मां दुर्गा थर-थर रूह कांप उठेगी एक एक सच जानकर अभी जान लो वरना तुम्हें.... - Kabrau Mogal Dham

मां दुर्गा थर-थर रूह कांप उठेगी एक एक सच जानकर अभी जान लो वरना तुम्हें….

मेरे बच्चे यह बहुत ही बड़ा और अत्यंत

महत्त्वपूर्ण संदेश है तुम्हारे

लिए इस हिस्से बीच में छोड़कर जाने की भूल

मत करना मेरे बच्चे मेरा आशीर्वाद से

तुम्हारा जीवन खुशियों से हरा भरा

रहेगा मेरे बच्चे मेरा आशीर्वाद पाने के

लिए लाइक अभी कर दे और अपना नाम का पहला

अक्षर कमेंट में लिखें मेरे बच्चे आज जो

संदेश तुम्हारे लिए है वह बहुत ही खास

है यह संदेश तुम्हारे जीवन को बदल कर रख

देगा यह बहुत ही बड़ा और अत्यंत

महत्त्वपूर्ण संदेश है तुम्हारे

लिए इससे बीच में छोड़कर

जाने की भूल मत

करना मेरे प्यारे बच्चे इस संदेश का आप तक

पहुंचना बहुत जरूरी

है अब मत रोको उन भावनाओं को जो तुम्हारे

मन में निराशा का अंधकार कर रहे

हैं मेरे बच्चे तुम निराश क्यों होते

हो क्या तुम्हारा दुख मुझसे छुपा हुआ है

क्या तुम्हारी

पीरा मुझे पता नहीं है है तुम भले ही उस

दर्द को अपने सीने में छुपाने का प्रयत्न

करो पर तुम्हारा चेहरा तुम्हारा हृदय का

दर्पण है जो सब कुछ बया कर देता है मेरे

प्यारे छ में जानती हूं तुम्हारे दर्द को

और उन जग को जो तुम्हे थकित कर रहे हैं और

तुम्हारे उस बहादुरी से भरे व्यक्तित्व को

जिसने जीवन का सबसे कठिन समय देखा है फिर

भी आ भर के किसी के सामने अपने आंसुओं को

छलकने तक नहीं

दिया फिर आज तुम यहां पहुंचकर खुद को

अकेला थका हुआ और ऊर्जा विहीन क्यों महसूस

कर रहे हो

मेरे बच्चे मुझ पर विश्वास करो उन आंसुओं

को बह जाने दो जो तुम्हें कमजोर बना रहे

हैं घबराओ मत जब भी तुम रोगे तुम्हें

थामने वाला मेरा हाथ तुम्हारे आगे

होगा मेरे बच्चे मोम को आकार देने के लिए

पिघला जाता

है सेसे ही कई बार व्यक्ति को सही आकार

देने के लिए उसे जीवन के संघर्ष की आंच पर

तपाया जाता है ताकि वह एक सुंदर आकृति

धारण करके अपना सर्वश्रेष्ट हासिल कर सके

अर्थात अपना रियल वर्जन बन

सके जो माता रानी उसे बनाना चाहती है जो

विशेष कार्य माता रानी उससे करवाना चाहती

है मेरे बच्चे किसी कपड़े से अतिरिक्त

कपड़ा हटाकर उसे कौन से वस्त्र का आकार

देना

है यह तो एक दर्जी ही जनता है और वह दर्जी

भगवान रूपी माता

है जो जानती है उसकी किस बालक से

क्या-क्या अतिरिक्त वस्तुओं को हटा कर उसे

सर्वश्रेष्ठ बनाया जा सकता

है मेरे बच्चे क्या तुम जानते हो शरीर के

अंगों का खंडित होना कितना कठिन और पीरा

दायक होता

है उससे कई गुना अधिक पीरा

जायकवादी होती

जब व्यक्ति इस प्रक्रिया से होकर के

गुजरता

है क्योंकि तब उसका भ्रम टूट जाता है और

वह अपने सत्य को स्वीकार करता है तब उसे

किसी और की आवश्यकता नहीं

होती वह किसी और के साथ खुश

रहे उसका यह भ्रम टूट जाता है

वह जान जाता है वह अपने आप में पुण्य

है वह अपने लक्ष्य को जीवन आधार बनाता

है वह बिना किसी पर दोषारोपण किए बगैर

केवल स्वयं पर कार्य करता

है हर दिन खुद को पराजित करते हुए अपने

लिए नई जीत लिखता

है वह अपना ही सर्वश्रेष्ठ बनकर निकलता है

और एक दिन वह अपने आप से जीत जाता

है यही वह दिन होता है जब वह दुनिया की ओर

आंख उठाकर देखता है और लोग उसकी सराहना

करते हुए उसके जीवन को पढ़ते हैं उसके

विचारों का अनुसरण करते

हैं उसके संघर्ष को प्रेरणा मान लेते हैं

और बड़े होकर उसके समक्ष तालियां बजाते

हैं पर यदि वह उस हृदय के टूटने के दर्द

से ना गुजरा होता तो क्या वह अपनी

वास्तविक शक्ति अपना आत्मविश्वास प्रयोग

करके यहां तक पहुंच सकता था जहां आज वह

खड़ा है कदापि

नहीं जो चल रहा है वह चलता रहे और अच्छा

हो जाए यह तो बड़ा मुश्किल

है यदि तुम बदला देखना चाहते हो तो या तो

स्वयं को बदलो या फिर स्थिति ही बदल

डालो मेरे बच्चे सुनो मैं तुम्हारे आसपास

ही

हूं मेरे बच्चे अब परिस्थिति बदल रही है

चीजें बदल रही हैं अब सब कुछ तुम्हारे

पक्ष में करने की योजनाएं बन रही हैं अब

नए जीव का भी जन्म हुआ है ऐसे जीव जो

तुम्हारी परिस्थितियों को सकारात्मक करने

में इस संसार में अपना योगदान प्रस्तुत

करेंगे मेरे बच्चे अब तुम तक दिव्यता की

रोशनी छाने वाली है यह लहर पहुंचने वाली

है इसे तुम्हें सहज स्वीकार करना है इसे

पूर्ण मनोभाव से अपने भीतर उतारना है और

इसके आवाज में अपनी आवाज खोजनी है मेरे

बच्चे अब बहुत बड़ा बदलाव करने की तैयारी

चल पड़ी है यह बदलाव तुम्हारे जीवन

में बहुत बड़ी भव्यता लेकर आएगा अब ग्रह

उस छिद्र की ओर बढ़ रहे हैं जहां से सारी

नकारात्मकता समाप्त हो जाती है और बच जाती

है मेरे बच्चे अब दिव्यता और भव्यता से

भरी हुई सकारात्मक ऊर्जा और इस सकारात्मक

ऊर्जा का प्रभाव अब तुम्हारे जीवन में

पड़ने वाला है अतीत में भी होगा या भविष्य

में भी होगा या वर्तमान में भी हो रहा है

यह तुम्हारी नजरों से छिपा हुआ है लेकिन

यह घटित हो रहा है तुम्हारे पीठ पीछे यह

घटित हो रहा है मेरे बच्चे तुम्हें अपनी

जीत को आकर्षित करना होगा इसकी पुष्टि

करनी होगी भाग्यशाली संख्या

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *