22:22?️ मां काली ?️ जानबूझकर तुम्हारे मन में यह बात डाला जा रहा है क्योंकि ?।। #makaliremi_janka - Kabrau Mogal Dham

22:22?️ मां काली ?️ जानबूझकर तुम्हारे मन में यह बात डाला जा रहा है क्योंकि ?।। #makaliremi_janka

मेरे बच्चे तुम्हारा बुरा समय समाप्त हो

चुका है मेरे बच्चे आज तुम्हारे सारे

दुखों का अंत होगा और तुम्हारे जीवन के

सभी परेशानियां समाप्त हो जाएंगी क्योंकि

मैं तुम्हें और कष्ट में नहीं देख सकती

आखिर तुम भी मेरे बच्चे हो तो मैं कैसे

अपने बच्चे को दुखी देख सकती हूं मेरे

बच्चे मेरी कृपा दृष्टि तुम पर पड़ चुकी

है मेरे प्रेम की कस पर तुम खड़े उतरे रहे

हो अगले घंटे में तुम्हारे जीवन में

भारी बदलाव होने वाला है मेरे बच्चे जो

बातें आज मैं बताना चाहती हूं वह मैंने

तुम्हें कभी नहीं बताई इन बातों से तुम

सदैव से अनजान रहे हो इसलिए उन बातों को

जानना अत्यंत आवश्यक है यदि तुम उन बातों

को जान गए तो सदा तुम्हारे ऊपर मेरी कृपा

दृष्टि बनी रहे

मेरे बच्चे मैं जानती हूं कि तुम काफी

चिंतित रहते हो क्योंकि तुम्हारे जीवन के

काफी समय केवल दुखों में ही कटे हैं परंतु

दुखी होने से तुम्हें कोई लाभ नहीं होगा

इसलिए अपने आप को दुखों से मुक्त करो और

अपने आप पर ध्यान दो कई बार तुम्हारी कुछ

ऐसी बातें जिससे मुझे ना चाहते हुए भी

क्रोध आ जाता है और कई बार तुम्हारी कुछ

ऐसी बातें जो मुझे प्रसन्न कर देती हैं इस

तरह कुछ ऐसी ही बातें जिन्होंने मुझे

प्रसन्न किया है ऐसी कुछ बातें जो तुम्हें

करना बाकी है जिससे कि अगले घंटे में

ही तुम्हारी जिंदगी में चमत्कारी रूप से

बदल जाएगी इसलिए मेरे बच्चे तुमको यह मौका

गवाना नहीं है सच तो यह है कि मैं स्वयं

नहीं चाहती कि तुम कभी भी दुखी रहो बल्कि

मैं यह चाहती हूं कि मेरे सभी बच्चों को

सभी खुशियां प्राप्त हो मेरे बच्चे

परिस्थिति में सदैव बदलाव आता रहता है

परिस्थितियां कभी एक सी नहीं होती कभी

किस्मत के अनुसार तो कभी कर्मों के

अनुसार यदि किस्मत के अनुसार तुम्हारी

परिस्थिति में बदलाव नहीं आ रही है तो तुम

कुछ ऐसे कार्य करो उन कार्यों की वजह से

तुम्हारी परिस्थिति में निश्चित ही बदलाव

आएगा और तुम्हारी किस्मत में भी बदलाव

शुरू हो जाएगा मेरे बच्चे अब ध्यानपूर्वक

सुनो मेरी बातों को तुम बहुत बार कार्य को

करते करते थक जाते हो और तुम्हें ऐसा लगता

है कि तुम सफल नहीं हो रहे हो इसी कारण

तुम अपने आत्मविश्वास को खो देते हो जिस

शक्ति के बलबूते पर तुम विजय प्राप्त कर

सकते थे और कई बार यही वजह होती है

तुम्हारे नाकामी की उसके बख तुम चाहकर भी

उस कार्य पर अपना ध्यान नहीं एकत्रित कर

पाते हो अपनी पूरी शक्ति नहीं लगा पाते हो

और वह कार्य तुम्हारे किसी के बहकावे में

आकर होते हैं कई बार कोई अपना या तुम्हारे

जीवन साथी को यह कह देने पर कि यह कार्य

तुम्हारे लिए संभव नहीं है यह तुमसे नहीं

हो पाएगा तुम्हारी नाकामी का यह भी एक

मुख्य कारण होता है मेरे बच्चे लेकिन अब

आज से बल्कि अभी से तुमको ध्यान रखना है

यह नहीं करना है और कल सुबह तुमको नहाने

के पानी में थोड़ा गंगाजल डालकर स्नान

करना है एक लोहे की कटोरी में सरसों का

तेल लेकर उस कटोरी में डालकर उसमें एक का

सिक्का डालकर अपने दोनों हाथों से उस

कटोरी को अपने घर में थोड़ी देर के लिए

रखकर छोड़ देना है उसके पश्चात पूरे घर

में घूम ना है फिर किसी पौधे में डालते

समय तुम्हें उस समय यह बोलना है मेरी सभी

परेशानियां तेल के रूप में इसी पौधे में

समाहित हो जाए ऐसा बार बोलते हुए

तुम्हें करना है ऐसा बोलते ही तुम्हारी

सभी परेशानियां स्वत ही मेरे पास आ जाएंगी

और कल सुबह से ही तुम्हें चमत्कार देखने

को मिलेंगे क्योंकि जिसके ऊपर मेरी कृपा

दृष्टि होती है उसको जीवन में किसी भी

परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता ना ही

किसी बीमारी का ना ही गरीबी का तुम्हारे

जीवन की पीड़ा स्वयं मेरे द्वार शिव भोले

के पास चली जाती है साक्षात उनका हाथ मेरे

भक्तों पर होता है तो दिन दुनी रात चौनी

तरक्की होती है मन से दुख चिंताओं को

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *