सर्वे देखकर उड़ गए मोदी के होश, इतनी बौखलाहट कि झूठ की हद पार! - Kabrau Mogal Dham

सर्वे देखकर उड़ गए मोदी के होश, इतनी बौखलाहट कि झूठ की हद पार!

और तरीका यही है किसी को बर्बाद करने अवा
फैलाओ झूठ फैलाओ भ्रम
फैलाओ नमस्कार मैं हूं संजय शर्मा आप देख
रहे हैं 4 पीएम न्यूज नेटवर्क एक बहुत

सुंदर शेर है वह झूठ बोल रहा था इतने
करीने से व झूठ बोल रहा था इतने करीने से
मैं भला तवार ना करता तो क्या करता
राज्यसभा में प्रधानमंत्री जी का भाषण सुन

रहा था मैं
मुझे बड़ा हैरानी हुई कि प्रधानमंत्री जी
इतने कॉन्फिडेंस के साथ इतने भरोसे के साथ
आखर झूठ कैसे बोल लेते हैं उनको यह यकीन
कैसे हो जाता है कि देश की

जनता 2014 से उनके इतने सारे झूठ देख चुकी
है और फिर एक बार उन पर यकीन कर
लेगी एक लंबा पहाड़ है उनकी बातों का उनकी
बातों की श्रृंखलाओं का जो सिर्फ झूठ
सिर्फ झूठ और सिर्फ झूठ है

जब टीवी पर चलना शुरू हुआ प्रधानमंत्री जी
का भाषण तो ऊपर लिखकर आया 400 सीट जिताने
वाला प्रधानमंत्री का
भाषण अभी भाषण शुरू नहीं हुआ है पहली लाइन

बोल रहे हैं माननीय अध्यक्ष जी बोल रहे
ऊपर से चलना शुरू हो गया 400 सीटें जिताने
वाला प्रधानमंत्री मोदी का
भाषण अब क्या यह जो टीवी चैनल वाले थे

गोदी मीडिया मैंने दो तीन चैनल लगाए सब प
सेम लाइन चल रही थी तो मैं समझ गया कि
प्रधानमंत्री जी के बहुत ताकतवर अवसर है
हरेंद्र जोशी जी कहा जाता है कि टीवी

चैनलों को वो संपादकों को लिख के भेजते
हैं कि आपको खबर कौन सी चलानी है और खबर
के ऊपर पट्टी कौन सी चलानी है तो सेम

पट्टी लिख के चली होगी सब पर चल रही थी
प्रधानमंत्री मोदी का 400 सीटें जिताने
वाला भाषण अभी भाषण शुरू नहीं हुआ है फिर
मुझे लगा ये 400 सीट 400 सीट 400 सीट कहा
क्यों जा रहा

है 400 सीटें कैसे जीत जाएंगे कौन से जादू
के आकड़े जीत जाएंगे हां 300 सीट लाने के
लाले पड़े हुए हैं 300 सीट आ जाए इसके लिए
दिन रात एक कर रहे हैं जोर तोड़ कर रहे

हैं इंडिया गठबंधन के सहयोगियों को तोड़
रहे हैं वहां भी बात बन रही है ईडी काम
नहीं कर पा रही राम मंदिर चल नहीं पा रहा
तो 400 सीट आएंगी तो आएंगी कहां

से फिर प्रधानमंत्री जी की बढ़िया बढ़िया
बातें सुनी मैंने आज मैं उन बातों का
थोड़ा थोड़ा हकीकत से क्या है इसका विशेषण
करके सुनाऊंगा पंडित नेहरू बहुत याद आ रहे
हैं प्रधानमंत्री जी को आने भी चाहिए दो

नाम ऐसे हैं जिनको राष्ट्रीय स्वयंसेवक
संघ और भारतीय जनता पार्टी मिटा देना
चाहती है व जानती है कि यह दो नाम जब तक
भारत की आत्मा में बसें भारत के लोगों के

जहन में बसें तब तक भारत में सेकुलर
ताकतें मजबूत
रहेंगी गंगा जमनी तहजी मजबूत रहेगी और दाल
गलेगी नहीं पंडित नेहरू के का जिक्र
उन्होने प्रधानमंत्री जीने लोकसभा में भी

किया आज राज्यसभा में भी किया पहले कहा कि
प्रधानमंत्री नेहरू कहते थे कि भारत के
लोग आलसी हैं आज कहा कि पंडित नेहरू चाहते
थे कि आरक्षण ना

मिले पंडित नेहरू पंडित नेहरू पंडित
नेहरू देश में कोई घटना होती है उसके लिए
सीधा सीधा हमारे सुधीर चौधरी पंडित नेहरू
को जिम्मेदार ठहरा देती
है मर्ता की जितनी पराकाष्ठा होती है यह

गोदी मीडिया के बड़े-बड़े चैनल बड़े-बड़े
एंकर उसको पराकाष्ठा को पार कर जाते
हैं जिस समय पंडित नेहरू ने देश की कमान
संभली उस समय देश में सुई भी नहीं बनती थी

तो प्रधानमंत्री जी आज माल बेच रहे हैं वह
सारा माल मैं माल शब्द इसलिए कह रहा हूं
बड़े-बड़े
घराने बड़े बड़े इंडस्ट्री बड़े-बड़े
संस्थान वो खड़े किए हैं प्रधानमंत्री
नेहरू ने जिसको बेच बेच के देश का काम

चलाया जा रहा
है एक बहुत बड़े परिवार का लड़का विदेश से
पढ़ के लड़के आया पढ़ के आया हुआ लड़का
जिसको कोई कमी नहीं थी धन दौलत की वो 12
14 साल जेल में रहता

है जेल में रहकर वह एक नए भारत की कल्पना
करता लिखता है डिस्कवरी ऑफ इंडिया उस
विचार को लेकर राहुल गांधी निकलते हैं
भारत जोड़ो यात्रा पर निकलते हैं न्याय

यात्रा पर निकलते हैं कन्याकुमारी से
कश्मीर तक निकलती हैं और दोबारा मणिपुर से
निकल के और तमाम राज्यों में जा रहे हैं
उस नेहरू के विजन को लेकर जा रहे कि नेहरू

के देश भारत कौन सा देश था कौन सी गंगा
जमुनी तहजीब वाला देश था और जब साहिब को
और भारतीय जनता पार्टी को पता चल रहा है
कि इस यात्रा में देश का जनमानस कितनी

बुरी तरह से जड़ रहा है तो हाथों के तोते
उड़ रहे
हैं राम मंदिर का जो शो हुआ जो ब्राड शो
हुआ इसमें सैकड़ों करोड़ रुप फूके गए

साहिब को पूरी भारतीय जनता पार्टी को मिती
इसके बाद कोई करने की जरूरत ही नहीं है
राम मंदिर इतना बड़ा मुद्दा बन जाएगा राम
मंदिर इतना विशाल मॉडल बन

जाएगा कि हमको तो चुनाव आसानी से जीतने को
मिल जाएगा लेकिन वह उत्तर प्रदेश जहां
इतना बड़ा आयोजन हुआ वहां यह मुद्दा हफ्ते
भर में फ्लॉप हो गया कैसे कैसे फ्लॉप हुआ

इसको भी मैं आगे से
बताऊंगा हालत यह हो गई कि गोदी मीडिया के
पास राम मंदिर के लिए चलाने के लिए खबरें
नहीं
बची 4872 घंटे में समझ में आ गया इस बार

राम मंदिर वोट नहीं दिलाने वाला तो साहिब
की निगाह बिहार प गई ठाकुर जी को भारत
रत्न मिला नीतीश बाबू को तोड़ा गया सोच

लिया गया तो हम 40 की 400 सीट
जीतेंगे लेकिन बिहार में इस तोड़फोड़ का
जो नुकसान
हुआ लोगों ने जिस तरह रिएक्शन देना शुरू

किया उसकी कल्पना कभी भारतीय जनता पार्टी
और साहिब ने नहीं की थी कल अभय दवे जी
मेरे साथ शो में थे दावा कर रहे थे कि
नीतीश की जिंदगी की सबसे बड़ी बेवकूफी

साबित होगी नीतीश को लोकसभा विधानसभा में
वो हाल होगा जो सोच नहीं सकते थे जने
सर्वे आए हैं पिछले दिनों में जो गोदी
शुद्ध गोदी मीडिया के नहीं है वह भी बता
रहे हैं कि तेजस्वी की लोकप्रियता बहुत

ज्यादा बढ़ गई राहुल गांधी की बिहार में
एंट्री के बाद सीन बदला और इसने फिर साहिब
के हाथ के तोते उड़ा दिए तो ऑपरेशन झारखंड
शुरू किया गया न सोरेन को टारगेट बनाया

गया लेकिन कहते हैं ना कि जब आपका दिन
खराब चल रहे होते हैं तो आप एक के बाद एक
गलतियां कर रहे होते हैं और साहिब भी एक
के बाद एक गलतियां करते जा रहे हैं साहिब

को अंदाजा नहीं था कि हेमंत सोरेन को इस
तरह छेड़ने का मतलब पूरे देश में आदिवासी
समाज में गुस्सा पैदा होना है आज साहब
भाषण में अपने जिक्र कर रहे हमने

आदिवासियों के लिए स्कूल खोल दिए उनके
जीवन स्तर में यहां किया और फिर साहिब ने
कहा कि हमने देश के सर्वोच्च पद पर एक
महिला आदिवासी को बिठाया राष्ट्रपति को

बता रहे थे वह महिला आदिवासी को बताया
लेकिन आदिवासी समाज में झारखंड के ऑपरेशन
के बाद यह बात गले गले तक बैठ गई कि जिस
महिला आदिवासी को राष्ट्रपति के रूप में

बिठाया उसको इतना भी सम्मान नहीं दिया कि
जब नई पार्लियामेंट बन रही थी तो उस महिला
आदिवासी को बुला लिया जाता जब राम मंदिर
बन रहा था तो उस महिला आदिवासी राष्ट्रपति

को बुला दिया जाता तब सवाल उठा कि क्या
आदिवासी समाज की यह नियुक्तियां यह तनाया
केवल मुखौटा
भर साब आरक्षण की बात कर रहे थे कि नेहरू
आरक्षण के लिए नहीं

चाहते य साहिब जो एक एक करके औद्योगिक
घराने को समर्पण कर रहे हैं देश के सरकारी
संस्थानों को समर्पण कर रहे हैं क्या वहा
आरक्षण ब रहा है क्या प्राइवेट सेक्टर में

आरक्षण लागू हो पाएगा और जब सारे सरकारी
संस्थान व तो रेलवे अगर इतना बड़ा आंदोलन
नहीं करता तो एक दो ट्रेन ही रेलवे को
नहीं दी जाती पूरा पूरा रेलवे प्राइवेट

सेक्टर को दे दिया जाता साहिब के दोस्तों
को दे दिया जाता तो क्या वहां आरक्षण बचता
साहिब बड़ी बड़ी बातें कर रहे थे साहिब ने
यह नहीं कहा कि देश में पहली बार रेलवे

में को फायदे में कोई लाया तो उसका नाम
लालू प्रसाद यादव था हावर्ड विश्वविद्यालय
दुनिया के तमाम बड़े विश्वविद्यालयों ने
लालू यादव के ऊपर आकर पढ़ाई करी कि घाटे

में चल रही रेल को लालू यादव किस तरह
फायदे में ले आया और जो इंसान देश में रेल
मंत्रालय को फायदे में ले आया आज उसके ऊपर
15 20 साल बाद रेल मंत्रालय में नौकरी के

बदले जमीन की फाइलें खुलवा जा रही है कारण
क्योंकि वह भारतीय जनता पार्टी की वाशिंग
मशीन में आने को तैयार
नहीं वो वैसे नहीं है जैसे महाराष्ट्र में

प्रधानमंत्री जी ने भाषण दिया
यह मोदी की गारंटी है एक भी भ्रष्टाचारी
बाहर नहीं बचेगा जेल में जाएगा यह मोदी की
गारंटी है वह मोदी की गारंटी थी कि 24

घंटे बाद जिसकी तरफ इशारा था वह
महाराष्ट्र का डिप्टी सीएम बन जाता
है एक
मुख्यमंत्री जिसके ऊपर भ्रष्टाचार की इतनी

कहानियां मुख्यमंत्री बनने से पहले भारतीय
जनता पार्टी ने लिखी कहा कि यह कांग्रेस
का सबसे करप्ट नेता है उसके ऊपर बुकलेट
छापी गई भारतीय जनता पार्टी की वाशिंग

मशीन में आता है और चीफ मिनिस्टर बन जाता
है आरक्षण की बात प्रधानमंत्री जी कह रहे
थे आरक्षण व कह रहे थे पिछड़ों के आरक्षण
मैं उत्तर प्रदेश की बात कर रहा हूं जहां

पर आप राम मंदिर बनाने की बात कर रहे हैं
हां पर आप अधिकार देने की बात कर रहे हैं
प्रधानमंत्री जी एक बार उत्तर प्रदेश के
विश्वविद्यालय में जो प्रोफेसर तैनात हुए

एक बार विश्वविद्यालय में जो कुलपति तैनात
हुए हैं एक आंकड़ा सबके सामने रख दीजिए कि
इसमें से क्या 2 प्रत भी पिछड़ी जाति के
हैं ऊंची जाति के और वो भी खास जाति के

प्रोफेसर तैनात कर दिए गए कुलपति तैनात कर
दिए गए आरक्षण की बातें केवल आपके ख्यालों
में है या आपके वोट बैंक में है जब जाति
जनगणना की बात होती है जब यह होता है कि

पिछड़ी जातियों के जनगणना करी जाए उनके
अधिकार दी जाए तो आप कहते हैं कि सिर्फ दो
जातियां
एक गरीब की और एक अमीर की लेकिन अब

प्रधानमंत्री जी संसद में खड़े होकर कह
रहे हैं कि कुछ लोग पूछते हैं कि केंद्र
में कितने अफसर पिछड़ी जातियों के हैं
उन्हें इतना बड़ा अपने लिए कह रहे इतना

बड़ा पिछड़ा जाति का नेता दिखाई नहीं देता
प्रधानमंत्री जी आप इतने बड़े नेता नहीं
है पिछड़ी जाति के क्योंकि आप इतनी बड़े
पिछड़ी जाति के नेता होते आपके मन में

पिछड़ों का दर्द होता तो इस समय भारत
सरकार में आधे से ज्यादा पिछड़ी जाति के
अफसर तैनात होते जो 5 पर भी
नहीं क्या कारण है कि भारत सरकार में
राज्यों में दलितों पिछड़ों के लिए जो
नौकरिया है व आधे 50 50 परट पद खाली पड़े

हुए हैं देश की सर्वोच्च नौकरियों में कोई
पिछड़ा और दलित नहीं है यह दलित चेतना का
विचार और आप आरक्षण लागू करना चाहते हैं
तो प्रधानमंत्री जी मैं एक सुझाव देता हूं
इस सुझाव को मनवा लीजिए मेरे जैसा पत्रकार

भी आपकी तारीफ करेगा बाकी समाज में अच्छा
संदेश जाएगा क्या वाकई में पिछड़ों के आप
दलितों के उत्थान की बातें करते हैं उनके
सामाजिक सरोकार की बात करते हैं उनको

जोड़ने की बात करते एक काम कर दिए
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का संघ प्रमुख
किसी दलित को बनवा दीजिए किसी पिछड़ी जाति
के व्यक्ति को बनवा दीजिए क्या ब्राह्मणों

ने कॉपीराइट थोड़ी ना ले रखा है संघ आपकी
आत्मा है संघ आपको चलाता है संघ देश की
सबसे बड़ी पार्टी को चलाता है रज्जू भैया
को छोड़ दीजिए संघ प्रमुख हमेशा ब्राह्मण

बनेगा इस कॉपीराइट को खत्म करा दीजिए एक
बार कह दीजिए कि नहीं इस बार ब्राह्मण
नहीं बनेगा इस बार कोई दलित बनेगा आरक्षण
यहां से शुरू कर दिए प्रधानमंत्री जी
महिलाओं के आरक्षण की बात नहीं करते अब आप

कहते नहीं आपने 33 पर दिया क्योंकि
महिलाओं को समझ में आया कि जिस महिला
आरक्षण की बात करी और यह कहा कि वह 2035
के बाद लागू होगा तो महिलाए समझ गई कि

आपकी यह खयाली पुलाव केवल चुनाव की वोट की
मशीन की
तरह आज भी राज्यसभा में प्रधानमंत्री जी
कह रहे थे मोदी जी की गारंटी है मोदी की
गारंटी है मैंने ईमानदारी से खुद का इतना

महिमा मंडित करता हुआ कोई शख्स नहीं देखा
इंदिरा गांधी को देख सुन लीजिए राजीव
गांधी को सुन लीजिए किसी ने कहा राजीव
गांधी की गारंटी हैय इंदिरा गांधी की

गारंटी कांग्रेस सरकार कहते थे आपको भी
कहना चाहिए भाजपा सरकार की गारंटी है
लेकिन एक्चु भाजपा बची नहीं है भाजपा
सिर्फ मोदी हो गई है

ना आपके आगे कोई ना कोई आपके पीछे और हालत
तो यह है कि आप बड़े से बड़े अपने पार्टी
के अध्यक्ष को जब आप चल रहे होते हैं
पार्टी का अध्यक्ष चल रहा होता है तो हम

हैं राजनाथ सिंह को देखा है हमने उनको जब
एक फोर्स का उद्घाटन था उसमें किनारे कर
दिया गया प्रधानमंत्री जी के संसदीय जब
पार्लियामेंट की मीटिंग होती है उसके

बराबर वाली कुर्सी खाली रखी जाती है तो
फिर बचा कहां आप अपनी पार्टी में समानता
का अधिकार नहीं दे पा रहे हैं और दूसरी
पार्टी की बात कर रहे हैं प्रधानमंत्री जी

की सबसे बड़ी समस्या उत्तर प्रदेश जो बोदी
मीडिया के चैनल कह रहे हैं कि जयंत आ
जाएंगे 80 की 80 सीट जीत जाएंगे दरअसल
प्रधानमंत्री की समस्या वही उत्तर प्रदेश
है योगी आदित्यनाथ के साथ पिछले छ सालों

में दिल्ली ने जो सलूक किया है
प्रधानमंत्री जी ने जो सलूक किया है अमित
शाह की जो नाराज है वो कम गुल नहीं खिला
सकती है दिल्ली परेशान है दिल्ली जानती है
कि अगर आदित्यनाथ भड़क गए उसका मतलब क्या

होता है आप सोचिए एक प्रदेश के
मुख्यमंत्री को अपना चीफ सेक्रेटरी चुनने
का अधिकार नहीं है एक रिटायर हुआ व्यक्ति
हर साल प्रमोशन पाता रहता है एक्सटेंशन
पाता रहता है और वह चीफ सेक्रेटरी बना

रहता है लगातार है एक के बाद एक एक्सटेंशन
दिए जाते हैं देश के सबसे बड़े सूबे में
चीफ सेक्रेटरी चुनने का अधिकार नहीं है
योगी आदित्यनाथ जिस मनोज कुमार सिंह को
चीफ सेक्रेटरी बनाना चाहते थे दिल्ली ने

उनके लिए मना कर दिया जितने मंत्री योगी
आदित्यनाथ की सरकार में है उसमें से
अधिकांशत दिल्ली की पसंद के और उत्तर
प्रदेश इसलिए भी डरा रहा है कि उत्तर

प्रदेश पे अगर कांग्रेस का और समाजवादी
पार्टी का गठबंधन हो गया हालांकि अभी अधर
में है हॉट वाटर में है बातचीत शुरू नहीं
हो पाई है और जयंत भले ही भारतीय जनता
पार्टी में चले गए लेकिन कांग्रेस और

समाजवादी पार्टी का गठबंधन बीजेपी को
परेशान कर देगा यह भाजपा अच्छी तरह जानती
है उसका मोटा-मोटा कारण भी है मायावती
भारतीय जनता पार्टी की बीटी टीम की तरह

काम कर रही हैं इसमें किसी को कोई शक नहीं
बचा सबको समझ में आ रहा है कि मायावती वही
कर रही है जो भाजपा जा रही है क्योंकि यह
बात सब जानते थे कि अगर समाजवादी पार्टी

कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी एक मंच पर
आ गई तो भारतीय जनता पार्टी को डबल डिजिट
में भी आना मुश्किल पड़ जाएगा साहिब ने
पेच कसे और मायावती ने कहा हम अकेले

लड़ेंगे लेकिन बड़ा सवाल यह है कि खेल यह
था अमित शाह का खेल यह था मोदी जी का खेल
यह था कि मायावती के बहाने ज्यादा से
ज्यादा मुसलमानों को चुनाव लड़ाया जाए

मायावती आगे आए ओबीसी पीछे रहे ज्यादा से
ज्यादा मुसलमानों को टिकट दिया जाए
मुसलमान वोटों का बंटवारा किया जाए एक तरफ
हिंसा की बातें होती हैं गिरिराज सिंह

जैसे मंत्री हिंसा की बात करते हैं दूसरी
ओर मोदी भाईजान के कैंपेन उत्तर प्रदेश
में चलवाई जाते हैं उसके पीछे कारण यह है
कि उत्तर प्रदेश का 2021 पर मुस्लिम जो

इंटे फैक्ट है और समाजवादी पार्टी और
कांग्रेस का गठबंधन होता है तो यह बिल्कुल
तय है कि यह 20 और 21 पर वोट एक जगह
पड़ेगा और उत्तर प्रदेश में एक डेढ़ दर्जन

सीट ऐसी है जहां मुस्लिम वोट बहुत
निर्णायक होता है और इस एक डेढ़ दर्जन
डेढ़ दर्जन सीटों ने बीजेपी की नीद उड़ा
दी है क्योंकि जिस तरह से अखिलेश यादव
पीडीए यानी पिछड़ा दलित अल्पसंख्यक समीकरण

को लेकर राजनीति कर रहे हैं अगर कांग्रेस
भी उसमें जुड़ जाती है कांग्रेस का 45 पर
वोट बढ़ जाता है कांग्रेस के आने से
महानगरों में कांग्रेस के लड़ने से कुछ

ऊंची जाति अभी कांग्रेस के साथ चली जाती
है तो भारतीय जनता पार्टी का सारा गणित
गड़बड़ा जाएगा मैं छोटा सा उदाहरण आपको
देता हूं पिछले दिनों में उत्तर प्रदेश

में घोसी में उपचुनाव हुए बड़ा
महत्त्वपूर्ण चुनाव था सरकार की नाक का
सवाल था दारा सिंह चौहान समाजवादी पार्टी
के विधायक थे पार्टी छोड़कर आए थे उस

चुनाव को जीतने के लिए पूरा दिल्ली ने एक
दिन रात एक कर दिया बताया जाता है कि 20
करोड़ से ज्यादा एक छोटे से विधानसभा
चुनाव में खर्च किया गया उत्तर प्रदेश

सरकार के दोनों डिप्टी सीएम लगातार डेरा
डाले रहे 3000 से ज्यादा संघ के
कार्यकर्ता भेजे
गए कम से कम 100 से ज्यादा विधायक जुटे गए

लेकिन नतीजा जब निकला तो बीजेपी के पसीने
आ गए समाजवादी पार्टी ने ऊंची जाति के
व्यक्ति को टिकट दिया था ठाकुर को टिकट
दिया था मतदान कम हुआ मुस्लिम को

घरों से निकलने नहीं दिया गया तब भी
समाजवादी पार्टी ने यह सीट बीजेपी के
प्रत्याशी को लगभग 42000 वोटों से ज्यादा
हरा के

जिताई मैं बात कर रहा था गोरखपुर के बड़े
नेता से काजल इशाद को टिकट दिया है आप
सोचिए गोरखपुर जैसी जगह पर जहां से मोटा
मोटा साढ़े तीन चार लाख निषद वोट आते हैं

और काजल निषद ने काफी काम किया है एक सीट
का उरण बता रहा हूं आपको साढ़े तीन चार
लाख वोटों से से निशात वोटों से पार्टी
चुनाव की शुरुआत कर रही है अगर पिछड़ों और

मुसलमानों के वोट जोड़ ले तो ये आंकड़ा 7
लाख के आसपास पहुंचता है ऐसी कई कई टिकट
है जो अखिलेश यादव की पहरी सूची में टिकट
आए हैं गोदी मीडिया भरी कह दे कि वो अब तो

80 की 80 सीटें जीतेंगे लेकिन हकीकत यह है
कि राम मंदिर का जो उफान सोचा था जो सोचा
था कि राम मंदिर के बहाने हम चुनाव जीत
जाएंगे वैसे हालात उत्तर प्रदेश में नहीं

है उत्तर प्रदेश का चुनाव फंसा हुआ है
उत्तर प्रदेश का चुनाव उलझा हुआ है और
साहिब को यह लग रहा है कि देश का कोई भी
राज ऐसा नहीं है जहां पर उनकी सीटें बढ़

रही हो बंगाल में बेतहाशा कम हो रही है
कर्नाटक में सीटें कम हो रही है मध्य
प्रदेश और राजस्थान में एक सीट छोड़कर
सारी सीटें उनकी थी झारखंड में जो प्रयोग

हुआ है वह बहुत नुकसान पहुंचा रहा है तो
इसलिए बड़ी बड़ी बातें अपनी अलग साहिब की
स्ट्रेटेजी य है कि जितने ज्यादा विपक्ष
के नेताओं को तोड़ सको उतना तोड़ ड़ लो

चयन से बातचीत की चर्चा चल रही है पुष्टि
नहीं हुई है अगला टारगेट समाजवादी पार्टी
के कुछ बड़े नेता हैं समाजवादी पार्टी के
कुछ बड़े नेताओं से संपर्क किया जा रहा है

उनको अपनी तरफ लाने की कोशिश की जा रही है
मेरा बड़ा सवाल यह है कि जब आपको पता है
कि आप 400 प्लस आ रहे हो गोदी मीडिया के
चैनल दिन भर कह रहे हैं 400 प्लस बार आ

रहे हो तो जरूरत क्या है क्या जरूरत है कि
फिर आप तोड़फोड़ करो आप तो आ ही रहे हो
400 पा हिम्मत है तो आप बिना विपक्ष को
तोड़ के लड़ लो ना चुनाव

इस ये डर बताता है यह खौफ बताता है कि
कहीं समझ आ रहा है भारतीय जनता पार्टी को
कि आसान नहीं है और यह बात तय है कि अगर
उत्तर प्रदेश में सीटें भारतीय जनता

पार्टी की 10 भी कम हो गई तो दिल्ली का
सिंहासन दूर हो जाएगा क्योंकि हर राज्य से
भाजपा को नुकसान हो रहा है उस साहिब को यह
भी पता है कि अगर सीट 230 और 240 त भी

पहुंच गई तो उनका प्रधानमंत्री बनना असंभव
है क्योंकि भारतीय जनता पार्टी में अमित
शाह जी के अलावा
उनको कोई पसंद नहीं करता है यह बात अलग है

कि लोग उ से डरते हैं उनके सामने बोलने की
हिम्मत नहीं करते हैं तो डिक्टेटरशिप जो
तानाशाही वाला उनका चेहरा है वो खौफ पैदा
करता है लेकिन इसी खौफ का दूसरा परिणाम यह

होता है कि लोग इंतजार कर रहे होते हैं
हमने इतिहास के पन्नों में पढ़ा है जब कोई
तानाशाह डूब रहा होता है कमजोर हो रहा
होता है तो फिर उसके ऊपर हमले भी उतने तेज

हो जाते हैं नेपोलियन से लेकर हिटलर तक की
तमाम इतिहास की कहानियां हमको बताती हैं
कि तानाशा हों का अंत आखिर में बहुत बुरा
होता है दो महीने बचे हैं चुनाव के चुनाव

की चौसर बिची रहेगी चुनाव में तरह तरह की
जंग लड़ी जाएगी हम हर जंग का खुलासा
करेंगे हमें पता है कि आने वाले दो महीने
हमारे लिए भी परेशानी भरे हैं इनडायरेक्ट

धमकियां शुरू हो चुकी हैं लेकिन हम अपने
सच का निर्वाहन करते रहेंगे जो भी होगा व
आपको जरूर बताते रहेंगे आपसे रिक्वेस्ट है
चैनल को जवाइन कीजिएगा सब्सक्राइब करिएगा
देखते रहिएगा 4 पीएम न्यूज नेटवर्क हमारे

राज्यों के चैनल है 4 पीएम यूपी बिहार
गुजरात महाराष्ट्र राजस्थान कर्नाटक मध्य
प्रदेश 4 पीएम बॉलीवुड उन्हें भी
सब्सक्राइब करिएगा शुक्रिया थैंक
यू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *