिए इसके ही प्रसाद से मैं त्रिलोक विजई

हुआ और

इसके ही प्रसाद से धन आधी हुए

सचिव पति देवराज इंद्र और संपूर्ण देवता

गण इसी के प्रभाव से सचिव सिद्धेश्वर हुए

हैं अर्थात सिद्धि संपन्न हुए हैं

जगन्मंगल काली कवच के शिवजी ऋषि हैं

अनुष्टुप छंद है

दक्षिण कालिका देवता है

मोहंमद दुष्ट निग्रह भूख से मुक्ति और यह

सिद्ध आकर्षण के लिए इसका विनियोग किया

जाता है मां कालिका और स्क्रीन का रस

अच्छी तरह मेरे मस्तक की

यह क्रीम क्रीम क्रीम और खड्ग धारण

कालिका मेरे ललाट की होम मेरे दोनों

नेत्रों की

रीनी अमेरिकन कि दक्षिण कालिका दोनों

नासिकाओं की घी क्रीम क्रीम क्रीम

मेमरी भाग अर्थात जॉब भी होम

मेरे कपोलों की और इन ड्रीम

स्वाहास्वरूपणी

महाकाली मां मेरे संपूर्ण देगी रक्षा सभी

अच्छी तरह गुप्त विद्या रूप सुख प्रदाय

[संगीत]

महाविद्यालय मेरे दोनों कानों की खड़क और

मुकुट धारण इकाई मेरे सभी अंगों की

प्री-ईएमआई हुई हरी मिर्च चामुंडा मेरे ही

रहेगी

ई एम होम ओम एम मेरे दोनों स्तनों की रिंग

स्वाहा मेरे पृष्ठभागी

अश्लील महाविद्यालय मेरे दोनों भुजाओं की

और क्रीम क्रीम

घुम-घुम रिमझिम

अश्लील विद्यालय मेरे दोनों हाथों की

रक्षा सह

मीडिया भी घी दक्षिण कालिका मेरे मध्य भाग

की क्रीम स्वाहा और दशाक्षरी विद्या आल

मेरे पीठ की क्रीम गुप्त अंगों की रक्षा

करें अक्षरी विद्यालय सभी अंगों की

रक्षा करें

मीडियम दक्षिण कालिके होम

रीनी मेरी घटी भाभी

दशाक्षरी विद्या यार मेरे को रूखी और ओम

र्ईधन स्वाह मेरी जान की रक्षा करने कालीन

हिंदी ड विद्यालय चतुर्वर्ग फलदायिनी है

क्रीम

र्ईधन की

प्री-ईएमआई होम

रीनी स्वाह और चतुर दशाक्षरी विद्या

मेरे शरीर की रक्षा करें अपने हाथों में

खड्ग और मोहन धारण करने वालों वरद मुद्रा

वाली भयहारिणी मां काली सब विद्याओं सहित

मेरे संपूर्ण शरीर की रक्षा करें

मां काली कपालिनी एक उबला कुरुकुल्ला

विरोधी

वृत्तचित्र फालतु प्रभाव दीवा घना नीला

बालिका माता खडग धारिणी मुंड मालिनी

ब्राह्मी नारायण

महेश्वरी ई एम चामुंडा

कौमारी ईएस अपराजिता

वाराही नारसिंही आदि सभी माताएं दिशाओं व

विदिशाओं में सर्वत्र मेरी रक्षा करें

मैंने यह जगन्मंगल नामक महामंत्र स्वरूपी

परम अद्भुत कवच कहा है जो ख्याल एवं

चमत्कारी है इस कवच के द्वारा त्रिभुवन

आकर्षित होता है इस कवच का एक बात या तीन

बार अथवा जीवन पर एक पाठ करना चाहता हूं

कि इसका नित्य बार पाठ करने से साधक

में त्रैलोक्य विजय होने जितनी शक्तियां

जाते हैं इस कवच के प्रसाद से त्रिभुवन

शोभित होता है इस कवच के प्रसाद से अर्थात

फल से एक मास में ही साधक को सभी

सिद्धियां प्राप्त हो जाता है सर्व

सिद्धेश्वर हुआ जा सकता है

मूलमंत्र द्वारा मां काली को पुष्पांजलि

लेकर इस कवच का एक बार पाठ करने से

शत-सहस्र वर्ष की पूजा का फल प्राप्त हो

जाता है अर्थात लाखों वर्ष की पूजा का फल

प्राप्त होता है

भोजपत्र या स्वर्ण पत्र पर इस कवच को

लिखकर शेष अवधि में झाला कंठ में अर्थात

गले में धारण करने से धारक प्रति लोगों को

आकर्षित

है या नष्ट करने में समर्थ हो जाता है ऐसा

मनुष्य पुत्र धन की वृद्धि व अनेक

विद्याओं में दक्ष होता है उस पर

ब्रह्मास्त्र अन्य का अधिक प्रभाव नहीं

पड़ता कवच के प्रभाव से सभी अनिष्ट दूर

होते हैं

पर न्यायालय व्यवस्था स्त्री इस कवच को धो

लें या बाईं भुजा में धारण करें तो उसको

संतान की प्राप्ति होती है वह अवस्था होती

है इसमें लेस भी संशय नहीं है अ भक्त

अथर्व शिष्य को यह कवच प्रदान नहीं करनी

चाहिए यह कवच अपने भक्तों शिष्य को ही

देनी चाहिए इसके अन्यथा करने से वह मृत्यु

के मुख में जाता है इस कवच के प्रभाव से

साधक के घर में कि लक्ष्मी का सफाई वास

होता है और उसे वाच्य सिद्धि प्राप्त होती

है ऐसा पुरुष अनंतकाल तक पौत्र पुत्र का

सुख भोगता है इस जगन्मंगल काली कवच को

जाने बिना या जो मनुष्य काली मंत्र का जप

करता है वह चाहे कितना ही जप करें उसे

सिद्धि की प्राप्ति नहीं होती और वह

शस्त्राघात द्वारा मरण को प्राप्त होता है

अतिथि श्री जगन्मंगल कवचम्

संपूर्ण अ प्रेम से बोलिए जय माता दी ॐ ऐं

फिफ्थ

चामुंडाए विच्चै है

जय हो ओम मैं भी धुंध चामुंडाए विच्चे

[संगीत]

ॐ मैं भी फ्री

चामुंडाए विच्चै

दर्शकों आपको यह वीडियो पसंद आए तो कमेंट

करें जय मां भवानी और कृपया मनसरोवर चैनल

को लाइक शेयर एंड सब्सक्राइब करना ना

भूलें

[संगीत]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *