0:02 / 11:35 मैं आज तुम्हें एक गुप्त विधा देने आई हूँ - Kabrau Mogal Dham

0:02 / 11:35 मैं आज तुम्हें एक गुप्त विधा देने आई हूँ

मेरे बच्चे तुम्हारा बड़ा समय समाप्त हो

चुका है मेरे बच्चे आज तुम्हारे सारे

दुखों का अंत होगा और तुम्हारे जीवन के

सभी परेशानियां समाप्त हो जाएगी क्योंकि

मैं तुम्हें और कष्ट में नहीं देख शक्ति

[संगीत]

आखिर तुम भी मेरे बच्चे हो तुम्हें कैसे

अपने बच्चे को दुखी देख शक्ति हूं मेरे

बच्चे मेरी कृपा दृष्टि तुम पर पद चुकी है

मेरे प्रेम की कसौटी पर तुम खर उतार रहे

हो अगले घंटे में तुम्हारे जीवन में

भारी बदलाव होने वाला है

मेरे बच्चे जो बातें आज मैं बताना चाहती

हूं वह मैंने तुम्हें कभी नहीं बताई इन

बटन से तुम सदैव से अनजान रहे हो इसलिए उन

बटन को जानना अत्यंत आवश्यक

[संगीत]

मेरे बच्चे मैं जानती हूं की तुम काफी

चिंतित रहते हो क्योंकि तुम्हारे जीवन के

काफी समय केवल दुखों में ही कटे परंतु

दुखी होने से तुम्हें कोई लाभ नहीं होगा

इसलिए अपने आप को दुखों से मुक्त करो और

अपने आप पर ध्यान दो

[संगीत]

कई बार तुम्हारी कुछ ऐसी बातें जिससे मुझे

ना चाहते हुए भी क्रोध ए जाता है और कई

बार तुम्हारी कुछ ऐसी बातें जो मुझे

प्रश्न कर देती है इस तरह कुछ ऐसी ही

बातें जिन्होंने मुझे प्रश्न किया है ऐसी

कुछ बातें जो तुम्हें करना बाकी है

जिससे की अगले घंटे में तुम्हारी

जिंदगी में चमत्कारी रूप से बादल जाएगी

इसलिए मेरे बच्चे तुमको यह मौका गवाना

नहीं

[संगीत]

की मैं स्वयं नहीं चाहती की तुम कभी दुखी

रहो

बल्कि मैं यह चाहती हूं की मेरे सभी

बच्चों को सभी खुशियां प्राप्त हो मेरे

बच्चे स्थिति में सदैव बदलाव आता राहत है

परिस्थितियों कभी एक से नहीं होती कभी

किस्मत के अनुसार तो कभी कर्मों के अनुसार

यदि किस्मत के अनुसार तुम्हारे स्थिति में

बदलाव नहीं ए रहा है तो तुम कुछ ऐसे कार्य

करो उन कार्यों की वजह से तुम्हारी स्थिति

में निश्चित ही बदलाव आएगा और तुम्हारी

किस्मत में भी बदलाव शुरू हो जाएगा

मेरे बच्चे अब ध्यानपूर्वक सुनो मेरी बटन

को तुम बहुत बार कार्य को करते-करते तक

जाते हो और तुम्हें ऐसा लगता है की तुम

सफल नहीं हो रहे हो इसी करण तुम अपने

आत्मविश्वास को को देते हो

विजय प्राप्त कर सकते थे और कई बार यही

वजह होती है तुम्हारे नाकामी की उसके

पश्चात तुम छह कर भी उसे कार्य पर अपना

ध्यान नहीं एकत्रित कर पाते हो अपनी पुरी

शक्ति नहीं लगा पाते हो

और वो कार्य तुम्हारे किसी के बहकावे में

आकर होते हैं कई बार कोई अपना या तुम्हारे

जीवन साथी को यह का देने पर की यह कार्य

तुम्हारे लिए संभव नहीं तुमसे नहीं हो

पाएगा तुम्हारी नाकामी का यह भी एक मुख्य

करण होता है

[संगीत]

मेरे बच्चे लेकिन अब आज से बल्कि अभी से

तुमको ध्यान रखना है यह नहीं करना है और

कल सुबह तुमको नहाने के पानी में थोड़ा

गंगा जल डालकर स्नान करना है एक लोहे की

कटोरी में सरसों का तेल लेकर उसे कटोरी

में डालकर

उसमें एक का सिक्का डालकर अपने दोनों

हाथों से उसे कटोरी को अपने घर में थोड़ी

डर के लिए रखकर छोड़ देना है उसके पश्चात

पूरे घर में घूमने है फिर किसी पौधे में

डालते समय तुम्हें उसे समय यह बोलना है

मेरी सभी परेशानियां तेल के रूप में इसी

पौधे में संबहित हो जैन ऐसा बार बोलते

हुए तुम्हें करना है ऐसा बोलते

[संगीत]

क्योंकि जिसके ऊपर मेरी कृपा दृष्टि होती

है उसको जीवन में किसी भी परेशानी का

सामना नहीं करना पड़ता ना ही किसी बीमारी

का ना ही गरीबी का तुम्हारे जीवन की पीड़ा

स्वयं मेरे द्वारा शिवा भोले के पास चली

जाति है

साक्षात उनका हाथ मेरे भक्तों पर होता है

तो दिन दुनी रात चौगुनी तरक्की होती है

मां से दुख चिटा को त्याग कर अपने मां को

प्रफुल्लित करो खुश हो जो क्योंकि

तुम्हारी किस्मत समय पलटने वाला है

जीवन में अच्छे कर्मों का फल तुम है अवश्य

प्राप्त होगा क्योंकि कर्मों का फल भले ही

डर से प्राप्त हो परंतु निश्चित है

तुम्हारी सोच हुई हर कामना पुरी होगी

खुशियों की बारिश होगी तुम पर अब से

तुम्हारे जीवन में परिवर्तन प्रारंभ होगा

[संगीत]

मेरे बच्चे मैं स्वयं तुम्हारे साथ हूं

मैं कभी भी तुम्हें भड़काने नहीं दूंगी

तुम मेरे प्यार बच्चे हो और मैं हमेशा

तुम्हारे साथ रहूंगी चाहे स्थिति कैसी भी

क्यों ना हो मेरे बच्चे तुम बिल्कुल भी

चिंता मत करना अगर आप सब मुझे प्रश्न करना

चाहते हैं तो पूजा के समय पांच तरह के

मिष्ठान चढ़ाई और जो मिष्ठान आप मुझे भोग

लगा रहे हैं उसमें स्थान को कुंवारी

कन्याओं में प्रसाद के रूप में बांट देना

मेरी कृपा से आपकी आई में आने वाली बड़ा

को दूर कर दूंगी और तुम्हारी मेहनत और

योग्यता के अनुसार धन अर्जित करने में तुम

सफल हो जाओगे अगर सच्चे मां से आप मेरी

पूजा करते हो तो मैं कभी आपको निरसा नहीं

करती

मैं अपने बच्चों का सदैव ध्यान रखती हूं

मेरे बच्चे तुमसे कुछ बहुत जरूरी बात करने

आई हूं इसलिए मेरे संदेश को अनदेखा करने

की भूल

मत करना मेरे बच्चे और जो बता रहे हो उसको

ध्यानपूर्वक सुनकर

समझना बहुत जरूरी है क्योंकि

जो बात करने आई हूं मैं वह बात

बहुत ही आवश्यक

[संगीत]

है क्योंकि

तुम्हारे करीब एक ऐसा

समय आने वाला है

यदि तुम एक छोटा सा कार्य

[संगीत]

[संगीत]

[संगीत]

उसे शुभ समय के उन चारों को तुम

खाली मत जान देना जो बता रही हूं

केवल ध्यान देना बाकी सब

मुझमें पर छोड़ दो मैं तुम्हारी प्रार्थना

को

स्वीकार कर तुम्हें जो चाहिए

वह तुम्हें दूंगी तुम जब व्रत को

खोलना से पहले जी दिन कन्याओं

को भजन कराओगे उसे समय

विशेष ध्यान रखना इस कार्य को

तुम प्रातः कल ही संपन्न करने

पश्चात उनके मुख से निकली

[संगीत]

है तुमसे

कुछ इच्छा जाहिर करती है तो तुम

उसे अवश्य पूरा करना उसे अधूरा

[संगीत]

मत रहने देना क्योंकि छोटी कन्या

[संगीत]

तुमसे कुछ बहुत बड़ी इच्छा जाहिर नहीं

करेंगे छोटी कन्याओं की

[संगीत]

इच्छा को पूरा करते तुम्हारी कोई

भी एक इच्छा जो अधूरी हो

वह पूर्ण हो जाएगी क्योंकि इस समय मैं

तुम्हारे घर में प्रवेश करूंगी

वह मेरा ही रूप लेकर प्रवेश करेंगे और

[संगीत]

उनके द्वारा प्राप्त किया गया आशीर्वाद

तुम्हें मिलेगा

और जीवन में जो चाहिए फिर दिलाने

[संगीत]

की शक्ति रखेगा यदि तुमने उनको

कुछ कर दिया तो तुमने मुझे

खुश कर दिया और मैं खुश हो गई तो

जीवन में तुम्हें कुछ मांगने

की आवश्यकता ही नहीं पड़ेगी सब कुछ बिन

मांगे ही मिल जाएगा

[संगीत]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *