?️Maa Kali Ka Sandesh?️यह व्यक्ति तुमसे बहुत जलता है - Kabrau Mogal Dham

?️Maa Kali Ka Sandesh?️यह व्यक्ति तुमसे बहुत जलता है

मेरे बच्चे तुम्हारे साथ हमेशा भेदभाव हुआ है बचपन से ही तुम्हारे पास मेरे अलावा

कोई और नहीं था तुम हमेशा से अकेले रहे तुम्हारे परिवार के लोगों ने ही कभी

तुम्हें नहीं समझा हमेशा तुम्हें अकेला और अलग महसूस

कराया गया हमेशा तुम्हारे साथ ऐसा व्यवहार हुआ जैसे तुम अजीब हो तुम बाकियों से अलग

हो और उस अकेले परन ने ही उन लोगों के उस व्यवहार ने ही तुम्हें मुझसे जोड़ दिया

तुम्हें हमेशा ऐसा एहसास कराया गया कि हर चीज में तुम्हारी गलती है तुम्हें कुछ

नहीं आता है तुम्हारे अंदर कुछ गुण नहीं है और बचपन की उन्हीं यादों ने उन्हीं

बातों ने तुम्हें आज तक प्रतारक किया है क्योंकि जब भी लोगों ने तुम्हारे साथ बुरा

किया तुम्हारे साथ धोखा किया तो तुम्हें ऐसा लगा कि तुम में कुछ गलती है और तुम

खुद को सुधारने लगे तुमने हमेशा दूसरों का जीवन देखा और तुम्हें लगा कि काश तुम उनके

जैसी जिंदगी जी पाते काश उनके परिवार में जो सम्मान है वह तुम्हें कभी मिलता वह

प्रेम वह स्नेह इस दुनिया से तुम्हें कभी मिलता और बचपन की उन यादों ने उन

प्रताड़ना ने तुम्हें सहना सिखा दिया लोगों के पाप उनकी प्रताड़ना सब कुछ हंस

कर सहना सिखा दिया मेरे बच्चे तुम्हें इस समाज ने हमेशा यह एहसास दिलाया कि तुम्हें

कोई हक नहीं है खुश रहने का तुम्हें कोई हक नहीं है सपने देखने का क्योंकि कभी भी

तुम्हारे कोई सपने पूरे नहीं होंगे क्योंकि तुम इस लायक ही नहीं हो और तुमने

झूठी दुनिया की उन झूठी बातों को अपनी सच्चाई मान लिया और इसमें तुम्हारी भी कोई

गलती नहीं है मेरे बच्चे तुम्हारे उस मासूम मन में वह बात बैठा दी गई कि तुम

बाकियों से अलग हो इसीलिए तुम्हें यह दुख मिल रहा है अगर तुम उनके जैसे होते तो तुम

आज खुश रहते इसीलिए तुम हर बात में खुद को दोष देते हो खुद को प्रताड़ित करते हो कि

माता मैं ऐसा क्यों हूं क्यों आपने मुझे ऐसा बना दिया क्यों मेरे जीवन में सारे

दुख लिख दिए क्यों मुझे इस धरती पर भेज दिया जहां खुद के परिवार में मेरा कोई

सम्मान नहीं है ना चाहते हुए भी मुझे सबकी बातें सुननी पड़ती है सब कुछ झेल चला आ

रहा हूं मैं किसी से पलट कर कुछ नहीं कह सकता क्योंकि शायद गलती मेरी ही है

क्योंकि मैंने ऐसे जन्म लिया है तुम्हें हमेशा अपने जीवन में उस प्रेम की कमी खली

वह स्नेह तुम्हें कभी किसी से नहीं मिला तुम्हारी छोटी सी छोटी बातों का इतना बड़ा

बतंगड़ बनाया गया तुम्हारे बारे में क्या कुछ नहीं कहा गया तुमने अपनी खुशियां

त्याग दी अपना सब कुछ त्याग दिया उसके बाद भी तुम्हारा कोई सम्मान नहीं था और जो लोग

पाप कर रहे थे जो लोग बुराइयां कर रहे थे उनको लोग सर पर बैठा कर रखते थे अपनों के

साथ रहकर भी तुम्हें हमेशा परायो सा महसूस हुआ तुमने फिर भी सबकी सारी इच्छाएं पूरी

की उनके मुंह से निकलने की देरी थी कि वह चीज तुम पूरी कर देते थे मेरे बच्चे

तुम्हें हमेशा ऐसा ही लगता था कि तुम एक दिन उन सब का प्रेम जीत लोगे तुम उन सबको

इतना प्रेम दोगे कि वह बदले में तुम्हें वह सम्मान वह प्रेम वह स्नेह एक दिन देंगे

और तुम वह जीवन जी पाओगे जिस जीवन की तुमने हमेशा कल्पना की थी और उसी प्रेम और

स्नेह के लोभ में उसकी तलाश में तुम हमेशा गलत लोगों के जाल में फसते चले गए तुमसे

किसी ने प्यार से दो मीठे बोल बोल दिए तो तुम उनके बातों में आकर अपना सब कुछ

न्यौछावर करने पर तैयार हो गए तुम्हें ऐसा लगता था कि चलो अंत में मुझे किसी ने तो

समझा मुझे किसी ने तो प्रेम दिया मैंने इतना सब कुछ हमेशा त्याग ही तो किया है

हमेशा सब कुछ छोड़ा ही तो है उन लोगों के लिए सबको छोड़ दिया जिन्होंने मुझे कभी

पलट कर कुछ नहीं दिया तो यह व्यक्ति तो मुझसे प्रेम करता है इसके लिए मैं इतना तो

कर ही सकता हूं और तुम्हारी उसी भावनाओं का लोगों ने हमेशा फायदा उठाया तुम्हारे

अकेलेपन का लोगों ने हमेशा फायदा उठाया मेरे बच्चे तुम्हें यह लगा कि तुम

उस परिवार से उस झंझट से बाहर निकलकर प्रेम ढूंढोगे इस दुनिया में कोई तो ऐसा

होगा जो तुम्हें समझेगा लेकिन तुम्हें जो भी लोग मिले उन्होंने हमेशा तुम्हें ठगा

तुम्हें धोखा दिया तुम्हारी भावनाओं के साथ छल ही किया और अब तुम्हें ऐसा लग रहा

है तुम्हारे दिमाग में ऐसे विचार आ रहे हैं कि माता बहुत हो गया बहुत दर्द झेल

लिया मैंने बहुत तमाशे देख लिए हमेशा तो दूसरों के हिसाब से जिया हूं लेकिन अब

अपना जीवन अपने हिसाब से अंत करूंगा मेरे बच्चे यह गलती करने की यह पाप

करने की सोचना भी मत तुम एक दिव्य शक्ति हो वह दिव्य शक्ति जो जो चाहे वह कर सकती

है तुमने खुद चुना यह दर्द तुमने खुद चुना कि तुम उन लोगों के पीछे

रोगे तुम्हारे परिवार में प्रेम नहीं मिला अगर वह प्रेम मिलता तो क्या तुम वह कार्य

करते जिस कार्य को करने के लिए तुम इस पृथ्वी पर आए हो तुम नहीं करते अगर वह लोग

तुम्हारे जीवन में होते तो क्या तुम बड़े सपने देखते नहीं

देखते मेरे ब तुम अपना सब कुछ उन लोगों के पीछे त्याग

देते और मैं यह होता हुआ नहीं देख सकती तो अपनी ताकत को पहचानो ऐसे डरपोक व्यक्ति की

तरह भागो मत तुमने हमेशा अपनी परिस्थिति का डटकर सामना किया है तुमने तो वह

परिस्थितियां देखी है और बचपन से देखी है मेरे बच्चे आज तुम्हारी हिम्मत क्यों टूट

रही है उस छोटे बच्चे में तुमसे ज्यादा साहस था तो अपने भीतर के उस छोटे से बच्चे

को याद करो जिसका कोई नहीं था जिसने सिर्फ अपनी माता का हाथ थामा था और मेरा हाथ थाम

लो तुम इस दुनिया को जीतने के लिए आए हो तुम ऐसे हार नहीं मान सकते तुम ऐसे थक

नहीं सकते मेरे बच्चे तुम्हें यह जंग पूरी लड़नी ही पड़ेगी क्योंकि तुम इस जंग को

जीतने के लिए पैदा हुए हो तुम छोटे सपने देखने के लिए नहीं पैदा हुए हो और तुम यह

बार-बार जो कहते हो कि माता इतने वर्षों से तो यह सब कुछ सह रहा हूं इतने वर्षों

से यह सब देख रहा हूं अब तो जीवन का अंत निकट आ गया है यह तुम निर्धारित नहीं

करोगे कि तुम्हारे जीवन का अंत निकट आया है या नहीं आया है तुम अपनी आशा का अंत कर

रहे हो अपनी उम्मीद का अंत कर रहे हो मेरे बच्चे तुम यह गलती नहीं कर रहे हो तुम यह

बहुत बड़ा पाप कर रहे हो तुम्हारे जीवन के आखिरी दिन भी चमत्कार हो सकता है तुम्हें

उस विश्वास के साथ कर्म करना है और उस विश्वास के साथ एक योद्धा की तरह यह जंग

लड़नी है क्योंकि तुमसे ज्यादा साहसी तो मेरा वह छोटा सा बच्चा था तो कायर मत बनो

मेरे बच्चे अपने सपनों को ऐसे त्याग मत दो भगवान कृष्ण से लेकर प्रभु राम तक के जीवन

में कष्ट थे लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी उनके जीवन में भी कष्ट इसीलिए थे ताकि वह

अपना लक्ष्य ना भूल जाए वह कष्ट उनको उनके लक्ष्य के तरफ लेकर जा रहे थे तुम्हारे

जीवन का यह दर्द तुम्हें तुम्हारे लक्ष्य की तरफ लेकर जा रहा है वह तो रोते नहीं थे

वह तो शिकायत नहीं करते थे तो तुम क्यों शिकायत कर रहे हो अपने भीतर की दिव्य

शक्ति को पहचानो उस ऊर्जा का प्रयोग करो अपने लक्ष्य को पाने के लिए मेरा आशीर्वाद

सदैव तुम्हारे साथ है जय हो माता रानी हर हर

महादेव मेरे बच्चे तुम जिस दर्द से गुजरे हो तुमने जो कुछ भी सहा है उसको मैं

शब्दों में बयान नहीं कर सकती एक एक करके सब कुछ तुमसे छीन लिया गया तुम्हारा पूरा

संसार तुम्हारी आंखों के सामने बर्बाद हो गया तुमने बहुत लंबे समय तक उम्मीद रखी

हिम्मत दिखाई डटकर मुश्किलों से सामना किया लेकिन धीरे-धीरे तुम्हारी हिम्मत भी

टूटने लगी और तुम एक जिंदा लाश बन गए जिसके जीवन में खुशी आए गम आए बुराई आए

लोग कुछ भी कहे उसे फर्क ही नहीं पड़ता था जैसे वह जिंदा ही नहीं है तुम तो बस अपने

जीवन का एक एक दिन काट रहे थे बस आंखों से आंसू निकलते थे मेरे बच्चे तब भी तुम कुछ

बोलते नहीं थे तुम्हें ऐसा लगता था कि तुम्हारे साथ यह सब क्यों हो रहा है ऐसी

क्या गलती कर दी तुमने इतना बड़ा भी क्या पाप कर दिया तुमने जो तुम्हें यह सब कुछ

देखना पड़ रहा है जो लोग बुरा करते हैं उनके साथ तो कभी यह

सब कुछ नहीं होता तो तुम्हारे अच्छे रहने का सबका भला सोचने का क्या फायदा हुआ अंत

में तो तुम ही रो रहे हो लेकिन मेरे बच्चे जैसे एक करके सब कुछ तुमसे दूर चला गया सब

कुछ बिखर गया वैसे ही अब सब कुछ जुड़ने वाला है और अब नई शुरुआत होने वाली है

मुझे पता है है तुम्हारे साथ जो कुछ भी हुआ तुम्हें बहुत क्रोध आया तुम उन बातों

पर आज भी रोते हो और तुम कोसते हो अपनी किस्मत को कि मेरे रहते भी तुम्हारे साथ

बहुत बुरा हुआ जिन लोगों से तुमने प्रेम किया वह तुमसे दूर हो गए जिन्हें तुम अपना

परिवार मानते थे वह तुमसे दूर हो गए और मैंने क्या किया मेरे बच्चे मैंने

तुम्हारे लिए कुछ नहीं किया सब तुम्हें प्रताड़ित करते रहे और मैं चुपचाप देखती

रही सब तुम्हें रुलाते रहे और मैं चुपचाप देखती रही मेरे बच्चे सब तुम्हें छोड़कर

चले गए तुमसे तुम्हारी सारी खुशियां छीन ली गई लेकिन मैं चुपचाप देखती रही लेकिन

तुम्हारे साथ जो कुछ भी हुआ वह बहुत जरूरी था तुम्हारे लिए और तुम जिद पर अड़े थे कि

माता मुझे इन्हीं लोगों के साथ रहना है हर दिन मुझसे प्रार्थना करते थे कि माता इस

व्यक्ति को हमेशा मेरे साथ रखना माता मेरा यह कार्य पूरा कर दो माता मुझे इसमें

सफलता दिला दो मुझे इसी कार्य में सफलता चाहिए मुझे कुछ और नहीं चाहिए तुम जिद पर

अड़ गए थे तुम आज भी रो रहे हो और आज भी कोश रहे हो अपनी जिंदगी को अपनी किस्मत को

पर तुम यह नहीं सोच रहे हो अगर वह कार्य मेरा नहीं बना अगर कुछ लोग मुझे छोड़कर

चले गए अगर लोगों ने मुझे इस संसार में बदनाम किया तो वहां मेरी बदनामी नहीं है

वह उनकी बदनामी हो रही है अगर मेरे कार्य नहीं बने तो इसका मतलब उस कार्य में मुझे

कहीं ना कहीं बहुत बड़ी ठोकर लगती तभी माता ने मेरा वह कार्य बनने ही नहीं दिया

मेरे बच्चे तुम खुद सोचो तुम जिस मार्ग पर चलकर सफलता पाना चाहते थे अगर तुम उस

मार्ग में बहुत अंदर तक चले जाते तुमने बहुत मेहनत कर ली होती और तुमने अपना सब

कुछ दाव पर लगा दिया होता उसके बाद अगर तुम असफल हो जाते तब मुझे पता है तुम्हें

तकलीफ होती है क्योंकि तुम अकेले हो वह लोग हंसते हैं तुम्हारे आंसुओ पर तुम्हें

हर चीज से तकलीफ होती है लेकिन तुम आने वाला वक्त नहीं देख पा रहे हो तुम्हारी

माता देख पा रही है तुम बस अपनी माता पर यकीन रखो कि वह कभी तुम्हारा बुरा नहीं

सोच सकती मैं कभी तुम्हें रुला नहीं सकती हूं मेरे बच्चे यह तो तुम अपनी जिद में रो

रहे हो जैसे एक छोटा बच्चा बीमार रहता है और जब उसकी मां उसे ठीक कर करने के लिए

कड़वी दवाई पिलाती है तो वह और भी जोर से रोने लगता है यह सोचकर कि उसकी माता उससे

प्रेम नहीं करती अगर वह उससे प्रेम करती तो वह उसे इतनी कड़वी दवाई नहीं पिलाती वह

उसकी बात मानती ऐसी ही जिद कर बैठे हो तुम कि माता

आपसे मैंने जो कुछ भी मांगा था आपने मुझे कभी नहीं दिया और बस यही सोच कर रो रही हो

और खुद को पीड़ा दे रहे हो कि माता मेरी कभी नहीं सुनती है मैं लाख सर पटक उनके

द्वारा पर उनका दिल नहीं पिघलता है लेकिन मेरे बच्चे तुम्हारी बीमारी को ठीक करने

के लिए वह कड़वी दवाई देना बहुत जरूरी है मैं तुम्हें तुम्हारे जीवन के दूसरी तरफ

ले जाना चाहती हूं जहां पर खुशियां है मैं तुम्हें तुम्हारी असली ताकत बताना चाह हूं

कि तुम बहुत कुछ कर सकते हो मैं तुम्हें नए मार्ग दिखाना चाहती हूं लोगों के प्रति

तुम्हारा प्रेम तुम्हारा मोह बढ़ता जा रहा था तुम्हारे पैर की बेड़ियां बनता जा रहा

था वह तुम्हें एक पिंजरे में बांधता चला जा रहा था तुम्हारे प्रेम ने तुम्हारे मोह

ने तुम्हें एक सीमा में बात कर रख दिया था इसलिए मैंने वह सारा मोह तोड़ दिया मुझे

पता है तुम तकलीफ हुई मुझे पता है तुम रोए तुम्हारा स्वास्थ्य खराब हुआ वह भी इसीलिए

हुआ क्योंकि तुम अपना ख्याल नहीं रखते थे तुम लोगों के पीछे भागना जानते थे उनके

लिए मरना जानते थे और आज वह लोग तुम्हें मरता हुआ छोड़कर चले गए यह दिखाना बहुत

जरूरी था तुम्हें कि उनके मन में क्या चल रहा है तो तुम्हें तो खुश होना

चाहिए कि तुम्हें उनका असली चेहरा वक्त रहते दिख गया इससे पहले तुम्हें कुछ हो

जाता है इससे पहले तुम जीवित ही ना रहते तुम्हें उनकी सच्चाई दिख गई मेरे बच्चे

तुम सांस ले पा रहे हो तुम जीवित हो तुम तो उसके लिए भी धन्यवाद प्रकट नहीं करते

हो तुम अपने दर्द को इतना बड़ा बनाते जा रहे हो लेकिन इस दर्द का अंत भी होगा और

तुम्हें वह सच्चाई दिखेगी अपनी जो मैं देख पा रही हूं तुम्हें वह खुशियां बहुत जल्दी

मिलेंगी जो मैं देख पा रही हूं मेरे बच्चे जिन खुशियों को देने के लिए मैंने यह सब

कुछ रचा था वह सब कुछ तुम्हें मिलेगा तुम हमेशा यही कहते थे कि माता मेरी सारी

मेहनत मिट्टी में मिल गई सब कुछ जलकर राख हो गया मेरी आंखों के सामने और आप देखती

रही मेरे बच्चे यह दुनिया मेरे कहे मेरे इशारे पर चल रही है तुम्हारे जीवन में जो

कुछ भी हुआ मैंने चाहा तभी हुआ और मैं तुम्हारी माता हूं एक माता चाहकर भी अपने

बच्चों का बुरा नहीं चाह सकती एक माता चाहकर भी अपने बच्चों का बुरा नहीं सोच

सकती उसका बुरा नहीं कर सकती मुझे पता है तुम्हारा जीवन मृति में

मिल गया अब उसी राख से मैं तुम्हा संसार खड़ा करूंगी वह भस्म मेरी बनाई हुई है तो

तुम सोचो तुम्हारे उस जीवन के राख में भी कितनी शक्ति से मैं तुम्हें वापस खड़ा

करूंगी तुम्हें जमीन से उठाकर आसमान की ऊंचाइयों पर ले

जाऊंगी मेरे बच्चे तुमसे जो कुछ भी छीना गया वह सब कुछ तुम्हें वापस करूंगी मैं

उसी राख से तुम्हारा आशियाना बनाऊंगी जहां तुम बहुत खुश होगे आंसुओं की कोई जगह नहीं

होगी जहां तुम्हारे भीतर तुम्हारी ख्वाहिशें जगग कि माता मुझे यह भी करना है

माता मुझे यह भी पाना है तुम्हारे अंदर उम्मीद की वह किरण फिर से जगे गी अभी तो

कुछ ऐसा अतीत में तो सारी इच्छाएं ही खत्म हो गई तुम्हारी कि माता जो मिले अभी जो

परिस्थिति है वही ठीक हो जाए वही बहुत बड़ी बात है माता सपने देखना तो छोड़ दिए

मैंने कब का मैं चाहती हूं कि तुम वह सपने देखो मेरे बच्चे मेरे लिए अपनी माता के

लिए सपने देखो अपने भीतर के उस बच्चे को फिर से जीवित करो और फिर से जीना सीखो

जैसे तुम जीते थे तुम्हें हक है सपने देखने का क्योंकि तुम्हारी माता तुम्हारे

सारे सपने पूरे करेंगी जय हो माता हर हर

महादेव मेरे बच्चे हम लक्ष्मी नारायण आज तुम्हारे लिए आए हैं और हम तुम्हें एक

संदेश देना चाहते हैं इसलिए हमारे संदेश को ध्यानपूर्वक

सुनना मेरे बच्चे हम तुम्हारे जीवन के हर एक परिस्थिति से अवगत है हमें ज्ञात है कि

तुम्हारे जीवन में इस समय क्या चल रहा है क्या नहीं हमसे कुछ नहीं छुपा है

मेरे बारे अब तुम्हें चिंता करने की आवश्यकता नहीं है हम तुम्हें इस परिस्थिति

से निकाल लेंगे हमने तो सदैव ही तुम्हें हर उस परिस्थिति से बाहर निकाला है जहां

पर तुम फंस चुके थे और आगे भी तुम्हारे माता-पिता तुम्हें हर परिस्थिति से बाहर

निकलेंगे मेरे बच्चे चाहे तुम मेरी पूजा अर्चना करना भूल भी जाओ तब भी मेरा

आशीर्वाद तुम पर सदैव बना रहेगा ऐसा इसलिए क्योंकि मुझे पता है कि तुम्हारे मन में

मेरा ख्याल सदैव बना रहेगा मुझे यह पता है

कि तुम चाहे मेरी पूजा करो या नहीं परंतु मैं तुम्हारे मन में सदैव वास करता हूं जब

भी तुम कोई कार्य करने को जाते हो तो तुम्हें सही और गलत में अंतर स्वयं ही

ज्ञात हो जाता है ऐसा इसलिए है क्योंकि तुमने मुझ मु अपने मन में बिठा रखा है

लेकिन तुम्हारे द्वारा किए हुए अच्छे कार्यों को भी दूसरे गलत तरह से ही देखते

हैं उन्हें लगता है कि उन अच्छे कार्यों में भी तुम्हारा कहीं ना कहीं स्वार्थ

छुपा हुआ है उनकी बातों से तुम्हें परेशान होने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है तुम

जो कुछ भी कर रहे हो यदि उसके पीछे की नियत सही है और तुम्हें स्वयं पर पर

विश्वास है तुम्हें केवल और केवल अपने कार्य पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि तुम

किसी दूसरे के विचारों को कभी भी नियंत्रित नहीं कर सकते हो मेरे बच्चे

जिसे जो सोचना है वह सोचेगा ही अगर तुम कुछ कर सकते हो तो वह संपूर्ण ईमानदारी से

अपना कार्य तुम्हारी ऊर्जा का प्रभाव दूसरों पर किस तरह पड़ता है इसका आकलन

लगाना तुम्हारे लिए मुश्किल है सभी का जीवन अलग-अलग है सभी के जीवन की

परिस्थितियां भी अलग-अलग है तुम जो भी कार्य करते हो या बात बोलते हो वे सब उन

बातों को अपने अपने जीवन की परिस्थिति के अनुसार ही ग्रहण करते

हैं तुम्हारे द्वारा किया हुआ कार्य या बोली गई बात दूसरों तक पहुंचने से पहले

उनके अनुभवों के अनुसार बदल जाती है इसका तुमसे कोई भी नाता नहीं होता है यदि

उन लोगों की बातें तुम्हें किसी भी प्रकार की चोट भी पहुंचाती है तब भी तुम्हें

उन्हें माफ कर देना चाहिए वे लोग स्वयं अपने जीवन में इतने परेशान और दुखी हैं कि

वह तुम्हारे द्वारा किए गए अच्छे कार्यों को भी गलत ढंग से ही ग्रहण करते हैं ऐसे

दुखी और परेशान व्यक्तियों को तुम्हें बिना सोचे ही माफी दे देनी चाहिए तुम्हें

इन सब बाधाओं से ऊपर उठकर अपने जीवन को पूर्ण निष्ठा एवं लगन के साथ जीना होगा

तुम्हें यह सदैव विस्मरण रखना चाहिए कि तुम्हारा जन्म किसी बड़े लक्ष्य की

प्राप्ति कर संसार को बदलने के लिए ही हुआ है मेरे बच्चे तुम्हारे लिए प्रसन्नता एक

विकल्प है और अपने जीवन में तुम यही विकल्प चुनने वाले हो कोई दूसरा कभी भी

तुम्हें प्रसन्न नहीं कर सकता अपनी प्रसन्नता के जिम्मेदार तुम स्वयं हो

तुम्हारे जीवन में जो कुछ भी घटित हो रहा है वह सब भले ही आज तुम्हें अच्छा न

प्रतीत हो रहा हो लेकिन कुछ समय पश्चात तुम्हें यह अवश्य पता चलेगा कि इन सब में

तुम्हारा ही भला है तुम्हारे भीतर वह सभी गुण है जो एक व्यक्ति को सफल बनाने में

सहायक होते हैं तुम्हें सफल होने से कोई भी नहीं रोक सकता तुम्हें केवल और केवल

परिश्रम और सच्चाई की उंगली थाम कर चलना होगा किसी भी नए मार्ग पर अग्रसर होने से

पूर्व तुम्हें सदैव थोड़ी सावधानी बरतनी चाहिए एक बार किसी मार्ग पर चलने के बाद

पीछे मुड़कर वापस आना काफी कठिन कार्य हो जाता है किसी भी नए मार्ग पर चलने से

पूर्व तुम्हें उस मार्ग का अच्छे से विश्लेषण कर योजना तैयार करनी चाहिए ऐसे

सुनियोजित ढंग से पद पर आगे बढ़ाने में ही बुद्धिमानी है किसी भी मार्ग के बारे में

जानकारी प्राप्त करने के लिए तुम्हें उनसे पूछना चाहिए जो उस मार्ग से वापस लौट रहे

हो किसी भी नए कार्य को शुरू करने से पूर्व तुम्हें उस कार्य से जुड़े अनुभवी

व्यक्तियों की सला अवश्य ले लेनी चाहिए चाहे वह व्यक्तिगत काम हो या

व्यापारिक मार्गदर्शन सदैव आवश्यक होता है अनुभवी व्यक्तियों में केवल सफल व्यक्ति

ही नहीं बल्कि असफल व्यक्ति भी आते हैं अधिकतर असफल व्यक्ति सफल व्यक्तियों से

बेहतर मार्गदर्शन करते हैं क्योंकि उन्हें यह पता होता है क्या

नहीं करना है क्या करना है उससे अधिक महत्वपूर्ण यह जानना है कि क्या नहीं करना

है मेरे बच्चे लक्ष्य पर पहुंचने के लिए इसी शक्ति से निर्देशन लेते हुए बढ़ता हुआ

मनुष्य सफल होता है प्रत्येक पेड़ पौधा अपने समय पर फलता फूलता है यदि ऐसा नहीं

होता तो कहीं ना कहीं कोई कमी या गड़बड़ है कोई ना कोई भूल या असावधानी अवश्य है

मेरे बच्चे तुम रे जीवन पर भी यही बातें लागू होती हैं अब सिर्फ तुम्हें अपने अंदर

के डर को हराना है मैं महसूस कर रहा हूं कि तुम्हें वह आगे बढ़ने से रोक रहा है

मेरे बच्चे तुम उस डर को बाहर निकाल कर फेंक दो तुम्हें उससे डरने की कोई

आवश्यकता नहीं है और ना ही किसी और से जब मैं स्वयं तुम्हारे साथ हूं तो तुम्हें

किस बात का डर है मेरे बच्चे अब तुम्हें आगे बढ़ना ही होगा तुम जीवन में बहुत पीछे

हो चुके हो अब तुम्हें आगे जाना ही होगा मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है अब

उठो और आगे चलो तुम्हारा एक सुनहरा भविष्य इंतजार कर रहा

है मेरे बच्चे मैं तुम्हें बहुत लंबे समय से सुनते आ रही हूं मैंने तुम्हारी हर बात

हजार बार सुनी है कि तुम्हें कोई नहीं समझता और इसकी वजह से तुम दुखी हो जाते हो

और अपने आत्मविश्वास को हानि पहुंचाते हो मेरे बच्चे एक बात को हमेशा ध्यान रखो कि

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि तुम्हें कोई समझ रहा है या नहीं बल्कि फर्क तो इससे

पड़ता है कि क्या तुम उनकी बातों को दिल पर लगा बैठे हो क्योंकि अगर ऐसा है तो तुम

बहुत बड़ी समस्या में हो क्योंकि इस प्रक्रिया में तुम्हारा मन प्रभावित हो

रहा है किसी भी बुरे विचारों को तुम्हें अपने मन में जगह नहीं देनी है हमेशा

सकारात्मकता की ओर आगे बढ़ना है अपने मन के नकारात्मक ख्यालों से बाहर निकलो सच

क्या है यह समझने की कोशिश करो स्वयं के कर्मों को दर्पण में देखो और इसका आकलन

करो कि कौन सी विचारों को ग्रहण करना तुम्हारे लिए उतम रहेगा और कौन से विचारों

को ग्रहण करना अच्छा नहीं रहेगा याद रखो मेरे बच्चे इंसान अपने

विचारों से बड़ा होता है इसलिए अपने विचारों को उच्च श्रेणी का बनाओ मेरा

आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है जय मां काली हर हर

महादेव मेरे बच्चों तुम्हें हमेशा मुझसे यही शिकायत रहती है कि जिसने भी तुम्हारे

साथ बुरा किया है वह हमेशा अपने कर्म फल से बच क्यों जाता है उसे कभी भी दुख का

सामना नहीं करना पड़ता वह तो बुरे काम करके भी सुख भोगते

हैं मेरे बच्चे तुम्हारी इसी गलत फहमी को मैं दूर करने आई हूं तुम जो यह सोचते रहते

हो कि वह तो बुरा काम करके भी आजाद घूम रहा है और तुमने कुछ नहीं किया फिर भी

तुम्हें दुख का भागी बनना पड़ रहा है तो मैं तुम्हारा यह भ्रम तोड़ने आई हूं मेरे

बच्चे सबको उसके कर्मों का फल अवश्य प्राप्त होता है बस उस फल को भोगने का समय

अलग रहता है और यही मैं तुम्हें बताने आई हूं कि उस बुरे व्यक्ति का बुरा समय आ

चुका है उस व्यक्ति से उसकी सारी खुशियां छिन चुकी है वह हर रोज कहीं आंसू बहाता है

वह व्यक्ति अपने पतन पर है जो बुरा उसने तुम्हारे साथ किया अब उसका पता सबको चल

चुका है और जो लोग से पहले अच्छा समझते थे

उन सभी लोगों के सामने उसकी सच्चाई बाहर आ गई है अब लोगों को यह समझ आने लगा है कि

वह व्यक्ति कितना कपटी था वह कभी किसी का भी भला नहीं सोचता था वह सिर्फ अपने फायदे

के बारे में ही सोचता था और दूसरों का न कर बैठता था धीरे-धीरे उसके सभी दोस्त

उसका साथ छोड़कर जा रहे हैं वह अब किसी का भी विश्वास पात्र नहीं रहा यह सब उसी के

बुरे कर्म का फल है जो लौटकर उसके पास ही वापस आ रहा है वह जो आज महसूस कर रहा है

उससे उसे यह पता चल रहा है कि उसने तुम्हारे साथ कितना गलत किया है और अब उसे

अपनी गलती का एहसास हो हो रहा है आज वह अपने जीवन में सबसे बुरे दौर से गुजर रहा

है उसके सभी दोस्तों ने उसका साथ छोड़ दिया है और उसकी मदद करने से भी इंकार कर

दिया है अब वह एकदम अकेला और निराश है और अपने बुरे कर्मों के लिए मुझसे माफी मांग

रहा है मेरे बच्चे तुम इन सब बातों से तुम खुश मत होना तुम बस यही स्मरण रखो कि बुरे

कर्मों का फल सदैव बुरा ही होता है बुरा कर्म कभी किसी को सच्चा मान सम्मान और

सच्ची प्रतिष्ठा नहीं दिला सकता यह सब सिर्फ और सिर्फ सच्चाई की ताकत से ही कमाई

जा सकती है इसलिए मेरे बच्चे अपने कर्मों को सदैव उत्तम रखो और दूसरों की मदद में

उपयोगी बनो तुम्हारा कभी भी कुछ बुरा नहीं होगा मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ

रहेगा मेरे बच्चे आज मैं तुमसे बहुत प्रसन्न हूं मैं तुम्हें यह बताने आई हूं

कि पूर्व समय में तुमने जो भी बुरे कर्म किए थे उन सब की सूची खत्म हो गई है

तुम्हारा बुरा दौर अब समाप्त हुआ तुमने अपने सभी बुरे कर्मों के फल को भोग लिया

है इस प्रक्रिया के दौरान तुम बहुत बार हताश हुए निराशा हुए मुझसे माफी भी मांगी

मैंने तुम्ह जितने भी बुरे दौर दिखाए तुमने उन सबको सफलता पूर्वक पार किया

मैंने जो भी सबक तुम्हें सिखाने चाहे तुमने उन सबको सीखा और अपने जीवन में

निरंतर आगे बढ़ते चले गए मैं तुम्हारी इसी कामयाबी से मैं अत्यंत प्रसन्न हूं इस

अवधि के दौरान तुम्हारे अंदर बहुत परिवर्तनों ने जन्म लिया तुम कई बार टूटे

भी मेरे सामने रो अपने दुखों को व्यक्त किया और अपनी करनी के लिए क्षमा याचना भी

की ऐसा करने से तुमने अपनी उन्नति के द्वार खोल दिए मेरे बच्चे तुम कभी ना कभी

अपने मार्ग से भटक जाते हो बुरे रास्ते हमें अपनी ओर आकर्षित कर लेते

हैं परंतु आपको अच्छे और बुरे का फर्क समझकर अपना चयन करना है एक व्यक्ति के

व्यक्तित्व को उस ही दृष्टिकोण बनाता है आप जैसा दृष्टिकोण रखेंगे आपके रास्ते

उतने ही पवित्र और सरल बनते जाएंगे किसी भी कार्य को करने से पहले यह

जानना बहुत आवश्यक है कि वह मार्ग आपको सत्यता की ओर ले जा रहा है या नहीं आपका

एक चयनित मार्ग आपके भविष्य को निर्धारित करता है इसलिए मैं बार-बार आपके जीवन में

प्रवेश करती हूं और आपको सत्य के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरणा भी देती हूं आप में

से कुछ तो मेरी बातों को समझकर तुरंत ही अपने मार्ग को सकारात्मक बना लेते हैं

परंतु जो व्यक्ति मेरे प्रेम से समझाने पर भी नहीं समझता वह मेरे दंड का भागी बनता

है और उसे मेरे रौद्र रूप का सामना करना पड़ता है और वह अपने जीवन में कष्ट का

भागी बनता है और फिर शुरू होती है उसकी यात्रा जो उसे बार-बार कष्ट पहुंचाती है

वह जब तक अपने भ्रमित मार्ग से बाहर नहीं आ जाता और सत्य का चयन नहीं कर लेता और जब

वह अपने पापों का प्रायश्चित कर लेता है तब उसे मेरी कृपा दृष्टि प्राप्त होती है

और आज आपने इस कठिन यात्रा को पार कर लिया है और पुनः सत्य के मार्ग पर अग्रसर हो

चुके हो भन स्वरूप में आपको आपका मनचाहा वरदान देती हूं आपकी जो भी इच्छा है वह

कुछ दिनों में पूरी अवश्य होगी आप हमेशा सत्य के मार्ग पर यूं ही बने रहे और अपने

से जुड़े सभी लोगों का भला करते रहे आपका कल्याण अवश्य होगा मेरा आशीर्वाद सदा आपके

साथ है जय हो माता रानी ओम नमः शिवाय मेरे बच्चों आज का दिन बहुत ही शुभ

है आज से अन्याय की डोर मैं अपने हाथों में लेने वाली हूं जो हमेशा सत्य के मार्ग

पर चलते हैं वह एक सकारात्मक ऊर्जा को अनुभव कर रहे

होंगे मेरे बच्चे क्या तुम इस प्राकृतिक में एक शुद्ध हवा एक शुद्ध अनुभव को महसूस

कर पा रहे हो आज यह हवा ईश्वर का गुणगान कर रही है आज से सब कुछ बदलने वाला है हर

एक चीज में बदलाव आएगा क्योंकि आज का दिन और आने वाला दिन अत्यंत शुभ है मेरे बच्चे

कुछ नया और अद्भुत प्रारंभ हो रहा है तुम यह सोच लो कि तुम्हारी विजय निश्चित है

जिस क्षण की प्रतीक्षा तुम कई महीनों से कर रहे हो अब वह समय आरंभ होने वाला

है आपके लिए शुभ योग शुरू होने जा रहा है क्योंकि यह महीना और आने वाले महीने

तुम्हारे लिए अत्यंत शुभ रहने वाले हैं मेरे बच्चे अब तुम सभी चिंताओं से

बाहर निकल जाओ अब तुम्हें अपने विचारों पर ध्यान रखना है मैं जानती हूं कि तुम बहुत

दुखी हो इसलिए तुम अपने विचारों पर काबू नहीं पा रहे हो लेकिन तुम्हें अब करना ही

होगा तुम्हारे विचार तुम्हारे भविष्य निर्धारित करने वाले

हैं इसलिए तुम जो सच में पाना चाहते हो केवल तुम्हें सिर्फ वही विचार करना है

तुम्हें अपने विचारों की शक्ति को पहचानना है क्योंकि तुम अपने जीवन को जैसा भी

बनाना चाहते हो वह सिर्फ तुम अपने विचार से ही कर सकते हो मेरे बच्चे मेरी

शक्तियों को जानो और पहचानो और सकारात्मक ऊर्जा की शक्ति को पहचानो इन शक्तियों से

तुम अपने जीवन में कुछ भी हासिल कर सकते हो जो तुम पाना चाहते हो तुम वह पा सकते

हो तुम भी कर सकते हो केवल अपने आप को नकारात्मक ऊर्जा से दूर रखो तुम बहुत ही

भाग्यशाली हो और मैं तुम्हारे साथ हूं अब जो मैं तुम्हें बताने जा रही हूं उसे

ध्यान पूर्वक समझो कभी भी किसी भी अभिमानी व्यक्ति को

समझाने का प्रयास भूल से भी मत करना क्योंकि ज्ञानी व्यक्ति को समझाना आसान

होता है और यदि कोई अज्ञानी है तो उसे भी समझाया जा सकता है किंतु कोई व्यक्ति

अभियान से भरा हुआ है तो उसे समझाना बहुत मुश्किल होता है मेरे बच्चे ऐसे

व्यक्तियों का इलाज केवल वक्त कर सकता है इसलिए ना तो कभी भी अभिमानी बनो और ना ही

कभी किसी अभिमानी व्यक्तियों का साथ दो जो इंसान सरल होता है संस्कारी होता है केवल

वही व्यक्ति अपने जीवन में आगे बढ़ता है और तरक्की भी करता है और सफलता को भी

प्राप्त करता है तुम्हारा जीवन तुम्हारी ही सोच और व्यवहार का परिणाम है इसलिए

अभियान से दूर रहो और स्वाभिमानी व्यक्ति हमेशा सहज होते हैं क्योंकि उनका

दृष्टिकोण हमेशा सरल एवं आशावादी होता है उन्हें अपनी कमियां एवं खूबियां मालूम

रहती है जबकि अभिमानी हमेशा अपनी कमियों को

ढकने की कोशिश करता है और अपनी गलतियां कभी स्वीकार नहीं करते

हैं अभिमानी लोगों के रिश्ते दर्द भरे होते हैं उनके रिश्ते उनकी महत्वता घमन पर

टिके होते हैं अभिमानी व्यक्ति सफलता प्राप्त करने

के लिए रिश्ते तोड़ सकते हैं जबकि स्वाभिमानी व्यक्ति हमेशा दूसरों की

भावनाओं का ख्याल रखते हैं इनके रिश्ते मजबूत एवं सुखमय होते

हैं इसलिए मेरे बच्चे कभी भी अभिमानी व्यक्ति मत बनना अभिमानी व्यक्ति चाहता है

कि सिर्फ उसकी सुनी और मानी जाए यह दूसरों की बातों या विचारों को महत्व नहीं देते

जबकि स्वाभिमानी व्यक्ति अपने विचारों को दूसरों पर नहीं खुपते हैं वह अपनी गलती

अपने पर लेते हैं अभिमानी व्यक्ति हमेशा आंखें बचाकर

बात करते हैं एवं उनकी आंखों में दूसरों को हमेशा नीचे दिखाने का भाव होता है जबकि

स्वाभिमानी व्यक्ति की आंखें सरल होती है एवं उन आंखों में दूसरों के लिए सम्मान का

भाव होता है मेरे बच्चे अभिमानी के रास्ते बड़े सूक्ष्म होते हैं कभी यह त्याग के

रास्ते आता है कभी विनम्रता के कभी भक्ति के तो कभी स्वाभिमान के इसकी पहचान करने

का एक ही तरीका है जहां भी मैं का भाव उठे

तो समझ जाना कि अभियान उत्पन्न हो रहा है मेरे बच्चे स्वाभिमान तुम्हारे लड़खड़ाते

कदमों को ऊर्जावान कर उन्हें दृढ़ता प्रदान करता है कठिन प स्थितियों और

विपन्न वस्था में भी स्वाभिमान तुम्हें डूबने नहीं देता लेकिन वही अभिमान अज्ञान के अंधेरे

में खेलता है अभिमान ज्ञान घमंड और अपनों को बड़ा ताकतवर समझकर झूठा बनता है

व्यक्ति को अपने ज्ञान का अभिमान तो होता है लेकिन अपने अभिमान का ज्ञान नहीं होता

है मेरे बच्चे अपने स्वाभिमान को जांच रहो कहीं यह अभिमान में तो नहीं बदल रहा है

मेरे बच्चे मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है मेरा आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए

लिखकर मुझे अपनी स्वीकृति प्रदान करा देना और अपनी माता का अगला संदेश प्राप्त

करने के लिए अपनी माता के इस संदेश को लाइक करके चैनल को सब्सक्राइब अवश्य कर

लेना ताकि आने वाला आपकी माता का संदेश आपको प्राप्त हो सके जय हो माता रानी हर

हर महादेव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *