🕉️ मां कालरात्रि 🕉️ तुम्हें वह बर्बाद कर देना चाहता है 🕉️maa kalratri - Kabrau Mogal Dham

🕉️ मां कालरात्रि 🕉️ तुम्हें वह बर्बाद कर देना चाहता है 🕉️maa kalratri

देख लो तुम चाहे पूरे दिन हंस लो खुश रह लो रात में वह अकेलापन तुम्हें जीने नहीं देता है वह अकेलापन तुम्हें

सुकून से सोने नहीं देता है तुम्हारे सीने पर एक बहुत बड़ा बोझ है एक बहुत बड़ा दर्द है जो इस समाज ने तुम्हें

दिया है जो तुम्हारी लाख कोशिश के बाद भी खत्म नहीं हो रहा है क्योंकि वह लोग जो तुम्हें दर्द देते हैं वह तो तुम्हारे सामने ही है तुम प्रतिफल उन्हें हंसता हुआ देख रहे हो उन्हें किसी और के साथ खुश देख रहे हो और वह

तुम्हें और पीड़ा दे रहा है बच्चे तुमने बचपन से बहुत कुछ सहा है तुमने बचपन से ही बहुत कुछ देखा है यह दर्द यह बाहर आज का नहीं है यह तो तुम बचपन से उठा रहे हो तुम्हारे दिल पर एक बोझ है एक भारीपन है जो

खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है तुम्हें तो कभी-कभी इतनी घुटन होने लगती है कि तुम्हें यह जीवन ही समझ नहीं आ रहा है तुम्हें यह समझ ही नहीं आ रहा है कि तुम्हारा यह जीवन तुम्हें किसी और लेकर जा रहा है मुझे

पता है तुम इस दुनिया के सामने लाख मुस्कुरा लो लाख मजबूत बना लो भीतर तुम्हारे मन में एक इच्छा है तुम्हें कोई ऐसा मिलता जो तुम्हें समझना बस तुम्हारे ऊपर हमेशा डाल दिया गया काश कोई ऐसा मिलता जो तुम्हारी

जिम्मेदारी लेता काश इस समाज ने तुम्हें आगे बढ़ाया होता लोगों ने तुम्हें पीछे खींचने की बजाय तुम्हें आगे बढ़ाया होता अपना हाथ दिया होता ऐसा कोई तुम्हें मिल ही नहीं तुमने दोस्ती की उसमें भी चल मिला तुमने प्रेम किया

उसमें भी चल मिला तुम्हारे परिजनों ने तुम्हारे साथ छल किया और यह सब देख कर तुम टूट गए हो तुम ही तो अब यह लगता है कि शायद तुम ही बुरे व्यक्ति हो पर मेरे बच्चे मैं सब कुछ देख रही हूं मेरा दिल भर जाता है जब मैं तुम्हारे जीवन के बारे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *