लक्ष्मी मां आज मुझे नहीं सुना तो तुम्हारा कोई भी कार्य पूर्ण नहीं होंगे - Kabrau Mogal Dham

लक्ष्मी मां आज मुझे नहीं सुना तो तुम्हारा कोई भी कार्य पूर्ण नहीं होंगे

मेरे बच्चे तुम हर दिन यही सोचते हो ना कि

तुम्हारे भाग्य में क्या लिखा हुआ

है तुम्हारे भाग्य में मैंने जो लिखा है

उसे कोई भी नहीं बदल सकता ना ही तुमसे कोई

छीन सकता है तुम्हारे भाग्य में मैंने जो

लिखा है वह तुम्हें जरूर मिलेगा बस थोड़ा

इंतजार करो

तुम यह भी जानते हो कि समय से पहले और

भाग्य से ज्यादा किसी को कुछ भी प्राप्त

नहीं होता जो इंसान के भाग्य में लिखा

होता है उसे केवल वही प्राप्त होता है

किंतु इसका अर्थ यह नहीं है कि तुम अपने

भाग्य और समय को बदल नहीं सकते

हो आज मैं तुम्हें तुम्हारे भाग्य के बारे

में बताने आई हूं ध्यान से इस संदेश को

अंत तक सुनना यदि तुमने इस संदेश में बताई

गई बातों को अपने जीवन में उतार लिया तो

तुम्हारे जीवन में जो बुरा भाग्य है वह भी

अच्छे भाग्य में बदलने की क्षमता तुम रख

सकते

हो यह सच है कि तुम्हारे भाग्य में जो

चीजें लिखी हैं तुम्हें वही प्राप्त होंगी

परंतु जो तुम अपने भाग्य को बदलना चाहते

हो तो मेरी बातों पर ध्यान देना सबसे पहले

तुम्हारा यह जानना जरूरी है कि तुम्हारा

भाग्य किस प्रकार से लिखा जाता है अगर

आपके संस्कार अच्छे हैं आपका स्वभाव अच्छा

है आपके विचार अच्छे हैं तो आपके जीवन में

चाहे कैसी भी संगत हो

वह आपका कुछ नहीं बिगाड़ सकती इसलिए जीवन

में अच्छे मित्रों को चुनो क्योंकि अच्छे

मित्र अच्छी संगति आपके बुरे भाग्य को भी

अच्छे भाग्य में बदलने की क्षमता रखती

है हमारे जीवन में सुख और दुख हमारे मन के

कारण ही पैदा होते हैं इसलिए आप अपने मन

को

समझाइए सुख आने पर अहंकार ना करें और दुख

आने पर घबराना नहीं चाहिए आप जीवन में

बिल्कुल भी चिंता ना करें क्योंकि जीवन की

डोरी तो भगवान के हाथ में है इसलिए भगवान

हमारी डोरी के रक्षक हैं तो हमें चिंता

नहीं करनी

चाहिए जीवन में आपको हमेशा आत्मविश्वास

बनाए रखना चाहिए और हर कार्य करने की

इच्छा रखनी चाहिए

क्योंकि जैसे पानी में तैरने वाले ही

डूबते हैं किनारे पर खड़े रहने वाले

व्यक्ति नहीं लेकिन यह भी सत्य है कि

किनारे पर खड़े होने वाले व्यक्ति कभी

तैरना नहीं सीख सकते

हैं इसलिए हमें जीवन में हर कार्य करने की

इच्छा रखनी चाहिए और उन कार्यों को

धीरे-धीरे सीखते हुए आगे बढ़ना चाहिए

अगर के पास कार्य करने की शक्ति है लेकिन

श्रद्धा नहीं है तो फिर कार्य पूर्ण नहीं

हो सकते

हैं शक्ति के बिना श्रद्धा व्यर्थ है किसी

भी महान कार्य को पूरा करने में श्रद्धा

और शक्ति दोनों की आवश्यकता होती है जीवन

में कोशिश करना हमारा कर्तव्य है अगर हमने

कर्तव्य को ही पूरा नहीं

करेंगे तो तो हम फिर भगवान को दोषी कैसे

ठहरा सकते

हैं क्यक जब तक आप जीवन में कोशिश ही नहीं

करेंगे तो भगवान को दोषी कैसे ठहरा सकते

हैं कि आपने हमें जीवन में कुछ नहीं दिया

वह इंसान जीवन में कभी भी सुख नहीं

प्राप्त कर सकता जिसने कभी दूसरों को सुख

देने के लिए कोशिश ही ना करी हो

आज मैं तुम्हें बताने वाली हूं कि तुम

अपने सभी कार्यों को किस प्रकार से स्वयं

ही खराब करते हो और तुम्हारे बनते हुए

कार्य क्यों बिगड़ जाते हैं मेरे बच्चे

तुम्हें अब यह समझना होगा कि तुम्हारे

कार्य तुम्हारे जीवन के लिए कितने

अनिवार्य

हैं मैं लक्ष

मां हू और मेरे नाम से ही सारे कार्य

सिद्ध हो जाते हैं यदि तुम्हारे जीवन में

सुख और शांति तुम्हें चाहिए तो मेरे नाम

का स्मरण करो और मेरा आशीर्वाद प्राप्त

करो मेरे बच्चे तुम अपने कार्यों को शुरू

तो कर देते हो परंतु तुम्हें यह नहीं पता

चलता कि वह किस प्रकार से तुम्हें आगे बढ़

है और तुम्हारी यही लापरवाही तुम्हें

तुम्हारे कामों में रुकावट पैदा करती

है यदि मुझ पर विश्वास है और तुम्हें लगता

है कि मेरे होने से तुम्हारे जीवन में सब

कुछ अच्छा है तो तुम्हें आज मुझे हर शुभ

कार्य में शामिल करना होगा तथा मुझे वचन

देना होगा कि जीवन के हर छोटे बड़े

कार्यों में मेरा नाम लेकर ही तुम उसके

आगे की शुरुआत करोगे ताकि तुम्हें जीवन

में कोई दुख ना

आए इस संदेश को सुनने वाले सभी व्यक्ति के

परिवार में सुख शांति और समृद्धि आएगी यह

मेरा वचन है और स्वयं मेरी बातों को सुनकर

जो मुझे याद करेगा उसके बिगड़े काम बनने

शुरू हो

जाएंगे मेरे बच्चे सबसे पहला काम तुम्हारा

मुझ पर विश्वास करना है मुझ पर विश्वास

करके ही तुम्हें अपने जीवन में सफलता मिल

सकती है क्योंकि सफलता पाने का मंत्र

स्वयं पर विश्वास है विश्वास से बड़ी ताकत

इस संसार में और कोई नहीं है यदि तुम मुझ

पर विश्वास करोगे तो तुम्हारे जीवन में सब

कुछ अच्छा होगा बुरी से बुरी शक्ति भी

तुम्हारा कुछ नहीं बिगाड़

सकती अपने जीवन में उस राह पर सफलता पाने

के लिए धीरे-धीरे कोशिश करते हुए आगे

बढ़ते जाओ सफलता कुछ ही दिनों में

तुम्हारे कदमों में होगी बस तुम अपने मन

में सोचो कि जो रास्ता तुमने चुना है वह

बिल्कुल सही चुना है और ऐसी राह पर अगर आप

चलेंगे तो वह आपके लिए हितकारी होगी आप

अपने साथ-साथ मुझ पर भी विश्वास

रखो जब जीवन में तुम्हें असफलता मिले और

कुछ समझ नहीं आए तो आंखें बंद करके अपने

माता-पिता के साथ-साथ मेरा ध्यान करो

तुम्हारे बंद रास्तों में भी मैं खुशियां

भर दूंगी और तुम्हें खुशी अपने आप ही

दिखाई देने लगेगी अगर तुम ज्यादा दुखी

रहोगे तो अंदर से बिल्कुल ही थक जाओगे और

अपने आप को कमजोर महसूस करोगे जिससे कि त

फिर कल कोई भी कार्य नहीं कर पाओगे लेकिन

मेरे बच्चे मुझ पर विश्वास बनाए रखो उस

चिंता को छोड़कर आगे बढ़ो अपने कार्य करते

चलो तो जीवन में तुम्हें सफलता जरूर

मिलेगी एक बात अवश्य याद रखना जो भक्त

दुखों के साथ-साथ सुख में भी मुझे याद

करता है उसे मैं आजीवन उसका ध्यान रखती

हूं मेरे बच्चे कभी भी तुम अपने कार्य

करते हो तो उसके परिणाम की चिंता मत

[संगीत]

करो कि कार्य करना तुम्हारे हाथ में है

परंतु उसका फल देना मेरे हाथ में इसलिए

तुम हमेशा अच्छे कार्य करते जाओ तुम्हें

अच्छा ही फल प्राप्त होगा क्योंकि जब जब

तुम अच्छे कार्य करते जाते हो वह सब अच्छे

कार्य तुम्हारे कोश में इकट्ठे होते जाते

हैं और इन सबके चलते तुम एक ना एक दिन

जरूर तुम्हें अच्छे फल प्राप्त होंगे

इसलिए बेकार की चिंता करना छोड़ दो और

अपने कार्य करते हुए आगे

बढ़ो तुम अपने भूतकाल को लेकर इतने चिंतित

क्यों रहते हो तुम अपना आज भी इसलिए अच्छे

से नहीं जी पा रहे हो इसलिए मेरे बच्चों

जो गुजर चुका है उसकी चिंता करना व्यर्थ

है क्योंकि जो पल हमारी जिंदगी से जा चुका

है उसको हम बदल नहीं सकते हैं इसलिए तुम

सिर्फ अपना आज अच्छे से जियो क्योंकि

भविष्य का किसी को भी नहीं पता है कि क्या

होगा जब भी हमारा मन विचलित हो या इधर-उधर

भटकता हो तो हमें अपनी आंखें बंद करके

प्रभु का ध्यान लगाना चाहिए और अपने

माता-पिता का ध्यान लगाना चाहिए जो भी

हमारे भूतकाल में हो चुका है और जो

वर्तमान में चल रहा है अपने भविष्य को

सोचते हुए अपने मन से उन सभी बुरी बातों

को दूर कर देना चाहिए फिर आप देखेंगे कि

आपके शरीर में बहुत ज्यादा सकारात्मक र्जा

आएगी जिससे आप सभी कार्य कर

सकेंगे आज मेरे संदेश को सुनने के बाद

तुम्हारे जीवन में तुम्हें अच्छी खबर

मिलना शुरू हो जाएंगी तुम जिस चीज को पाना

चाहते थे वह सब चीजें तुम्हें प्राप्त

होना शुरू हो

जाएंगी मेरे बच्चों परमात्मा हमेशा भक्तों

की पुकार सुनकर पल भर में चले आते हैं और

उन्हें सब कुछ प्रदान कर देते हैं लेकिन

हमें उस चीज को पाने के लिए मेहनत करना

बहुत आवश्यक होता है अब मैं अपना आशीर्वाद

देकर अपने धाम वापस जाना चाहती हूं मेरे

आशीर्वाद से तुम जीवन में सुखी रहो स्वस्थ

रहो तुम्हारा दिन मंगलमय हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *