2222 ?काली मां दुख को दूर करेगी ? तुम्हारे इन अंशुओ का हिसाब अब में ..? Don't ignore her#shivshakti - Kabrau Mogal Dham

2222 ?काली मां दुख को दूर करेगी ? तुम्हारे इन अंशुओ का हिसाब अब में ..? Don’t ignore her#shivshakti

मेरे बच्चे मेरा संदेश मिलने का अर्थ है

कि मैं कि मैं तुम्हें बात बताने आई हूं

तुमसे कोई है जो मिलना चाहता है अभी के

समय से पहले काफी समय पहले से तुम उसका

इंतजार कर रहे थे लेकिन अब वह तुमसे खुद

मिलना चाहता है और उसका कुछ खास कारण है

जिसकी वजह से वह तुम्हारे पास आकर मिलना

चाहता है तुम उससे मिलने से पहले

मेरी बातों को ध्यानपूर्वक अवश्य सुनना और

तुम्हें उससे मिलना है क्योंकि जिस प्रकार

तुम किसी अपने पसंद के व्यक्ति से मिलते

हो तो अपने हृदय के अंदर कोमलता रखते हो

क्योंकि तुम चाहते हो कि वह तुमसे कभी

रूठे ना इसी प्रकार तुमसे जो मिलने वाला

है उससे मिलने से पहले तुम्हें इसी प्रकार

कोमल हृदय रखना होगा और अपनी वाणी को बहुत

ही मीठा और अच्छा बनाना होगा क्योंकि जिस

प्रकार इंसान को मधुर वाणी पसंद है और

उससे अच्छा स्वभाव पसंद है इसलिए इसी तरह

जो तुमसे मिलने आने वाला है उसे भी मीठी

वाणी और कोमल हृदय ही पसंद है और वह कोई

और नहीं है जो तुमसे मिलने आ रहे हैं

बल्कि वह तो मेरे खुद भोलेनाथ परमपिता

परमेश्वर है जो तुम से मिलने आ रहे हैं

आने वाले शीघ्र ही समय में वह इस धरती पर

एक महीने तक यहीं विराजमान रहेंगे प्रसन्न

मुर्दा में तुम्हें देखेंगे तुम्हारी

बातों को सुनेंगे और तुम जो मांगोगे वह भी

सुनेंगे लेकिन साथ-साथ में तुमको उस

परीक्षा से गुजरना होगा जो वह तुम्हारी

लेंगे अर्थात इस पृथ्वी पर तुम कितने

सक्षम हो किसी चीज को पा ने में कितनी

योग्यता है तुम्हारे अंदर वह तुम्हारे

स्वभाव को देखकर समझेंगे जब वह तुम्हारे

करीब प्रकृति में विद्यमान शक्ति के

द्वारा आएंगे तब बस तुम्हें ध्यान रखना है

कि तुम्हें किसी भी वजह से उनके साथ कठोर

वचन नहीं बोलना है और ना ही उनका अपमान

करना है इसके लिए ज्यादा कुछ करने की

आवश्यकता नहीं बल्कि बस तुम अपने स्वभाव

को हमेशा इस तरह बनाकर रखो कि जब भी तुम

किसी से बात करो तो तुम्हारे हृदय के अंदर

से बहुत ही कोमल वाणी निकले हुए शब्द और

तुम्हारे मुख से निकले हुए शब्द सबको

प्रिय लगे अर्थ यह है कि अगर तुम्हें ऐसा

लगता है कि तुम किसी से मिलो तो वह तुमसे

अच्छा बोली तुम्हें कितना अच्छा लगेगा

क्योंकि अच्छा बोलने में या अच्छी भावना

रखने में तुम्हारा कुछ जाता नहीं है मेरे

बच्चे बल्कि तुम्हारे पास बहुत कुछ आता है

तुम्हारे पास ऐसी आकर्षित करने की शक्ति

विद्यमान होती है जिससे तुम संसार की हर

चीज को अपनी ओर आकर्षित कर सकते हो इंसान

को अच्छे समय को और मांगी हुई हर इच्छा को

पूरा करने की शक्ति तुम्हें प्राप्त होने

लगती है क्योंकि हर चीज जो प्रकृति में

विद्यमान है उसकी शक्तियां तुम्हारे

अनुकूल होने लगती हैं और वह सभी शक्तियां

मिलकर तुम्हें जो चाहो प्राप्त कराती हैं

महाकाली कहते हैं मेरे बच्चे तुम विचलित

ना हो जो संकट तुम्हारे समक्ष है उसका अंत

शीघ्र ही होगा यह जीवन भर नहीं रहने वाला

है इस व्यथा को त्याग दो मुझ पर विश्वास

रखो तुम मेरे सच्चे भक्त हो भक्ति का

महत्व तुम्हें ज्ञान होना

चाहिए मेरे बच्चे भक्ति वह नौका है जो हर

भक्त को भवसागर पार करा देती है यदि भक्त

है तभी भगवान है यदि संतान है तभी मां है

भगवान भक्त के सर पर लगा वह छत्र

है जो सदैव भक्तों को हर संकट के ताप से

हर बपता से और हर जंजावत से दूर रखते हैं

वह सदैव अपने भक्तों की रक्षा करते हैं वह

सदैव अपने भक्तों को सत्य का मार्ग दिखाते

हैं मेरे बच्चे सत्य और सदाचार ही जीवन का

सार है इसी से जीवन की धुरी चलती है

तुम्हें सदैव ऐसा आचरण करना चाहिए जिससे

कभी किसी को कष्ट ना पहुंचे किसी और से

हमारा तात्पर्य है अन्य जीवों से प्रकृति

के सभी अवयवों से वृक्ष जल सभी का ध्यान

रखें बी जवानों की पीड़ा महसूस करें उनकी

व्यवस्था को समझे उन्हें भोजन कराएं उनका

सम्मान करें किसी भी प्रकार से उन्हें

कष्ट ना

पहुंचाए उनके साथ क्रूर व्यवहार ना करें

उनकी तृप्ति उनकी प्रसन्नता तुम्हारी

प्रगति के सभी द्वार खोल देंगे तुम्हें हर

संकट से मुक्ति मिल

जाएगी यदि तुम दूसरों की सुख सुविधा का

ध्यान रखते हो तो तुम्हें स्वयं की ओर

देखने की आवश्यकता ही नहीं होगी क्योंकि

कोई और तुम्हारी सुख सुविधा का ध्यान रख

रहा होगा सुखी रहो तुम्हारा कल्याण हो

सच्चे मन से कहो जय मां

काली मेरे बच्चे क्या तुम चाहते

मैं तुम्हारे जीवन में प्रवेश करूं और

तुम्हारे जीवन में आने वाली सभी समस्याओं

को समाप्त करके तुम्हारा जीवन खुशहाल करूं

मेरे बच्चे अगर आपको यह संकेत मिले तो समझ

लेना कि आपको मेरे द्वारा भेजा गया है आने

वाले समय में आपके सोचे हुए हर कार्य पूरे

होंगे मेरे बच्चे तुम्हारे किए गए कर्मों

का फल तुम्हें प्रदान करने का समय आ चुका

है मैं तुम्हें आभास कराती हूं कि

तुम्हारा अच्छा समय प्रारंभ होने वाला है

तुम भविष्य के लिए जो सोच रहे हो जिन

कार्यों को पूरा करने में लगे हुए हो सभी

पूर्ण होंगे जैसे जैसे तुम्हारा समय अच्छा

होता रहेगा वैसे-वैसे तुम्हें संकेत दिखने

प्रारंभ हो जाएंगे जब तुम समझ लेना कि अब

तुम्हारे सभी कार्य पूर्ण होने वाले हैं

मेरे बच्चे

अब वह समय आ गया उस समय तुम्हें इस प्रकार

के संकेत मिलेंगे उसमें तुम्हारा पहला

संकेत तुमने किसी को उधार दे रखा है तो वह

तुम्हें स्वयं आकर देगा दूसरा संकेत अगर

तुम्हें स्वप्न में हरे भरे वृक्ष दिखाई

दे या स्वयं पके हुए फलों को तोड़ते हुए

देखो तो तुम समझ लेना कि तुम्हारे किए गए

कर्मों का फल तुम्हें मिलने वाला है या

जिस कार्य को कर रहे हो उसम तुम्हे सफलता

मिलनी निश्चित है तुम्हारी हर कोशिश सफलता

पूर्वक पूर्ण होगी तीसरा संकेत यदि

तुम्हें किसी महात्मा के दर्शन अचानक हो

और वह तुम्हें रोककर आशीर्वाद प्रदान करें

उस समय समझ लेना तुम्हारे सभी बिगड़े हुए

कार्य पूरे होने लगेंगे मेरे बच्चे इस

प्रकार तुम्हें अपने जीवन में एक चमत्कार

दिखाई पड़ेगा मेरे बच्चे वह समय दूर नहीं

तुम्हारे जीवन में शीघ्र परिवर्तन होने

वाला है तुम्हें स्वयं महसूस होने लगेगा

कि मैं तुम्हारे जीवन में प्रवेश कर चुकी

हूं तुम्हारा भाग्य उदय होना निश्चित है

मेरे बच्चे इन संकेतों का अर्थ मेरा

आशीर्वाद है इसके बाद तुम्हारे जीवन में

किसी भी प्रकार की कोई समस्या उत्पन्न

नहीं होगी सदैव खुश रहना मेरे बच्चे मेरे

अगले संदेश की प्रतीक्षा करना जय मां

काली

मेरे बच्चे मेरा संदेश मिलने का अर्थ केवल

इतना है कि तुम्हारा यह निर्णय गलत है रोक

लो इसे अभी भी समय है मेरे बच्चे क्योंकि

कभी-कभी इंसान उन कार्य को करता है जो उसे

पता नहीं होता और आगे चलकर उसी का पछतावा

होता

है लेकिन उस समय मरने के लिए रास्ता नहीं

मिलता इस बात को मेरे बच्चे बहुत अच्छे से

समझ लेना जरूरी

है कि इस संसार में हर व्यक्ति पैसे कमाना

चाहता है चाहता है कि वह दुनिया की हर

खुशी को प्राप्त कर सके लेकिन बहुत कम लोग

ऐसे हैं जो कि सही और गलत रास्तों में

अंतर समझते हैं और सही रास्तों को चुनते

हैं कहने का अर्थ यह है जिस बातों को मैं

बता रही हूं उसे ध्यान पूर्वक सुनकर

तुम्हें समझना होगा यदि तुम छोटा रास्ता

चुनकर मंजिल को प्राप्त करने का संभव

प्रयास

करोगे और वह मंजिल भी बहुत बड़ी है तुम

सोचोगे कि बहुत ज्यादा धन अर्जित करूं

लेकिन तुम गलत रास्तों से उसे पाने की

कोशिश करोगे अर्थात एक ऐसी लत में तुम पड़

जाओगे तो तुम्हारा जमा किया भी तुम्हारे

हाथ से चला

जाएगा इसी प्रकार अन्य ऐसे बहुत सारे

कार्य हैं जिनमें तुम अपनी परिश्रम से

कमाई हुई पूंजी को लगा दोगे और वह पूंजी

व्यर्थ में बर्बाद हो जाएगी तुम ज्यादा

कमाने के चक्कर में जो तुम्हारे पास है वह

भी गवा बैठोगे और ऐसा करके तुम धीरे-धीरे

कंगाल हो जाओगे ना कि

धनवान इसलिए इस बात को अपने दिमाग और दिल

से निकाल दो कि कोई भी छोटा रास्ता

तुम्हें तुम्हारी मंजिल प्राप्त करा सकता

है बड़ी मंजिल प्राप्त करने के लिए केवल

तुम्हें कठिन परिश्रम करना अत्यंत आवश्यक

है और परिश्रम ही है जो तुम्हें भले ही

देर से लेकिन

मंजिल अवश्य प्राप्त कराएगी

परिश्रम ही तुम्हारी सोची हुई हर इच्छा को

पूर करने की ताकत रखती है यदि तुम जब भी

किसी जमीन को खोदकर बीज रोपड़ करते हो तो

क्या वह एक ही दिन में पेड़ बनकर तुम्हें

फल दे देता है नहीं ना क्योंकि उसे बड़ा

होने में समय लगता है और उसके पश्चात ही

उसमें फूल आते हैं तब फल लगते हैं या कोई

भी खाने की वस्तु जो तुम्हें चाहिए होती

है जिस चीज को बिज हो उसमें समय लगता है

क्योंकि उस का एक समय होता है और तब तक

तुम्हें उसके साथ परिश्रम करना होता है

अर्थात उस बीच की रखवाली करनी होती है और

समय समय पर तुम्हें पानी देकर खाद देकर

उसे सिंचाई करते रहना होता है इसी प्रकार

तुम्हारा जीवन है तुम अपने जीवन के साथ

छोटा सा मार्ग अपनाकर खिलवाड़ मत

करो क्योंकि यदि तुम जल्दी से जल्दी मंजिल

को प्राप्त करने के लिए कोई भी उल्टा सीधा

कदम उठा लोगे तो मेरे बच्चे मैं कभी भी

जाकर तुम्हारी मदद नहीं कर पाऊंगी क्योंकि

किसी भी गलत मंजिल

पर जाना बहुत ही आसान होता है लेकिन उससे

वापस आना और भी मुश्किल होता है जिस तरह

दलदल में फसने के बाद इंसान का निकलना

नामुमकिन के बराबर हो जाता है उसी प्रकार

एक बार गलत रास्ते को अपनाना और उससे निकल

पाना और भी मुश्किल होता है इसलिए मैं

तुम्हें आज समझना चाहती हूं मेरे बच्चे कि

तुम ऐसा कोई गलत मार्ग मत अपना लेना जिससे

कि आगे चलकर मार्ग नहीं अपनाते हो तो

तुम्हारी मंजिल के रास्ते भले ही कुछ समय

पक्षत प्राप्त होंगे लेकिन जो मंजिल

प्राप्त होती है इसमें तुम्हारी जीवन की

सुरक्षा रहती है और सही मार्ग प्राप्त कर

लेते हो तो बहुत कुछ आगे चलकर मिलेगा इस

बात का पूर्ण रूप से स्मरण रखना अच्छे समय

को और बुरे समय को तुम अपने और अपने

कर्मों से ही आमंत्रित करते हो क्योंकि

जैसे-जैसे आगे तुम कर्म करते चले जाओगे

वैसे-वैसे फल तुम्हें उसी प्रकार से अपने

आप ही प्राप्त होता जाएगा यदि अच्छे कर्म

करोगे तो अच्छा फल प्राप्त होगा अगर

कर्मों को ही गलत लगाओगे तो पछताने के

अलावा कुछ नहीं मिलेगा मेरे बच्चे

तुम्हारे जीवन में जितने भी परिवर्तन हो

रहे हैं और आगे जो परिवर्तन आएंगे वह सब

मेरी ही इच्छा से होगा मैं देख रही हूं

तुम कुछ दिनों से दुखी सा महसूस कर रहे हो

तुम्हारा मन अंदर ही अंदर दुखी है किसी

बात के लिए कभी खुद को तो कभी सामने वाले

को को दोषी बना देते हो तुम्हें कुछ भी

अच्छा नहीं लग रहा है तुम स्वयं से यह बात

कहते हो कि मैं किसी काम का नहीं मेरा

नसीब ही खराब है मेरे बच्चे आज मैं

तुम्हें एक बहुत बड़ा सत्य बताने आई हूं

जो भी तुम कर रहे हो जो भी तुम सोच रहे हो

यह सत्य नहीं है तुमने अपने आप को पहचाना

ही नहीं है मेरे बच्चे तुम तो वह हो जो

मिट्टी को छू ले तो वह भी सोना बन जाएगा

मेरे बच्चे तुम पवित्र हो और तुम ही यह सब

सोच रहे हो अपने बारे में मेरे बच्चे

मैंने तुम्हें हमेशा ही यह बात कही है तुम

बस जितने के लिए आए हो मेरे बच्चे यही समय

है अपना पूरा ध्यान बाहर की ध्वनि से

हटाकर अपने भीतर के ध्वनि पर लगाने का

अपने भीतर जो लहरों का तूफान है अब उसे

सुनना है मेरे बच्चे तुम्हारे हृदय में एक

पवित्र विचार अंकुरित हो रहा है तुम उस

विचार को सुनना नहीं चाह रहे हो जो

तुम्हारे अवचेतन मन से बार-बार भेजा जा

रहा है किंतु तुम बाहर की ध्वनियों के

कारण उसे सुनने में समक्ष सक्षम नहीं हो

तुम केवल नकारात्मक बातों को ही देख रहे

हो मेरे बच्चे अपना ध्यान उस मूल्य ध्वनि

पर केंद्रित करने का प्रयास करो तुम देखना

नहीं चाह रहे हो उस शक्ति को जो बार-बार

तुम्हें किसी कार्य को करने की प्रेरणा दे

रही है संकेत दे रही है किंतु तुम तो यही

समझते हो कि तुम्हारा नसीब खराब है मेरे

बच्चे तुम्हारी नकारात्मक बातें बार-बार

उस विचार को दबा देती हैं किंतु मेरे

बच्चे मैं तुम्हें बताना चाहती हूं यदि

तुम अपने मन के उस विचार पर कार्य करोगे

तो तुम्हारे सभी नकारात्मक विचार अपने आप

ही दूर हो जाएंगे यह पहला प्रयास तो मैं

ही करना होगा आगे की सहायता के लिए बहुत

सारे लोग तुमसे

मिलेंगे जीवन का एक नया अध्याय प्रारंभ हो

रहा है तुम्हारे लिए यह सभी अध्याय ईश्वर

द्वारा रचित होते हैं किंतु ईश्वर हर एक

को यह क्षमता देते हैं कि वह अपने परीक्षा

से उस अध्याय में सफल हो सके मेरे बच्चे

सदैव यह स्मरण रखना कि भाग अटल नहीं होता

अपने विश्वास और इच्छा शक्ति से तुम उसे

अवश्य ही बदल सकते हो मेरे बच्चे क्या तुम

तैयार हो एक नए अध्याय में कदम रखने के

लिए मेरे बच्चे मैं हमेशा तुम्हारे साथ ही

रहूंगी तुम्हारे सफर में मेरा आशीर्वाद

सदा तुम्हारे साथ है तो घबराने की कोई

जरूरत नहीं

है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *