महायोगी गोरखनाथ और माँ काली का युद्ध | Mahayogi Gorakhnath Part 11 | Maa Kali Gorakhnath 11 | Chanda - Kabrau Mogal Dham

महायोगी गोरखनाथ और माँ काली का युद्ध | Mahayogi Gorakhnath Part 11 | Maa Kali Gorakhnath 11 | Chanda

देते हैं

कि मेरे समक्ष अप विद देखते हैं कौन

मृत्यु को प्राप्त होता है सावधान

कि मैं

अजय को

कर दो

में

ही काली माता आपको गोरखनाथ का परिणाम है

मैं तुम्हारे

कि

माता प्रसन्न क्षमा करने या ना करने का

नहीं है आप तो देवी स्वरूप हो

महाकाली आप मेरे लिए बहुत ही आदरणीय है और

पूजनीय है कि गोरखनाथ नाथ योगी जरूर सामने

लेकिन

यह लेकर आ

कर दो

अजय को

कर दो

कि हे माता काली आप मुझ पर इस तरह से

क्रोधित क्यों हो रही हो मैं इसका कारण

जानना चाहता हूं

कुछ जानते हुए भी अनजान मत बनो गोरखनाथ

अपने मेरा क्षेत्र है

कि जो

क्वेश्चन की बलि देकर मुझे प्रसन्न करना

पड़ता है

ऐसा क्यों कोई असर नहीं पड़ता है लेकिन

छोटे-छोटे टुकड़े करते-करते बलि ले लेती

हूं

हे माता आपका इस तरह निर्दोष प्राणियों की

बलि लेना एक नहीं है

[संगीत]

है और वैसे भी हम संतों पर आपके यह नियम

लागू नहीं होते हैं

कि मुझे ज्यादा उपज देने की आवश्यकता नहीं

है गोरखनाथ मठ

कि किस प्रक्रिया नियम लागू होते हैं यह

सोचना हमारा काम है

क्योंकि इस समय में तुम मेरे अधिकार

क्षेत्र में खड़े हो

मैं तुम्हें एक आखिरी अवसर प्रदान करती

हूं गोरखनाथ मठ

कि अगर तो अपने प्राणों की रक्षा चाहते हो

तो इतना अधिक है कि भेज दो तो

ब्लुटूथ

अजय को

क्यों नहीं माता नहीं अपने शिष्यों और

भक्तों की रक्षा करना मेरा परम धर्म है

मैं स्वयं के प्राणों के लिए किसी से की

बलि नहीं दूंगा आपको जो करना है कर लीजिए

अब

लुट गोरखनाथ लगता है तुम्हारा अपने

प्राणों से मोह भंग हो चुका है द्रविड़ ने

ड्यूटी पर हो

तुम्हें शायद मेरी शक्तियों का अंदाजा

नहीं है

कि मैंने बड़े-बड़े राक्षसों का डर से

सिलेक्ट करके खून किया है गोरखनाथ

सृष्टि में देव दानव मानव किसी ने प्रशांत

ने जो मेरा सामना कर सके और तुम तो एक

मामले से योगी गोरखनाथ

पता लगता है आपका सामना किसी धूनी रमाने

वाले बाबा से नहीं हुआ है

अन्यथा आपको उनकी शक्तियों के बारे में

ज्ञात होता था हम ऋषि सैकड़ों-हजारों

वर्षों तक तप करते हैं

मैं तो भगवान से शक्ति प्रदान होती है

और हम जब कल्याण करते हैं

है तो यह संसार चलता है और स्वयं ब्रह्मा

के लिखे लेख को पढ़ छन में बदल सकते हैं

और हमारे लिखे लेख को संसार में कोई नहीं

बदल सकता

माता-पिता आज यह ढूंढ हमारे वाला गोरखनाथ

रात धरती आकाश पाताल चारों दिशाओं को

शक्तिमान कर दो

है और आपको खुले शब्दों में चेतावनी देता

है यह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *