370 सीटों का टारगेट क्यों सेट कर रहे Modi ? चुनाव के सबसे बड़े खेल का पर्दाफाश | Deepak Sharma | - Kabrau Mogal Dham

370 सीटों का टारगेट क्यों सेट कर रहे Modi ? चुनाव के सबसे बड़े खेल का पर्दाफाश | Deepak Sharma |

नमस्कार  मेरे य मंच पर
आपका
स्वागत दोस्तों मोदी जी अपने भाषण में
कितना सच बोलते हैं कितना झूठ बोलते हैं
इस पर बहस करना बड़ा मुश्किल है लेकिन एक

बात जरूर एक बात जरूर है कि मोदी जी जो
चीज बार-बार दोहराए जो बात बार-बार रिपीट
करें हर दिन बारबार रिपीट करें उस बात को
समझना बहुत ज रही है मिसाल के तौर पर

पिछले दो दिनों से व चाहे लोकसभा में भाषण
दे रहे हैं राज्यसभा में भाषण दे रहे वो
एक ही बात रिपीट कर बारबार चार बार एक बात
रिपीट कर चुके हैं कि इस बार बीजेपी 370
सीटें लाने जा रही है 370 सीट चौकी का मत

मोदी जी हैं 370 सीटें बीजेपी लाने जा रही
है और यह बात मोदी बारबार रिपीट कर रहे
लेकिन भारतीय जनता पार्टी को 370 सीट
अवश्य

देगा बीजेपी को 370
सीट अब दोस्तों मोदी जी के इन दावों में
कितना दम है 370 सीटें जी हा 543 में 370
सीटें इसकी क्या सच्चाई है कितना दमखम है
इस पर तो मैं आऊंगा लेकिन यहां पर एक चीज

मैं और बताना चाह रहा हूं कि 370 सीटों के
साथ-साथ मोदी जी आजकल एक और बात बार-बार
रिपीट कर रहे हैं और वो बात है कि उनका जो
तीसरा कार्यकाल है उनका जो थर्ड टेनर होगा

होगा व बहुत ही बड़े फैसलों का टेनर होगा
उसमें बहुत ही हैरत अंगेज
फैसले मोदी लेने जा रहे हैं क्या मोदी
हिंदुस्तान बदलने जा रहे हैं सुनिए पहले

हमारा तीसरा कार्यकाल बहुत बड़े फैसलों का
होगा हमारा तीसरा कार्यकाल बहुत बत बड़े
फैसलों का
होगा दोस्तो मोदी जी ने य तो भाषण बहुत

लंबा दिया राजसभा में भी लोकसभा में भी हर
तरह का तंज किया नेहरू से लेकर राहुल
गांधी राहुल गांधी से लेकर खड़के तक लेकिन
मैंने कहा दो बातें बहुत इंपॉर्टेंट है

जिसको वह बार-बार हर महफिल में दोहरा रहे
हैं 370 सीट्स वो लाएंगे और बड़े फैसलों
का कार्यकाल होगा अभी चुनाव नहीं हुए अभी
चुनाव डिक्लेयर भी नहीं हुए लेकिन मोदी जी

ने कह दिया है ऐलान कर दिया कि उन्होंने
चुनाव जीत लिया है और वो तीसरे कार्यकाल
की बात कर रहे हैं कि तीसरे कार्यकाल में
वो बहुत बड़े फैसले लेने जा रहे हैं अब ये

बड़े फैसले क्या है क्या हिंदू राष्ट्र
बनाने जा रहे हैं क्या संविधान बदलने जा
रहे हैं या फिर पीओके लेने जा रहे हैं वो
क्या करने जा रहे

हैं वो कौन से हैरत अंगेज फैसले लेने जा
रहे हैं जहां वो कह रहे हैं कि तीसरा टेनर
बहुत बड़े फैसलों का होगा अब मोदी पर क्या
वाकई यकीन किया जाए उनकी जुबान पर उनकी

फेस वैल्यू पर क्या वाकई वह 370 सीटें ला
रहे हैं जो 370 सीटों की बात हो रही है
बेबुनियाद है सच से कोसों दूर है और जमीनी
हकीकत यह है कि मोदी जी चुनाव जीतने भी जा

रहे हैं या नहीं यह भी नहीं कहा जा सकता
और हमारे जो एक्सपर्ट हैं अशोक वानखड़े
टाइगर जो अभी चार राज्यों से दौरा करके
लौटे हैं उनका तो यह कहना है कि 370 तो

बहुत दूर है मोदी जी को 270 के लाले पड़े
हुए हैं क्या 370 आ रहे 270 के लाले पड़े
हैं आप 370 की बात कर रहे हैं 270 के लाले
पड़े

हैं अब दोस्तों टाइगर के साथ और हमारे
एक्सपर्ट डेटा जर्नलिस्ट अभिषेक कुमार
दोनों के साथ मिलकर मोदी जी के जो हवाई
दावे 370 सीटें अभी तक धारा 370 सुनते थे

अब 3 70 सीट सुन रहे हैं इसमें कितना दम
है उनके दावों में यह सच्चाई मैं आपको
बताने जा रहा हूं कि 370 सीट आ रही है 270
आ रही है या उससे भी कम आ रही है क्या

हकीकत है उस पर एक फर्स्ट हैंड रिपोर्ट
आपको दूंगा मैं लेकिन मैंने जो पहले कहा
कि यह जो रट लगा रखी मोदी जी ने जो रट लगा
बार-बार यह जो रिपीट कर रहे हैं 370 सीट

370 सीट बड़े फैसले का
दौर इसकी सच्चाई जानना बहुत जरूरी है कि
मोदी जी के दिमाग में क्या चल रहा है मोदी
और शाह के अब दोस्तो बड़ी खबर पर आने से

पहले 370 की बात कर लेते हैं मैंने पहले
भी कहा कंफ्यूज मत होएगा धारा 370 नहीं
370 सीटें लाने की बात कर रहे हैं दरअसल
370 सीटों की बात इसलिए हो रही है इसलिए

हो रही है क्योंकि अगर आपको कोई संविधान
बदलना है आपको संविधान बदलना है कोई बहुत
बड़ा फैसला लेना है सदन में लोकसभा में
राज्यसभा में तो फिर 300 सीटों से नहीं
272 सीटों से नहीं आपको स्पेशल मेजॉरिटी

चाहिए आपको प्रचंड बहुमत चाहिए आपको 2
तिहाई बहुमत चाहिए यानी लोकसभा में जहां
543 सीटें हैं 543 का सदन है लोकसभा इसमें
आपको फिर

362 सीटें चाहिए 362 सीट चाहिए 2 तिहाई
बहुमत चाहिए तभी आप संविधान में संशोधन कर
सकते हैं अगर कोई बड़ा उलटफेर करना है
आपको अगर संविधान को बदलना है अमेंडमेंट
करना

है तो फिर 362 सांसद होने चाहिए आपके साथ
और इसीलिए मोदी जी एक रट लगा रहे हैं 370
370 370 और वो 362 तो कह नहीं सकते एकदम
एगजैक्टली इसलिए 370 कहा जा रहा है यानी

जो 370 के पीछे जो लक्ष्य है वो 362
है बहुत कुछ बदलना चाहते हैं उ
अब सवाल यह भी उठता है आपके जहन में कि
भाई अगर यह जो 370 सीटों की बात हो रही है

यानी दो तिहाई बहुमत की बात हो रही लोकसभा
में और राजसभा में भी तो मोदी जी के जहन
में क्या चल रहा है किस तरह का भारत वह
बनाना चाहते हैं 2025 में यानी अगले साल

जब आरएसएस के 100 साल पूरे होंगे तो व कौन
सी घोषणाएं करना चाहते हैं अगर वह जीत गए
जैसा कि वह दावा कर रहे हैं कि वो जीत गए
मैच अभी से क्या करना चाहते हैं हिंदू

राष्ट्र बनाना चाहते हैं संविधान में
संशोधन करना चाहते हैं आरक्षण में कुछ
बहुत बड़ा उलट फेयर करना चाहते हैं या देश
की धारा ही बदलना चाहते हैं पूरी धारा ही

बदल देंगे सब कुछ उलट फेयर कर देंगे जैसे
नई संसद बना दी कर्तव्य पथ बना दिया तमाम
इमारतें बदल दी उन्होंने धारा 370 हटा दी
राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा कर दी

क्या-क्या करना चाह रहे हैं नंबर एक उनके
टारगेट्स क्या है लेकिन टारगेट को अगर हम
पीछे
करें सबसे बड़ा सवाल यह क्या मोदी जी

सरकार बनाने भी जा रहे हैं कि नहीं जा रहे
बातें अपनी जगह हैं दावे अपनी जगह क्या
मोदी सरकार बनाने जा रहे हैं या वोह 272
के टारगेट से भी दूर है व्हाट इज द

ग्राउंड रियलिटी सच्चाई क्या है हालांकि
इंडिया अलायंस बहुत ही लो प्रोफाइल है इस
वक्त लेकिन क्या दक्षिण भारत के द्वार
खोलने जा रहे हैं क्या महाराष्ट्र में फेर

बदल करने जा रहे हैं क्या बंगाल में वोह
स्वीप करने जा रहे क्या फिर कर्नाटक में
या तेलंगाना में या फिर झारखंड और बिहार
में क्या मोदी जी स्वीप कर ले जाएंगे

पिछली बार की तरह या कई राज्यों में खेल
फंसा हुआ है और 272 टच करना भी इतना आसान
नहीं आखिर मोदी जी फिर बेचैन क्यों है अगर
370 सीटें आ रही है तो फिर वह जैन चौधरी

के आगे क्यों झुक रहे हैं वह एक आदिवासी
मुख्यमंत्री को एक फर्जी केस में जेल
क्यों भेज रहे हैं वो नीतीश कुमार के साथ
यू टर्न क्यों ले रहे हैं वो उद्धव ठाकरे

को भी क्यों लाना चाहते हैं वो शरद पवार
को इस बुढ़ापे में उनकी पार्टी को दूसरी
बार तोड़ना क्यों चाहते हैं इतनी बेचैनी
फिर क्यों है अगर 370 सीट आ मुझे लगता है

कि यह बहुत बड़ा क्वेश्चन है क्योंकि एक
तरफ दावे हैं मोदी के 370 सीटों के जमीनी
हकीकत क्या है इज इट 370 और 270 और लेस
देन 270 मुझे लगता है एक बड़ा सवाल है और

पूरे पर्सपेक्टिव में इस सवाल को समझना
दोस्तों बहुत जरूरी है क्योंकि मैं कह रहा
हूं कि अगर यह
जीते बहुत कुछ बदलेगा और दरअसल 362 का

मतलब यह भी है कि क्या 2024 की लड़ाई
संविधान की लड़ाई है यह सवाल आपके लिए भी
जरूरी क्योंकि आप वोटर है स्टेक्स आपके भी
उतने जितने मेरे हैं इस देश में इसको

देखना और समझना बहुत जरूरी है सवाल को
अशोक वानखड़े के पास चलेंगे अभिषेक कुमार
के पास चलेंगे डेटा जनरलिस्ट है
पार्लियामेंट्री पॉलिसी को बहुत अच्छी तरह

से समझते हैं चलते हैं इस बिग क्वेश्चन को
डिकोट करते हैं मेरा पहला सवाल अभिषेक से
अभिषेक य जो 370 सीटों की बात हो रही है
370 सीटों का य मतलब क्या है 370 का मतलब

क्या है क्या 370 का मतलब 362 है दीपक जी
543 सदस्यों की लोकसभा में दो 362 पर दो
तिहाई बहुमत का आंकड़ा पूरा होता है और दो
तिहाई बहुमत जब आपके हाथ में आ जाता है

उसके बाद सदन संसद के दोनों सदनों में यदि
दो तिहाई बहुमत हाथ में आ जाता है तो आधे
राज्य तो बीजेपी एनडीए के पास है ही अभी
या दिख ही रहे हैं कि उतने में इंतजाम हो

जाएगा स्पेशल मेजोरिटी के लिए तो बड़े
फैसले लेने के लिए मतलब भारत के संघीय
ढांचे धर्म निरपेक्ष स्वरूप आरक्षण इन
सबके ऊपर प्रहार करने का एक जमीन उसकी एक

जमीन तैयार करने की कवायत मुझे दिखाई दे
रही है समझ मतलब आप कह रहे कि संविधान को
संशोधित करना है उसमें बदलाव लाना है बहुत
ही हैरत अंगेज फैसले करने हैं तो फिर 362

सीट मोदी को चाहिए और इसीलिए बारबार 370
कह रहे मैं टाइगर सीधे आ रहा और मैं आज
टाइगर बहुत लाग लपेट में बात नहीं करना
चाहते बात एकदम स्ट्रेट होनी चाहिए सीधे

हो सवाल सीधा हो और सवाल जितना छोटा है
उतना ही स्पष्ट होना
चाहिए क्या मोदी बड़े चेंजेज करने जा रहे
हैं अगर उनको एक स्पेशल मेजॉरिटी चाहिए
अगर उनको 362 संसद चाहिए रिकॉर्ड तो क्या

फिर संविधान बदलने जा रहे हैं क्या फिर यह
हिंदू राष्ट्र होने जा रहा है 2025 में
होने क्या जा रहा है कि वो मोदी कह रहे
हैं कि साहब बड़े फैसलों का यह तीसरा

कार्यकाल है 370 सीटें और बड़े
फैसले राम मंदिर और 370 हटाने का तो फैसला
हो चुका है
अब सबसे बड़ा फैसला जो होगा व इस देश का

संविधान पूर्ण रूप से बदला जाएगा संविधान
संविधान संविधान अमेंड नहीं होगा संविधान
रिप्लेस
हो मैं आपको बता रहा हूं
जी यह सबसे बड़ा फैसला होगा हिंदू राष्ट्र

घोषित होगा संघ के स साल में यह देश हिंदू
राष्ट्र होगा या खानपान रहन सहन
शादी संबंध यह सारी चीजें
आरक्षण नौकरी पाना कौन सी नौकरी किस सवर्ण

को कौन
सी और दलितों को कौन सी नौकरिया करनी होगी
यह रेखांकित होगा हम मनुस्मृति की तरफ जा
रहे हैं यह बात मैं बार-बार कहता हूं और
इसके लिए आपको टू थर्ड मेजॉरिटी चाहिए जो

टू थर्ड मेजोरिटी का आंकड़ा 370 के बाद
आता है इसलिए 370
नजा 400 पार का नारा है हिडन नहीं है दीपक
भाई हिडन नहीं है हिडन नहीं है ओबवियस है
दिखता है जब आपने कैंपेन पहले ही लच किया

कि इस देश का
संविधान अब बदलाव चाहता है यह पुराना हो
चुका है इस संविधान में दम नहीं है और यह
ऑलरेडी यह बहस आपने छेड़ी हुई

है जब आपको टू थर्ड मेजॉरिटी आएगी तो उस
बहस को ये यथार्थ पर लागू करेंगे नहीं
टाइगर आप कहना क्या चाह रहे टाइगर टाइगर
मैं अभिषेक के पास आऊंगा लेकिन एक सवाल

पूछ रहा हूं पहले संसद बदल दी फिर राजपथ
को कर्तव्य पथ पर कर दिया फिर उसके बाद
धारा 370 हटा दी फिर राम मंदिर बना सारी
चीजें एक एक करके संसद भी बदली जा रही है

इमारतें बदली जा रही है सड़क बदली जा रही
है नाम बदले जा रहे हैं अब आपको क्या लगता
है संविधान में जी य हमारे संविधान का नाम
मनुस्मृति करने नहीं जा

रहे संविधान ही बदलने जा रहे हैं जैसी
पार्लियामेंट की बिल्डिंग नई बनाई वैसा
संविधान भी नया
बनेगा जी और पुराना

संविधान आज बहुत इंपोर्टेंट बात हो रही है
टाइगर एक एक अभिषेक से पूछ अभिषेक अगर 362
सीट चलिए मान लिया एक हाइपोथेटिकल मान
लेते हैं अब मोदी जी कह रहे हैं तो भाई

लोकसभा में भी कह रहे हैं राज्यसभा में भी
कह रहे हैं बार-बार कह रहे हैं रट लगा लिए
मोदी जी ने 370 सीटों की मान लीजिए 370
सीट आ जाती आप कह रहे कि जो जादुई आंकड़ा

है संविधान को बदलने का संशोधन करने का वो
362 है तो 362 सांसद लिए आए मोदी
जी राज्यसभा में 164 चाहिए वो भी हो गए
क्योंकि अब जिस तरह से बल्क ऑफ सीट्स आ

रही राज आधी विधान सभाए भी उनके पास है
देश की जब से छत्तीसगढ़ मध्य प्रदेश जीता
है उनके पास राजस्थान भी आ गया गुजरात
उनका है उत्तर प्रदेश उनका है उत्तराखंड

उनका है हरियाणा उनका है बिहार उनका हो
गया है ना आसाम उनका है और भी कई राज्य
उनके पास आपको लगता है कि अगर आधी से
ज्यादा विधानसभा है 362 सांसद राज्यसभा

में मेजॉरिटी 164 की तो क्या वाकई फिर बाए
हाथ का खेल होगा मोदी सरकार के लिए 2024
के के बाद संविधान को डंके की चोट में
बदलने का ये मैं जानना

चाहता देखिए दीपक जी इसमें दो बातें हैं
पहली चीज कि संविधान को मूलभूत रूप से
बदलने से कैसे अब तक उस पर कैसे पर्दा
पड़ा हुआ है और कैसे ये नहीं संभव हो पा

रहा है उपराष्ट्रपति जगदीप धनकड़ का बयान
आपको याद होगा कुछ महीने पहले का है कि
केशवानंद भारतीय जजमेंट यह देश के विकास
में एक बाधा है उन्होंने सरेआम कहा था

क्योंकि उसने बेसिक स्ट्रक्चर की थ्योरी
दी थी
और बेसिक स्ट्रक्चर में क्या है धर्म
निरपेक्ष स्वरूप संघीय ढांचा डिवीजन ऑफ

पावर बिटवीन सेंटर एंड स्टेट राज्य और
केंद्र के बीच शक्तियों का पथक करण जिसे
कहते हैं आरक्षण यानी प पॉजिटिव
डिस्क्रिमिनेशन जिसे कहते हैं यह सारी
इंडिपेंडेंट

जुडिशरी यह सारी चीजें बेसिक स्ट्रक्चर का
हिस्सा है अल्पसंख्यकों के अधिकार राइट टू
माइनॉरिटी राइट टू शेड्यूल कास्ट राइट टू
ओबीसी राइट टू जनरल कैटेगरी इकोनॉमिकली

वीकर सेक्शन यह सारी चीजें बेसिक
स्ट्रक्चर का हिस्सा है टल राइट मोटे तौर
पर कहे तो अब इसको चेंज करने के लिए सबसे
पहले केशवानंद भारती जजमेंट को नलवा करना

होगा उसे खत्म करना होगा उसके प्रभाव को
ठीक मैं समझ गया मैं सिंपल सवाल कर रहा जो
हमारे दोस्त देख रहे हैं हम बहुत ज्यादा
माइक्रो लेवल पर नहीं जाते हम इसको

सुप्रीम कोर्ट की डिबेट ना बनाए हम तो
अपने दोस्तों के लिए प्रोग्राम करते हैं
जो हमें बहुत प्यार देते हैं आते हैं शाम
को देखने के लिए आप सबको सुनते हैं मैं

आपसे ये कह रहा हूं कि जैसे अमित शाहने ने
इंडियन पेनल कोड आईपीसी की सारी धाराएं
बदल दी 302 सब बदल दिया है ना क्या इसी
तरह से मोदी संविधान भी बदल देंगे जैसे

अमित शाह ने उनके चेले ने शिष्य ने जिस
तरह से आईपीसी बदल दी इस देश का कानून बदल
दिया फौजदारी का क्या वैसे ही संविधान को
बदला जा सकता है क्या ऐसा हो सकता है अगर

नंबर हाथ में है मोदी के मैं यह पूछ रहा
हूं कुछ भी संभव है देखिए सुप्रीम कोर्ट
के जजमेंट भी आप देख रहे हैं मामला
सुप्रीम कोर्ट में जाएगा फिर वही होगा छ

महीने रहेगा नहीं नहीं जो किया सही
किया मतलब नंबर की चीज आप देख रहे हैं
बहुत सारे जजमेंट में आ रहा
है जी मैं कह रहा हूं नंबर संभव है इस देश

में मौजूदा दौर में जी मौजूदा दौर में
संविधान हमारा कहता है कि संविधान के
संरक्षक की भूमिका सुप्रीम कोर्ट की है यह
संविधान कहता है लेकिन सुप्रीम कोर्ट से

यदि एक तरह से सुप्रीम कोर्ट मौल रहना
शुरू कर दे तो आप क्या कहेंगे सरकार जो
करेगी दो तिहाई बहुमत से वो सारी चीजें कह
देगी केशवा भारतीय जजमेंट खत्म तो खत्म कह

देगी बेसिक स्ट्रक्चर की थ्योरी खत्म तो
खत्म कह देगी कि आरक्षण खत्म तो खत्म
अल्पसंख्यकों के राइट खत्म तो खत्म
इंडिपेंडेंट जुडिशरी खत्म तो खत्म सीएजी

के पावर खत्म तो खत्म राज्यों के पावर
खत्म तो खत्म सारे राज्य केंद्रशासित
प्रदेश हो जाए तो सही है वो भी सही है जब
संविधान ही बदला जाएगा आज भाजपा शासित
मुख्यमंत्रियों की हालत आप देखिए एक

डीएमएसपी वो अपनी मर्जी से नहीं बना सकते
जब तक उनको आदेश ऊपर से ना आए तो वही पूरे
देरहा आज तीन तीन मुख्यमंत्री धरने पर
बैठे थे केरल के मुख्यमंत्री पंजाब के
मुख्यमंत्री और दिल्ली के मुख्यमंत्री

केजरीवाल भगवत मान और विजयन साहब तीन
मुखमंत्री बैठे और कर्नाटक वाले भी आ रहे
कर्नाटक वाले सीध रमैया भी आ रहे
मुख्यमंत्री इसलिए बैठे क्योंकि उनको पैसा

नहीं मिल रहा र यह तो एक अलग बात है टाइगर
भाई अभिषेक कह रहे हैं कि सुप्रीम कोर्ट
अगर हाथ में आ गया अदालत हाथ में आ गई चीफ
जस्टिस हाथ में आ गया और सीटें हमारे हाथ

में आ गई यानी अगर आपका लोकसभा में
मेजॉरिटी हो गई प्रचंड क्या
टाइगर क्या ये लड़ाई जो है 2024 की ये देश
के संविधान की फिर लड़ाई

है
यकीनन यकीनन देश की संविधान की लड़ाई है
और मैं आपको बता देता हूं कि न्यायपालिका
यदि चाहे
तो सर्वोच्च न्यायालय इस बदलाव को खारिज

कर सकता है और उनके करने के बाद यह सरकार
को तय करना है कि वह सर्वोच्च न्यायालय के
निर्णय को मानते या नहीं मानते लेकिन
सर्वोच्च न्यायालय करता क्या है वर्तमान
में सर्वोच्च न्यायालय का बिहेवियर ऐसा है

जिससे पूरी जनता कन्फ्यूज्ड है एक्चुअल
एक्चुअल क्वेश्चन ये तो बात हो गई मोदी जी
मोदी जी वैसे भी बड़ी बड़ी बातें कर रहे
हैं मैं आपसे य पूछना चाह रहा हूं अभी आप

महाराष्ट्र में उत्तर प्रदेश में मध्य
प्रदेश में सारे दौरे करके लौट रहे हैं
लोगों से मिल रहे हैं सबसे मिल रहे हैं
पॉलिटिकल पार्टियों से मिल रहे हैं

सेफोलॉजिस्ट से आप मिल रहे हैं अगर मोदी
जी 370 सीट लाने की दावा कर रहे हैं वो
बात कर रहे हैं कि साब 370 सीट आ रही है

तो अगर 370 सीटें आ रही है तो फिर नितीश
के पीछे जैन चौधरी के पीछे इसको तोड़ो
इसको फोड़ो इसको खींचो फिर ये जोड़ तोड़

ईडी ये सब में क्यों लगे हुए हैं भाई जब
आपके पास 370 आ रहे हैं तो फिर वई यू आर
डेसपरेट फिर आप इतने बेचैन क्यों है एक एक
सीट के लिए देखिए दीपक भाई बड़ा सीधा सवाल
है क्या

3 270 के लाले पड़े हैं आप 370 की बात कर
रहे हैं 270 के लाले पड़े
है 270 सीटों के लाले पड़े हुए
हा तो बड़ी बात कर रहे आप मानिए ना 303
सीट इनके पास है

वर्तमान में 303 सीट लाने के लिए इनको
जहां जहां जो जो परफॉर्मेंस किया वो रिपीट
करना
पड़ेगा जो सर्वे आ रहे है उसमें पता नहीं

370 का से दिखा रहे मध्य प्रदेश में एक
सीट घट रही
है आपको जब तक दक्षिण भारत में आपको जब तक
केरल आपको जब तक तमिलनाडु जब तक आपको
आंध्रा में 10 10 सीट नहीं
आती अकेले केरल तमिलनाडु तेलंगाना और

आंध्र प्रदेश में 118 सीट है उसमें से चार
सीट बीजेपी के पास है
मात्र उत्तर भारत में 320 सीट
है उसमें से 233 सीट बीजेपी के पास

है बीजेपी वर्तमान जो पुराना रिकॉर्ड भी
रिपीट करे तो 303 से आगे नहीं जा सकती
क्या 370 सीट आ रही है आप तो भाई डटा
जर्नलिस्ट है सारा डाटा आपके हथेली में
रहता है

क्या मौजूदा स्थिति में बीजेपी 300 पार
करके 370 का आंकड़े तक पहुंचने वाली क्या
370 सीट मोती लाने जा रहे हैं जो वो
बारबार दावा कर रहे हैं और दावा वो संसद

में कर रहे हैं क्या 370 लाने वाले या
जमीनी हकीकत एकदम अलग
है दीपक जी 370 की बात बिल्कुल वैसे ही है
जैसे कोई प्लेयर कहे कि हम 15 बॉल में

सेंचुरी मार देंगे 17 बॉल पर अगर भी
मारेगा तब जाकर उसको सेंचुरी पूरी होगी 17
गुना 6 102 15 बॉल में व नहीं बना सकता है
यह उसी तरह की बातें हैं और इसलिए मैं य

बात कह रहा हूं कि अगर परिसीमन के बाद के
तीनों लोकसभा चुनाव को आप देखें तो इस देश
में 342 सीट ही ऐसी है जिसे बीजेपी ने कम

से कम एक बार जीती जरूर है एक बार दो बार
तीन बार मतलब जितने बार जीती हो 342 इनकी
अपर लिमिट है अब उन 342 में मैं आपको बताऊ
आपको सुनक हंसी आएगी
26 सीटें तो 40 में बिहार की है जो कभी ना

कभी भी जीती है अब वो लड़ेंगे वहां 17 या
18 तो 17 18 ही जीतेंगे ना मैक्सिमम
जीतेंगे तो
1718 26 तो नहीं जीत सकते कभी ना कभी 40

में 26 जीती है यूपी में 73 है यूपी में
जैसे जैन चौधरी के आने की चर्चा है तो खुद
लड़ेंगे ही 68 69 तो 73 कहां से जीत लेंगे
तो यह सारी बातें हास्यास्पद लगती है उस

दौर में जिस दौर में कर्नाटक निकल गया जिस
दौर में हिमाचल निकल गया जिस दौर में
महाराष्ट्र का जनमत इनके पास से निकल गया
भले ही एक सरकार अवैध कहे या वैध कहे जो
भी हो चल रही हो हरियाणा की स्थिति आप देख

रहे हैं दिल्ली की स्थिति आप देख रहे हैं
और जिन जिस राज्य से प्रधानमंत्री आते हैं
सेंट्रल इंडिया के राज्यों की बात करें
गुजरात मध्य प्रदेश छत्तीसगढ़ राजस्थान 91

में 88 आप जीते हुए हैं कहां जाएंगे बढ़
घटने की संभावना है कि 10 घट जाए 20 घट
जाए बहुत अच्छा करेंगे तो एक भी ना घटे
बढ़ेंगे कहां

से आपको यह आपको यह लगता है कि मोदी जो
राज्यसभा और लोक सभा में कहा वो एक
पॉलिटिकल गिमिक था वो एक वर कर था हकीकत
यह है मोदी जी मोदी जी जमीन पर कमजोर है
इसलिए बेचैनी है कि वो जैन चौधरी तक के

आगे झुक रहे हैं आप यह कहना चाह रहे हैं
मैंने क्या कहा आपको बेचैनी अपनी जगह प
तीन फ तीन साइड है
सर यथार्थ पर धरातल पर जो चीज है वह एक

अलग
है उसको देखते हुए बढ़ती हुई बेचैनी एक
अलग
है लेकिन अपने सपने के प्रति कमिटमेंट
होना एक बात

अलग मैं मोदी जी को स मार्ग देता हूं उनका
सपना हिंदू राष्ट्र लागू करने का है उनका
सपना पूर्ण रूप से संविधान बदलने का
है और उसके लिए वह इतने कमिटमेंट है कि

किसी भी लेवल पर जा सकते हैं
लेकिन लेकिन यह सब लेवल पर जाने के बाद
भी मुझे 370 के लिए वर्तमान 303 में ही
370 ऐड करूंगा ना मैं भाई 370 मतलब 303 से

आगे 370
जाएंगे तो ये तो मैं मान गया हूं कि 303 आ
रही है अभी 67 सीट कहां से आएगी वही टोटल

नहीं बैठ रही है और जो टोटल मैं जोड़ने का
प्रयास कर रहा हूं वो हो ही नहीं सकता
तमिलनाडु में 10 सीट हो ही नहीं सकती केरल
में 10 सीट हो ही नहीं सकती आंध्र प्रदेश
में 10 सीट हो ही नहीं

सकती हो ही नहीं
सकती जहां खाता नहीं खुला टाइगर जहां खाता
नहीं खुला केरल में खाता नहीं खुला आंध
प्रदेश में खाता नहीं खुला जहां 200 सीट

ऐसी है दीपक भाई 200 सीट ऐसी है जहां
पिछले तीन चुनाव से यानी 15 साल से लगातार
बीजेपी बुरी तरह से हार रही है
जी और इसीलिए हमारे डाटा जर्नलिस्ट का जो

आंकड़ा है
343 वो वो है कि जहां कभी ना कभी एक बार
जीती
है 200 सीटें तो ऐसी है कि जहां जीत नसीब
ही नहीं हुई अभी तक

आपको अभी फीडबैक क्या लग रहा है आपको लग
रहा है कि मोदी 272 का आंकड़ा टच कर
जाएंगे 272 भी नहीं कतई नहीं 272 के लिए
लाले पड़े हुए हैं हो सकता है कि उसके
पहले अभी कुछ और लोग जेल जाएंगे उसका

इंपैक्ट क्या होगा क्योंकि केजरीवाल जेल
जाते हैं तो दिल्ली की सात सीट जाएगी तो
दिल्ली की सात सीट बीजेपी को जाने से
बीजेपी का टाल ही नहीं बढ़ता मध्य प्रदेश

छत्तीसगढ़ राजस्थान में पूरी की पूरी
मिलने के बाद भी टैली नहीं बढ़ता जी
अभिषेक लास्ट क्वेश्चन मैं समप करने जा
रहा हूं क्या जो फीडबैक है जो पार्टी की

फीडबैक है बीजेपी की अपनी इंटरनल फीडबैक
है जो आंकड़े छुपाए जाते हैं या फिर जो
कांग्रेस की फीडबैक है जो रियल फीडबैक है
क्या उसम बीजेपी 2 स टच कर रही है 2 स पार
कर रही है या

अभी मुझे तो दीपक जी मुझे नहीं लगता कि
बीजेपी 250 तक भी पहुंच रही है क्योंकि 50
तक पहुंचने ने के लिए भारतीय जनता पार्टी
को यथा स्थिति बरकरार रखनी होगी उन
राज्यों में जहां भारतीय जनता पार्टी पीक

पर थी क्या हेमंत सोरन वाले एपिसोड के बाद
यथा स्थिति बरकरार रहेगी वहां क्या
हरियाणा में यथा स्थिति बरकरार रहेगी क्या
दिल्ली और हिमाचल में बरकरार रहेगी लद्दाख

का प्रदर्शन आपने देखा चंडीगढ़ के हालात
आप देख रहे हैं असम में भारत जोड़ो न्याय
यात्रा का समर्थन आप देख रहे हैं राजस्थान
में वसुंधरा राजे की नाराजगी और मध्य

प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान की नाराजगी
के असर को आप चुनाव देखेंगे गुजरात में
चैतर बसावा का प्रदर्शन जिसने देखा है उसे
पता है कि 26 जी नहीं होगा 26 जीरो बिना

किसी मशीनी लोकतंत्र के करामात के संभव
नहीं है गुजरात में महाराष्ट्र के हालात
तो अशोक वाख सर बैठे हुए हैं हम सबसे
बेहतर जानते हैं कि गडकरी साहब वहां

सेता खोल कर आएंगे हा मैं चैंपियन हूं
मैंने खाता खोला हाने एक्सरे रिपोर्ट
सामने रख दी और मैं निष्कर्ष य पहुंच रहा
हूं कि ठीक है मोदी 7 की बात कर रहे हैं

मोदी जो है एक स्पेशल मेजॉरिटी लाने की
बात कर रहे हैं प्रचंड बहुमत की बात कर
रहे हैं मोदी बड़े फैसलों की बात कर रहे
हैं हिंदू रा की बात हो रही है 2025 में

मोहन भागवत को एक नया संविधान गिफ्ट करना
चाहते इस तरह के व सपने देख रहे लेकिन
धरातल में मोदी 370 से कोसो दूर है ऐसा
हमें लगता है और मुझे लगता है कि हमें

नहीं मोदी जी की बेचैनी बता रही जैन चौधरी
के आगे झुकना
नितीश कुमार के आगे एकदम पूरी तरह से
साक्षात प्रणाम करना जिस तरह से बेचैनी
उनकी झारखंड में दिखी या केजरीवाल को लेकर
वो परेशान है या आज भी वो शरद पवार

बुजुर्ग शरद पवार को और कमजोर करना चाह
रहे कहीं ना कहीं बेचैनी बताती है कि
लक्ष्य से काफी दूर हैं और शायद ये सपना
सपना ही ना रह जाए टाइगर बहुत बेबाकी से
आपने बात रखी और अभिषेक आपके डाटा

जर्नलिज्म को सलूट चाहे वो 362 सीटों का
हिसाब किताब हो या फिर राज्यों का फीडबैक
हो गजब है आपका जो फीडबैक है टाइगर आपका
अभिषेक आपका इस प्रोग्राम में आने का अपने
दोस्तों की तरफ से बहुत-बहुत शुक्रिया और

जिस बेबाकी और बेलौस और बिंदास बेधड़क आप
बोलते हैं आप उसे सलूट है थैंक यू सो मच
फर जॉइनिंग दिस
प्रोग्राम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *