मां काली मां बहुत क्रोधित है उस औरत' पर जो एक समय में आपका बुरा चाहती थी - Kabrau Mogal Dham

मां काली मां बहुत क्रोधित है उस औरत’ पर जो एक समय में आपका बुरा चाहती थी

मेरे प्रिय बच्चों कैसे हो तुम आज मैं

तुम्हारा पिता अपने बच्चों से बात करने

आया हूं मेरे बच्चों तुम अपने पिता से

क्यों रूठे हो क्यों मुझसे नाराज हो आज

मैं इसी सवाल का जवाब तुमसे जानना चाहता

हूं इसलिए मैं तुमसे बात करने आया हूं

क्या हुआ तुम्हें मेरे बच्चे तुम अकेले

में इतना क्या सोच रहे हो मुझे याद करके

तुम्हें क्या लगता है तुम मुझे नहीं

बताओगे तो मुझे कुछ पता नहीं चलेगा मेरे

बच्चे मैं फिर भी तुम्हारे मन को पढ़ लेता

हूं मैं तुम्हारी हर तकलीफ और दर्द को

समझता हूं परंतु मेरे बच्चे मेरी बात

हमेशा याद रखना इस संसार में जो कुछ भी

होता है वह सब अच्छे के लिए होता है हर

चीज के पीछे एक बड़ा रहस्य होता है जिसके

बारे में तुम्हें कुछ पता नहीं होता उसे

सिर्फ मैं जान सकता हूं तुम्हारे जीवन में

जो भी घटना घटती है उसे मैं भली प्रकार

परिचित हूं जो कि एक उद्देश्य के लिए रखा

गया है इस संसार में कोई भी घटना यूं ही

नहीं होती उसके पीछे कोई ना कोई राज छुपा

होता है जो केवल तुम्हारे पिता महादेव को

ही मालूम होता है जो भी समस्या तुम्हारी

जिंदगी में घट रही है वह समस्या तो कुछ भी

नहीं है एक समय ऐसा जो भी परेशानी एवं

घटना तुम्हारे साथ हो रही है वह तुम्हें

अत्यंत छोटी एवं तुच्छ प्रतीत होने लगेगी

मुझे पता है तुम हर रोज मुझे याद करते

रहते हो केवल यह सोचकर कि आज तुम्हें

तुम्हारे सभी प्रश्नों का उत्तर मिल जाएगा

हमेशा अपने मन में कुछ ना कुछ बातें करते

रहते हो मुझे याद करके परंतु मेरे बच्चे

मुझसे कुछ छुपा नहीं है मैं सब जानता हूं

मैं तुम्हारी सारी गतिविधियों को देखता

रहता हूं तुम्हारे मन में उठ रहे सभी

सवालों को मैं भली प्रकार से जानता हूं

तुम्हें इस चीज का आभास नहीं है मेरे

बच्चे परंतु मैं हर पल अपने भक्तों के साथ

रहता हूं मैं जानता हूं कि तुम्हारे साथ

रहना अति आवश्यक है तुम्हारा जन्म एक बड़े

उद्देश्य के लिए इस पृथ्वी पर हुआ है

जिसके कारण तुम्हें बहुत सी चीजों का

सामना कर ना पड़ रहा है इस संसार में हर

प्राणी को दुख सुख आते रहते हैं यही कारण

है कि तुम्हारे रास्ते में अनेक प्रकार के

दुख आ रहे हैं परंतु मेरे बच्चे तुम्हें

इन दुखों से घबराना नहीं है तुम्हारा मुझ

पर अटूट विश्वास होना अति आवश्यक है तुम

कभी भी अपनी हिम्मत मत टूटने देना मैं

हमेशा तुम्हारे साथ रहूंगा और तुम्हारी हर

तकलीफ को दूर करूंगा फिर चाहे वह कितनी भी

बड़ी क्यों ना हो उसको मैं तुम्हारे जीवन

से हमेशा के लिए बाहर कर दूंगा तुम मेरे

लिए अत्यंत प्रिय हो मेरे बच्चे तुम्हें

कभी भी दुख में नहीं रहना चाहिए ना ही कभी

स्वयं को कमजोर समझना चाहिए स्वयं को

कमजोर वह लोग समझते हैं जो कायर होते हैं

निडर लोग स्वयं को हमेशा ताकतवर और

बुद्धिमान समझते हैं यही उनकी ताकत की

असली पहचान होती है और कायर लोग हमेशा

बहाने ढूंढते रहते हैं मैंने तुम्हें असीम

शक्तियां प्रदान की हैं लेकिन शायद

तुम्हें उसका अंदाजा नहीं है मेरे द्वारा

प्रदान की गई शक्तियों का तुम भली प्रकार

से उपयोग करना नहीं जानते अगर तुम यह जान

गए तो तुम्हारे जीवन से आधी से ज्यादा

समस्याएं स्वयं ही दूर हो जाएंगी तुम्हारी

जिंदगी में कई कष्ट आएंगे परंतु मेरे

बच्चे तुम्हें उन कष्टों से स्वयं ही बाहर

निकलना है इसका यह मतलब नहीं है कि मैं

तुम्हारे साथ नहीं हूं मैं सदैव तुम्हारे

साथ हूं परंतु तुम्हें अपने दुखों से खुद

ही लड़ना होगा फिर तुम्हें किस बात की

चिंता है मैं तुम्हें इस बार भी कष्टों से

बचा लूंगा मेरे होते हुए कोई भी कष्ट तुम

तक नहीं पहुंच पाएगा परंतु तुम्हें उन

कष्टों से स्वयं ही लड़ना है मेरे

आशीर्वाद से तुम तुम सारे कष्टों से बाहर

निकल जाओगे और भविष्य में भी तुम्हें सभी

परेशानियों से छुटकारा मिल जाएगा तुम केवल

ध्यान के माध्यम से मुझसे जुड़ने की कोशिश

करो क्योंकि ध्यान ही एक ऐसी कुंजी है

जिससे तुम मुझसे भली प्रकार से जुड़ सकते

हो मैं तुम्हारे लिए सभी रास्ते को खोल

दूंगा और तुम्हारे प्रश्नों के उत्तर देकर

तुम्हारे मन की नकारात्मक सोच को

सकारात्मक सोच में बदल दूंगा मेरा

आशीर्वाद हमेशा तुम्हारे साथ रहेगा ओम नमः

शिवाय तो मेरे प्रिय बच्चों पांच बार दिल

से बोलो ओम नमः

शिवाय ओम नमः

शिवाय ओम नमः

शिवाय ओम नमः

शिवाय ओम नमः वाय मेरे बच्चे तुम्हारी

सच्ची भक्ति से मैं बहुत खुश हूं तुम जो

हर समय अपने मन की सभी बातें मुझे बताते

रहते

हो वह सभी बातें मैं ध्यान से सुनता

हूं तुम्हारे मन में जो

दुविधा चलती रहती है उन दुविधा हों का

हल मैं संकेतों के माध्यम से देता हूं

मेरे बच्चे तुम मेरे द्वारा भेजे गए

संकेतों को समझते

हो मेरे बच्चे मेरी पूजा तो मन से की जाती

है कभी मेरी पूजा ना कर पाओ तो दुखी मत

होना मन की पूजा से बड़ी

पूजा कोई नहीं

होती जब तुम्हारे मन और मुख में मेरा ही

नाम हो तो वह ही मेरी असली पूजा और असली

है मैं तो तुम्हारे हृदय में वास करता हूं

मेरे बच्चे तुम मुझे भारी चीजों में क्यों

ढूंढते हो मुझे अनुभव

करो मेरे बच्चे तुम स्वयं अपने भीतर मुझे

जरूर देख

पाओगे जो तुम्हारे गहरे प्रेम और विश्वास

से एक दिन एहसास हो जाएगा तुम्हें मेरे

बच्चे तुम तो जानते

हो प्रेम और भक्ति एक ही सिक्के के दो

पहलू होते हैं जहां प्रेम नहीं

होता वहां भक्ति भी अधूरी होती है परंतु

तुमने दोनों ही पहलू

को समानता से निभाया

है इस कारण मैं भी तुम्हारी भक्ति से अति

प्रसन्न हूं मेरे बच्चे मेरे प्रति

तुम्हारा प्रेम

तुम्हारी अनुभूति सदैव बढ़ती जाए यह मेरा

आशीर्वाद है तुम्हें मेरे प्रति तुम्हारा

यह

प्रेम एक दिन तुम्हें मेरे पास

लाएगा तब तक तुम मेरी भक्ति करते रहो और

सदा खुश रहना मेरे

बच्चे तुम्हारा दिन मंगलमय

हो मेरे बच्चे कैसे हो तुम मेरे बच्चे

आज तक जिसने भी तुम्हें रुलाने की कोशिश

की या फिर तुम्हें रुलाया है अब उन सबका

हिसाब होगा मैं तुम्हारा परमपिता तुम्हें

न्याय दिलाने आया हूं मैं उन सभी लोगों को

जिसने भी तुम्हें कष्ट दिया तुम्हें

परेशान किया उन सबको उनकी करने का अब

अंजाम भुगतना होगा मेरे बच्चे मुझे पता है

कि तुम बहुत प्यारे और दयालु हृदय के हो

इसलिए तुम लोगों को उनकी गलत बातों का

जवाब नहीं देते लेकिन मैं तुम्हारा

परमपिता मैं कई दिनों से देख रहा हूं कि

लोग तुम्हें तुम्हारे बिना गलती के ही

तुम्हें सजा देते रहे हैं और तुम्हें हर

समय गलत सिद्ध करते रहे हैं जो कि सरासर

गलत है मेरे बच्चे मुझे पता है कि तुम कभी

असत्य का साथ नहीं देते लेकिन मेरे बच्चे

जब तुम्हें लगता है कि कोई कार्य में

तुम्हारी कोई गलती नहीं है तो तुम अपनी

रक्षा के लिए क्यों नहीं बोलते हो मेरे

बच्चे तुम्हें पता होगा कि जो व्यक्ति गलत

का विरोध नहीं करता वह व्यक्ति उतना ही

बड़ा दोषी होता है जितना कि गलत कार्य

करने वाला इसलिए मेरे बच्चे जब भी तुम्हें

लगे कि तुम गलत नहीं हो तब तुम अपनी रक्षा

स्वयं करो क्योंकि इस संसार में तुम्हारे

अलावा तुम्हारी रक्षा कोई और नहीं करेगा

तुम्हें स्वयं तुम्हारी रक्षा करनी होगी

और जो व्यक्ति तुम्हें कष्ट दे रहा है

उसका फैसला मैं स्वयं करूंगा मेरे बच्चे

मुझे पता है कि तुम हर किसी से झगड़ नहीं

सकते इसलिए मेरे बच्चे जिनका फैसला तुम

नहीं कर पाते उनका फैसला मैं स्वयं करूंगा

तुम्हें परेशान और चिंतित होने की बिल्कुल

भी आवश्यकता नहीं तुम्हारा कल्याण हो मेरे

बच्चे सदा प्रसन्न रहो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *