🕉️ मां पार्वती मां काली 🕉️ तुम्हारी यह चिज़ मुझे आकर्षित कर रही है 🕉️ - Kabrau Mogal Dham

🕉️ मां पार्वती मां काली 🕉️ तुम्हारी यह चिज़ मुझे आकर्षित कर रही है 🕉️

मेरे बच्चे मैं भली-भांति जानती हूं की
तुम्हारी सोच कैसी है जैसी सोच तुम्हारी
है यदि सबकी ऐसी सोच हो जाए तो मेरे बच्चे
पूरा संसार स्वर्ग से कम नहीं होगा

समस्याओं का नामोनिशान मिट जाएगा और किसी
के साथ भी अत्याचार नहीं होगा मुझे ज्ञात
है की तुम अपने हृदय में दया की भावना
रखते हो तुम हर किसी के कार्य में सहायक

बन जाते हो चाहे वह दुख का हो या कोई
कार्य का हो या सुख का हो कोई कार्य हो
तुम किसी को जानते हो अन्यथा नहीं जानते
हो संसार में तुम कभी

दूसरों की सहायता करते हो
तुम्हारी सोच पर यह बसा हुआ है की
तुम्हारे कारण किसी भी व्यक्ति को कष्ट
नहीं

तुम किसी भी पशु पर भी अत्याचार कभी नहीं
करते हो तुम्हारा हृदय इतना कोमल है की
तुम जीव को अपने सम्मान समझते हो चाहे वह
कोई छोटा जीव क्यों ना हो मेरे बच्चे तुम

सब लोगों की सहायता करते हो धरती पर जन्म
लेने वाले हर व्यक्ति को कुछ ना कुछ चाहिए
होता है व्यक्ति की कुछ ना कुछ इच्छा होती
है मेरे बच्चे छोटा बच्चा रहता है तो उसे

खिलौने की इच्छा होती है जब थोड़ा बड़ा
होता है तो उसे शिक्षा की इच्छा होती है
और उससे भी बड़ा होता है तो उसे धन की
इच्छा उत्पन्न होती है और यह इच्छाओं के

पीछे व्यक्ति पूरे जीवन भर हमेशा भगत रहता
है परंतु तुम्हारे अंदर ऐसा कोई
इस तरह से अपना जीवन यापन कर रहे हो और
तुम अपने जीवन में दूसरों को देना चाहते

हो लेना कुछ नहीं चाहते
तुम चाहते हो की तुमसे जितना हो सके तुम
सबको कुछ ना कुछ देना चाहते हो मेरे बच्चे
तुम्हारी यह सोच ही मुझे तुम्हारी और

आकर्षित करती है क्योंकि तुम जब सब को
देना चाहते हो तो मैं केवल तुम्हें वह सब
चीज दूंगी जिससे तुम्हारा जीवन खुशियों से
भर जाएगा और तुमको इतना बड़ा बना दूंगी की

तुम ही की तुम ही मेरे बाकी के भक्तों का
सहारा बन सको जी क्योंकि तुम समझ सकते हो
यदि मैं काफी लोगों को देखने की वजह अकेला
तुम्हें देख सकूं और तुम उन सबको मेरा

भक्त बनाकर उनकी सहायता करो तो मेरा कम तो
तुम स्वयं कर रहे हो तुम्हारा यह सभी
कार्य मुझे अच्छे लगते हैं मेरे बच्चे यदि
संसार में हर व्यक्ति तुम्हारी तरह कर्म

करने लगे तो निश्चित थी यह धरती स्वर्ग से
कम नहीं होगी क्योंकि इस संसार में कोई
दुखी व्यक्ति रहेगा ही नहीं मेरे बच्चे
तुम्हारे द्वारा किए गए अनजाने में गलती

की माफी तुम्हें मिल जाएगी यह मेरा वचन है
मेरे बच्चे तुम्हें यह हमेशा याद रखना है
जीवन में परेशानियों कितनी हो गलत कर्म
करके तुम अपने भाग्य को सवार नहीं सकते

बल्कि तुम्हारा भाग्य दुर्भाग्य में बदल
जाएगा मेरे बच्चे छोटे-छोटे कार्य जो होते
हैं उससे तुम्हारा जीवन खुशियों से भर
जाएगा बस तुम ध्यान रखो की जब कोई बच्चा

किसी भी कार्य में सक्षम होता है क्योंकि
हर कार्य पवित्रता से अन्य स्वार्थ भावना
से किए गई होते हैं उन्हें से मैं किसी
कार्य को करवाने की इच्छा जाहिर करती हूं

मुझे तुम्हारे अंदर वह गुण दिखाई दे रहे
हैं जिससे की मैं तुमसे यह कार्य करवाना
चाहती हूं
यदि कोई बेसहारा है तो उसे सहारा देती हूं

जिसे धन की आवश्यकता होती है उसे धन देती
हूं इस संसार में तुम मेरे लिए एक कार्य
करो
जिस व्यक्ति को भी इन सब बातों में से कुछ

भी परेशानी हो तो तुम भी सब लोगों की
सहायता करने में मेरे साथ ही बन जाओ लोगों
की मदद करो उनकी सहायता करो जितना तुमसे
हो सकता है उतना ही करो तुम्हारा यह कार्य

तुम को मेरे और नजदीक लेकर आएगा
इस तरह मेरे बच्चे तुम एक बहुत बड़े और
महान बन जाओगे तुम्हारे द्वारा किया गया

हर कार्य तुम्हारे मैन चाही कोई मंजिल भी
प्राप्त कर सकती है तुम निश्चिंत रहो मेरा
आशीर्वाद सदा तुम्हारे साथ है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *