मां काली ना प्यार दिखा सकते हैं ना गुस्सा आपके शत्रुओं कि जीवन में तहस नहस कर दी है - Kabrau Mogal Dham

मां काली ना प्यार दिखा सकते हैं ना गुस्सा आपके शत्रुओं कि जीवन में तहस नहस कर दी है

तुम्हारे हृदय में उठ रही प्रेम तरंगे

मुझे स्पर्श कर रही हैं बस एक कदम दूर हो

तुम उस दिव्य पदे के मेरे बच्चे कैसे हो

तुम मैं देख रही हूं तुम स्वयं का अपमान

कर रहे

हो मेरे बच्चे तुम सभी काम कुशलता से करते

हुए बस अपना ही ध्यान रखना भूल जाते हो और

यह बात सत प्रतिशत सत्य है सबकी बात सुनते

हो बस अपनी ही सुनना भूल जाते हो मेरे

प्रिय

बच्चे तुम्हारा यह स्वरूप किसी तीर्थ से

कम नहीं है मैं इसी तीर्थ हृदय में निवास

करता

हूं अर्थात तुम्हारे इसी हृदय में निवास

करता

हूं जब तुम स्वयं को पीड़ा देते हो तो

मुझे भी तो कष्ट होता है मे बच्चे जब

तुम्हारी आंखें पवित्र अश्र धारा प्रवाहित

कर रही

थी मैं तुम्हारे समीप खड़ी थी मैं

तुम्हारे समीप खड़े होकर तुम्हें पुकार

रही

थी मैं तुम्हें अपना प्रेम देने को अत्यंत

व्याकुल हूं तुम्हें हृदय से लगाकर

तुम्हारी पीड़ा का नाश करना चाहती हूं

किंतु तुम विश्वास ही नहीं करते मैं

तुम्हारे पास

हूं रात्रि स्वप्न में तुमने जिसे देखा वह

मैं ही तो थी मेरे बच्चे तुम सही मार्ग पर

चल रहे हो सही दिशा में बढ़ते हुए मेरे

संदेशों का पालन कर रहे हो अपनी हिम्मत को

मजबूत करके तुम आगे बढ़ो फिर भी ऐसा लगता

है तुम संतुष्ट नहीं हो एक प्रश्न है कि

तुम्हारे हृदय में निरंतर चलता ही रहता है

मैं ईश्वर का स्मरण करती हूं

मैंने आध्यात्मिक मार्ग स्वीकार कर लिया

मैं सदा पुण्य कर्म करती हूं ईश्वर के

संदेशों से उत्साहित रहती हूं फिर भी मेरे

जीवन में संसाधन की कमी क्यों है मुझे वह

वस्तुएं क्यों नहीं मिल रही जो मैं कहती

हूं जो दुराचारी हैं और जो छल कपट करते

हैं उन्हें सुख मिल रहा है किंतु मैं

ईश्वर से प्रार्थना करता हूं आध्यात्मिक

मार्ग का चुनाव करके उस पर चल रहा हूं फिर

भी बार-बार मेरे जीवन में दुख क्यों आ

जाता है कुछ पल की प्रसन्नता और फिर एक

बड़ा दुख आखिर मेरे जीवन में इतना कष्ट

क्यों लिखा है मेरी क्या गलती है मैंने

सदैव से कर्म किए कुछ गलती भी हुई तो उसके

लिए क्षमा

मांगी मेरे

बच्चे तुम भी प्रश्न संकुचित मन से

बार-बार अपने मन में करते ही रहते हो तो

आज इसका उत्तर जान लो इसी कली काल में जो

पाप करते हैं उन्हें सरलता से भौतिक

वस्तुएं अपने आप मिलने लगती हैं ऐसा लगता

है वह कितने सुखी

हैं बहुत ही कम समय में वह धनवान बन जाते

हैं लोग उनसे प्रभावित होकर पाप करने की

होड़ में लग जाते हैं किंतु जैसे ही समय

परिवर्तन होता है वह एक बार में आकाश से

धरातल पर इस प्रकार गिरते हैं कि कोई

संभाल नहीं पाता वही लोग जो उनसे प्रेरित

थे कहते हैं हम जानते थे एक दिन इसे फल

अवश्य मिलेगा मेरे प्रिय तुमने तो

ब्रह्मांड की सबसे बहुमूल्य वस्तु मांगी

थी तुमने इसमें से प्रेम मांगा था वह

मिलने से पहले व्यक्ति के मार्ग में कई

संकट आते

हैं झूठे संबंध पीछे छूट जाते हैं तब लोग

अलौकिक प्रकाश प्रकाशित होता है मेरे

प्रिय तुम्हारे जीवन में जो दुख आता है वह

पूर्व कर्मों को समाप्त करते हैं जब तुम

प्रार्थना करते हो तो तुम अपनी आत्मा को

शुद्ध करते हो ऐसे में जो इन सबके

विपत्तियों से डरता

नहीं उसे सब कुछ अपने आप ही मिल जाता है

विपत्तियां तुम्हें मजबूत बनाती हैं और

प्रमाणित करती हैं कि तुम योग्य हो ईश्वर

प्रेम पाने के ऐसे लोग समय परिवर्तन के

समय उस शिखर पर होते हैं जहां उन्होंने

स्वयं नहीं सोचा था उनके अंत काल तक ईश्वर

उनके मित्र बने रहते हैं प्रेम का नियम

बड़ा ही सरल है प्रेम के बदले

प्रेम ईश्वर से प्रेम पाने के लिए पहले

उनसे सच्चा प्रेम करके तो देखो जैसे एक

प्रेमी अपने प्रेम को पाने के लिए सारे

बंधन

नियम यहां तक अपना सम्मान भी भूल जाता

है वैसे ही क्या तुमने कभी ईश्वर से प्रेम

किया क्या कभी उन्हें अपने बाहे फैलाकर

पुकारा कभी उनके लिए कमरे में बैठकर रोए

हो कभी उनके लिए श्रृंगार किया कभी उनकी

प्रसन्नता के लिए नृत्य किया किंतु वह

तुमसे मिलने के लिए प्रतिदिन आंसू बहाते

हैं परंतु व्यक्ति कभी उनके दुख को समझने

का प्रयास नहीं करता हमेशा मांगने के सिवा

कभी देना नहीं चाहता वह तुम्हारा सच्चा

प्रेम चाहते हैं और उन्हें क्या चाहिए वह

तो स्वयं निर्माता है मेरे बच्चे इसे सहलो

जो हो रहा है फिर वह मिलेगा जो तुमने सोचा

भी ना था मेरे बच्चे कैसे हो

मैं जानती हूं कि तुम मुझसे बहुत प्रेम

करते हो इसलिए मैं तुम्हारे प्रेम बाध्य

होकर तुम्हें एक विशेष ज्ञान से अवगत

कराना चाहती हूं तुम्हारे जीवन में जो

घटित हो रहा है उसका कारण केवल और केवल यह

है कि तुमने उसकी कदर नहीं की लेकिन मेरे

बच्चे घबराने की आवश्यकता नहीं है अभी

तुम्हारे पास समय शेष है इसलिए आज मैं

तुम्हें बता रही हूं उसको ध्यानपूर्वक

सुनो मेरे बच्चे तुम्हें निश्चित ही यह

करना होगा क्योंकि जिस प्रकार दुर्घटना

भले कितनी भी बड़ी हो परंतु यदि समय रहते

उसका उपचार नहीं किया गया तो वह दुर्घटना

व्यक्ति की जान भी ले सकती है इसलिए तुम

समय रहते इन बातों पर ध्यान दो और एक बात

का ध्यान रखना कि पृथ्वी पर कुछ चीजें ऐसी

हैं जिनकी कदर यदि तुम ना करो तो निश्चित

ही संसार भी तुम्हारी कदर करना छोड़ देता

है जो मेरे साक्षात स्वरूप है उनकी कदर

करना तुम्हारे लिए अत्यंत आवश्यक है जैसे

कि यदि तुम उस समय की कद्र नहीं कर पाते

हो जो तुम्हारे जीवन में तुम्हारा एक खास

मौका तुम्हें प्राप्त होता है यदि तुम उस

मौके की तलाश में यहां वहां भटकते रहते हो

और तुम्हारे हाथों से आया हुआ मौका भी तुम

गवा देते हो व्यर्थ की चिंता में तुम

कीमती समय निकाल देते हो इसके साथ ही

तुम्हें एक बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए

कि तुमने मुझे कभी प्रत्यक्ष देखा नहीं इस

संसार में मैंने तुम्हें भले ही भेजा है

लेकिन किसी के माध्यम से भेजा है है जिसके

माध्यम से मैंने तुम्हें इस पृथ्वी पर

भेजा है तुम उनका निरादर करोगे या इज्जत

नहीं करोगे तो तुम जीवन में उन्नति तरक्की

तो बहुत दूर की बात है जीवन को सुख में

नहीं कर पाओगे खुशियां तुमसे दूर

भागेंद्र तुम्हारे लिए अगर किसी का प्रथम

स्थान है तो वह तुम्हारे माता-पिता का है

और दूसरा स्थान तुम्हारे गुरु का है इनको

कभी भी निरादर करते हो तो जीवन में तुम

पाप करते हो मेरे बच्चे तुम इस भ्रम से

बाहर निकलो तुम आंखें बंद करके किसी भी

मार्ग को कैसे चुन सकते हो किसी भी मार्ग

पर चलने से पहले तुम्हें उस मार्ग का आकलन

करना होगा कि वह मार्ग तुम्हारे लिए सही

है या नहीं यदि तुम किसी गलत मार्ग को

चुनते हो तो उस पर प्राप्त होने वाली

मंजिल से वंचित रह जाते हो इस बात का खास

ख्याल रखना कि तुम्हारे चुने हुए मार्ग का

सही होना अत्यंत आवश्यक है मेरे बच्चे इस

बात का विशेष ध्यान रखो कि वह मार्ग

तुम्हारे लिए सही है या नहीं यदि तुम किसी

गलत मार्ग को चुनते हो तो उस पर प्राप्त

होने वाली मंजिल से वंचित रह जाते हो इस

बात का खास ख्याल रखना कि तुम्हारे चुने

हुए मार्ग का सही होना अत्यंत आवश्यक है

मेरे बच्चे इस बात का विशेष ध्यान रखो कि

यदि जीवन में तुम अपने मन का और हृदय का

शुद्धीकरण करने के लिए सुबह प्रातः काल

एकांत में बैठकर तुम अपनी अंतरात्मा में

झाग कर देखो कि तुम्हारा मन क्या सोचता है

क्या चाहता है और यदि तुम्हारे मन में कुछ

ऐसे विचार आते हैं जो तुम्हारे जीवन में

आगे के मार्ग के लिए सही नहीं है तो उन

विचारों को रोकने का हर संभव प्रयास करो

मैं स्वयं हाथ पकड़कर एक ऐसे मुकाम पर

तुम्हें लेकर जाऊंगी जहां तुम्हें पहले से

अधिक निश्चित ही सफलता प्राप्त होगी और

जीवन मैं तुम्हारा किसी भी व्यक्ति के गलत

करने पर भी तुम्हारा कोई कुछ बिगाड़ नहीं

सकता क्योंकि जो मेरे बताए हुए रास्ते पर

चलता है उनके साथ मेरी शक्तियां चलती हैं

और जिनको मेरे साथ-साथ शक्ति प्राप्त होती

है क्योंकि वह शक्ति तुम्हारा एक सुरक्षा

कवच बनकर तुम्हारी रक्षा करती है वह शक्ति

तुम्हें गलत मार्ग पर भी जाने से रोक लेती

है क्योंकि तुम्हारे दिल में अब सकारात्मक

ऊर्जा उत्पन्न होती है तो तुम्हारे हाथों

से गलत नहीं होगी मेरे बच्चे मैं तुम्हें

एक बात बताना चाहती हूं कि तुम वक्त की वे

कदर मत करो मेरे बच्चे आज मेरी बातों को

शीघ्र ही अपना कर अपने जीवन में होने वाली

मुसीबत से स्वयं को बचाओ तुम मुझे जब याद

करते हो मैं आ जाती हूं तुम्हें

मार्गदर्शन कराने मेरे बच्चे इस संसार के

हर चीज से प्रेम करना सीख लो ब्रह्मांड की

हर चीज से प्रेम करो मैं ब्रह्मांड के हर

पत्ते पत्ते में स्थित हूं इसके अलावा

अपने माता-पिता से प्रेम करो प्रेम को

पाने का सबसे सरल मार्ग है मां की ममता को

पाना चाहे वह फिर मेरा प्रेम हो या जन्म

देने वाली मां का जो कि निस्वार्थ होता है

प्रेम स्वयं से इतना महान होता है कि

इसमें कुछ गलत सही नहीं नहीं होता प्रेम

ही तो है जो सबसे शुद्ध और सच्चा होता है

प्रेम तुम्हारे हृदय में नकारात्मक ऊर्जा

को नष्ट कर देता है और सकारात्मक ऊर्जा

उत्पन्न करता है तब तुम्हारे हृदय में

मेरे प्रति प्रेम बनकर वास करता है यह

ऊर्जा तुम्हारे जीवन में बहुत महत्व रखती

है इस ऊर्जा के बिना तो तुम्हारा जीवन उस

पेड़ की तरह है जिस पर फल नहीं जिसका कोई

महत्व ही नहीं ऊर्जा ही है जो तुम्हें खुश

और तरोताजा रखती है इस ऊर्जा के बिना

बेजान मुर्दे की तरह है तुम जो चाहते हो

जैसा चाहते हो मैं तुम्हारी हर इच्छा पूरी

करती हूं और तुम्हारा मुझसे प्रेम करना भी

ऊर्जा का अनुभव कराता है शायद तुम्हें

ज्ञात नहीं कि तुम्हारे अंदर की एक ऊर्जा

छुपी हुई है जब माता-पिता और मुझसे प्रेम

करते हो तब तुम्हें प्रेम की ऊर्जा का सही

अनुभव होता है तुम्हारा प्रेम ही तो है जो

तुम्हें हर कदम पर सही मार्ग दिखाता है और

उन्नति दिलाता है क्योंकि प्रेम से ही सही

काम बनते हैं और क्रोध से बिगड़ जाते हैं

इसलिए अधिक से अधिक प्रेम करो तुम मेरी इस

कही हुई बात पर विशेष ध्यान देना मैं कदम

कदम पर तुम्हारे सा हू तुम्हारे जीवन में

जो बदलाव हो रहे हैं उस बदलाव को तुम्हें

अपने जीवन का हिस्सा ही समझना चाहिए

क्योंकि यह बदलाव आने वाले जीवन के लिए

आवश्यक है यह बदलाव तुम्हारे स्वयं के

विकास के लिए है जब तुम एक छोटे से बीज को

लगाते हो तब वह एक छोटा सा बीज समय के साथ

बदलकर एक विशाल पेड़ बन जाता है तभी

तुम्हें उस छोटे से बीज का महत्व समझ आता

है और तभी तुम परिवर्तन के चक्र को समझ

पाते हो कि परिवर्तन जीवन के लिए कितना

आवश्यक है इसलिए परिवर्तन से डरना नहीं

चाहिए बल्कि परिवर्तन के साथ चलना चाहिए

यह बदलाव तो सभी के जीवन में आते रहते हैं

और यह बदलाव बेहद आवश्यक होते हैं

तुम्हारे जीवन के विकास के लिए संसार में

हर क्षण बदलाव होते रहते हैं मनुष्य के

जीवन में बदलाव होना कुछ गलत नहीं है तुम

जितने जल्दी इस परिवर्तन को अपनाते हो

उतनी ही जल्दी से अपने जीवन में सफलता के

मार्ग खुल जाते हैं जीवन में बदलाव इसलिए

आते हैं जिससे तुम जीवन में आगे बढ़ सको

नई-नई चीजों को सीख सको नई-नई चीजों का

अनुभव कर सको बदलाब किसी भी मनुष्य के

जीवन में उसे रोक के नहीं आता बल्कि वह

अपने जीवन में तरक्की कर सके इसलिए आता है

इसलिए इससे डरना नहीं है बल्कि खुश होकर

उसे स्वीकार करना है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *