मां काली अकेले में चुपचाप सुनो ठुकरा दिया है उसने तुम्हें लेकिन असली खेल अभी - Kabrau Mogal Dham

मां काली अकेले में चुपचाप सुनो ठुकरा दिया है उसने तुम्हें लेकिन असली खेल अभी

मेरे बच्चे यह सब परिवर्तन ही है जो

प्रारंभ हो गया है मेरे बच्चे समय आ गया

है जब प्राकृतिक में बड़े बदलाव दिखेंगे

जब प्राकृतिक स्वयं इंसाफ करेगी सभी के

हृदय में भक्ति की आंधी बहेगी जोर शोर से

धर्म का डंका बजाया

जाएगा मेरे बच्चे यह तूफान सभी के चेतना

के स्तर को

देगा मुझसे कुछ भी छुपा नहीं है यह जो

आकांक्षाओं के बादल छाए हुए हैं और यह जो

तुम्हारे मन में सवालों के उलझने हैं यह

सभी अब हटने वाले

हैं मेरे बच्चे अध्यात्मिक मार्ग पर चलने

वाले सत्य के रथ पर सवार होने वाले वह

केवल मूल स्वरूप को अब पहचान पाएंगे मेरे

बच्चे तुम अपनी चेतना से अब सब कुछ

प्राप्त कर पाओगे अब तुम्हारे साथ यह सब

घटना घटित

होंगी तब तुम भी भय मुक्त हो जाओगे

तुम्हारे मन के अंदर का भय भी लुप्त हो

जाएगा वह समय भी प्रारंभ हो रहा है जब तुम

स्वयं के भीतर उस प्रकाश को देख पाओगे जो

इससे पहले तुमने कभी नहीं देखा था यह बदला

बड़ी ही तेजी से

होगा परंतु उसे एक चेतावनी समझना है और

इससे भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है

क्योंकि यह सत्य रूपी तूफान होगा किंतु यह

सभी निश्छल पवित्र आत्माओं के लिए चेतावनी

स्वरूप है कि अब समय आ गया है तुम्हें

पूर्णतः जागने

का जिसके भीतर तनिक भी आध्यात्मिक की

ललिता छुपी हुई है वह इस उजागर में सत्य

के मार्ग को चुन लेंगे क्या तुम्हें कुछ

दिनों से अपने भीतर या अपने आसपास में कोई

बदलाव दिख रहे हो यदि हां तो आज का संदेश

तुम्हारे लिए ही

है जो इस समय में भी नहीं जागा हुआ वह कभी

भी नहीं जाग पाएगा मेरे बच्चे तुम जिन

चीजों को बहुत ही बड़ा मानकर बैठे हो वह

तो केवल तुम्हारी कल्पना मात्र से

तुम्हारे पास आ जाएगा मेरे बच्चे जब जब

अधर्म और अन्याय अपनी सीमा को पार कर जाता

है

तब परम शक्ति स्वयं ही इंसाफ करती है मेरे

बच्चे अब जागो समय आ गया है तुम्हें इस

परिवर्तन के पहले ही खुद को अपनी चेतना के

स्तर से जोड़ लेना होगा क्योंकि यह

तुम्हारे लिए आवश्यक है तुम परमात्मा के

कार्यों में जल्द ही सहायक बनने वाले

हो केवल मेरी एक बात याद रखना कि बदलाव

प्रारंभ हो चुका है इसका यह मतलब नहीं है

कि यह कुछ ही समय बाद हो या एक दिन में या

एक घंटे में याद रखो कि यह बदला पूरी

सृष्टि के लिए है पूरी सृष्टि के अन्याय

के लिए

है जब बदलाव पूरी सृष्टि के लिए होता है

तब इसका असर कुछ ही समय में नहीं हो सकता

है धीरे-धीरे तुम्हें यह सब कुछ स्पष्ट

होता जाएगा आने वाले दिनों में तुम्हें वह

सब कुछ मिल जाएगा जो तुमने जाने कब से

मांग रहे थे

मेरे बच्चे धन समृद्धि मान सम्मान का

आशीर्वाद तुम्हें मिलेगा शिक्षा में सफलता

प्राप्त होगी किंतु मेरे बच्चे अब तुम्हें

अपना प्रयास भी बढ़ाना होगा अपने परिश्रम

को और बढ़ाओ क्योंकि अन्याय का समय ज्यादा

दूर नहीं

है जो भी बदलाव तुम्हें अपने आसपास या

अपने भीतर दिखाई दे रहे हैं उसे ध्यान से

देखो क्योंकि तुम्हें प्राकृत अपनी सहायक

बनाने वाली है क्योंकि अब कुछ बहुत ही

अच्छा होने वाला है अपनी आत्मा को अधिक से

अधिक सकारात्मक बना

लो मेरे बच्चे जो सत्य के मार्ग पर लंबे

समय से चल रहे हैं जो अपने माता-पिता का

सम्मान करते हैं अब उनको अपने लगाए गए

अच्छे कर्मों के बीच का फल अवश्य मिलेगा

क्योंकि आने वाले तीन माह बड़े परिवर्तन

से गुजर वाले

हैं तुम भाग्यशाली हो तुम आध्यात्मिक

जागृति की ओर चल रहे हो प्राकृतिक में

न्याय की तैयारी जोरों शोरों से चल रही है

जो हुए थे वह आने वाले समय में धीरे-धीरे

करके बनने लग जाएंगे जो भी तुम्हें

तुम्हारे मार्ग से हटाना चाहेंगे वह स्वयं

ही तुमसे दूर हो

जाएंगे क्योंकि तुम अभी से आध्यात्मिक

मार्ग पर चल पड़ पड़े हो इसलिए अब

तुम्हारे साथ जो भी घटित होगा उसे तुम अभी

से महसूस कर पाओगे मेरे बच्चे किसी भी

बदलाव का परिणाम केवल एक व्यक्ति तक सीमित

नहीं होता वह पूरी सृष्टि के लिए होता

है तुम्हें केवल अपने मन की बात सुननी है

और अपना कदम आगे बढ़ाने हैं क्योंकि तुम

बहुत कुछ आगे सीखने वाले हो मेरे बच्चे अब

तुम रुकना नहीं अभी तुम्हें अपने जीवन का

मूल उद्देश्य पूरी तरह से ज्ञात नहीं हुआ

है मेरे बच्चे जब मैं तुम्हारे साथ हूं तो

तुम्हें परेशान होने की आवश्यकता नहीं है

तुम्हारे सपनों में मैं तुम्हें कुछ विशेष

संकेत देने आ रही हूं मन में जो भी दुविधा

है वह अपने आप ही हल हो जाएगी मेरे बच्चे

बदलाव केवल अच्छा नहीं होता बुरा भी होता

है और बदला बुरा ही नहीं होता श्रेष्ठ और

बहुत ही अच्छा भी होता है यह तुम्हारी

मानसिकता पर निर्भर करता है कि तुम अपने

बारे में क्या सोचते हो और अपने भविष्य

में तुम क्या करना चाहते हो यदि तुम अच्छा

सोचते हो तो हर हाल में तुम्हारे साथ

अच्छा

होगा सामान्य सोचोगे तो सामान्य ही होगा

और यदि बुरा सोचोगे तो बुरा ही होगा

क्योंकि यह सृष्टि का नियम है और ब्रहमांड

में एक शक्ति हर समय काम कर रही होती है

मेरे बच्चे तुम्हें यह शक्ति सुन भी रही

है और समझ भी रही

है और तुम्हारे ही मुंह से निकले हुए

वचनों को सिद्ध और पूर्ण भी कर रही है

इसलिए यदि तुम अपने जीवन को संवारना चाहते

हो तब तुम्हें अपने स्वभाव और अपनी वाणी

को संवारना होगा हमेशा ऐसे बनने की कोशिश

करो जैसा तुम भविष्य में बनना चाहते हो

तुम्हें ब्रह्मांड को यह बताना है कि तुम

बहुत ज्यादा खुश हो और तुम्हारे पास सब

कुछ है तुम्हारे पास किसी भी चीज की कोई

कमी नहीं है तुम्हारे जीवन में खुशियां ही

खुशियां हैं तुम्हें अपने जीवन में ऐसा एक

बार सोच कर देखना

है मेरे बच्चे केवल सोचने मात्र से ही

तुम्हारा जीवन बदलने के लिए प्रारंभ हो

जाएगा यह जो लगातार तुम्हारे जुवान पर

शिकायतें जो है यह बिल्कुल खत्म हो जाएंगी

तुम्हारा दिन सच में बदलने

लगेंगे मैं किसी काम का नहीं हूं मेरा

भाग्य खराब है मेरा कुछ भी नहीं हो सकता

मुझसे यह नहीं हो सकता अब मेरे साथ सब

उल्टा हो रहा है मेरे साथ कभी कुछ अच्छा

नहीं होता इस तरह के शब्दों से तुम्हें

बचने का प्रयास करना

चाहिए क्योंकि सृष्टि का नियम है और यहां

एक पवित्र ऊर्जा है जिसकी शक्तियां चारों

ओर व्याप्त हैं हर वक्त तुम सबकी सहायता

करने के लिए केवल सकारात्मक भाव के साथ

अपने जीवन में आगे बढ़ो और फिर देखो क्या

चमत्कार होता है अपनी दुनिया तुम स्वयं

अपने हाथों

से बनाते

हो

[संगीत]

मेरे बच्चे यदि तुम्हारी खूबसूरत आंखें

मेरे संदेश को पढ़ पा रही हैं तो निश्चित

ही तुम एक परम सौभाग्यशाली बच्चे हो

क्योंकि आज मैं जो तुम्हें बताना चाहती

हूं वह तुम पूर्ण रूप से जान

पाओगे मेरे बच्चे इस पृथ्वी पर एक

उद्देश्य के लिए तुमने जन्म लिया है इस

उद्देश्य को तुम्हारे माध्यम से मैं पूरा

करना चाहती हूं इस बात को तुम्हें मुख्य

रूप से ज्ञात होना चाहिए क्योंकि मेरे

बच्चे तुम्हें जिस उद्देश्य के लिए मैंने

इस पृथ्वी पर भेजा

है वह उद्देश्य तुम्हें ही पूण करना है

मेरे बच्चे एक ऐसी चीज है जो तुम्हें सब

में टना होगा इंसान से लेकर जानवर तक फूल

से लेकर पत्ती तक हर किसी में तुम्हें एक

चीज को बिखेर

दो इस पृथ्वी के कनकन में वह चीज है प्रेम

जो तुम्हारा मूल आधार है जिस प्रकार जीवन

का मूल्य आधार धर्म है जैसे नीव के बिना

महल खड़ा नहीं किया जा सकता जड़ के बिना

पेड़ सुरक्षित

नहीं वैसे ही धर्म के बिना जीवन सुरक्षित

नहीं रह सकता धर्म ही तुम्हारे जीवन की

सुरक्षा और रक्षा प्रदान करने वाला तत्व

है धर्म ही वह माध्यम है जिससे जीवन का

उद्धार और एक सारे संकटों से मुक्ति

दिलाती

है मेरे बच्चे सबसे पहला धर्म यही है कि

तुम जीवन में सभी में प्रेम बांटो मेरे

बच्चे तुमने कभी सोचा है कि जीवन में जब

तुम किसी से प्रेम करते हो तो सबसे ज्यादा

प्रसन्न क्यों होते हो क्योंकि सच तो यह

है मेरे बच्चे कि वही तुम्हारा असली रूप

[संगीत]

है लेकिन यदि तुम किसी से क्रोध करना

गुस्सा नफरत करते हो तो तुम अपने हृदय के

अंदर स्वयं दुख को महसूस करते हो क्योंकि

वह तुम्हारी आत्मा के विपरीत कार्य है यदि

लगातार तुम किसी से क्रोध घृणा करते रहोगे

तो मेरे बच्चे तुम हमेशा स्वयं भी दुखी

[संगीत]

रहोगे क्योंकि लगातार तुम अपनी आत्मा के

विपरीत कार्य करते रहोगे तो तुम प्रसन्न

नहीं रह पाओगे मेरे बच्चे यदि तुम स्वयं

को आनंद का अनुभव कराना चाहते हो तो तुम

सबसे प्रेम

[संगीत]

करो क्योंकि यही वह कार्य है जिसमें

तुम्हारा हृदय डूबकर परम आनंद का अनुभव

करता है कि किसी भी जानवर को प्रेम करते

हो या किसी भी जानवर के समक्ष जाकर उसको

रोटी रखकर पानी रखकर तुम उसके समक्ष कुछ

समय खड़े रहते

[संगीत]

हो लगातार यही कार्य तुम दिन तक करो

तुम्हें प्रेम की शक्ति का अनुभव स्वयं ही

हो जाएगा तुम्हारे हृदय को ऐसा कार्य करने

से बहुत ज्यादा खुशी स्वयं प्राप्त होगी

और वह जानवर भी तुमसे प्रेम करने

[संगीत]

लगेगा और यही इंसान के साथ इंसान का प्रेम

होता है जिसका अनुभव तुम्हें तभी प्राप्त

होता है जब तुम दूसरों को प्रेम देते हो

और उसी के बदले तुम्हें भी स्वयं दूसरों

से प्रेम ही प्राप्त होता

है क्योंकि मेरे बच्चे इस संसार का नियम

है जो तुम दूसरों को देते हो बदले में वही

तुम्हें प्राप्त होता

[संगीत]

है और जब तुम दूसरों से प्रेम प्राप्त

करते हो तब तुम्हें खुशी का अनुभव होता

है जब तुम बाल अवस्था में रहते हो और कोई

भी तुम्हारे परिवार के बड़े सदस्य

तुम्हें गोद में उठाकर तुम्हें खिलाते हैं

तुम्हें प्रेम करते हैं उस प्रेम का अनुभव

होता

[संगीत]

है उस समय तुम्हें किए जाने वाला

निस्वार्थ प्रेम होता

है और जानवर से भी तुम जो प्रेम से कुछ

खिलाते हो वह भी निस्वार्थ होता है यही

प्रेम सबसे महान और तुम्हारी मन को

प्रसन्नता का अनुभव कराने वाला होता

[संगीत]

है तुम अपने हृदय में प्रेम को बसा लो

क्योंकि यही है जो तुम्हारे जीवन में

खुशियां बिखेर देती

है और सभी कष्टों को समाप्त कर देती है

जैसे जैसे तुम इसको जो स्वयं बढ़ाते जाओगे

वैसे ही तुम्हारे जीवन में खुशियों की

बरसात होगी

और तुम खुशियों की बरसात में भीं कर आनंद

का अनुभव प्राप्त करोगे और इसी उद्देश्य

के लिए मैंने केवल तुम्हें चुना है अब

तुम्हारे जीवन में सुनहरे दिन का आगमन

होने वाला है इतनी सारी खुशियां एक साथ

तुम्हें प्राप्त होने वाली

हैं जो तुमने पहले कभी महसूस नहीं की

होंगी तुम हैरान रह जाओगे तुम्हारे लिए सब

कुछ अचानक दिव्य तरीके से होगा जिसे तुम

भूल नहीं पाओगे यह बहुत ही अद्भुत होने जा

रहा है मेरे बच्चे बस तुम सबसे प्रेम करना

प्रारंभ करो ऐसा करते

ही तुम्हारा जीवन पूरी तरह से बदल जाएगा

मैं तुम्हें वचन देती हू मेरा आशीर्वाद

सदा तुम्हारे साथ है मेरे अगले संदेश की

प्रतीक्षा करना मैं फिर आऊंगी तुमसे मिलने

के लिए तुम्हारा कल्याण हो ओम नमः

शिवाय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *