मां काली सतर्क हो जाओ मेरे बच्चे तुम्हें फंसाने कि और धोखा देने कि योजना है उसकी - Kabrau Mogal Dham

मां काली सतर्क हो जाओ मेरे बच्चे तुम्हें फंसाने कि और धोखा देने कि योजना है उसकी

मेरे बच्चे तुम्हारे प्रेम को किसी की

बुरी नजर लग चुकी है इसलिए मेरे बच्चे

तुम्हारा प्रेम खतरे में है इसलिए तुमको

और तुम्हारे प्यार को बचाने के लिए कुछ

जरूरी बातें बताने आई हूं मेरे बच्चे

क्योंकि तुम मेरे ऊपर ही अपने आप को सौंप

चुके हो इसलिए मैं स्वयं तुम्हारी रक्षा

करूंगी मैं तुम्हारे प्रेम पर आज भी नहीं

आने दूंगी और तुम्हारे संदेश को पूर्ण रूप

से सुनने के पश्चात आदि रक्षा तो तुम

स्वयं ही कर पाओगे और आधी मैं स्वयं

तुम्हारी रक्षा करूंगी क्योंकि मेरे बच्चे

जीवन में प्रेम पाना बहुत ही अच्छा और

सच्चा होता है लेकिन यदि तुम्हारा प्रेम

किसी और के कारण खतरे में है तो निश्चित

ही तुम्हें बने है

तुम्हें क्योंकि को है जिसकी तुम्हें बुरी

नजर लग चुकी है उसी दृष्टि के दोष से भी

बचना है और तुम्हें कुछ ऐसे कार्य करना है

जिससे कि तुम्हारा प्रेम बच पाए मेरे

बच्चे इसे लाइक करके दावा करो जिस प्रकार

तुम्हारी स्वास्थ्य को कभी-कभी किसी की

गंदी नजर लग जाती है तो तुम बीमार पड़

जाते हो या ऐसे इंसान के कारण जो कि तुम

पर गंदी नजर रखता है तुम्हें अपना बनाना

चाहता है वह नहीं चाहता कि तुम्हारा प्रेम

तुम्हारा रहे तुम्हारा प्रेम तुमसे अलग

करना चाहता है इसलिए वह कुछ ना कुछ गलत

बातों को बोलकर तुम दोनों के बीच में

लड़ाई करवा रहा है क्योंकि उसे तुम लोगों

के बीच में आना है और अपना बनाना है लेकिन

ऐसे किसी के बीच में जाने से किसी का

प्रेम ना तो छड़ता है ना किसी दूसरे को

मिलता है इस पर दावा करने के लिए तीन बार

आठ टाइप करो मेरे बच्चे जो सच्चा प्रेमी

है वही तुम्हारे जीवन में रहेगा और मैं

तुम्हें उससे कभी अलग नहीं होने दूंगी भले

ही तुम्हारे प्रति कोई कितनी भी गलत नजर

रखे फिर भी कामयाब नहीं होने दूंगी एक बात

को ध्यान रखो लड़की हो या लड़का स्त्री हो

या पुरुष जीवन साथी हो या तुम्हारा प्रेमी

या प्रेमिका यदि पत्नी को कोई स्त्री गलत

बातें बोलता है या पुरुष कोई गलत बात

बोलता है तो अपने दिमाग में तुम यह समझ

लेना कि निश्चित ही वह तुम्हें तुम्हारे

पति या पत्नी से दूर करना चाहता है उसकी

बातों को दिल से मत लगाना और उसकी बातों

पर यकीन मत करना केवल अपनी आंखों से और

अपने मस्तिष्क से और अपने हृदय से उस बात

को समझने की कोशिश करना जब तुम्हें बात सच

दिखाई दे अपने पति या पत्नी के अंदर तभी

तुम उनकी बातों का यकीन करना क्योंकि कई

बार ऐसा होता है कि कोई सिखाने वाला

व्यक्ति तुम्हें तुम्हारे साथी से दूर

करना चाहता है इसलिए इस बात का खास ख्याल

रखना और यही बात पुरुष के लिए भी है कई

बार पुरुष का कोई दोस्त उसकी पत्नी के

बारे में उल्टी सीधी बातें कहकर उसके

खिलाफ गलत बातें दिमाग में भर देता है

जिससे कि पति अपने पत्नी के हृदय से दूर

हो जाए इससे सहमत हो तो हां टाइप करो और

ऐसे में पति को भी यही चाहिए कि वह अपनी

पत्नी पर पूर्ण विश्वास रखे और उसे देखकर

किसी बात पर यकीन करें इसलिए तुमको

तुम्हारे प्रेम से जो अलग करना चाहता है

कितना भी सोचे कितना भी प्रयास करें लेकिन

तुम जब तक सही हो स्वयं को और अपने प्रेम

को समझते हो और तुम्हें यह ज्ञात है कि

प्रेम करने वाला कभी झूठ नहीं बोलते तो इस

बात को भी तुम बहुत अच्छे से समझ लो कि

यदि तुमने अपने प्रेमी को समझ लिया तो ना

ही तुम किसी के के बहकावे में आओगे और ना

ही तुम अपने प्रेम से दूर हो पाओगे मेरे

बच्चे जब तुम अपने प्रेम को नहीं समझते हो

तभी किसी की बुरी नजर तुम्हारे प्रेम को

दूर करने में बहुत हद तक कामयाब होती है

इसलिए ना तो तुम्हें किसी की बातों में

आना है ना ही ऐसे बिना किसी की बातों को

सुनते हुए किसी की बातों का यकीन करना है

और ना ही ज्यादा सोच विचार करना है

क्योंकि ज्यादा सोच विचार करोगे तो तुम

कभी भी वह प्रेम प्राप्त नहीं कर पाओगे इस

पर विश्वास करो मेरे बच्चे मेरे बच्चे हैं

मेरी अंतिम चेतावनी है मैं तुम्हें आखिरी

बार समझा रही हूं यदि तुमने मेरी बातों को

ध्यानपूर्वक नहीं सुना तो तुम्हें मेरे

अत्यधिक क्रोध का सामना करना पड़ेगा इसलिए

मैं तुम्हें यह संदेश भेज रही हूं मेरे

बच्चे इसलिए जो आज बताने जा रही हूं

ध्यानपूर्वक सुनना और समझना क्योंकि इस

बात को समझना बहुत ज्यादा जरूरी है

तुम्हारे लिए जीवन के रास्ते रुकने के

बहुत हैं परंतु रास्ते खुलने के बहुत कम

वजह इसलिए तुम उन वजहों को कभी अनदेखा मत

करो मेरे बच्चे एक खूबसूरत तोहफा तुम्हारा

इंतजार कर रहा है आज वक्त है अपने पंख

फैलाने का इस खुले आकाश में उड़ जाने का

मेरे बच्चे तुम अब तक जिसे अपना पूरा

संसार समझ रहे थे वह तो बस एक छोटा सा अंश

था अपने पंख खोलो तुम्हारा संसार तो यह

खुला आकाश है जहां तुम बंधन मुक्त विचार

करते हो मेरे बच्चे एक खूबसूरत तोहफा

तुम्हारी ओर आ रहा है यह तोहफा मेरी तरफ

से मेरे बच्चे के लिए है यह तुम्हारे जीवन

में उत्साह और उमंग को वापस

लाएगा इस खूबसूरत तोहफे की पहचान तुम्हें

स्वयं करनी है किसी को यह एक व्यक्ति के

रूप में प्राप्त होगा तो किसी को खूबसूरत

जीवन साथी के रूप में प्राप्त होगा किसी

को नन्हे शिशु के रूप में तो किसी को जीवन

की नई दिशा के रूप में लेकिन यह सभी के

लिए अत्यंत भाग्य शाली होगा मेरे बच्चे

तुम्हारी ऊर्जा का स्तर बढ़ चुका है यदि

तुम अपने आप को एक दृष्टि बनाकर देखो तब

तुम पाओगे तुम्हारे व्यक्तित्व ने अब तक

कितना परिवर्तन हुआ है तुम यदि अपनी तुलना

पहले से करो तब तुम देखोगे तुम्हारा किस

प्रकार रूपांतर हुआ है मेरे बच्चे क्या है

सब एक दिन में संभव था क्या तुमने कभी

कल्पना की थी जिस प्रकार से तुम्हारा

विश्वास होगा क्योंकि यह सब प्राकृतिक

द्वारा पूर्व निर्धारित होता है जिस

प्रकार विद्युत दरा प्रवाह के लिए उसी तरह

चयन किया जाता है जिस तार की क्षमता उस

तार को प्रवाहित कर सके उस क्षमता की धार

में अधिक धारा प्रवाहित कर दी गई तो वह

ध्वस्त हो जाएगी ठीक उसी प्रकार व्यक्ति

के शरीर में ऊर्जा का प्रभाव होता है

जैसे-जैसे तुम्हारी क्षमता में विकास होता

है वैसे-वैसे तुम्हारे शरीर की ऊर्जा

बढ़ती है जो लगातार अपने हृदय में

आध्यात्मिक अग्नि को प्रज्वलित करती है

उनकी क्षमता बढ़ती चली जाती है और अनंत

धारा उनके श शरीर में प्रवाहित होती है

जिसे वह सरलता से सहन कर लेते हैं मेरे

बच्चे तुम्हारे साथ जो कुछ भी हो रहा है

तुम उससे घबराओ मत यह सब तुम्हारी यात्रा

का विशेष अंग है एक पहाड़ पार करते ही

तुम्हारे लिए दूसरा द्वार खुल जाएगा तुम

इतना स्मरण रखो मैं सदा तुम्हारे साथ हूं

तुम्हारा अहित क नहीं होगा जिस प्रकार

भक्त अपनी ईश्वर को परीक्षा देता है उसी

प्रकार सच्चे भक्तों के लिए ईश्वर को भी

परीक्षा देनी होती है जब भी तुम्हें ऐसा

लगे अब कुछ भी नहीं बचा तो तुम मुझे पुकार

लेना व तुम्हें ज्ञात होगा मैं सदा

तुम्हारे साथ खड़ी थी जो तोहफा मैंने

तुम्हें भेजा है उसके लिए खुद को तैयार

करो क्योंकि बहुत जल्द वह तुम्हें मिलने

वाला है चलो थोड़ा मुस्कुराओ तुम्हारी

मुस्कान पूरे वातावरण को आनंदित करती है

मेरे बच्चे यूं उदास होकर ना बैठा करो एक

बड़ी अच्छी कहावत है जब एक द्वार बंद होता

है तब ईश्वर स्वयं तुम्हारे लिए एक नए

द्वार खोल देते हैं कुछ मनुष्य ऐसे होते

हैं जो अनुभव करते हैं हमारे साथ तो ऐसे

नहीं हुआ हमारे लिए तो कोई नया द्वार नहीं

खुला कोई भी नया द्वार हमें नहीं मिला है

उस विषय में चिंता करते हैं और दुखी हो

जाते हैं और सोचते हैं ऐसा क्यों हुआ

किंतु नया द्वार खुलता अवश्य है किंतु जो

पुराना बंद द्वार है उसी के समक्ष दुखी

होकर बैठ जाते हैं कुछ इस प्रकार बैठ जाते

हैं कि नए द्वार पर उनकी दृष्टि पड़ती ही

नहीं है मेरे बच्चे बस यही कहना चाहती हूं

कि तुम्हारे जीवन के नए स्तर पर ले जाने

के लिए मेरी शक्तियां तुम्हारी ओर बढ़ रही

हैं वह अदृश्य शक्ति है जो तुम तक पहुंचने

वाली हैं जो एक पल में तुम्हें ऐसी सूचना

देंगी कि तुम झूम उठोगे मेरे बच्चे यह

तुम्हारी परीक्षा का फल है जो खुशी बनकर

तुम्हारे घर में शीघ्र प्रवेश करेगी जिसके

कारण कार्यक्षेत्र में तुम्हारी पदोन्नति

होगी तुम्हारे आसपास के लोग तुमसे अत्यधिक

प्रभावित होंगे मेरे बच्चे तुम्हारे

माता-पिता तुम पर गर्व करेंगे क्योंकि तुम

उन्हें वह देने वाले हो जो किसी ने किसी

को अब तक नहीं दिया किसी भी व्यक्ति के

जीवन में चमत्कार तब प्रारंभ होते हैं जब

वह उनके होने की सबसे कम आस रखता है

तुम्हारे जीवन का वही निर्माण प्रारंभ

होगा जब चारों तरफ से चमत्कार की वर्षा

होगी ज्ञान का प्रकाश तुम्हारे लिए नए

द्वार खोलेगा जहां तुम संसार एक को

आध्यात्मिक ज्ञान के बीच खड़े होगे और

संसार में रहते हुए भी ईश्वर प्रेमी बनकर

सब कुछ प्राप्त करोगे मेरे बच्च

बहुत जल्द तुम्हें ऐसी सूचना मिलेगी जो

तुम्हारे पूरे घर को खुशियों से भर देगी

मेरे बच्चे देखो यह दुनिया कितनी अच्छी है

एक ही समय में कोई आध्यात्मिक पीड़ा में

होता है तो कोई अत्यधिक प्रसन्न एक ही समय

में किसी के घर में शिशु का जन्म होता है

और उल्लास का माहौल होता है वहीं उसी समय

एक घर में किसी के घर देहांत हुआ होता है

जहां मातम है दोनों घरों में घटने वाली

घटनाएं मैं देख रही हूं पर मुझे ना कोई

प्रसन्नता है ना ही कोई दुख क्योंकि जिसने

जन्म लिया है वह अपनी एक नई यात्रा पर

जाएगा जहां उसे कई अभ्यास जीवन रूप में

सीखने हैं और किसी की मृत्यु हुई है वह कई

अध्याय सीखकर मेरे पास आ रहा है यह चक्र

तो तब तक चलता रहेगा जब तक वह आत्मा जीवन

के सात अध्याय पूर्ण रूप से ग्रहण ना कर

ले इसी प्रकार जब तुम्हारे जीवन में कोई

लाभ होता है अथवा हानि होती है तो तुम्हें

एक समान व्यवहार करना चाहिए किसी भी

स्थिति में अत्यधिक प्रसन्न या अत्यधिक

दुखी नहीं होना चाहिए क्योंकि दोनों ही

तुम्हारे जीवन का महत्त्वपूर्ण अंग

मेरे बच्चे आज तुम दुखी हो सकते हो तो

निश्चित ही कल तुम्हें इतनी ही मात्रा में

खुशी भी मिलेगी यदि आज तुम अत्यधिक

प्रसन्न हो तो हो सकता है कल तुम्हें दुखी

भी होना पड़े इसलिए आज मैं तुम्हें एक

गुप्त मंत्र दे रही हूं जीवन में

परिस्थिति चाहे जो भी हो सदैव ईश्वर का

स्मरण हृदय से करते रहना ऐसा करने से जीवन

में सुख और दुख एक समान लगने लगते हैं जब

तुम्हें कोई बड़ी उपलब्धि हासिल हो तो उसे

ईश्वर की सेवा समझकर ईश्वर के चरणों में

समर्पित कर दो ऐसा करने से तुम्हारे भीतर

अहंकार का बास नहीं होगा प्रत्येक दिन जो

भी अच्छे कर्म करो उसे ईश्वर की सेवा

समझकर इसी प्रकार जब तुमसे कोई गलती हो तो

उसे भी ईश्वर के चरणों में समर्पित कर

स्वीकार करो आज जो मैंने तुम्हें बताया है

इसे जानने में व्यक्ति को बर्सों बीत जाते

हैं यदि आज इस गुप्त ज्ञान को तुम अपनी

पोटली में बांध लोगे तो अनंत काल तक

तुम्हारी यात्रा सुखद होगी मेरे बच्चे एक

बात मैं तुम्हें आज बताती हूं सदा लक्ष्य

सामने नहीं होता कभी-कभी उसे ढूंढना पड़ता

है यह याद रखो यह यात्रा बड़ी कठिन होती

है और इसी कारण से सदैव तेज चलना शीघ्र

गति से चलना ही पर्याप्त और आवश्यक नहीं

है इससे भी अधिक महत्त्वपूर्ण है सोच

समझकर चलना सोच समझकर जब चलोगे तब यह कदम

सबसे अधिक श्रेष्ठ होंगे कब किस मोड़ पर

मुड़ना है कब किस मोड़ पर नहीं मुड़ना है

कब गति अधिक होनी चाहिए कब नहीं रुकना है

इस सबका ज्ञान प्राप्त करना आवश्यक है

मेरे अगले संदेश की प्रतीक्षा करना मैं

फिर आऊंगी तुमसे मिलने

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *