माँ का सन्देश // - Kabrau Mogal Dham

माँ का सन्देश //

मेरे बच्चे भले ही तुम कितनी भी गलतियां

कर लो मगर यदि तुम स्वयं से सच्चे हो तो

तुम सफल अवश्य होगे हर दिन कुछ ना कुछ

सीखकर तुम एक नए रूप में परिवर्तित हो रहे

हो तुम्हें जीवन में स्वयं को कभी भी धोखा

नहीं देना चाहिए चाहे तुम किसी से सच्चे

हो ना हो परंतु तुम्हें स्वयं से सदैव

सच्चा रहना चाहिए जो व्यक्ति स्वयं से झूठ

बोलता है या अपने ही मन को धोखा देने का

प्रयास करता है वो व्यक्ति कभी प्रसन्न

नहीं रह सकता है संसार में तीन चीजें अधिक

समय तक छुपी नहीं रह सकती है सूर्य चांद

और सच यदि तुम स्वयं से सच्चे हो तो यह

बात याद रखना वह कभी ना कभी सामने अवश्य

आएगी

और तुम्हें उसका फल भी प्राप्त होगा स्वयं

से सच्चे मनुष्य कभी भी अपने प्रयास में

कोई कमी नहीं रखता है चाहे कितनी भी

कठिनाई उसकी समझ क्यों ना आ जाए परंतु वह

उम्मीद नहीं छोड़ता है वह उम्मीद का साथ

कभी भी नहीं छोड़ता है अपनी बुरी आदतों को

अपने जीवन के मार्ग में बाधा नहीं बनने

देता है जीवन में हर छड़ कुछ नान कुछ

सीखने का प्रयास करता है किसी भी

परिस्थिति में यदि तुम्हें परेशानी हो रही

हो तो तुम्हें अपनी उस परिस्थिति का अलेन

करना चाहिए तुम्हे जीवन में किसी भी गुरु

की खोज नहीं करनी चाहिए यदि तुम ध्यान से

देखो तो तुम्हारे आसपास की सभी वस्तुएं

तुम्हारे गुरु है सभी तुम्हें कुछ ना कुछ

सिखाती है बस आवश्यकता यह है कि तुम उनकी

बातें सुनते

जाओ तुम्हें चाहे बाहर कितनी भी गलतियां

कर लो मगर उन गलतियों का दंड उतना बड़ा

नहीं हो सकता जितना स्वयं से झूठ बोलने का

होता है झूठ और सच की लड़ाई में जीत सदैव

सच्चाई की ही होती है

यदि तुम स्वयं से झूठ बोल रहे हो तो तुम

स्वयं में ही हार जाओगे और स्वयं से हारा

हुआ व्यक्ति कभी भी किसी भी समस्या के

सामना नहीं कर सकता है सदैव स्वयं से

सच्चे रहो और अपने आसपास की हर चीजें हर

लोग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *