मां काली इस औरत कि नींदे हराम हो गई है आपकी दुनिया ही उजाड़ दी थी लेकिन आप फिर भी बच गए - Kabrau Mogal Dham

मां काली इस औरत कि नींदे हराम हो गई है आपकी दुनिया ही उजाड़ दी थी लेकिन आप फिर भी बच गए

काली मां कहती हैं मेरे बच्चे तुम्हारी

पुकार मुझ तक पहुंच चुकी है अब तुम यही

सोच रहे हो ना कि यदि तुम्हारी पुकार मुझ

तक पहुंच गई है तो मैं चुप क्यों हूं

तुम्हारी पुकार को सुनने के बाद मैं

तुम्हारी समस्या को समाप्त क्यों नहीं कर

रही सुनने के बाद मैं तुम्हारी समस्या को

सवाल बार-बार उठ रहा है और तुम रा मन

विचलित हो रहा है शीघ्र ही उत्तर जानने के

लिए शीघ्र यह जानने के लिए कि मैं

तुम्हारी समस्याओं की पुकार सुनने के

पश्चात शीघ्र समाप्त क्यों नहीं कर रही

परंतु मेरे बच्चे तुम इन बातों से अभी तक

अनजान हो कि यदि मैं चुप हूं तो इसका अर्थ

यह नहीं कि मैं कुछ कर नहीं रही या कुछ

बड़ा सोच नहीं रही बल्कि की मैंने

तुम्हारे लिए बहुत कुछ सोच रखा है और बहुत

ही अलग सोच रखा है इसके लिए ही मैं

तुम्हें तैयार कर रही हूं तुम्हारी

परीक्षाओं के उपरांत ही मैं तुम्हें उस

मंजिल पर अवश्य ही पहुंचा दूंगी जिस मंजिल

पर तुम पहुंचना चाहते हो परंतु उसके लिए

तुम्हें पूर्ण रूप से तैयार होना होगा

तुम्हें अपने अंदर इतनी शक्ति विधमान करनी

होगी कि मैं जब तुम्हारे जीवन में चमत्कार

करूं तो तुम उसे देखने के लिए फौरन तैयार

रहो तुम्हारी परीक्षाओं के पीछे तुम्हारा

सुनहरा भविष्य जो मैं अब तुम्हें दे रही

हूं तुम्हारे आसपास के किसी भी व्यक्ति को

तुम्हारे कारण कष्ट ना हो तो तुम स्वयं को

भाग्यशाली समझना तुम्हारे अच्छे दिनों की

शुरुआत हो च चुकी है परंतु इसके साथ-साथ

मेरे बच्चे यह भी याद रखना है मैं

तुम्हारे साथ हूं तुम्हारे सामने ना सही

परंतु तुम्हारे आसपास हूं बस तुम उस रूप

को अपने सच्चे मन की शक्ति से मुझे देख

नहीं पा रहे हो क्योंकि मुझे देखने के लिए

या मेरा दर्शन प्राप्त करने के लिए एक

सच्चे मन और सच्चे हृदय की आवश्यकता होती

है जो कि तुम्हारे पास है बस तुम उसे सही

समय पर सही तरह से इस्तेमाल नहीं कर पा

रहे हो अपने मन को जागृत करो मेरे बच्चे

मैं जानती हूं कि अभी तुम परेशानी में हो

जिस कारण तुम्हें इस शक्ति को नहीं पहचान

पा रहे हो पर एक ऐसा समय आएगा कि तुम

शक्ति को पहचान लोगे क्योंकि मैं तुम्हारा

मार्गदर्शन करूंगी मेरा मार्गदर्शन ही

तुम्हारी परीक्षा होगा अगर तुम इसमें सफल

हो जाते हो तुम्हारी इच्छा पूर्ण हो जाएगी

उसके पश्चात तुम्हें अपनी मां से कोई

शिकायत नहीं रहेगी तो अब तुम तैयार हो ना

यदि मेरा संदेश तुम्हें प्राप्त हुआ है तो

सिर्फ तुम आज जीवन का एक ऐसा सत्य जानोगे

जिसे जानकर तुम्हें हैरानी होगी क्योंकि

तुम्हारे मन में उठता हर समय यह प्रश्न है

कि मैं इतना पूजा पाठ करता हूं फिर भी

मेरा कार्य पूर्ण क्यों नहीं हो

रहा मेरे बच्चे उसका उत्तर आज तुम्हें मिल

जाएगा क्योंकि मेरे बच्चे हर बात के पीछे

कारण होता है कारण अच्छा हो या बुरा लेकिन

होता जरूर है यह बात सत्य है बस केवल

तुम्हें साधारण आंखों से ना तो वह कारण

दिखाई देता

है ना ही तुम जानते हो कि आगे तुम्हारे

जीवन में क्या होने वाला है तुम केवल यह

देख सकते हो वर्तमान में चल रही बातों

को जान सकते हो जैसा समय तुम्हारे समक्ष

उस समय के बारे में तुम्हें ज्ञात होता है

लेकिन कुछ ऐसी बातें हैं जो तुम्हें जानना

बहुत जरूरी

है क्योंकि जिसको संपूर्ण ज्ञान हो जाता

है वह ना तो परेशान होता है किसी चीज को

पाने के लिए और ना ही मन में इन प्रश्नों

को बार-बार सोचकर हैरान परेशान होता है

कि उसकी इच्छा पूर्ण क्यों नहीं हो रही है

मेरे बच्चे इस बात को समझना जरूरी

है कि यदि तुम ऐसा सोच रहे हो कि तुम्हारी

उन्नति नहीं हो रही तो तुम गलत सोच रहे हो

आज से पहले के समय को देखो और आज के समय

को देखो दोनों में तुलना करोगे तो तुम्हें

खुद ही ज्ञात हो जाएगा कि तुम पहले से

कितना उन्नति कर चुके

हो बस फर्क इतना है कि तुम आज जो चाहते हो

उस चीज आज के समय में तुम्हें वह प्राप्त

नहीं है इसके साथ ही कभी-कभी तुम इतनी

बड़ी चीजों की आश कर लेते हो जो तुम्हारे

लिए बनी ही नहीं है क्योंकि जिस प्रकार एक

हाथ में पांच उंगलियां होने के बाद

भी कोई भी उंगली बराबर नहीं होती एक बड़ी

होती है दूसरी उंगली की तुलना में इसी

प्रकार यह जरूरी नहीं कि तुम जो सोच रहे

हो तुम्हें प्राप्त हो जरूरी यह है कि

तुम्हारे जीवन में कुछ अच्छा हो तुम

परिश्रम कर रहे हो उसका फल तुम्हें मिले

और तुम्हारी उन्नति

हो तुम जिस समय में हो उस समय से अच्छे

समय में आते चले जाओ कभी-कभी बड़ी उम्मीद

भी पूरा होने पर सुख का अनुभव करने से

वंचित रह जाते हो और यही तुम सबसे बड़ी

गलती करते हो सुनो मेरी बात को ध्यान

पूर्वक आज जो परिश्रम कर रहे

हो ईमानदारी रख रहे हो उन सभी अच्छे कार्य

को कर रहे हो जो तुम्हारे जीवन में उन्नति

का हर रास्ता खोल देती है तो तुम्हें सब

छोड़ देना चाहिए कि तुम्हारे जीवन में कब

कहां कैसे क्या होगा लेकिन बस तुम्हें इस

बात पर पूर्ण भरोसा रखना चाहिए कि जो होगा

वह अच्छा होगा क्योंकि जीवन में अच्छा

होना महत्व रखता है और इसके साथ ही यह भी

कारण है तुम्हारी सोची हुई मंजिल पर शायद

तुम्हारी परिश्रम पूरी नहीं हो रही है

किसी के जीवन में किसी भी इच्छा को पूण

करने के लिए जिस पर कार्य

करना जब तुम प्रारंभ करते हो तो उस पर

इतना परिश्रम करो कि तुम्हें ऐसा आभास

होने लगे कि इससे ज्यादा मैं और परिश्रम

नहीं कर सकता क्योंकि जब तक लोहा इतना

गर्म ना हो कि वह पिघलने ना लगे तब तुम उस

लोहे को कोई भी आकार नहीं दे सकते

हो इसलिए पहले जिस प्रकार लोहे को इतना ही

गर्म किया जाता है कि पिघलने लगे उसी

प्रकार खुद को कर्म की अग्नि में इतना

पिघला कि जैसा चाहो वैसे सांचे में डालकर

ढल सको अर्थात तुम्हारी किस्मत परिवर्तित

हो

जाए मेरे बच्चे हृदय की आवाज से सुनना

तुम्हारे हृदय में वही आवाज उत्पन्न होगी

क्योंकि किसी भी कार्य को पूण करने में

कार्यों की कमी तुम्हें उस मंजिल से दूर

ही रखती है ना तो मुझसे कुछ पूछने की

जरूरत है और ना ही तुम्हें अपने मन को

निराश करने की मेरे बच्चे तुम्हारा कार्य

पूरा होगा या नहीं कार्यों को करो

निस्वार्थ भाव से तब तुम्हें अवश्य फल

प्राप्त होगा मुझसे कुछ पूछना चाहो

तुम्हारे हृदय में उत्पन्न हुई आवाज ही

मेरी आवाज होगी तुम्हारे गलत कर्मों की

माफी तुम्हें मिल चुकी है मेरे बच्चे अब

तुम्हारी सभी

समस्या मेरे बच्चे माफी तुम्हें इसलिए

मिली है क्योंकि तुमने कुछ ऐसे कार्य किए

हैं जो पीछे की गई गलतियों से तुमने जो

अपने खराब समय को अपनी ओर आकर्षित कर लिया

था खराब समय को परिवर्तन किया था उसी

प्रकार तुमने कुछ ऐसे कार्य किए

हैं जिनके कारण से तुम्हारा अच्छा समय फिर

से प्रारंभ हो चुका है और फिर से तुमने

अपने कर्मों के द्वारा ही समय को फिर

परिवर्तित किया है आज मैं तुम्हें कुछ ऐसी

खास बात बताने वाली हूं जिसे सुनना

तुम्हारे लिए अत्यंत आवश्यक

है यह एक कड़वा सत्य है कि हर इंसान से

गलती होती है इसमें कोई संदेह नहीं कि

गुंजाइश ही नहीं है इंसान कोई ना कोई

जानकर गलती कर ही देता है लेकिन किसी भी

व्यक्ति को इस बात को कदापि नहीं भूलना

चाहिए कि यदि कोई भी इंसान जानबूझकर

सिर्फ उसका भागीदारी होता है अनजाने में

की गई गलतियों को मैं माफ कर देती हूं

उनकी उन गलतियों को दंड में नहीं देती

इसके साथ ही हमेशा कुछ अच्छे कार्य भी

जीवन में करते रहने चाहिए जिससे कि यदि

तुमसे कोई गलती हो ही जाती तो उसकी क्षमा

तुम्हें मिल

जाए कठोर दंड का सामना नहीं करना पड़ता और

उन्हीं कार्यों में से कुछ कार्य हैं जो

तुम्हें हमेशा करते रहने चाहिए जैसे कि

भाग्य के भरोसे ना बैठे रहना क्योंकि

भाग्य तुम्हें तभी कुछ देता है जब तुम

स्वयं प्राप्त करना चाहते हो उसके लिए कभी

भी कड़ा परिश्रम करना ना

भूलना यदि तुम्हारा मस्तिष्क कुछ प्राप्त

करना चाहता है तो उसके लिए कठोर तपस्या

करना आवश्यक है इसके लिए तुम्हें ऐसी

शक्ति आकर्षित करनी होगी तुम्हें अपने मन

पर लगाम लगाना सीखना होगा दूसरों की मदद

करना सीखो कुछ ऐसे काम

करो जिनको करने के काफी समय पश्चात

तुम्हारे हृदय और तुम्हारे मन को खुशी हो

क्योंकि तुम इस बात को स्मृ

रखना किसी भी कार्य को करते समय भले ही

तुम में खुशी ना हो लेकिन काम को करने के

पश्चात जिस कार्य के करने से हृदय और मन

को खुशी

हो वही अच्छा काम होता

है तुम गलत काम करोगे तो भी तुम्हारे हृदय

को जरूर अच्छा नहीं लगेगा इसके साथ ही

तुम्हें यह सोचना अत्यंत आवश्यक है कि

जीवन में मेरे बच्चे तुम्हें सभी देवताओं

की पूजा करना इतना जरूरी नहीं बल्कि अपने

कर्मों पर ध्यान देना जरूरी

है उससे भी ज्यादा जरूरी

है जब समस्या उत्पन्न होती है जब तुम उसे

उत्पन्न होने के लिए उसे अपनी ओर आकर्षित

करते हो अर्थात कुछ ऐसे कर्म करते हो

प्राकृतिक के खिलाफ है और प्राकृतिक ही

तुम्हारी और समस्याओं को आकर्षित करती है

इस बात को समझना

होगा कि तकदीर कुछ नहीं

है जब तुम स्वयं की बाग डोर स्वयं के हाथ

में रखो और जिस तरह से जीवन को चाहो उस

तरह से तुम चला सकते हो यदि तुम अपनी बाग

डोर तकदीर के हाथों में थमा करर बैठे

रहोगे तो आगे आने वाले समय में तुम्हें

कुछ भी प्राप्त नहीं

होगा यदि तुम अपनी बाग डोर अपने हाथों में

रखोगे तो स्वयं जिस चीज का निर्माण करना

चाहो उस चीज का निर्माण कर सकते हो

तुम्हें अपने आप ही स्वतः ही प्राप्त हो

जाएगी तुम्हारे अंदर ही वह शक्ति है अपने

आप को पहचानो मेरे बच्चे मेरा आशीर्वाद

सदा तुम्हारे साथ है तुम्हारा कल्याण

हो मेरे प्रिय बच्चों कैसे हो तुम आज मैं

तुम्हारा पिता अपने बच्चों से बात करने

आया हूं मेरे बच्चों तुम अप ने पिता से

क्यों रूठे हो क्यों मुझसे नाराज हो आज

मैं इसी सवाल का जवाब तुमसे जानना चाहता

हूं इसलिए मैं तुमसे बात करने आया हूं

क्या हुआ तुम्हें मेरे बच्चे तुम अकेले

में इतना क्या सोच रहे हो मुझे याद करके

तुम्हें क्या लगता है तुम मुझे नहीं

बताओगे तो मुझे कुछ पता नहीं चलेगा मेरे

बच्चे मैं फिर भी तुम्हारे मन को पढ़ लेता

हूं मैं तुम्हारी हर तकलीफ

और दर्द को समझता हूं परंतु मेरे बच्चे

मेरी बात हमेशा याद रखना इस संसार में जो

कुछ भी होता है वह सब अच्छे के लिए होता

है हर चीज के पीछे एक बड़ा रहस्य होता है

जिसके बारे में तुम्हें कुछ पता नहीं होता

उसे सिर्फ मैं जान सकता हूं तुम्हारे जीवन

में जो भी घटना घटती है उसे मैं भली

प्रकार परिचित हूं जो कि एक उद्देश्य के

लिए रखा गया है इस संसार में कोई भी घटना

यूं ही नहीं होती उसके पीछे कोई ना कोई

राज छुपा होता है जो केवल तुम्हारे पिता

महादेव को ही मालूम होता है जो भी समस्या

तुम्हारी जिंदगी में घट रही है वह समस्या

तो कुछ भी नहीं है एक समय ऐसा आएगा जो भी

परेशानी एवं घटना तुम्हारे साथ हो रही है

वह तुम्हें अत्यंत छोटी एवं तुच्छ प्रतीत

होने लगेगी

मुझे पता है तुम हर रोज मुझे याद करते

रहते हो केवल यह सोचकर कि आज तुम्हें

तुम्हारे सभी प्रश्नों का उत्तर मिल जाएगा

हमेशा अपने मन में कुछ ना कुछ बातें करते

रहते हो मुझे याद करके परंतु मेरे बच्चे

मुझसे कुछ छुपा नहीं है मैं सब जानता हूं

मैं तुम्हारी सारी गतिविधियों को देखता

रहता हूं तुम्हारे मन में उठ रहे सभी

सवालों को मैं भली प्रकार से जानता हूं

तुम्हें इस चीज का आभास नहीं है मेरे

बच्चे परंतु मैं हर पल अपने भक्तों के साथ

रहता हूं मैं जानता हूं कि तुम्हारे साथ

रहना अति आवश्यक है तुम्हारा जन्म एक बड़े

उद्देश्य के लिए इस पृथ्वी पर हुआ है

जिसके कारण तुम्हें बहुत सी चीजों का

सामना करना पड़ रहा है इस संसार में हर

प्राणी को दुख सुख आते रहते हैं यही कारण

है कि तुम्हारे रास्ते में अनेक प्रकार के

दुख आ रहे हैं परंतु मेरे बच्चे तुम्हें

इन दुखों से घबराना नहीं है तुम्हारा मुझ

पर अटूट विश्वास होना अति आवश्यक है तुम

कभी भी अपनी हिम्मत मत टूटने देना मैं

हमेशा तुम्हारे साथ रहूंगा और तुम्हारी हर

तकलीफ को दूर करूंगा फिर चाहे वह कितनी भी

बड़ी क्यों ना हो उसको मैं तुम्हारे जीवन

से हमेशा के लिए बाहर कर दूंगा तुम मेरे

लिए अत्यंत प्रिय हो मेरे बच्चे तुम्हें

कभी भी दुख में नहीं रहना चाहिए ना ही कभी

स्वयं को कमजोर समझना चाहिए स्वयं को

कमजोर वह लोग समझते हैं जो कायर होते हैं

निडर लोग स्वयं को हमेशा ताकतवर और

बुद्धिमान समझते हैं यही उनकी ताकत की

असली पहचान होती है और कायर लोग हमेशा

बहाने ढूंढते रहते हैं मैंने तुम्हें असीम

शक्तियां प्रदान की है लेकिन शायद तुम

तुम्हे उसका अंदाजा नहीं है मेरे द्वारा

प्रदान की गई शक्तियों का तुम भली प्रकार

से उपयोग करना नहीं जानते अगर तुम यह जान

गए तो तुम्हारे जीवन से आधी से ज्यादा

समस्याएं स्वयं ही दूर हो जाएंगी तुम्हारी

जिंदगी में कई कष्ट आएंगे परंतु मेरे

बच्चे तुम्हें उन कष्टों से स्वयं ही बाहर

निकलना है इसका यह मतलब नहीं है कि मैं

तुम्हारे साथ नहीं हूं मैं सदैव तुम्हारे

साथ हूं परंतु तुम्हें अपने दुखों से खुद

ही लड़ना होगा फिर तुम्हें किस बात की

चिंता है मैं तुम्हें इस बार भी कष्टों से

बचा लूंगा मेरे होते हुए कोई भी कष्ट तुम

तक नहीं पहुंच पाएगा परंतु तुम्हें उन

कष्टों से स्वयं ही लड़ना है मेरे

आशीर्वाद से तुम सारे कष्टों से बाहर निकल

जाओगे और भविष्य में भी तुम्हें सभी

परेशानियों से छुटकारा मिल जाएगा तुम केवल

ध्यान के माध्यम से मुझसे जुड़ने की कोशिश

करो क्योंकि ध्यान ही एक ऐसी कुंजी है

जिससे तुम मुझसे भली प्रकार से जुड़ सकते

हो मैं तुम्हारे लिए सभी रास्ते को खोल

दूंगा और तुम्हारे प्रश्नों के उत्तर देकर

तुम्हारे मन की नकारात्मक सोच को

सकारात्मक सोच में बदल दूंगा मेरा

आशीर्वाद

हमेशा तुम्हारे साथ रहेगा ओम नमः शिवाय तो

मेरे प्रिय बच्च

पांच बार दिल से बोलो ओम नमः

शिवाय ओम नमः

शिवाय ओम नमः

शिवाय ओम नमः

शिवाय ओम नमः शिवाय मेरे बच्चे तुम्हारी

सच्ची भक्ति से मैं बहुत खुश हूं तुम जो

हर समय अपने मन की सभी बातें मुझे बताते

रहते

हो वह सभी बातें मैं ध्यान से सुनता

हूं तुम्हारे मन में जो

दुविधा चलती रहती है उन दुविधा हों का

हल मैं संकेतों के माध्यम से देता हूं

मेरे बच्चे तुम मेरे द्वारा भेजे गए

संकेतों को समझते

हो मेरे बच्चे मेरी पूजा तो मन से की जाती

है कभी मेरी पूजा ना कर पाओ तो दुखी मत

होना मन की पूजा से बड़ी

पूजा कोई नहीं

होती जब तुम्हारे मन और मुख में मेरा ही

नाम हो तो वही ही मेरी असली पूजा और असली

भक्ति है मैं तो तुम्हारे हृदय में वास

करता हूं मेरे बच्चे तुम मुझे भारी चीजों

में क्यों ढूंढते हो मुझे अनुभव

करो मेरे बच्चे तुम स्वयं अपने भीतर मुझे

जरूर देख

पाओगे जो तुम्हारे गहरे प्रेम और विश्वास

से एक दिन एहसास हो जाएगा तुम्हें मेरे

बच्चे तुम तो जानते

हो प्रेम और भक्ति एक ही सिक्के के दो

पहलू होते हैं जहां प्रेम नहीं होता

वहां भक्ति भी अधूरी होती है परंतु तुमने

दोनों ही पहलू

को समानता से निभाया

है इस कारण मैं भी तुम्हारी भक्ति से अति

प्रसन्न हूं मेरे बच्चे मेरे प्रति

तुम्हारा प्रेम तुम्हारी अनुभूति सदैव

बढ़ती जाए यह मेरा आशीर्वाद है तुम्हें

मेरे प्रति तुम्हारा यह

प्रेम एक दिन तुम्हें मेरे पास

लाएगा तब तक तुम मेरी भक्ति करते रहो और

सदा खुश रहना मेरे

बच्चे तुम्हारा दिन मंगलमय

हो मेरे बच्चे कैसे हो तुम मेरे बच्चे आज

तक जिसने भी तुम्हें रुलाने की कोशिश की

या फिर तुम्हें रुलाया है अब उन सबका

होगा मैं तुम्हारा परमपिता तुम्हें न्याय

दिलाने आया हूं मैं उन सभी लोगों को जिसने

भी तुम्हें कष्ट दिया तुम्हें परेशान किया

उन सबको उनकी करने का अब अंजाम भुगतना

होगा मेरे बच्चे मुझे पता है कि तुम बहुत

प्यारे और दयालु हृदय के हो इसलिए तुम

लोगों को उनकी गलत बातों का जवाब नहीं

देते

लेकिन मैं तुम्हारा परम पिता मैं कई दिनों

से देख रहा हूं कि लोग तुम्हें तुम्हारे

बिना गलती के ही तुम्हें सजा देते रहे हैं

और तुम्हें हर समय गलत सिद्ध करते रहे हैं

जो कि सरासर गलत है मेरे बच्चे मुझे पता

है कि तुम कभी असत्य का साथ नहीं देते

लेकिन मेरे बच्चे जब तुम्हें लगता है कि

कोई कार्य में तुम्हारी कोई गलती नहीं है

तो तुम अपनी रक्षा के लिए क्यों नहीं

बोलते हो मेरे बच्चे तुम्हें पता होगा कि

जो व्यक्ति गलत का विरोध नहीं करता वह

व्यक्ति उतना ही बड़ा दोषी होता है जितना

कि गलत कार्य करने वाला इसलिए मेरे बच्चे

जब भी तुम्हें लगे कि तुम गलत नहीं हो तब

तुम अपनी रक्षा स्वयं करो क्योंकि इस

संसार में तुम्हारे अलावा तुम्हारी रक्षा

कोई और नहीं करेगा तुम्हें स्वयं तुम्हारी

रक्षा करनी होगी और जो व्यक्ति तुम्हें

कष्ट दे रहा है उसका फैसला मैं स्वयं

करूंगा मेरे बच्चे मुझे पता है कि तुम हर

किसी से झगड़ नहीं सकते इसलिए मेरे बच्चे

जिनका फैसला तुम नहीं कर पाते उनका फैसला

मैं स्वयं करूंगा तुम्हें परेशान और

चिंतित होने की बल भी आवश्यकता नहीं

तुम्हारा कल्याण हो मेरे बच्चे सदा

प्रसन्न

रहो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *