?️Maa Kali ka Sandesh?️तुम्हारे शत्रु तुम्हारे आगे सर झुकाने पर मजबूर होंगे?| - Kabrau Mogal Dham

?️Maa Kali ka Sandesh?️तुम्हारे शत्रु तुम्हारे आगे सर झुकाने पर मजबूर होंगे?|

मेरे बच्चे तुम्हारी प्रतीक्षा हों का अब
अंत होने वाला है पिछले कुछ महीनों से तुम
अपने जीवन में थोड़ा तनाव महसूस कर रहे थे
अपने कार्यक्षेत्र में भी तुम तनाव ग्रस्त

थे तुम्हारे मार्ग में आने वाली बाधाओं के
समाप्त होने का समय बहुत ही ज्यादा नजदीक
है तुम्हारे जीवन में अब ऐसे बहुत से
संकेत आएंगे जो तुम्हें तुम्हारे लक्ष्यों

और आकांक्षाओं की दिशा में कार्य जारी रख
खने के लिए प्रोत्साहित
करेंगे क्योंकि अब सफलता और उपलब्धियां
तुम्हारे जीत के मार्ग में आ चुकी है
तुम्हारा नाम उस स्थान पर सम्मान से

पुकारा जा रहा है जहां अभी तुम्हारे कदम
नहीं पड़े
हैं मेरे बच्चे तुम्हारा भाग्य वास्तव में
उदय होने वाला है और अब अपने जीवन में तुम
बहुत ही ज्यादा बड़े चमत्कार के साक्षी

बनने वाले हो सच्चा प्रेम अब तुम्हें
स्वयं ढूंढ लेगा तुम्हारे सभी शत्रु स्वतः
ही पराजित होंगे और नए अवसरों के आयाम अब
पूरी तरह से खुल जाएंगे स्वर्ग में बैठे

देवदूत तुम्हें और तुम्हारे परिवार को
दिव्यता से भरे हुए आशीर्वाद से भर
देंगे क्या तुम इस उपहार के लिए अपने आप
को पूरी तरह से तैयार मानते हो क्या तुम

इस उपहार को प्राप्त करना चाहते हो यदि
हां तो अभी इस की पुष्टि करो और भाग्यशाली
अंक 555 लिखकर तुम इसकी पुष्टि
करोगे मेरे बच्चे तुम जिस समस्या का सामना

बहुत लंबे समय से कर रहे हो वह दिन आ गया
है जब उसका निवारण हो जाए वह दिन आज का भी
हो सकता है तुम्हारे लिए अचानक से ही
चीजें बदल

जाएंगी वह छड़ कभी भी आ सकता है तुम भीड़
में से विशेष होने की यात्रा पर हो यदि
तुम्हें अपने आसपास दिव्य आभामंडल दिव्य
सुगंध का आभास होता है और ईश्वर के

हस्तक्षेप की अनुभूति होती है तो समझ जाओ
कि तुम्हारा समय बहुत करीब आ चुका है इसकी
पुष्टि करो यह लिखकर कि हां मैं बहुत
भाग्यशाली हूं ईश्वर तुम्हारे जीवन में अब

ऐसे लोगों को भेज रही हैं जो तुम्हारे लिए
फरिश्ते साबित होंगे क्योंकि उनका साथ
तुम्हें अपने आत्म उद्देश्य की ओर लेकर
जाएगा और अब तुम प्रचुर मात्रा में आवश्यक

संसाधन और वित्त को प्राप्त कर लोगे धन की
ऐसी वर्षा होगी कि तुम संभाल नहीं पाओगे
और इससे तुम्हारी आर्थिक स्थिति अगले स्तर
पर चली
जाएगी मेरे बच्चे तुम अपने आप को तैयार कर

लो इस नए स्तर पर जाने के लिए अब तुम्हें
निरंतर मार्गदर्शन मिलने वाला है ऐसे
मार्गदर्शन जिनसे तुम ऐसे कार्य कर सकोगे
जो तुम्हारे आर्थिक लाभ को आर्थिक उन्नति

को एक नया आयाम दे सके यही नहीं तुम्हें
मिलने वाला लाभ अस्थाई भी होगा और
तुम्हारे लक्ष्य से जुड़ा हुआ होगा कुछ ना
करने से बेहतर है प्रतिदिन एक एक कदम अपने

लक्ष्य की ओर बढ़ाते रहना और तुम अब इस
रास्ते पर आ चुके हो हर दिन एक कदम तुम
आगे ही बढ़ो और कुछ ही समय में तुम उस
बदलाव को महसूस कर पाओगे जिसका तुम विचार

करते आए हो और यह अचानक से हो जाएगा तुम
सोच भी नहीं पाओगे कि यह कैसे हो गया तुम
हैरान रह जाओगे उस लक्ष्य को तुम आकर्षित
कर रहे हो जो बहुत दुर्लभ है और इस लक्ष्य

पर पहुंचने के बाद मैं जानती हूं कि
तुम्हारे इरादे क्या है तुम दूसरों का
कल्याण करने से कभी भी पीछे नहीं हटो
तुम्हारी सफलता के पीछे कई लोगों की सफलता

छुपी हुई है इसलिए अपने ऊपर अविश्वास करना
छोड़ दो तुम्हारा खुद पर विश्वास ही
तुम्हें प्रगति की ओर ले जाएगा अब तुम्हें
उस पड़ाव तक पहुंचना है जहां से तुम

दूसरों के लिए मार
बनाओगे क्या तुम वह सहायक हाथ बनने को
तैयार हो जिसका चुनाव ब्रह्मांड ने किया
है क्या तुम तैयार हो सभी की सहायता करने

के लिए जब व्यक्ति का इरादा सभी की सहायता
करने का हो जाता है तो मैं स्वतः ही उसके
जीवन में खुशियां भरती हूं मैं उसे सफलता
दिला देती हूं फिर सफलता उसका अधिकार बन
जाता

है मेरे बच्चे वास्तव में सफलता उसे ही
मिलनी चाहिए जो केवल अपना विचार ना करता
हो बल्कि अपने साथ-साथ दूसरों के कल्याण
का भी विचार करता हो तुम ऐसे ही एक प्राणी

हो जो दूसरों को दुख में देख नहीं पाओगे
और जब तुम उस ऊंचाई पर पहुंच जाओगे कि
तुम्हें अपनी चिंता नहीं रह जाएगी अपने
परिवार वालों की चिंता नहीं रह जाएगी मेरे

बच्चे मैं जानती हूं तुम्हारा दिल कितना
मजबूत है तुम्हारे हृदय से कैसी आवाज आती
है तुम दूसरों का कल्याण करने से पीछे
नहीं

हटोंग मेरे बच्चे तुम उस मार्ग पर आ चुके
हो जहां से तुम आध्यात्म की गहराई समझ रख
पाओगे जहां से तुम लोगों को तुलनात्मक रूप
में ढालने के बजाय उनको उनके नैसर्गिक रूप
में स्वीकार

करोगे मेरे बच्चे मुझे ज्ञात है कि तुम इस
संसार की समझ रखना चाहते
तुम अपने आप को बेहतर दिशा में आगे ले
जाकर इस संसार को गुण तरीके से समझना

चाहते हो इसके रहस्यों को जानना चाहते हो
अब तुम उस समय के पास आ चुके हो जहां से
तुम्हें चिंता नहीं करनी है जहां से
तुम्हें किसी भी प्रकार का नकारात्मक

विचार अपने मन में नहीं भरना है तुम्हें
केवल विचार करना है प्रगति का उन्नति का
वह समय आ गया है और यह माह तुम्हारे लिए
बहुत कुछ लेकर आने वाला है आने वाला माह

तुम्हारे लिए प्रगति का माह होगा इस माह
में तुम्हें बहुत से संकेत मिलने वाले
हैं तुम्हारे प्रेम संबंध में बहुत तेजी
से सुधार होगा तुम्हारा साथी तुम्हारी

भावनाओं को बेहतर तरीके से समझ पाएगा वह
समझ पाएगा कि तुम हृदय में किस दौर से
गुजर रहे हो वह समझ पाएगा कि तुमने उसके
लिए कितना त्याग किया है वह तुम्हारे
प्रेम को जान

पाएगा मेरे बच्चे मैं जानती हूं तुमसे कुछ
गलतियां हुई है किंतु वह गलतियां अनजाने
में हुई है वह गलतियां ऐसे हुई है जैसे
तुम अनभिज्ञ रहे हो वह गलतियां ऐसे हुई

हैं जैसे तुम उन्हें करना ना चाहते हो
किंतु किसी कारण वस कर बैठे हो मेरे बच्चे
अपने मन के गुलाम बनना छोड़ दो यह मन है
जो तुमसे गलत कार्य करवा रहा था सही

रास्ता चुन लो समय आ गया है क्योंकि जब
मनुष्य जीव की राह पर आ जाता है तो उसे
स्वतः ही सही रास्ता चुन लेना पड़ता है
अन्यथा अहंकार उसे ले डूबता है और फिर उसे

जो कुछ भी मिला है वह सब कुछ छिन जाता है
और फिर वह इतनी ऊंचाई से नीचे गिरता है कि
उसका कुछ भी नहीं बचता है मेरे बच्चे मैं
नहीं चाहती कि तुम्हारे साथ ऐसा कुछ भी हो
और मैं तुम्हारे साथ ऐसा कुछ होने भी नहीं

दूंगी इसलिए सर्वप्रथम तुम्हें अहंकार का
त्याग करना है अपने मन में कुछ बातों को
रखना है सबसे पहले किसी भी परिस्थिति में
नकारात्मक बातें तुम्हें नहीं बोलनी है

चाहे कैसी भी परिस्थिति हो तुम्हें
नकारात्मकता का विचार भी नहीं करना है
किसी पर क्रोध नहीं करना है खासकर अपने
साथी पर कुछ गलतियां वह अवश्य कर देता है

किंतु तुम्हें उन छोटी छोटी गलतियों को
नजरअंदाज करना होगा इसी से प्रेम संबंध
मधुर होता है अपने परिवार वालों पर अपने
करीबियों पर जो तुम्हें पूरे दिल से चाहते

हैं उन पर क्रोध नहीं करना है कई बार
क्रोध के वशीभूत होकर तुम ऐसी बात बोल
जाते हो जिसका तुम्हें बाद में खुद ही
पछतावा होता है जो बात कभी भी तुम्हें
नहीं कहनी

चाहिए मेरे बच्चे कुछ ऐसी बातें तुम्हारे
मुख से निकल जाती हैं और यह इस ब्रहमांड
में रह जाती है इस पर तुम्हें नियंत्रण
करना होगा अपनी जबान पर तुम्हें काबू लाना

होगा क्योंकि अब तुम प्रगति के करीब आ
चुके हो जब मनुष्य के पास कुछ भी नहीं
होता जब मनुष्य प्रगति की राह पर नहीं
होता तो वह जैसा भी व्यवहार करता है उससे

उसे ज्यादा फर्क नहीं पड़ता किंतु जब वह
सफलता की सीढ़ी पर चढ़ने लगता है जब वह
प्रगति के बहुत करीब आ जाता है तो उसे
बहुत सतर्क हो जाना चाहिए क्योंकि तब उस
पर बहुत बड़ी जिम्मेदारी आ जाती है

तुम्हारे जीवन का राज योग प्रारंभ हो गया
है और इसी के साथ तुम्हारे ऊपर भी एक गहरी
जिम्मेदारी है तुम्हें इस जिम्मेदारी का
निर्वाहन बहुत ही सूझबूझ बहुत ही समझदारी

से करना है मेरे बच्चे तुम जीतने वाले हो
तुम जीत के बहुत करीब हो इस जीत को
स्वीकार करो सारी चिंता त्याग दो और एक
बात हमेशा याद रखना चाहे कुछ भी हो जाए

मैं तुम्हारा साथ कभी नहीं छोडूंगी मैं
सदैव तुम्हारे साथ हूं
हमेशा खुश रहो आने वाले संदेशों की
प्रतीक्षा में रहना क्योंकि यह तुम्हारे
जीवन के बहुत बड़े-बड़े रहस्य खोल देंगे

और तुम आजाद हो पाओगे मुक्त हो पाओगे
जीवित रहते ही मोक्ष का अनुभव कर पाओगे
हमेशा खुश रहो खुशियां बांटो मेरा
आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है तुम्हारा

कल्याण हो जय हो माता रानी हर हर महादेव
मेरे बच्चे तुम सुंदर और कोमल हृदय धारण
करने वाले एक बहुत ही पवित्र आत्मा हो
क्योंकि इस वक्त यह संदेश तुमको मिल रहा
है यह प्रमाण है कि ब्रह्मांड द्वारा

तुम्हारी बात सुनी जा रही है मेरे बच्चे
तुम्हारे लिए अब एक नया विशेष प्रकार का
द्वार खुल रहा है जो तुम्हारी सोच से परे
तुम्हारी कल्पनाओं से परे बहुत ही अलौकिक

दिव्यता से भरा हुआ द्वार है जो इस पंच
आयाम जगत में बस केवल तुम्हारे लिए ही
खोला जा रहा है मेरे बच्चे जीवन के स्तर
पर एक ऐसी अप्रत्याशित घटना को तुमने
आकर्षित किया है जिसकी तुम कल्पना भी नहीं

कर पाओगे विश्वास करो क्योंकि यह बदलाव
बहुत ही ज्यादा सकारात्मक और प्रभावकारी
होगा मेरे बच्चे यदि तुम इस वक्त अपने
अपने जीवन में इस सकारात्मक बदलाव को

चाहते हो तो अभी भाग्यशाली अंक 888 लिखकर
अपनी स्वीकृति प्रदान करा देना अब बहुत
तेज रफ्तार से कोई तुम्हारी तरफ आ रहा है
और अब जीवन में जो होगा वह तुम्हारे

नियंत्रण से पूरी तरह से बाहर की विषय
वस्तु है खुद को जीवन में हो रहे बदलाव के
मार्ग में रुकावट बिल्कुल ना बनने देना
बल्कि तुम तुम अब स्वयं ही एक बदलाव बन

जाओ घबराओ नहीं तुम अब आध्यात्मिक जगत में
कदम रख रहे हो तुम अंधकार से नहीं डर सकते
क्योंकि अब तुम स्वयं ही प्रकाश का एक
गरिमामय स्रोत बनने जा रहे हो मेरे बच्चे

अंधकार में स्वयं को जलाकर दूसरों को
प्रकाश देने वाला प्रकाश की कीमत को भली
भाति प्रकार से जानता है समझता है तुम
उन्हीं में से एक हो इसलिए स्वयं
ब्रह्मांड ने तुम्हारा चुनाव किया है तुम

केवल अपना ही नहीं बल्कि दूसरों का जीवन
रोशन करने की पूरी क्षमता रखते हो
ब्रह्मांड ने तुम्हारे जीवन में इस दर्द
को इसलिए भेजा ताकि तुम अपने आत्म
उद्देश्य से जुड़ पाओ मेरे बच्चे तुम

प्रकाश को ग्रहण करने के लिए नहीं आए हो
बल्कि ग्रहण करने के साथ ही प्रकाश को
बांटने भी आए हो जिस दिन तुम अपने आत्म
उद्देश्य के लिए कार्य करना प्रारंभ कर
दोगे उसी दिन से ब्रह्मांड तुम्हारे लिए

कार्य करने को पूरी तरह से विवश हो जाएगा
तुम्हारी हर जरूरत हर ख्वाहिश तुम्हारी हर
आकांक्षा को यह सृष्टि स्वयं ही पूरी
करेगी तुमको बस वह प्रकाश का स्रोत बनना
है जो दिव्यता से युक्त है जो व्यक्ति

रोते हुए के आंसू पोछ दे जो भटके हुए को
मार्ग दिखा दे जो हारे हुए को फिर से
लड़ने का उत्साह भर दे जो जीवन त्यागने
वाले को जीवन जीने की समुचित प्रेरणा दे
तुम यह सब कर सकने में सक्षम हो और ऐसा

ब्रह्मांड को विश्वास है क्योंकि मेरे
बच्चे तुम्हारे पास कुछ मूलभूत दिव्य
चीजें मौजूद है सर्वप्रथम तुम्हारा कोमल
हृदय और शांत चित्त जो तुम्हें कहीं भी

विजय दिला सकता है दूसरी बात सभी को खुशी
पहुंचाने का तुम्हारा लक्ष्य तीसरा अपने
दुखों को केवल अकेले खुद में समेट लेना
जबकि अपनी खुशियों को सब में समुचित रूप

से बांट देना और चौथा हर परिस्थिति में
चाहे कितनी भी बार तुम गिर जाओ लेकिन फिर
से खड़े होकर लड़ने की हिम्मत
रखना मेरे बच्चे इस कलयुग में यह अद्भुत
गुण तुम्हें इस भीड़ में विशेष बनाता है

जिसके कारण तुम्हारा चुनाव किया गया है
तुम बहुत ही ध्यानपूर्वक मेरी बातों को
सुनो मुझे तुम पर फक्र है क्योंकि तुमने
कभी हार नहीं मानी तुम रोए तुमने खुद को

दिलासा भी दिया लेकिन अपने आंसुओं को
दूसरों के समक्ष हर समय प्रकट नहीं किया
तुमने हिम्मत दिखाई तुमने जताया मुझे गर्व
है कि तुम एक बहुत ही साहसी योद्धा की

भाति इस जीवन रूपी युद्ध में टिके हुए हो
ऐसी स्थिति में भी तुम दूसरों का सुख
चाहते हो मेरे बच्चे यदि तुम्हें मेरे इस
बात से सरोकार है तो अभी हां लिखो और इस

संदेश को लाइक करो मेरे बच्चे एक बात सदैव
याद रखना संसार में किसी को भी कोई फर्क
नहीं पड़ता तुम्हारे रोने से या तनाव से
खुद को पीड़ित कर लेने से तुम्हारे हार

जाने से या थक कर बैठ जाने से क्योंकि तुम
जिस दर्द को महसूस कर रहे हो दूसरा कोई
उसकी कल्पना भी नहीं कर सकता है और ना ही
ऐसा करने में कोई और सक्षम है ऐसे में

तुम्हें केवल माता के समक्ष ही अपने दर्द
को प्रकट करना चाहिए और इस संसार को अपनी
खुशी और अपनी ताकत का पूर्णता एहसास कराना
चाहिए तुम में यह गुण विद्यमान है यहां हर

कोई एक साहसी ऊर्जा पूर्ण और सफल व्यक्ति
को ही देखना चाहता है और ऐसा करने का गुण
तुम में भरा हुआ है विचार करना तुम कैसे
व्यक्ति से मित्रता करना पसंद करोगे एक

ऐसे व्यक्ति से जो हारा हुआ उदास उत्साह
हीन किसी भी कार्य में रुचि ना लेने वाला
बिना लक्ष्य का जीवन जीने वाला साधारण
मनुष्य हो या फिर एक ऐसा मनुष्य एक ऐसा

व्यक्ति जो खुशियों से भरा हुआ ऊर्जावान
हर कार्य को उत्साह पूर्वक करने वाला
जिसकी आंखों में अनेकों स्वप्न हो जिसके
जीवन के कई बड़े-बड़े लक्ष्य हो जो अपने

आप में पूर्ण हो और जीवन को जो जीना जानता
हो जिसे यह एहसास हो कि इस जीवन का मूल्य
कितना ज्यादा है मेरे बच्चे अधिकांश लोग
दूसरे विकल्प का ही चुनाव करेंगे वह

आपका मित्र आपका जीवन साथी आपका मालिक
आपका कर्मचारी कोई भी हो सकता है कोई भी
व्यक्ति पहले विकल्प का चुनाव नहीं करेगा
यहां तक कि तुम खुद भी पहले विकल्प का

चुनाव भूलकर भी नहीं करोगे फिर मेरे
प्रश्न का उत्तर दो यदि तुम अपने जीवन को
पहले विकल्प सा बना लोगे तो कोई तुम्हारा
चयन आखिर कैसे करेगा वास्तव में दूसरे

तुमको नहीं नकारते सर्वप्रथम मनुष्य अपने
आप को ही नकारना प्रारंभ करता है जो अपने
आप में उत्साह और आत्मविश्वास से भरा हुआ
है मेरे बच्चे सारी सृष्टि उसके समक्ष

स्वयं ही झुक जाती है कभी उसके वचनों से
कभी उसके आभार प्रकट करने वाली कृतज्ञता
से तो कभी उसके कार्यों से मेरे बच्चे यदि
तुम जीवन में प्रेम चाहते हो तो सबसे पहले

स्वयं को प्रेम करना सीखो सबसे पहले
तुम्हें स्वयं ही प्रेम बनना होगा यदि तुम
सफल होना चाहते हो तो अपने आप में सफल

तुम्हें स्वयं ही बनना होगा यदि तुम किसी
की सहायता करना चाहते हो तो सबसे पहले
अपनी सहायता के लिए तुम्हें संघर्ष करना
होगा अपनी सहायता के लिए तुम्हें आवाज

उठाना होगा तुम वही तो दूसरों को दे सकते
हो जो तुम्हारे पास हो यदि तुम्हारे स्वयं
के पास ही प्रेम नहीं तो तुम दूसरों को
प्रेम आखिर कैसे बांटो ग यदि तुम स्वयं के
भीतर दुख को समेटे बैठे हो तो तुम दूसरों

को दुख और उदासी ही दे
पाओगे मेरे बच्चे तुम अपने तूफान से लड़
रहे हो यह मत सोचना कि तुम अकेले हो इस
भीषण विध्वंस में भी मैंने तुम्हें कभी

अकेला ना तो छोड़ा है ना कभी अकेला
छोडूंगा तुम वीर योद्धा की भाति टिके हो
तो मैं भी तुम्हारा सारथी बनकर तुम्हें हर
रण में विजय दिला दूंगा एक बात याद रखना

मैं तुम्हारी हर पीड़ा को जानती हूं इसलिए
मैं समझती हूं कि तुम्हारी पहुंच तुम्हारा
सामर्थ्य और तुम्हारा अकेलापन कहां तक है
अपने आप को कभी भी अकेला मत

समझना मेरे बच्चे मेरा आशीर्वाद सदैव
तुम्हारे साथ है मेरा आशीर्वाद प्राप्त
करने के लिए
1111 लिखकर मुझे अपनी स्वीकृति प्रदान करा
देना और अपनी माता का अगला संदेश प्राप्त

करने के लिए अपनी माता के इस संदेश को
लाइक करके चैनल को सब्सक्राइब अवश्य कर
लेना ताकि आने वाला आपकी माता का संदेश
आपको प्राप्त हो सके जय हो माता रानी जय

भोलेनाथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *