ये 5 काम करने से Maa Kali हमेशा स्वप्न में दर्शन देती है | - Kabrau Mogal Dham

ये 5 काम करने से Maa Kali हमेशा स्वप्न में दर्शन देती है |

यह सत्य है की जो भी भक्ति मां काली के

समर्पित भक्ति हैं उन्हें पूछते हैं

उन्हें मानते हैं तो मां उन्हें सपना में

दर्शन अवश्य देती है लेकिन कई बार मां की

निरंतर पूजा करने के बाद भी उनके मेट्रो

का जाप करने के बाद भी कई लोगों को मां का

अनुभव नहीं होता स्वप्न विम दर्शन नहीं

देती तो ऐसे में भक्तों को यह संशय हो

जाता है की मां से नाराज है और क्या उनसे

कोई गलती हो गई है क्या उनसे कोई फूल हो

गई है और वो ऐसा क्या करें की मां सपना

में दर्शन दे और मां के अनुभव उन्हें हो

तो आज इस वीडियो में हम इसी महत्वपूर्ण

विषय के ऊपर बात करेंगे की ऐसा क्या किया

जाए की मां का अनुभव हो और स्वप्न में मां

के दर्शन भी हो नमस्कार दोस्तों आप सभी पर

मां का आशीर्वाद और बजरंगबली की कृपा सदैव

बनी रहे

दोस्तों पहले बात तो यह है की मां नाराज

नहीं होती है और हमेशा से ही अपने भक्तों

के आसपास होती हैं इसको इस तरह से समझिए

की जैसे सूर्य की करने सूर्य की गर्मी कई

बार हम तक नहीं पहुंच पाती है तो इसका

तात्पर्य नहीं की सूर्य भगवान हमसे नाराज

हैं बल्कि कुछ अन्य करण हो सकते हैं जैसे

की आसमान में गाने का लिबागर हो सकते हैं

ग्रहण कल हो सकता है या रात्रि का समय हो

सकता है सूर्य की करने उसकी गर्मी उसकी

रोशनी हम नहीं देख पाते महसूस नहीं कर

पाते तो इस प्रकार से मां भी हमसे नाराज

नहीं होती मां हमेशा से ही हमारे आस-पास

है क्रोध करना बाकी प्रकृति नहीं मां

हमेशा से हमारे आस-पास हैं और चूंकि हमारी

ऊर्जा का स्टार उतना बड़ा ही नहीं है उतना

विस्तृत नहीं हुआ है की मां को देख पे

उनके अनुभूति कर पे कुछ अशुद्धियां जब

व्यक्ति के अंदर पैदा होती है या कुछ

विकार कुछ नकारात्मकता आसपास होती है या

व्यक्ति के अंदर होती है तो मां नजर नहीं

आई तो मां से हमारा संबंध और भी प्रगाढ़

बहुत गहरा हो जाए सपना में मां के दर्शन

भी हो इसके लिए सबसे पहले कार्य जो करना

है भक्तों को वो निरंतर मां के मेट्रो का

जाप करना है और उनका निरंतर ध्यान करना है

और जितने लंबे समय तक हो सके मां के

मेट्रो का मानसिक जाप करना चाहिए और

महत्वपूर्ण ये है की समय सीमा आप अपने

ध्यान की अपनी जबकि बनाएं क्योंकि जब आप

निरंतर जब गहरी ध्यान में करते हैं तो

आपकी चेतन का स्टार बाढ़ जाता है आप मां

के स्टार से बहुत ऊपर उठ जाते हैं मां की

चंचलता समाप्त होने लगती है और आपकी चेतन

डिवीजन को जो बहुत ही सूक्ष्म और

संवेदनशील होते हैं उन्हें पकाने लगता हैं

और मां के दर्शन उनका अनुभव आप स्पष्ट रूप

से अपने ध्यान में और अपने स्वप्न में कर

सकते हैं

कई बार लोग कुछ समय प्रयास करके फिर

प्रयास छोड़ देते हैं लेकिन यह प्रयास

आपको निरंतर करना है भगवान शिवा को देखिए

वह तो आनंद कल से ध्यान में है लेकिन

लोगों को तुरंत परिणाम चाहिए होता है

क्योंकि उनकी उत्तेजना की ऊर्जा इतनी

तीव्र होती है की प्रयास की जो ऊर्जा होती

है उनकी जो क्रिया की जो ऊर्जा होती है वो

क्षण हो जाति है

तो मां के दर्शन नहीं हो पाते या कुछ समय

मां के दर्शन होने के बाद वो स्वप्न में

आना मां का बैंड हो जाता है तो निरंतर

ध्यान से चेतन का स्टार बढ़ेगा और मां के

दर्शन आपको अवश्य ही स्वप्न के मध्य से

होंगे या ध्यान में होंगे दूसरी चीज जो

करनी है

ब्रह्म मुहूर्त में उठकर मां के मेट्रो का

जाप करना चाहिए

ब्रह्म मुहूर्त

एक दिव्या मुहूर्त है और इस समय की गई

पूजा इस समय की गई मेट्रो का जयपुर

मेडिटेशन कई गुना ज्यादा फलित होते हैं

क्योंकि सुबह के समय यानी ब्रह्म मुहूर्त

के समय वातावरण शांत होता है कोई भी

कोलाहल नहीं होता आपकी ऊर्जा आपके मेट्रो

के जब से उत्पन्न जो वाइब्रेशंस हैं वो

ब्रह्मांड में फैली असीमित शक्तियों से

असीमित ऊर्जाओं से बहुत आसानी से कनेक्ट

हो जाति है क्योंकि इन वाइब्रेशंस में कोई

रुकावट नहीं होती और ये आसानी से अपने

लक्ष्य पर पहुंचती है और लक्ष्य क्या है

लक्ष्य होता है की जिसने देवी या देवता का

आप मंत्र जाप कर रहे हैं तो आपकी जो

मेट्रो की ऊर्जा है उसका संबंध शक्ति से

जल्द से जल्द हो और बहुत ही प्रगाढ़ हो

बहुत ही गहन हो

तो ब्रह्म मुहूर्त में यदि आप ऐसा करते

हैं मंत्र जब या मेडिटेशन या ध्यान जो भी

आप क्रिया कर रहे हैं उसका परिणाम बहुत ही

जल्द आपको मिलता है और विशेष कर जो जागृत

शक्तियां हैं मां काली हैं इनका ध्यान

ब्रह्म मुहूर्त में करने से आपको तुरंत ही

इसका परिणाम प्राप्त होता है

तीसरी चीज जो आपको करनी चाहिए की जब आप

ध्यान में बैठे तो एक धरना के सॉन्ग बैठे

हैं मां में मां के दर्शनों की एक धरना के

सॉन्ग बैठे हालांकि आपकी जब भक्ति आपके

भाव उच्च स्टार पर चले जाते हैं तो बिना

किसी धरना के भी आपको मां दर्शन देती है

किसी एन किसी रूप में अपना अनुभव अवश्य

करती है धरना क्या है धरना यानी की एक

इच्छा एक संकल्प की मुझे मां के दर्शनों

की अभिलाषा है इस तरह के धरना मां में कर

कर आपको मंदिर जाप करना चाहिए एनर्जी फॉलो

थॉट क्योंकि जो ऊर्जा होती है वह हमेशा

विचारों को फॉलो करती है विचारों का

अनुसरण करती है बड़ी-बड़ी जो संकल्प हम

लोग लेते हैं बड़े-बड़े अनुष्ठानों में जो

संकल्प लेते हैं उसके पीछे का करण भी यही

है की हम एक धरना प्ले कर लेते हैं एक

संकल्प किसी साधना में मां में कर लेते

हैं की हमें इतना जाप करना है और इस कार्य

के लिए इस अभिलाषा की पूर्ति के लिए हम

जाप कर रहे हैं तो इस प्रकार की धरना हम

करते हैं तो जो हमारी ऊर्जा है वो हमारे

इस विचार को इस संकल्प को फॉलो करती है और

हमें अपने जाप का अपने साधना का श्रेष्ठ

परिणाम प्राप्त होता है तो इसीलिए संकल्प

लिया जाता है तो जब कभी भी आप मां के

ध्यान में बैठे मां के मेट्रो का जाप करें

तो मां के दर्शनों के एक धरना के सॉन्ग

बैठे निश्चित रूप से मां के दर्शन मां के

अनुभव आपको किसी ना किसी रूप में होंगे

चौथी चीज जो आपको करनी है मां के अनुभवों

को प्राप्त करने के लिए उनके दर्शन स्वप्न

में हो या ध्यान में हो की सोते समय भी

आपको इसी धरना के सोना है यानी जब आप

निंद्रा में जा रहे हैं रात्रि कल में तो

इस धरना को मां में धरण करते हुए की हेमा

मुझे स्वप्न में आप दर्शन दे इस प्रकार

उनसे निवेदन करते हुए मां के मेट्रो का

मानसिक जाप करते हुए आपको सोना चाहिए और

ध्यान रहे बीच में कोई व्यवधान ना हो यह

नहीं की किसी ने आपसे यह नहीं हो की किसी

ने आपको बुला लिया या कोई आपसे बात करने

लगा यह अचानक ही अपने मोबाइल खोल लिया है

आपने टीवी ऑन कर लिया इस तरह का व्यवधान

जब आप संकल्प ले लेते हैं धरना ले लेते

हैं सोते समय तो उसके बाद नहीं होना चाहिए

उसके बाद तो निरंतर मां का ध्यान मां के

मेट्रो का जब मां में चलना चाहिए तो

निश्चित रूप से आपका यह प्रयास सफल होगा

अब कुछ ही दोनों में आपको मां के अनुभव

बहुत तीव्र होने लगेंगे

आजकल तो हर बेडरूम में वैसे भी टेलीविजन

होता है और जो मोबाइल है वह तो सोते जाते

हर समय हमारे साथ होता है लेकिन कम से कम

निंद्रा में जब आप जा रहे हैं तो उससे

पहले कुछ डर पहले अपने टीवी अपने मोबाइल

से अपने को दूर कर ले और मां के ध्यान में

अपने चेतन को फॉक्स करें

अगली चीज जो आपके चेतन के स्टार को बढ़नी

है और मां को आप अनुभव अच्छी तरह से कर

पाते हैं तो उसके लिए आपको अपने दृष्टिकोण

में थोड़ा परिवर्तन करना है यदि आपके जीवन

में कष्ट ए रहे हैं तो उन्हें सकारात्मक

भाव से आपको देखना है कई लोगों का यह

दृष्टिकोण होता है की इतनी पूजा पाठ के

बाद भी जीवन में कष्ट ए रहे हैं तो वह

पूजा पाठ छोड़ देते हैं लेकिन थोड़ा आपको

अजीब लगेगा लेकिन यह सत्य है की जीवन में

अगर कष्ट ए रहे हैं तो भाग्यशाली लोगों को

आते हैं

जब हमें आस-पास कोई सहारा नजर नहीं आता तो

हम भक्ति मार्ग की तरफ बढ़ते हैं अध्यात्म

का हम सर

लेते हैं और हमारा आध्यात्मिक विकास होता

है हमारी चेतन का विकास होता है

जो कष्ट होते हैं वह मोटिवेशनल फैक्टर्स

के रूप में कम करते हैं यानी की आपको

प्रेरणा देते हैं की आप भक्ति के मां के

जैन क्योंकि दुख इतना हो जाता है तो इसको

सकारात्मक रूप में आपको लेना चाहिए कभी भी

निरसा हताश होकर अपनी पूजा पाठ नहीं

छोड़ना है क्योंकि वो समय है जब आपका

भाग्य जैन लगता है और आपके कर्मों का

काटना पाप कर्मों का काटना या पुराने जो

भी आपके प्रारब्ध है उनका काटना शुरू होता

है

तो कष्ट का आना एक भाग्य उदय का भी संकेत

है तो लगातार आपने मां के मेट्रो का जाप

करें उनका ध्यान करें कुछ समय बाद आपको

निश्चित रूप से मां की अनुभूति होने लगेगी

है इसके अलावा कुछ चीजों का आपको ध्यान

रखना है सातवीं का हर बिहार आपका होना

चाहिए सात्विक भजन करें तो हमसे भजन का

त्याग करें क्योंकि जो तामसिक भजन होता है

वो उत्तेजना पैदा करता है आपके मां को

शांत नहीं रहने देता और किसी भी धैर्य

शक्ति से आप गहन संबंध अगर स्थापित करना

चाहते हैं तो उसके लिए पहले मां का शांत

होना बहुत जरूरी है कई लोगों का प्रश्न है

की लहसुन प्याज खाएं या नहीं तो लहसुन

प्याज खाना कोई पाप तो नहीं है लेकिन ये

उत्तेजना को बढ़ता है आपको शांत नहीं रहने

देता तो पूजा साधना के लिए एक शांत मां

अगर आपको चाहिए तो लहसुन प्याज का भी अगर

आप परित्याग करते हैं तो बहुत ही उत्तम

रिजल्ट उत्तम परिणाम आपको मिलते हैं इसके

अलावा क्रोध को काबू में रखें उत्तेजना

जितनी शांत होगी उतना मां शांत होगा तो

क्रोध भी काबू में रहेगा अपनी वाणी पर

संयम रखें आप जो कर रहे हैं अपने कार्यों

के प्रति सचेत रहे किसी का दिल आपके

द्वारा ना रुक और दूसरों का भला आपके

हाथों से हो इन अभी आपको ध्यान रखना है तो

निश्चित रूप से मां का अनुभव उनके दर्शन

आपको जरूर स्वप्न में या ध्यान में या

किसी ना किसी रूप में अवश्य होंगे तो आज

की वीडियो में इतना ही दोस्तों अगली

वीडियो में बहुत ज्यादा मिलती हूं सामने

स्क्रीन पर आपको वीडियो दिखे रही है मां

दुर्गा मां काली की पूजा में विशेष

सावधानियां क्या रखती है इसके ऊपर ये

वीडियो है अरा को क्लिक कर ले वीडियो को

जरूर देखें स्वस्थ रहे खुश रहे मस्त रहे

जय माता दी जय बजरंगबली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *