हैरानी से भर जाएंगे सब तुम्हारी जीत देखकर ? भूलकर भी इग्नोर ना करे ✍️ - Kabrau Mogal Dham

हैरानी से भर जाएंगे सब तुम्हारी जीत देखकर ? भूलकर भी इग्नोर ना करे ✍️

मेरे प्रिय बच्चे यह दिव्य संदेश केवल
तुम्हारे लिए आया हुआ है मेरे प्रिय अब
तुम अपनी समस्त चिंताओं को छोड़ दो उनका
त्याग कर दो और केवल अच्छी चीजों पर ही

ध्यान लगाओ क्योंकि चिंता करने से कुछ भी
हासिल नहीं होता सिवाय दुख और तकलीफ के
मैं देख रहा हूं कि तुम आवश्यकता से

ज्यादा विचार कर रहे हो समस्याएं उतनी भी
बड़ी नहीं है जितना तुम्हारी सोच ने उसे
बना दिया
तुम्हारी समस्याओं ने अपना रूप विस्तारित

किया है और इसका कारण कुल इतना है कि
तुमने इसे आवश्यकता से अधिक सोचा है और जब
तुम तनाव मुक्त हो जाओ गहरी सांस लो मेरा
ध्यान करो इस संदेश को पूरा सुनना क्योंकि

मैं तुम्हें बहुत ही बड़ा रहस्य बताने
वाला हूं जिसे जानना तुम्हारे लिए आवश्यक
है इसलिए संदेश को पूरा सुनना बीच में

छोड़ने की भूल ना करना मेरे प्रिय आकाश से
तुम्हारे लिए आशीर्वाद आ रहा है एक बहुत
ही दिव्य देवदूत जीवन में प्रवेश करने

वाला है और बहुत जल्द तुम उस आशीर्वाद से
अपने जीवन में चमत्कार होते देख पाओगे जो
आशीर्वाद व तुम्हें प्रदान करेगा शीघ्र ही
तुम्हारे साथ एक कतार में ऐसी घटनाएं घट

जो तुम्हारे जीवन को अप्रत्याशित खुशियों
से भर देंगी और धन का मार्ग तुम्हारे लिए
खुल जाएगा मैं परिस्थिति को तुम्हारे पक्ष

में स्थानांतरित कर रहा हूं जिसके कारण
बंद दरवाजे खुलेंगे नए रिश्ते बनेंगे तुम
अब अपने निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त

करोगे और जल्द ही तुम एक बड़ा ब्रह लक्ष्य
बना पाओगे मेरे प्रिय हो सकता है अभी
तुम्हारी मानसिक स्थिति तुम्हें सामान्य

ना लग रही क्योंकि नकारात्मक आत्माएं सभी
पुण्य आत्माओं को अपना निशाना बनाए हुए
हैं और इस वजह से सभी पुण्य आत्माएं दुखी
महसूस कर रही हैं पर तुम बिल्कुल भी हताश

मत होना क्योंकि यह समय बीतने वाला है एक
चक्र का अंत हो रहा है कभी-कभी थोड़ी देर
के लिए शत्रु हावी हो सकता है लेकिन कोई

कितना ही प्रयत्न क्यों ना कर ले सत्य को
पराजित नहीं कर सकता यदि तुम परमपिता पर
विश्वास करते हो तो हर हाल में इस संदेश

को अंत तक सुनना क्योंकि इसमें तुम्हारे
लिए कुछ विशेष बात छुपी हुई है तब तक
प्रतीक्षा करो जब तक तुम इस संघर्ष के
पीछे का आशीर्वाद ना देख लो और बहुत तुम

उसे महसूस करने वाले हो मेरे प्रिय तुम
बहुत संवेदनशील हो तुम एक पुण्य आत्मा हो
तुम्हारा हृदय बहुत कोमल है तुम्हारे भीतर

करुणा है दयालुता है तुम जिस प्रकार
दूसरों के लिए भलाई करते हो दूसरों के लिए
भलाई करने की चाह रखते हो वही अपेक्षा

उनसे भी रखते हो लेकिन ऐसा जरूरी नहीं कि
संसार में हर कोई भलाई के बदले भलाई ही
करें मेरे प्रिय याद रखो तुम्हारा चरित्र

हमेशा तुम्हारी परिस्थितियों से ज्यादा
मजबूत होना चाहिए तुम्हें अपने ऊपर संशय
नहीं करना है संघर्ष मनुष्य को कमजोर

बनाने के लिए नहीं आता उसे मजबूत बनाने के
लिए आता है जीवन में जो भी होता है वह
अच्छा ही होता है इस विश्वास के साथ भले

ही तुम्हारा जीवन संघर्ष शरत को तुम इसे
जीते जाओ क्योंकि मैं तुम्हारा साथ कभी
नहीं छोडूंगा परिस्थिति चाहे कैसी भी हो
लेकिन तुम्हें खुद पर विश्वास रखना है खुद

को कमजोर नहीं मानना है जिस बात ने
तुम्हें रातों को सोने नहीं दिया उसी
समस्या का समाधान बहुत ही जल्द तुम्हारे

पास होगा तुम सफल के बहुत करीब हो इसलिए
आप हार मान लोगे तो शैतान की जीत हो जाएगी
नकारात्मकता की जीत हो जाएगी किसी भी

परिस्थिति में अपने विश्वास को डगमगाने मत
देना क्योंकि तुम्हारी ओर से अब लड़ने के
लिए दिव्य शक्तियां आ रही हैं अभी तक तुम
कमजोर पक्ष में थे लेकिन अब ऐसा नहीं होगा

एक चमत्कारी घटना तुम्हारे घर में प्रवेश
करने जा रही है जो तुम्हारे जीवन में जीत
की खुशियां लेकर आएगी इस चमत्कार को अनुभव
करने के लिए तुम अभी संख्या सात सा सा

लिखो साथ ही यह लिखो कि हां मैं चमत्कार
को अनुभव करना चाहता हूं मेरे प्रिय शैतान
चाहता है कि तुम चिंता करो लेकिन ईश्वर
चाहते हैं कि तुम उस पर विश्वास रखो और

गंभीर स्थिति में भी अपनी प्रार्थना जारी
रखो अपने आप को टूटने मत दो तुम्हारी
प्रार्थनाएं काम कर रही है यह तुम्हें
बहुत जल्द अनुभव होगा ब्रह्मांड की ऊर्जा

तुमसे कह रही है यह फिर से उत्साहित होने
का समय है मैं तुम्हारे जीवन को
अप्रत्याशित आशीर्वाद से आश्चर्यजनक रूप
से भरने वाला हूं जो तुम्हारा है जो

तुम्हारे लिए निर्मित किया गया है वह
तुम्हें मिलकर ही रहेगा चाहे वह तुम्हारा
महल हो चाहे वह तुम्हारा वाहन हो चाहे धन
हो चाहे ऐसी परिस्थितियां हो तुमसे कुछ भी

छूट नहीं सकता तुम्हें उसकी ऊर्जा महसूस
होने वाली है तुम्हें उसकी ताकत का आभास
होने वाला है तुमने जिसके लिए प्रार्थना
की है जिस मिलन का तुम बेसब्र से इंतजार

करते आए हो भला वह कोई तुमसे कैसे दूर कर
सकता है यही तो अंतिम लड़ाई है अपनी
पसंदीदा चीज को प्राप्त करने का वह

प्राप्त करने का जो प्राप्त करना ना केवल
तुम्हारा अधिकार है बल्कि जिसके तुम योग्य
भी हो यदि अभी भी तुम अपनी पसंदीदा चीज

अवश्य लिखो साथ ही यह भी लिखो कि हां मैं
जीत चाहता हूं यह लिखते ही तुम अपने जीत
की पुष्टि कर दोगे आध्यात्मिक उन्नति

वित्तीय वृद्धि अद्भुत आश्चर्य घटनाएं यह
सब तुम्हारे जीवन में घटित हो करर के
रहेंगी मैं तुम्हारे लिए प्रार्थना करता

हूं तुम अब तनाव मुख हो जाओ ऐसी प्रार्थना
तुम्हें अपने लिए स्वयं ही करनी है अपने
वित्तीय स्थिति में सुधार के लिए
प्रार्थना करो प्रार्थना करो कि अपने

संबंधों में तुम फिर से मधुरता को व्याप्त
कर स
और जीवन का भरपूर आनंद ले सको तुम इस जीवन
में झंझावात में फसने नहीं आए हो अहम की

लड़ाई लड़ने नहीं आए हो किसी के अहंकार के
तले होकर किसी के गुलाम बनने नहीं आए हो
उदासीनता से वित रूप से ग्रसित होने नहीं
आए हो तुम इस संसार को खुलकर जीने आए हो

तुम इस संसार में परिवार में खुशियां
बांटने आए हो तुम इस संसार में प्रेम
फैलाने आए हो तुम्हारे अतीत में जो कुछ
हुआ उस पर कभी अपना ध्यान मत केंद्रित करो

क्योंकि यदि तुम अतीत पर अपना ध्यान
केंद्रित करोगे तो भविष्य में मिलने वाले
लाभों से वंचित रह जाओगे और मैं नहीं
चाहता कि तुम अपने जीवन में किसी भी लाभ

से वंचित रहो तुम्हें विश्वास करना होगा
मैं सब कुछ बेहतर कर दूंगा यह मां
तुम्हारे लिए बहुत बड़े-बड़े आशीर्वाद

लेकर आ रहा है अनंत आशीर्वाद बड़ी
मुस्कुराहट वित्तीय सफलताएं और बहुत ही
सटीक अवसर तुम्हारे जीवन में आने वाले हैं
इन्हें खो मत देना अहंकार की याद

स्मृतियों में फंसकर इन्हें भुला मत देना
जो तुम्हें मिलने वाला है केवल उस पर
ध्यान लगाओ जिसके तुम योग्य हो केवल उस

उतरो तुम स्वयं ही चमत्कार हो इस चमत्कार
से अलग नहीं तुम संसार ही अपने आप में एक
चमत्कारी घटना है और इस चमत्कारिक घटना का

एक अभिन्न हो तुम इसे महसूस करो उस एक के
समान हो जाओ उस एक से एक हो जाओ वह एक जो
सब कुछ है जो सबका सार है तुम उससे मिल
जाओ इस संसार में जिसने बहुत कुछ जान लिया

वह कुछ भी नहीं जान पाया और जिसने उस एक
को जान लिया वह सब कुछ जान गया क्योंकि वह
एक ही सार है बाकी सब कुछ इस संसार में
आसार है और यदि तुम विजय को महसूस करना

चाहते हो संतुष्टि को महसूस करना चाहते हो
संपन्नता को महसूस करना चाहते हो समृद्धि
को महसूस करना चाहते हो प्रेम को महसूस

करना चाहते हो और अपने अनुभवों में यह सब
हासिल करना चाहते हो तो तुम्हें उस एक के
साथ एक होना होगा वह एक कोई और नहीं है वह
एक तुम ही हो उसे जानने का प्रयत्न करो

अपने आप को जानने का प्रयत्न करो ब मुखोटे
लगाकर इस संसार में बहुत से मनुष्य घूमते
हैं व अपने पति-पत्नी के सामने कुछ और
होते हैं अपने जीवन साथी के सामने कुछ और

होते हैं मित्र के सामने कुछ और होते
हैं माता-पिता के सामने कुछ और होते हैं
भाई बहनों के सामने कुछ और होते हैं
संबंधों में कुछ और होते हैं

असंबंलिया वो बस मुखौटा लगाए रहते
हैं तुम्हें मुखौटा नहीं लगाना है तुम्हें
अपने आप को जानना है तुम्हें एक होना है
तुम्हें गहराई में उतरना है तुम्हें अपने

भीतर झांकना है तुम जो हो उस वास्तविकता
को पहचानो मैं कौन हूं यह प्रश्न करो यह
प्रश्न तुम्हें तुम्हारे उत्तर तक ले

जाएगा तुम्हें गहराई में झांकना होगा अपने
सपनों में झांकना होगा मेरे प्रिय जीत की
मधुर मुस्कान करने वाली है उसे भी से
महसूस करो मेरे प्रिय दर्द को भुला दो

कष्ट को भुला दो विचार करो संपन्नता का
विचार करो अपने साथी के चेहरे पर मुस्कान
का विचार करो अपने आश्रितों के चेहरे पर
मुस्कान का विचार करो कि कैसे तुम जगत

कल्याण में लगे हुए हो कैसे तुम स्वयं का
जीवन बेहतर बना रहे हो मेरे प्रिय मेरा
आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ रहेगा लेकिन
क्या तुम अपने साथ हो इस बात का विचार करो

क्या तुम नता की ओर बढ़ रहे हो तुम इसका
विचार करो क्या तुम खुशियों को समझ पा रहे
हो तुम इसका विचार करो मेरे प्रिय अभी तक

जो कुछ भी हुआ उसे ईश्वर की मर्जी मानकर
भूल जाओ लेकिन तुम्हारे भविष्य में जो कुछ
भी होगा उसे होश पूर्वक देखते रहो उसे होश

पूर्वक महसूस करो दृष्टा बनो साक्षी बनो
किंतु होश पूर्वक बेहोशी में कोई भी कृत्य
ना करो जो भी कर्म तुम बेहोशी में करते हो
उन कर्मों का तुम्हें लाभ नहीं होता इसलिए

सही गलत का अंदाजा भूलकर जो कुछ भी कार्य
करो उसे होश पूर्वक करो यह मानकर करो कि
वह सारे कार्य तुम ईश्वर के चरणों में

समर्पित कर रहे हो ओ ईश्वर वह नहीं जिसे
तुम महसूस करते हो ईश्वर वह नहीं जो
तुम्हें बताया गया ईश्वर वह नहीं जो
शास्त्रों में लिखा है ईश्वर वही जो

किताबों में लिखा है वास्तव में तुम इनकी
परिभाषा ही गलत जानते हो क्योंकि तुम्हें
ऐसा बताया गया तुम्हारे भीतर जो मूर्त रूप
विद्यमान है तुम उसे ही ईश्वर माने बैठे

हो किंतु मैं कौन हो तुम इसे महसूस नहीं
कर पाते एक बार अपने भीतर की मानसिकता को
समझकर देखो एक बार अपने भीतर के खालीपन को

महसूस करो एक बार वह सारे ज्ञान भूल जाओ
जो तुम्हें बताया गया है एक बार उन समस्त
ज्ञान का त्याग कर दो जो किसी ने तुमसे

कहा है और खुद से मान लगाओ खुद में झा को
खुद में देखो कि मैं कौन हूं तुम कौन हो
और फिर तुम गहराई से मुझे जान पाओगे अपने
आप को जान पाओगे और फिर मैं और तुम एक हो

जाएंगे क्योंकि मैं तुमसे अलग नहीं हूं
मेरे प्रिय मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे
साथ है सदा सुखी रहो तुम्हारा कल्याण होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *