मां काली मैं आज बहुत दुख में हूं क्या तुम मेरी मदद कर सकते हो तुम्हारा अंतिम परीक्षा है - Kabrau Mogal Dham

मां काली मैं आज बहुत दुख में हूं क्या तुम मेरी मदद कर सकते हो तुम्हारा अंतिम परीक्षा है

मेरे प्यारे बच्चे इसमें कोई संदेह नहीं

है कि तुम अत्यंत बुद्धिमान और चतुर हो

परंतु अपनी चतुराई अपनी बुद्धिमत्ता

तुम्हें कहां प्रकट करना है इसका तुम्हें

तनिक भी ज्ञान नहीं है मेरे बच्चे तुमसे

बहुत बी भूल हो रही है बाहरी लोग जो

तुम्हें बर्बाद करने पर तुले हैं तुम उनसे

बहुत ही विनम्र भाव से मिल रहे हो और अपने

परिवार पर अनावश्यक क्रोध कर रहे हो

विशेषकर अपने माता-पिता से मेरे बच्चे

तुम्हारे माता-पिता तुम्हारे लिए ईश्वर

तुल्य है वह तुम्हारे लिए जो भी करते हैं

उसमें तुम्हारा ही हिट छुपा होता है हो

सकता है जो चीज तुम्हें प्रिय हो वह

उन्हें अप्रिय लगे ऐसा भी हो सकता है कि

जो तुम सोचते हो जो तुम पाना चाहते हो वही

सही हो परंतु इसके लिए अपने माता-पिता या

अन्य परिवार पर क्रोध करना मर्यादा का

उल्लंघन है मेरे बच्चे इस पर विश्वास है

तो हां लिखकर इस संदेश को अभी लाइक कर

दीजिए मेरे बच्चे ना जानती हूं कभी-कभी

तुम्हारे माता-पिता तुम्हारे प्रति अत्यंत

कठोर व्यवहार करते हैं तुम्हारे हर कार्य

का परीक्षण करते हैं और उसमें कोई ना कोई

त्रुटि अवश्य निकालते हैं परंतु वह अपने

अनुभव के आधार पर तुम्हें गलती करने से

रोकते हैं मेरे बच्चे माता-पिता की कठोरता

भी सम्माननीय है क्योंकि माता-पिता गुरु

की भांती तुम्हारे जीवन को सार्थक बनाने

के लिए तुम्हें धर्म कर्म ज्ञान और ध्यान

का पाठ पढ़ाते हैं तुम सौभाग्यशाली हो कि

तुम्हारे पास माता-पिता है मेरे बच्चे

तुम्हारे लिए यह स्वीकार करना मुश्किल है

कि तुम में अपने ज्ञान का अहंकार पनप रहा

है किंतु यदि स्वीकार कर लो तो जीवन सरल

हो जाएगा क्योंकि मेरे बच्चे अहंकार का

आवरण व्यक्ति में सत्य को समझने बूझने की

क्षमता को क्षीण कर देता है और विनाश की

ओर धकेल देता है मेरे बच्चे भविष्य में

तुम्हें किसी बद्धि विपत्ति का सामना ना

करना पडे इसलिए मैं तुम्हें सचेत कर रही

हूं मेरे बच्चे अपनी माता रानी को मानते

हो तो आई लव यू माता रानी लिखकर इस चैनल

को सब्सक्राइब कर दीजिए मेरे बच्चे कहां

सहना है कहां कहना है इस बात का विशेष

ध्यान दो मेरे बच्चे तुम्हारे जीवन में कई

लोग ऐसे

जो तुम्हें आगे बढ़ने से रोक र हैं जब भी

तुम कुछ नया करने की सोच रहे हो तो वह

तुम्हारे मार्ग में अवरोध उत्पन्न कर रहे

हैं तुम उनसे भली भांति परिचित हो परंतु

फिर भी तुम अनदेखा कर रहे हो जबकि उनकी हर

क्रिया का उत्तर देने में तुम समर्थ हो

मेरे बच्चे बाहरी लोगों से तुम्हारा यह

व्यवहार सर्वथा उचित है किसी से शत्रुता

पालना कहीं से भी तुम्हारे लिए हितकारी

नहीं है पर परंतु यही व्यवहार तुम्हें

अपने माता-पिता या परिवार के सदस्यों के

साथ भी करना है मेरे बच्चे जब तुम्हारे

किसी कार्य में तुम्हें असफलता मिलती है

तो तुम मानसिक तनाव लेते हो तनाव से क्रोध

उत्पन्न होता है और क्रोध से बुद्धि का

विनाश होता है तुम अपनी असफलता का दोषी

अपनों को ही समझते हो परंतु दोष तुम्हारे

भीतर है तुम्हारे मन में स्थिरता नहीं है

तुम्हारे कार्यों में निरंतरता नहीं है

तुम अपने कार्य को समय पर नहीं करते बस

योजनाएं बनाते हो तुम्हारा मन अनेक चीजों

पर भागता है मेरे बच्चे मन को एकाग्र कर

दृढ़ निश्चय के साथ जब कोई अपने कार्य में

संलग्न हो जाता है तो सफलता अवश्य प्राप्त

होती है मेरे बच्चे अपने संदेश के माध्यम

से मैं तुम्हें यह कहना चाहती हूं कि

मर्यादा का पालन करना अनिवार्य है दूसरों

के अलावा अपने दुर्गुणों को देख खो और

उसमें सुधार करो माता-पिता का स्थान सबसे

ऊंचा है उनका सम्मान करो सब मंगलमय होगा

मेरे बच्चे आठ आठ आठ लिखकर इस संदेश को

शेयर कर दीजिए मेरे बच्चे मैं जानती हूं

कि तुम्हारे जीवन में किस चीज की कमी है

तुम किस चीज के लिए मेहनत कर रहे हो और

किस चीज पर ध्यान नहीं दे रहे हो मेरे

बच्चे तुम अपनी जरूरतों के लिए कार्य कर

रहे हो अपनी इच्छाओं को पूर्ण करने का

प्रयास कर रहे हो हो किंतु तुम कुछ कार्य

ऐसे भी कर रहे हो जिस पर तुम्हें ध्यान

देने की आवश्यकता नहीं है मेरे बच्चे मुझे

छात है तुम्हारा भरोसा संसार से उठ गया है

क्योंकि तुम्हें अपनों से परायो से और हर

उस इंसान से दुख मिला है जिसे तुमने बहुत

प्यार दिया है किंतु मेरे बच्चे इसमें

किसी का कोई दोष नहीं हर कोई मेरे आदेश का

पालन कर रहा है मेरे बच्चे कोई भी मेरी

दृष्टि से छुपा नहीं है मैं सबकी

प्रतिक्रियाओं को देख रही

मेरे बच्चे तुम्हें अपनी माता रानी पर

विश्वास है तो हां लिखकर इस संदेश को अभि

लायक कर दीजिए मेरे बच्चे में जानती हूं

जब कोई अपना छल करता है तो पूरा संसार ही

अर्थहीन लगने लगता है किंतु जब तुम्हारे

साथ कोई छल करता है तो वहां तुम्हें एक

महत्त्वपूर्ण सीख देकर जाता है जब तुम

अपना उद्देश्य भूल जाते हो अपने मार्ग से

भटक जाते हो तो कोई ना कोई तुम्हें सही

दिशा देने के लिए तुम्हा जीवन में आता है

कोई प्रेम के माध्यम से कोई छल के माध्यम

से तुम्हें उचित मार्ग दिखाता है मेरे

बच्चे जब तुम वह बनने का प्रयास करते हो

जो होना तुम्हारी नियत ही नहीं है तो

तुम्हें केवल दुख और असफलता ही मिलती है

मेरे बच्चे तुम संसार के लोग में इस

प्रकार फंस गए हो जहां केवल दुख है बंधन

है अशांति है मेरे बच्चे जिस प्रकार नाव

जल में रहती है किंतु जल नौका में नहीं रह

सकता अन्यथा डूब जाएगा उसी प्रकार तुम्हें

संसार में रहकर अपने कर्तव्यों का निर्वहन

करना है किंतु संसार का मोह अपने भीतर

नहीं रखना है अन्यथा अपने कर्म पद से भटक

जाओगे मेरे बच्चे इस पर विश्वास है तो

अंक लिखकर इस चैनल को सब्सक्राइब कर दीजिए

मेरे बच्चे तुम्हारे भीतर एक बुरी आदत है

तुम्हे जो चीज अच्छी लगती है तुम उसके

पीछे भागना शुरू कर देते हो फिर चाहे वह

कोई व्यक्ति हो रिश्ता हो या धन अर्जित

करने का स्रोत हो मेरे बच्चे तुम अपने लिए

ऐसे कार्यों का चुनाव कर रहे हो जिसमें

तुम्हें आसानी हो जबक तुम्हारे मन में एक

ऐसे कार्य की योजना भी है जिसे तुम करने

की सोच रहे हो किंतु वह आसान नहीं है

इसलिए तुम पीछे हट रहे हो मेरे बच्चे जब

तक तुम अपने सुख सुविधा से बाहर नहीं

निकलोगे तब तक तुम्हें कोई सफलता नहीं

मिलेगी यही कारण है कि कठिन परिश्रम के

बाद भी तुम्हें हर कार्य में असफलता मिल

रही है मेरे बच्चे मैं जानती हूं जब तुम

किसी कार्य पर अपना समय अपनी ऊर्जा खर्च

करते हो और वह कार्य बनते बनते भी गडहा

जाए तो अत्यंत निराशा होती है किंतु यह इस

बात का संकेत है कि यह कार्य तुम्हारे लिए

नहीं है तुम गलत कार्य गलत ग दिशा में

परिश्रम कर रहे हो मेरे बच्चे हो सकता है

तुम्हें जो कार्य अभी सही लग रहा है वह

भविष्य में तुम्हारे लिए हानि का कारण बने

इसलिए जब भी किसी कार्य में असफलता मिले

तो निराश ना हो नए सिरे से नए कार्य का

आरंभ करो मेरे बच्चे अपने लिए ऐसे कार्य

का चुनाव करो जो तुम्हें भीतर से झकझोर कर

रखते मेरे बच्चे अपने मन की सुनो तुम्हारे

मन की आवाज परमात्मा की आवाज है

तुम्हारा मन ही तुम्हें सही राह दिखाएगा

और इसी से तुम्हें अपार सफलता मिलेगी

तुम्हारी सभी जरूरतें पूरी होंगी प्रेम धन

सम्मान प्रसिद्धि सब कुछ सहज ही प्राप्त

होगा मेरे बच्चे सच्चे मन से लिखो जय हो

माता

रानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *