4. Maa kali ?️ वह तुम्हारे जज्बातों के साथ खेल रहा है।?️ तुम भीतर से बदल गए हो।?️ - Kabrau Mogal Dham

4. Maa kali ?️ वह तुम्हारे जज्बातों के साथ खेल रहा है।?️ तुम भीतर से बदल गए हो।?️

मेरे बच्चे कुछ लोग तुमसे बहुत नफरत करते हैं तुम्हें जलन के लिए अलग अलग तरीके अपनाते हैं कभी तुम्हारे

खिलाफ दूसरों के कान भरते हैं कभी तुम्हारे सामने ही तुम्हें भला बुरा कहते हैं तुम पर गलत आरोप लगाते हैं

तुम्हारे अपनों को तुमसे दूर करना चाहते हैं किंतु तुम सदैव दूसरों का किया अनदेखा करते हो तुम्हें कोई फर्क नहीं पड़ता की कौन तुम्हें बर्बाद करना चाहता है तुम्हारा अपमान करना चाहता है यह तुम्हें अपशब्द बोलता है

तुम्हें अपने कर्मों पर विश्वास है तुम्हें पूरा भरोसा है की कोई कितना भी षड्यंत्र कर ले तुम्हारा अनिष्ट नहीं कर सकता मेरे बच्चे तुम बहुत ही शांत और सुलझे हुए व्यक्ति हो तुम्हें बोलने से ज्यादा के दिखना पसंद है तुम बहुत

बुद्धिमान हो किंतु तुम्हें अपने ज्ञान का कोई अहंकार नहीं है तुम कभी दिखावा नहीं करते हो कोई तुम्हें निशा भी दिखाना चाह तू भी तुम कभी अपना मानसिक संतुलन नहीं कोट मेरे बच्चे सादगी को देखकर लोग तुमसे बहुत

खुश है तुम पर बहुत विश्वास करते हैं वह अपनी कोई भी समस्या तुम्हारे सामने खुलकर केहते हैं उन्हें पूरा विश्वास है कि तुम उनकी भावनाओं को समझोगे उनकी समस्या का निवारण करोगे और तुम करते भी हो मेरे

बच्चे तुम स्वयं संकट में रहते हो तभी की मदद करते हो तुम्हें कभी अपनी खुशी और अपनों की खुशी को चुनना हो तो तुम अपनों की खुशी चुनोगे बहुत बार तुमने अपनों के लिए अपनी खुशियों का त्याग भी किया है मेरे बच्चे

कई बार कुछ लोग तुम्हारी शराफत का फायदा भी उठा लेते हैं किंतु फिर भी तुम अपने मन में किसी के लिए नफरत नहीं प्लेट क्योंकि तुम्हारे लिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *