माँ काली तुम्हारी शत्रु जानते हैं कौन सा सत्य है जिसे तुम भी नहीं जानते हो - Kabrau Mogal Dham

माँ काली तुम्हारी शत्रु जानते हैं कौन सा सत्य है जिसे तुम भी नहीं जानते हो

मेरे बच्चे व्यर्थ में चिंता मत करना मेरी

इस बात को याद रखना बस जो आज मैं बताने

वाली हूं केवल उस पर भरोसा रखो मेरे बच्चे

भरोसा रखना होगा मेरी कुछ बातों पर तो

निश्चित ही तुम्हें मेरा यह संदेश पढ़ने

के अंत तक यह पूर्ण विश्वास हो जाएगा कि

जो मैं बोल रही हूं वह सत्य है और तुम्हें

चिंता मुक्त र चाहिए मेरे बताए हुए यदि

कार्यों को तुम कर रहे हो तो तुम्हें

चिंता नहीं करनी चाहिए और यदि अभी तक

तुमने नहीं किया है तो आज मैं जो बता रही

हूं उस कार्य को करना प्रारंभ कर दो और

कुछ कार्य ऐसे हैं जिन्हें करना बंद कर दो

जैसे ही तुम मेरी बोली हुई बात पर विश्वास

रखकर अमल करोगे धीरे-धीरे तुम देखना

तुम्हारे आने वाले भविष्य में तुम्हें

समस्या या चिंता करने की आवश्यकता ही नहीं

पड़ेगी क्योंकि परेशानियां तुमसे कोस दूर

रहेंगी मेरे बच्चे अगर तुम्हारा मित्र

बहुत गरीब है और तुम्हारे पास धन की कोई

कमी नहीं है जब वह तुम्हारे पास सहायता

मांगने के लिए आया तो तुमने उसकी आंखों

में झांका विश्वास झलक रहा था और उसकी

आंखों में देखते हुए विश्वास से प्रसन्न

हो रहे थे वह तुम पर कितना विश्वास करता

है तुम्हारा हृदय करुणा से भर गया

तुम्हारी आंखों में उसके लिए आंसू थे तुम

चाहते थे कि तुम उसकी मदद करो पैसे देकर

लेकिन तभी तुम्हारे मन में एक प्रश्न उठा

कि तुम उसे पैसे की मदद कर दोगे तो कुछ

दिन बाद उसके पैसे समाप्त हो जाएंगे और

तुमसे फिर मदद मांगेगा इसलिए तुमने उसे

कुछ पैसे की मदद की और एक ऐसी योजना बनाई

जिससे तुम उ से कम पैसों में ज्यादा बड़ा

कमाना सिखा सको यह मैं जानती हूं कि पैसे

में तुम भी बहुत बड़े इंसान नहीं हो लेकिन

तुम उस गरीब जो तुम्हारा दोस्त तुमसे भी

गरीब है उसके लिए तुम बड़े ही हो तुम उसे

मुसीबत से निकाल दोगे हर समस्या से उभरने

के लिए एक शक्ति बनकर काम करेंगे क्योंकि

मेरे बच्चे किसी को धन से सहायता करो ना

करो लेकिन तुम यदि किसी को एक रोजगार दे

दो जो हमेशा उससे अपना पेट पाल सके तो तुम

बहुत बड़े महान इंसान हो इसके साथ ही पर

यही काम तुम्हें आगे करना होगा जितना भलाई

का काम तुम कर सको करो जरूरी नहीं कि

तुम्हारे पास पैसे ही हो जरूरी नहीं कि

तुम धनवान ही हो जरूरी नहीं कि तुम सहायता

के लिए पूंजी दो जरूरी यह है कि तुम्हारे

हृदय में एक नेक इच्छा जागृत होनी चाहिए

और यही इच्छा तुमसे इस तरह से काम करवाएगी

जिसमें तुम्हें सभी के हृदय में विराजमान

शक्ति तुम्हारी शक्ति को दोगुना कर

तुम्हारी किस्मत को चमका देगी यदि तुम

अच्छे कार्य कर रहे हो तो तुम लोगों की

भलाई कर रहे हो सच्चाई के मार्ग पर चल रहे

हो अपने माता-पिता का मान सम्मान करते हुए

उनकी हर आज्ञा का पालन करते हो तो तुम्हें

चिंता की आवश्यकता नहीं है तुम्हें केवल

और केवल अपने कर्म पर विश्वास होना चाहिए

कि मैं सही कर्म कर रहा हूं और उसके अलावा

तुम्हें यह विश्वास होना चाहिए कि परीक्षा

तो जीवन में हर समय देनी पड़ती है जब भी

तुम किसी मुकाम पर पहुंचते हो तब तुम्हें

कक्षा दर कक्षा परीक्षा में उत्तीर्ण होने

के लिए परिश्रम करना ही पड़ता है उसी

प्रकार जीवन में तुम्हारी परीक्षा से और

उत्तीर्ण होते हुए तुम्हें ऊंचाइयों का

मुकाम हासिल होता है इस संसार में इस बात

को मेरे हर भक्तों को समझ लेना चाहिए यह

मैं तुमसे वादा करती हूं कि यदि तुम सही

कर्म को कर रहे हो तो तुम्हें चिंता करने

की आवश्यकता नहीं चिंता केवल उन लोगों को

करने की आवश्यकता है जिन्होंने कर्म सही

नहीं किए क्योंकि जिस प्रकार पढ़ने वाले

बच्चे का उत्तरण होना उसके पढ़ने पर

निर्धारित करता है और उसे यह पूर्ण

विश्वास होता है कि वह उत्तरण हो ही जाए

उसी प्रकार जो अच्छे कर्म करते हैं वह

जीवन के हर मोड़ पर और उत्तरण होते हैं

मेरे बच्चे यह जानना तुम्हारे लिए बहुत

जरूरी है क्योंकि कई बार तुमने इस चीज पर

ध्यान दिया होगा कि तुम्हें रात में नींद

नहीं आ रही है अगर तुम कई महीनों से चैन

से सो नहीं पाए हो और तुम्हें नींद आ ही

नहीं रही है तो तुम इसके लिए बहुत ज्यादा

परेशान हो और दिन रात अपने इच्छा के बारे

में ही सोच जा रहे हो तुम्हारे दिमाग में

तुम्हारी इच्छा के अलावा कोई और बात नहीं

घूम रही है तब तुम्हें समझ जाना है कि यह

एक बहुत ही बड़ा संकेत है अब तुम्हें अपनी

इच्छा को छोड़ देना है उसके बारे में इतना

सोचते नहीं रहना है अब तुम्हें अपनी इच्छा

को मेरे हाथों में सौंप देना है ताकि

तुम्हारी चीजें तुम्हारे जीवन में बहुत ही

आसान तरीके से प्राप्त करा सकू इसलिए

तुम्हें यह संकेत मिल रहे हैं जिसके लिए

तुमने इतनी सारी चीजें कर ली हैं बहुत

जल्द तुम्हारे असल जीवन में तुम्हें मिलने

वाला है जिसके लिए तुम्हें अपनी इच्छा के

बारे में ज्यादा नहीं सोचना है वह इच्छा

मंजूर हो चुकी है बहुत जल्द वह इच्छा

तुम्हारे जीवन में आने वाली है लेकिन इसे

बांधकर तुमने रखा है मेरे बच्चे अपनी

इच्छा को मुझ पर छोड़ ही नहीं रहे हो

इसलिए सब कुछ तैयार होने के बाद भी

तुम्हारी इच्छा पूरी नहीं हो पा रही है

मेरे बच्चे तुमने ही अपनी इच्छा को रोक कर

रखा है तुम अपनी इच्छा को छोड़ ही नहीं

रहे हो और तुम ही अपनी इच्छा को पूरा भी

नहीं होने दे रहे हो यदि तुम अपनी इच्छा

को छोड़ दोगे और मुझसे कह दोगे कि मां सब

कुछ आपके हाथों में है अब मैं तैयार हूं

अपनी इच्छा के लिए मुझे आप पर पूरा

विश्वास है मेरे बच्चे यदि वह वाली

भावनाएं तुम अपने ने अंदर ले आते हो तो

तुम देखोगे कि तुम्हारे लिए सारी चीजें

कैसे काम करने लग जाएंगी और तुम्हारी

इच्छा बहुत ही जल्दी से तुम्हारे जीवन में

आ जाएगी और जो तुम चाहते हो वह पूरा हो

जाएगा यदि तुम्हारे साथ भी ऐसा हो रहा है

तो समझ लो कि मैं संकेत दे रही हूं

तुम्हारी इच्छा बहुत ही जल्दी मिलने वाली

है इसके लिए तुम्हें यह सब करना होगा मैं

सदैव तुम्हारे साथ हूं तुम्हारा कल्याण हो

जय मां

काली मेरे बच्चे तुम्हारे प्रेम को किसी

की बुरी नजर लग चुकी है इसलिए मेरे बच्चे

तुम्हारा प्रेम खतरे में है इसलिए तुमको

और तुम्हारे प्यार को बचाने के लिए कुछ

जरूरी बात बताने आई हूं मेरे बच्चे

क्योंकि तुम मेरे ऊपर ही अपने आप को सौंप

चुके हो इसलिए मैं स्वयं करूंगी तुम्हारी

रक्षा मैं तुम्हारे प्रेम पर आंच भी नहीं

आने दूंगी और तुम्हारे इस संदेश को पूर्ण

रूप से सुनने के पश्चात आदि रक्षा तो तुम

स्वयं ही कर पाओगे और आधी मैं स्वयं

तुम्हारी रक्षा

करूंगी क्योंकि मेरे बच्चे जीवन में प्रेम

पाना बहुत ही अच्छा और सच्चा होता है

लेकिन यदि तुम्हारा प्रेम किसी और के कारण

खतरे में है तो निश्चित ही तुम्हें बचाने

की आवश्यकता है और तुम्हें बचाना भी चाहिए

कोई है जिसकी

तुम्हें तुम पर बुरी नजर लग चुकी है उसी

दृष्टि के दोष से भी बचाना है और तुम्हें

कुछ ऐसे कार्य करने हैं जिससे कि तुम्हारा

प्रेम बच पाए जिस प्रकार तुम्हारा

स्वास्थ्य को कभी-कभी किसी की गंदी नजर लग

जाती है तो तुम बीमार पड़ जाते हो या ऐसे

इंसान के कारण जो कि तुम पर गंदी नजर रखता

है तुम्हें अपना बनाना चाहता है वह नहीं

चाहता कि तुम्हारा प्रेम तुम्हारा रहे

तुम्हारा प्रेम तुमसे अलग करना चाहता है

इसलिए वह कुछ ना कुछ गलत बातों को बोलकर

तुम दोनों के बीच में लड़ाई करवा रहा है

क्योंकि उसे तुम लोगों के बीच में आना है

और अपना बनाना है लेकि लेकिन ऐसे किसी के

बीच में जाने से किसी का प्रेम ना तो

छिनता है ना किसी दूसरे को मिलता है जो

सच्चा प्रेमी है वही तुम्हारे जीवन में

रहेगा और मैं तुम्हें उससे कभी अलग नहीं

होने दूंगी भले ही तुम्हारे प्रति कोई

कितना भी कोई भी गलत नजर रखे फिर भी

कामयाब नहीं होने दूंगी एक बात का ध्यान

रखो लड़की हो या लड़का स्त्री हो या पुरुष

जीवन साथी हो या तुम्हारा प्रेमी प्रेमिका

यदि पत्नी को कोई स्त्री गलत बातें बोलता

है या पुरुष कोई गलत बात बोलता है तो अपने

दिमाग में तुम यह समझ लेना कि निश्चित ही

वह तुम्हें तुम्हारे पति या पत्नी से दूर

करना चाहता है उसकी बातों को दिल से मत

लगाना और उसकी बातों पर यकीन मत करना केवल

अपनी आंखों से और अपने अपने मस्तिष्क से

और अपने हृदय से उस बात को परखना जब

तुम्हें बात सच दिखाई दे अपने पति या

पत्नी के अंदर तभी तुम उनकी बातों का यकीन

करना क्योंकि कई बार ऐसा होता है कि कोई

सिखाने वाला व्यक्ति तुम्हें तुम्हारे

साथी से दूर करना चाहता है इसलिए इस बात

का खास ध्यान रखना और यही बात पुरुष के

लिए भी है कई बार पुरुष का कोई दो

उसकी पत्नी के बारे में उल्टी सीधी बातें

कहकर उसके खिलाफ गलत बातें दिमाग में भर

देता है जिससे कि पति अपनी पत्नी का हृदय

से दूर हो जाए और ऐसे में पति को भी यही

चाहिए कि वह अपनी पत्नी पर पूर्ण विश्वास

रखे और उसे देखकर किसी बात पर यकीन करें

इसलिए तुमको तुम्हारे प्रेम से जो अलग

करना चाहता है कितना भी सोचे कितना भी

प्रयास करें लेकिन तुम जब तक सही हो स्वयं

को तो अपने प्रेम को समझते हो और तुम्हें

यह ज्ञात है कि प्रेम करने वाला कभी झूठ

नहीं बोलता तो इस बात को भी तुम बहुत

अच्छे से समझ लो कि यदि तुमने अपने प्रेमी

को समझ लिया तो ना ही तुम किसी के बहकावे

में आओगे और ना ही तुम अपने प्रेम से दूर

हो पाओगे मेरे बच्चे जब तुम अपने प्रेम को

नहीं समझते हो तभी किसी की बुरी नजर

तुम्हा

हद तक कामयाब होती है इसलिए ना तो तुम्हें

किसी की बातों में आना है ना ही ऐसे बिना

किसी की बातों को सुनते हुए किसी की और ना

ही ज्यादा सोच विचार करना है क्योंकि

ज्यादा सोच विचार करोगे तो तुम अभी भी वह

प्रेम प्राप्त नहीं कर पाओगे मेरे बच्चे

मेरी अंतिम चेतावनी है मैं तुम्हें आखिरी

बार समझा रही हूं यदि तुमने मेरी बातों को

ध्यान पूर्वक नहीं सुना और ध्यान नहीं

दिया तो तुम्हें मेरे अत्यधिक क्रोध का

सामना करना पड़ेगा इसलिए मैं तुम्हें यह

संदेश भेज रही हूं मेरे बच्चे इसलिए जो आज

बताने आई हूं ध्यानपूर्वक सुनना और समझना

क्योंकि इस बात को समझना बहुत ज्यादा

जरूरी है तुम्हारे लिए जीवन के रास्ते

रुकने के बहुत कारण होते हैं परंतु रास्ते

खुलने की बहुत कम वजह इसलिए तुम उन वजहों

को कभी अनदेखा मत करो क्योंकि गुनाह

तुम्हें बड़ी-बड़ी गलतियों से प्राप्त

होता है परंतु मेरे बच्चे पुण्य तुम्हें

छोटे-छोटे कार्य से ही प्राप्त हो जाता है

बड़ी-बड़ी गलती होगी तब भी छोटे-छोटे

कार्य से भी माफी मिल जाएगी लेकिन सबसे

पहले तुम्हें इस बात का ध्यान रखना अति

आवश्यक है कि तुम ऐसा कोई कार्य करो नहीं

जिससे तुम गुनाह के भागीदार बन बन जाओ यदि

जीवन में तुमसे कोई गलती हो जाती है तो

तुम उसको ध्यान में रखते हुए उसकी माफी की

याचना करते हुए कुछ ऐसे कार्य करो जिससे

तुम्हारी वह गलती की माफी तुम्हें मिल जाए

और आगे के सभी मार्ग तुम्हारे लिए खुल

जाएं मुझे ज्ञात है मेरे बच्चे कि पैसों

की आवश्यकता सभी को होती है परंतु यह मैं

तुम्हें कई बार समझा चुकी हूं कि गलत

मार्ग से पैसे यदि तुम अर्जित करते हो तो

तुम बहुत बड़ा पाप कर रहे हो तुम सोचते हो

कि घुमावदार काम करेंगे और दुनिया को

बेवकूफ बनाकर तुम पैसे अर्जित कर लोगे तो

यह तुम्हारी बहुत बड़ी भूल है मेरे बच्चे

क्योंकि वह पैसे तुम्हारे पास कुछ समय के

लिए तो आ जाएंगे लेकिन वह ऐसी जगह और ऐसे

कार्य में खर्च होंगे व्यर्थ की चीजों में

पैसे खर्च हो जाएंगे कहने का तात्पर्य है

कि वह बीमारी में या किसी दुर्घटना में

ऐसे कार्य में खर्च होंगे कि तुम्हारे

किसी मतलब के नहीं होंगे इसलिए पैसे को

ईमानदारी से कमा सकते हो मेरे बच्चे

ईमानदारी से कमाना और यदि जीवन में कोई

गलती हो जाती है तुमसे जाने अनजाने भूल से

तो तुम हर शनिवार को विष्णु देव पीपल के

वृक्ष में मां लक्ष्मी के साथ वास करते

हैं शनिवार के दिन सरसों के तेल का दिया

रख देना तुम्हें सभी गलतियों से वह स्वयं

माफ कर देंगे उनके माफ करते ही मुझसे भी

स्वतः ही माफी मिल जाएगी लेकिन मेरे बच्चे

इसके साथ ही इस बात का भी स्मरण रखना कि

तुम्हें गलत कार्य से किसी भी सूरत में

दूर रहना है हर दिन थोड़ी सी पूजा पाठ

करने से और कुछ भी मांगने से तुम्हारी

मनोकामना पूर्ण हो जाती है कहने का अर्थ

यह है मेरे बच्चे कि यदि तुम अपनी गलतियों

की माफी मांगते हुए इस कार्य को करते हो

तो माफी मिलती है यदि तुम्हारे जीवन में

नुकसान हो रहा होता है वह भी दूर हो जाता

है सतर्क होना होगा और ध्यान रखना होगा कि

तुम्हें अपने अच्छे दिनों के लिए

क्या-क्या करना है मेरे बच्चे मेरा

आशीर्वाद सदा तुम्हारे साथ है मेरे अगले

संदेश की प्रतीक्षा करना ओम नमः शिवाय

माली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *