8 अप्रैल 2024 सूर्य ग्रहणमाँ काली का सन्देश जो तुम्हारे सगे थे उसी ने तुम्हारे साथ छल किया - Kabrau Mogal Dham

8 अप्रैल 2024 सूर्य ग्रहणमाँ काली का सन्देश जो तुम्हारे सगे थे उसी ने तुम्हारे साथ छल किया

मेरे बच्चे मुझे पता है जितना प्रेम तुम

मुझसे करते हो शायद ही किसी से कर पाओ

जितना यकीन तुम्हें मुझ पर है शायद ही

किसी पर हो तुम्हें यह भी पता है मेरे

बच्चे कि मेरे अलावा इस संसार में कोई

तुम्हारा अपना नहीं है कोई ऐसा नहीं है जो

तुम्हारे दुख दर्द को दिल से सुने लोग

सुनने का दिखावा तो करते हैं लेकिन कोई

तुम्हारा दर्द समझ नहीं सकता जैसे

तुम्हारी माता समझती है कोई तुम्हारे आंसू

पर वैसे रो नहीं सकता जैसे मैं रोती हूं

मुझे पता है तुम अकेले में आज भी बहुत

रोते हो बहुत

सारी चिंताएं ऐसी हैं जो तुम्हारे मन को

भारी कर देती है बहुत सारी बातें ऐसी हैं

जो तुम किसी को बता ही नहीं सकते तुम अपने

अंदर ही उन बातों को रखकर घटते चले जा रहे

हो मेरे बच्चे जब तुम अकेले होते हो तो उन

बातों के अंधेरे पन में खो जाते हो फिर

तुम्हें इस संसार में कुछ भी सही नहीं

दिखता है लोगों ने तुम्हारे साथ वक्त वक्त

पर छल किया है वह पराए होते तो शायद तुम

एक बार भूल भी जाते लेकिन वह तुम तुम्हारे

अपने थे जिन्होंने तुम्हारे पीठ पीछे वार

किया मेरे बच्चे आज भी ऐसे लोग हैं

तुम्हें बहुत

अच्छ छह से पता है वह लोग कौन है जो

तुम्हारे अपने नहीं हैं लेकिन अपने होने

का दिखावा कर रहे हैं और तुम आज भी उन

लोगों की बातों पर रोते हो तुम्हें पता है

वह लोग तुम्हारे पीठ पीछे वार कर रहे हैं

फिर भी तुम उनकी सेवा करते चले जा रहे हो

फिर भी तुम उनकी सारी बातें मानते चले जा

रहे हो उनकी सारी बातें सुनते चले जा रहे

हो और फिर अकेले बैठकर तुम रोते हो कि मां

मैं तो उनके लिए इतना कुछ कर रहा हूं क्या

मैं इतना बुरा हूं कि कोई मुझसे झूठा

प्रेम भी नहीं कर पा रहा है क्या मैं इतना

बुरा हूं कि पूरा

जगत पूरा संसार मिलकर मुझे नीचे खींचने की

कोशिश कर रहा है लेकिन मेरे बच्चे मुझे यह

नहीं समझ आता जब तुम्हारा दिल जानता है

तुम्हारी अंतरात्मा जानती है कि मेरे

अलावा तुम्हारा कोई और नहीं है तो तुम उन

लोगों से इतनी उम्मीद ही क्यों लगा बैठे

हो अगर वह तुम्हारे साथ इतना गंदा बर्ताव

कर रहे हैं जब तुम्हें पता चल रहा है कि

वह पीठ पीछे क्या बोल रहे हैं तो तुम उनके

के साथ अपने संबंधों को खत्म क्यों नहीं

कर देते हो तुम खुद को उन लोगों के लिए

इतना नीचे क्यों दिखा रहे हो इतना नीचे

क्यों गिरे जा रहे हो मेरे बच्चे उनकी हर

कहीं बात सुन रहे हो वह किसी से कुछ कहते

हैं वह लोग तुम्हारा बना बनाया काम बिगाड़

दे रहे हैं फिर भी तुम्हारे अंदर इतनी

हिम्मत नहीं हो रही कि तुम जाकर उनके मुंह

पर बोल सको कि आपने मेरे साथ ऐसा किया है

फिर भी तुम उनकी सारी बातें हंसकर सुन रहे

हो और तुम आज भी उनका भला चाह रहे हो और

यही कोमलता है तुम्हारे हृदय में जो लोग

नहीं समझ पा रहे

हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *