22:22?️ मां काली ?️आपके शत्रुओं के मुर्ख रिश्तेदार आपको कच्चा खाना चाहती है - Kabrau Mogal Dham

22:22?️ मां काली ?️आपके शत्रुओं के मुर्ख रिश्तेदार आपको कच्चा खाना चाहती है

अगर आप सच्चे मन से माता रानी को मानते

हैं तो हां लिखकर इस संदेश को लाइक करके

चैनल को सब्सक्राइब करें और कमेंट में जय

हो माता रानी अवश्य से लिखे मेरे बच्चे जो

आपके विरोधी हैं दुश्मन आपका कोई है ही

नहीं बस विरोधी है जिनके साथ आपके

विरोधाभास हो जाते हैं मतभेद हो जाते हैं

आपके विचार कुछ और हैं आपके विचार

स्पिरिचुअल है और उन लोग के विचार हैं वो

नार सिट है नेगेटिव है बस इतना ही फर्क है

दुश्मन आपका कोई नहीं है माता रानी के

बच्चे का कोई दुश्मन नहीं होता सिर्फ

विरोधी हो सकते हैं जो आपका विरोध करते

हैं और विरोध भी उन्हीं की तरफ से होता आप

नहीं करती हो ज्यादा तो आपके विरोधियों के

मूर्ख से रिश्तेदार है अभी ऐसे लोगों के

साथ क्या कुछ हो रहा है रिश्तेदार के ऊपर

बाद में आते हैं पहले बात लेते हैं आपके

विरोधियों की यह कुछ ऐसे लोग हैं जिनका जो

सोशल दायरा है सामाजिक दायरा है कम ही है

ऐसे लोग ज्यादा सामाजिक नहीं होते इनका जो

मेलजोल होता है वह कम ही होता है लोगों से

लोगों के साथ उठना बैठना कम पसंद करते हैं

इनके घर परिवार में रिश्तेदार में कम बनती

है यह सिर्फ उन्हीं लोगों के साथ बैठना

उठना पसंद करते हैं जो इनकी हां में हां

रखता है जो इनकी हां में हां रखे

जो आपके विरोधी हैं व कुछ ऐसे हैं जो

टोटली नेगेटिव है गलत सोचते हैं सोच सही

नहीं है जैसा कि मैं देख पा रही हूं थोड़ा

सा पास्ट में जाएं आपके विरोधियों के कुछ

रिश्तेदार सिर्फ एक या दो ऐसे थे जैसा कि

आप अपने विरोधियों से वार्तालाप करना उनके

साथ बातचीत करना कम पसंद करते हो ना तो यह

चीज आपके साथ शुरू से ही थी आपने कहीं ना

कहीं आपकी जो इंटू थी वो आपको बताती थी कि

मुझे इनके बीच में नहीं बैठना मुझे अच्छा

नहीं लगता है इनसे बात करने में तो अब जो

वह विरोधी हैं डोमिनेटिंग है नेगेटिव है

अब उनको अपना मैसेज तो आपको कैसे ना कैसे

तो देना ही है उनको खलबली मची रहती है तो

यह लोग सहारा लेते हैं अपने बेवकूफ

रिश्तेदारों का जो आपके पास भी बैठते हैं

उनके पास ही बैठते हैं यह जरूरी नहीं है

कि आपको विरोधी के रिश्तेदार हो उनके

फ्रेंड्स भी हो सकते हैं आपके ऑफिस में

आपके वर्क प्लेस में यह सिचुएशन बनी हुई

हो आपके फ्रेंड्स में आपके स्कूल कॉलेज

में कहीं पर भी यह सिचुएशंस बनी हुई है तो

एक मीडिएट ही ऐसे लोग ढूंढते हैं दूसरे

लोगों को य मीडिएट ऐसा होगा कि आपके पास

भी बैठेगा जो उनके पास में बैठेगा यह ऐसे

मीडिया पर होते हैं जो आपकी भी सुनते हैं

उन की भी सुनते हैं पर फिर भी स्टोली आपको

डोमिनेट करते हैं मतलब उनकी तरफ से ही

होते हैं आपका जो इनट्यूशन हमेशा कहती है

कि मुझे पता है त उन्हीं के गीत गाता है

मुझे पता है तोत उन्हीं की कहता है ऐसे

आपके इंटू बोलती रहती है ऐसे लोगों के लिए

तो उनके साथ क्या खलबली मची हुई है देखिए

जो आपके विरोधी हैं उनके मेडिएटर के साथ

क्या हो रहा है अभी एक्चुअली में व यह रहा

था कि पास्ट में आप बहुत अपनी एनर्जी दे

रहे थे बहुत लोगों को अपनी एनर्जी आप दे

रहे थे जैसे आपके मन में भी रहता था कि

मैं अपने मन की बातें दूसरों को बताऊं या

अपने दिल की बातें दूसरों को बताऊं अपना

दुखड़ा दूसरों के सामने रोऊ तो जैसे आप

बताते थे तो आप अपनी एनर्जी को फैलाए रखते

थे कहते हैं ना रायता फैलाना तो रायता

फैलाए रखते थे अब जब रायता फैला हुआ है जब

तक वो साफ नहीं होगा तो क्या होगा जो आएगा

उस पर छपा छप करेगा पैर छप छप करेगा और

इधर उधर और गंद फैला दिया ऐसा ही होता था

आपके साथ मतलब जब आप अपने एनर्जी बिखेर

करके रखोगे तो अब जिस जिसके पास वो एनर्जी

गई उनके एनर्जी से मिक्स हुई वो बेवकूफ

वाली उन्होंने अपनी कुछ और ऐड ऑन चीजें और

फैल गई तो अब अप में जो चेंज हुआ यूं कि

अब आपने रायता फैलाना बंद कर दिया अपना अब

आप अपना रायता नहीं फैलाते हो कहीं ना

कहीं जो आपके इंटू अब आपको यह बोलती है कि

मुझे यह रायता नहीं फैलाना है अब बहुत हो

चुका अब इसको साफ मुझे ही करना है जैसे ही

आपने रायता साफ किया तो लोगों को छपा छप

करने का मौका नहीं मिल रहा है या यह बोल

लीजिए अब जो वह नेगेटिव एनर्जी है उनको जो

स्वाद लगा होता है उनको लत लगी होती है तो

वो चीजें वो कहीं ना क कहीं से ढूंढ के तो

वो अपने ही लोगों के साथ साजिश कर रहे हैं

उनके नजदीकी जो है जो आपके विरोधियों के

मेडिएटर हैं आपके विरोधियों के जो मूर्ख

रिश्तेदार हैं ये मीडिएट आपकी भी बातचीत

रखते हैं उनसे भी बातचीत रखते हैं अब उनके

लाइफ में भूचाल आ रही है जैसे यह दूसरों

की जिंदगी को बेकार बनाते थे अब उनकी खुद

की जिंदगी बेकार हो रही है अब इनके जीवन

में बवाल मचा हुआ है और हुआ यह कैसे जैसे

ही आपने अपनी एनर्जी समेटी एक इंसान का

आभामंडल एक इंसान का औरा हजारों लाखों

लोगों को बदलने की ताकत रखता है पर आपके

पास तो हजारों लाखों लोग है ही नहीं कितने

होंगे ज्यादा ज्यादा हज का सर्कल होगा

अपने फैमिली फ्रेंड रिश्तेदारों को भी

मिला कर के सबको ज्यादा से ज्यादा हज

इससे ज्यादा तो नहीं या लगा लो

ज्यादा ही बड़ा है तो इससे किसी का नहीं

हो सकता जितने लोगों को आप जानते हो और यह

तो मैंने बहुत ज्यादा से ज्यादा होता दिया

जब एक इंसान की ऊर्जा बदलती है तो इतने

लोगों पर प्रभाव डाल सकती है वह अपना अब

हो क्या रहा है आपकी ऊर्जा बदल रही है

आपकी एनर्जी बदल रही है जैसे ही आपकी

ऊर्जा बदली आपकी एनर्जी बदली तो वो जो

एनर्जी आपके साथ खुली मिली हुई थी

नकारात्मकता मचा जा रही थी अब उनको वह चीज

नहीं मिल रही है अब उनकी खुद की जिंदगी

में खलबली मची हुई है क्योंकि आपने एनर्जी

देना बंद कर दिया आपकी तरफ से उनको अगर जा

रहा है तो एक पीस जा रहा है एक हीलिंग जा

रही है आपके तो जो कर्मों है वो हील रहे

हैं अब उनके जो पैटर्न थे जो उन्होंने

कर्मा किए थे अब वो ओपन हो रहे हैं अब वह

उनका भुगतान कर रहे हैं अब वह चीजें इस

तरीके से बिगड़ी हुई है उन लोगों की लाइफ

में कि वह अपने कर्मा भोग रहे हैं कुछ इस

तरीके से हो रहा है और जो आपके विरोधी हैं

इन लोगों की भी सिक्स सेंस एक्टिव है यह

आपके भीतर कंपैशन को लव को सेल्फ

रिस्पेक्ट को एक पॉजिटिविटी को यह खुद भी

महसूस कर रहे हैं इसीलिए आपने नोटिस किया

हुआ अगर अपने अराउंड ने आसपास के लोगों को

कि कुछ सिचुएशन में जैसे भूचाल सा आया हुआ

था वह भूचाल अब रुक गया है व भूचाल सा जो

आया हुआ था वह रुक गया है से साल तक

आपने अपने घर में बहुत नेगेटिविटी को

महसूस किया है अगर आप सोते हैं नींद में

तो कोई जैसे कुछ डरावना सपना देखना या कुछ

धुआ सा निकलना उस धुए में भूत प्रेत की

सेप ले लेना और वह जैसे आपको डरा रहा हो

आपने से साल यह चीजें फेश की है इस

प्रकार की नेगेटिविटी को किसी किसी के घर

में चमगादड़ भी डेरा जमाया हुआ है लेकिन

अभी वह निकल गए हैं कब से निकले हैं उन

चमगादड़ को निकले निकले लगभग लगभग महीने

हो चुके या किसी के चार महीने और यह

चमगादड़ रहते थे आपके घर में तकरीबन

तकरीबन से साल का टाइम पीरियड हो

सकता है या उससे भी पहले के रहते हो पर

आपको जब दिखने के शुरू हुए तो इतना टाइम

हुआ तो विरोधियों को भी यह विरोधाभास जो

वो कर रहे थे उनको यह महसूस हो चुका है कि

अब यह बिल्कुल राइट पाथ पर है हमने जो

करतूतें करनी थी कर ली हमने जो गलत करना

था व कर लिया अब जो हमारी भलाई है व इसी

में है कि हम सुधर कर रहे हम सुधर जाएं

क्योंकि आपकी तरफ से अब कोई नेगेटिविटी

नहीं जा रही है अगर आप दे रहे हो तो सिर्फ

ब्लेसिंग और हीलिंग आपके भीतर इस चीज को

इंप्लीमेंट करते हुए मुझे आप नजर आ रहे हो

अगर आप सच्चे मन से माता रानी पर विश्वास

करते हैं तो इस संदेश को लाइक करके चैनल

को सब्सक्राइब करें और कमेंट में जय हो

माता रानी लिख दीजिए मेरे बच्चे लोग आपको

पीठ पीछे क्यों इतना बातें करते हैं यह

लोग मुंह पर तो भले ही कुछ और कहे यह लोग

आपके सामने आकर आपसे अच्छे होने का थोड़ा

सा नाटक करते हैं और दूसरे लोगों की आपके

सामने चुगलियां नींदा करते हैं लेकिन वही

लोग आपकी भी दूसरे लोगों के सामने आपकी

चुगली निंदा करते हैं और यह एक्चुअली

ग्रुप ऑफ पीपल है कम्युनिटी है जो इस

तरीके की हरकतें आप लोगों के साथ करते हैं

या करती है क्यों यह बात करते हैं क्योंकि

आपके भी तरह एक दिलदारी है आपके भीतर एक

दिलदारी है वो कैसी की आप हर चीज को

दूसरों के साथ शेयर करने में बहुत बिलीव

करते हो लेकिन ऐसे लोगों को देते हो आप

जिनको जरूरत होती है जो निधि होते हैं कुछ

लोग तो ऐसे होंगे कि आप से लेकर के आप पर

उल्टा ही इगोट भी बिहेवियर आपके साथ

करेंगे तो ऐसे लोगों को आपने जांच लिया है

परख लिया है ऐसे लोगों से तो आप अब कटो नफ

है अब आप ऐसे लोगों की मदद करते हैं जो कि

निडी है जिनको आवश्यकता है जरूरतमंद है जो

डिजर्व करते हैं हेल्प को तो जो आपके भीतर

यह भरपूर ता है ना हर चीज की आप बहुत

आसानी से बहुत आसानी से अपने हिस्से की

चीज दूसरे को दे देते हो स

साता आप अंदर से इतने भरपूर हो कि आप

थोड़े में भी बहुत हैप्पी रह लेते हो आप

थोड़े से मैं भी बहुत खुश रह लेते हो

क्यों क्योंकि माता रानी ने आपके भीतर

भरपूर दी हुई है आप सजे हुए हो आप भरपूर

हो कोई आप आज से ही नहीं जन्मे हो आप बहुत

पुरानी सोल हैं आप एक बहुत ओल्ड सोल है और

जो ओल्ड सोल होती है वह बहुत एक्सपीरियंस

लिए पता नहीं कितने वर्ष कितने जन्म कितने

लाखों करोड़ों जन्म ले चुके होते हैं तो

जो आपका यह दिलदारी वाला नेचर है वह

बिल्कुल खुला मिजाज वाला है लोगों के लिए

गिविंग नेचर और एक डिसिप्लिन बिहेवियर जो

आपका है वो लोगों को मजबूर कर देता है

आपके विरुद्ध दुश्मनी पैदा करने के लिए

क्योंकि इनके भीतर नेगेटिविटी है काम

क्रोध मोह लोभ ईर्षा लालच द्वेष दूसरों को

कैसे गट्टे में गिराया जाए दूसरों को कैसे

धक्का मारा जाए नीचे गिराया जाए इसको चोट

पहुंचाई जाए यह लोग मीटिंग में बैठ कर के

जब भी लोग मीटिंग में बैठते हैं तो कुछ

नहीं होता पक्ष विपक्ष हो रहा होता है एक

दूसरे की काट हो रही होती है आप उन चीजों

का हिस्सा नहीं है आप उस नेगेटिव

कम्युनिटी का हिस्सा नहीं है जहां पर किसी

के विरुद्ध चाले चली जाए जहां पर किसी की

चुगली निंदा की जाए जहां पर किसी के

विरुद्ध षड्यंत्र रचे जाए किस इंसान को

कैसे गिराना है इंसान को कैसे डाउन करना

है आप इन बहुत नीची हरकतों से बहुत परे

हैं बहुत ऊंचे हैं आप इन सब चीजों से और

यह बहुत ही छोटे लेवल की बहुत डाउन का

कैटेगरी की चीज ही है किसी से ईर्ष्या

करना किसी से द्वेष करना किसी की हक को

हड़पना यह बहुत ही निची हरकतें हैं और

आपके अंदर एक कंप्लीशन है आप एक भरपूर का

के एनर्जी में है आप कभी लोगों के तलवे

नहीं चाहते आप सिर्फ अपना सिर झुकाते हैं

तो सिर्फ अपनी माता रानी के सामने आप अपने

ईश्वर के आप परमात्मा के प्रति समर्पित है

और यह जो आपका सम ण भाव है माता रानी के

प्रति परमात्मा के प्रति माता रानी आपको

अनंत भर पूर्णता की ओर लेकर जा रही हैं

लेकिन यह चीजें इन लोगों की समझ में नहीं

आती क्यों क्योंकि इनके ऊपर जो है विकारों

की पट्टी बंधी हुई है अंधकार में जीवन है

अब माता रानी आपको उठा रही है किसी की

मजाल नहीं पूरी कायनात में जो आपको गिरा

सके क्यों क्योंकि आप बहुत गिरे हैं आप

बहुत लोगों के द्वारा धके गए हैं आपने

बहुत लोगों के द्वारा धक्के खाए हैं लेकिन

आप टूटे नहीं आप बिखरे नहीं आपने कभी माता

रानी का नाम लेना नहीं छोड़ा आपने माता

रानी का ध्यान नहीं छोड़ा चाहे कितनी भी

कठिन परिस्थितियां आपके जीवन में क्यों

नहीं आए हो लेकिन आपने कभी यह नहीं बोला

कि मैं माता रानी को नहीं मानती या नहीं

मानूंगा ऐसे कभी भी नहीं बोला आपने मेरे

बच्चे आपके साथ कुछ बचपन से ही एक पॉजिटिव

एनर्जी जी रही है आपके भीतर बचपन से ही यह

ख्याल आता होगा कि मैं स्पेशल हूं मैं कुछ

अलग हूं आपके भीतर तरह-तरह के एक अलग-अलग

से विचार भी उत्पन्न होती थे कि कल की

अवतार कैसे होगा जब कलयुग का अंत होगा तो

किस लेवल पर लोग गुनाह कर रहे होंगे किस

लेवल पर कर्म कर रहे होंगे और अगर उसमें

सुधार होगा या उसमें परिवर्तन होगा या

उसमें कुछ सतयुग भाग अगर आएगा तो वो किस

प्रकार जाएगा यह चीजें आपके भीतर बचपन से

ही रही है बचपन से ही आप इस तरीके की सोच

में रहे हैं जरूरी नहीं है और भी कुछ

स्पिरिचुअल थॉट्स आपके माइंड में बचपन से

ही आते थे और मैं यह भी देख पा रही हूं जो

सोर बहुत ज्यादा नेगेटिव है जिनके भीतर

काम होता है लोभ होता है लालच होता है

दूसरे के धन या दूसरे का हक को जो मारने

वाले लोग होते हैं ऐसे लोगों से बचपन से

ही जैसे माता रानी ही उन लोगों से आपको

डिटैच रखा है क्योंकि आपकी नेचर हमेशा गि

बिक रही है देना सिर्फ देना सिर्फ देना

लोगों को सिर्फ देना क्योंकि कहीं ना कहीं

आपके भीतर की जो पॉजिटिविटी थी वो

नेगेटिविटी को पहचान लेती थी जान लेती थी

कि यहां पर कुछ गलत है और आज लोग वो जाने

अनजाने अपने कर्मों के भोग भी भोग रहे हैं

अपने कर्मों की सजा भी भुगत रही है

लेकिन जो लोग अपने कर्मों की सजा भुगत रहे

हैं उनको आज भी यह ज्ञान नहीं है कि यह

हमारे ही कर्मों का करा धरा है और जो आपके

भीतर यह जो स्वभाव है वो आपका एक रॉयल्टी

एक प्योरिटी यह लोगों को आपका दुश्मन बनने

के लिए मजबूर कर देता है आपकी पीठ पीछे

बहुत जो आपके अगेंस्ट है वो बहुत बुराइयां

करते हैं आपकी बहुत बुराइयां करते हैं

आपकी स्ट्रेस को भी जानते हैं आपके भीतर

की मजबूती को भी जानते हैं आपकी ताकत को

भी जानते हैं आपकी बुद्धि को भी जानते हैं

आपके ज्ञान को भी जानते हैं लेकिन मजबूर

हैं इसी कारण बस कि उन्हें चुगली करनी है

निंदा उन्हें करनी है और इसीलिए वह लोग

आपकी चुगली निंदा में व्यस्त रहते हैं

अपना कीमती समय खराब करते रहते हैं पर वह

भी बहुत पवित्र आत्मा है क्योंकि आप एक

स्पिरिचुअल सोल है तो बहुत आसान है आप

लोगों के लिए उन लोगों को भी माफ करना जो

आपके बारे में बुरा सोचते हैं या पूरा

करते हैं या आपके मार्ग में रोड़े अटका

आते हैं या रास्ते में कांटे बिछाते हैं

आपके लिए बहुत आसान है उन सभी लोगों को

माफ करना क्यों क्योंकि आपके भीतर माता

रानी ने ही वह हिम्मत व शक्ति दी है वो

ताकत दी है क्योंकि आप अनंत है आप भरपूर

हैं कोई खाली आत्मा जो कोई खाली इंसान

होता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *