?️Mahadev Ji ka Sandesh ?You have forgotten to love yourself.. - Kabrau Mogal Dham

?️Mahadev Ji ka Sandesh ?You have forgotten to love yourself..

मेरे बाजू में तुम्हारी माता आज तुमसे कुछ कहना चाहती हूं मेरे बच्चे मेरे संदेश को ध्यान पूर्वक सुनोगे तो तुम्हारी

जिंदगी में बहुत जल्दी बदलाव आएंगे मेरे बच्चों तुम बहुत ज्यादा मेरी पूजा अर्चना करते हो यह अच्छी बात है लेकिन मेरे बच्चों कभी कभी तुम दूसरों की सिकाई में आकर कोई गलत कार्य कभी मत करना मेरे बच्चे लोगों

का कार्य होता है गलत बातें बताना ताकि आप अपने लक्ष्य से भटक जाए लेकिन मेरे प्यारे बच्चों ऐसा आपको बिल्कुल नहीं करना है क्योंकि वह आपको तो गलत रास्ते पर भेजेंगे ही आपके साथ आपका परिवार भी आपकी

गलतियों का भुगतान करता है क्योंकि अगर परिवार का एक सदस्य गलत रास्ते तो उसे व्यक्ति को तो पश्चाताप करना ही पड़ता है उसके परिवार को भी उसकी गलतियों का पश्चाताप करना पड़ता है इसलिए मेरे बच्चों आप

हमेशा अपने बुद्धि संयम और धैर्य का प्रयोग करें किसी की बातों में आकर अपने लक्ष्य क्योंकि आपको एक बार ही जीवन मिला है तो इस जीवन में आप अच्छे कर्म करिए अच्छे लोगों के साथ रहिए अच्छी बातें करिए अगर

आप अच्छे कर्म करेंगे तो इससे आप अपने लक्ष्य को जल्दी पा सकेंगे और आपके साथ साथ आपका परिवार भी उन्नति करेगा भी कभी हमें जीवन में कुछ ऐसे व्यक्ति मिलते हैं जो हमें गलत रहा की और ले जाना चाहते हैं

लेकिन हमें सावधान हो जाना चाहिए और उनसे दूरी बनाकर रखनी चाहिए क्योंकि मेरे बच्चों एक बार लिया गया गलत फैसला आपकी पूरी जिंदगी में परिवर्तन ला सकता है और वह ऐसा परिवर्तन होगा कि जिससे आपको तो

भुगतान करना ही पड़ेगा आपका परिवार भी आपकी गलतियां कब होगी बन जाएगा इसलिए मेरे बच्चों जीवन में सोच समझकर ही कदम बढ़ाए कभी भी गलत कार्यों की तरफ ना बड़े क्योंकि आपको यह बहुमूल्य जीवन एक

बार ही मिला है जीवन में आप अच्छे कार्य करिए अच्छे लोगों के साथ रहिए मेरे बच्चे मेरी आशीर्वाद से तुम्हारा जीवन खुशियों से हरा भरा रहेगा मेरे बच्चे मेरा आशीर्वाद पाने के लिए इस लायक अभी कर दे और अपना नाम

का पहला अक्षर कमेंट में लिखे मेरे बच्चे आज जो संदेश तुम्हारे लिए है वह बहुत ही खास है यह संदेश तुम्हारे जीवन को बदल कर रख देगा यह बहुत ही बड़ा और अत्यंत महत्वपूर्ण संदेश है तुम्हारे लिए इस इस बीच में

छोड़कर जाने की भूल मत करना मेरे बच्चे जैसे तुम सफलता के लिए प्रयास करते हो ऐसे लोग भी हो सकते हैं जो तुम्हारे प्रति आक्रोश और क्रोध रखते हैं वह ईर्ष्या से ग्रस्त है जो आपकी उपलब्धियां से उत्पन्न होती है आपकी

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *