माँ काली तुम्हारी मेहनत का फल पाने का उचित समय आ गया है। इसे अनदेखा ना करें। - Kabrau Mogal Dham

माँ काली तुम्हारी मेहनत का फल पाने का उचित समय आ गया है। इसे अनदेखा ना करें।

मेरे

बच्चे क्या हुआ क्यों तुम इतने विचलित

हो मैं देख रही

हूं कि तुम किस दुख से गुजर रहे

हो चिंता ना

करो जिस समस्या का

सामना तुम दो वर्षों से कर रहे

हो उसका समाधान हो ही वाला

है मेरे बच्चे कल की

सुबह तुम्हारे लिए सौभाग्य से कम नहीं

है आज का सूर्यास्त होने के

साथ तुम्हारे दुखों का अंत भी हो

जाएगा और कल का

सूरज तुम्हारे लिए नया सवेरा नया

जीवन और न खुशी लेकर

[संगीत]

आएगा मेरे बच्चे तुमने बहुत संघर्ष किया

है अपने करियर में अपने रिश्तों को

सुधारने

में तुमने बहुत समय खर्च किया

[संगीत]

है परंतु तुम्हें कभी वह खुशी वह संतुष्टि

नहीं मिले जिसके तुम योग्य

हो परंतु अब तुम्हें वह खुशी

वह सफलता

मिलेगी मेरे बच्चे बुरे दौर का अंत हो

चुका

है लोगों ने बहुत रुलाया है

तुम्हें तुम्हें कमजोर और अकेला समझकर

तुम्हें बहुत परेशान किया

है तुम बहुत भोले

हो कोई तुम्हें गलत भी

बोले

तो भी तुम उसे माफ कर देते

हो ऐसा नहीं है कि तुम जवाब नहीं दे

सकते परंतु तुम किसी से उलझना नहीं

चाहते इसलिए लोगों ने तुम्हें मूर्ख समझ

लिया तुम्हारे प्रेम का तुम्हारे विश्वास

का हमेशा फायदा उठाया

है मेरे बच्चे इस संदेश के माध्यम

से मैं तुमसे कुछ कहना चाहती

हूं मैं तुम्हें बताना चाहती

हूं कि तुम कितनी बड़ी गलती कर रहे

हो मेरे बच्चे बालपन से

ही तुम शांत और सरल स्वभाव के

हो तुम शीघ्रता से क्रोध नहीं

करते प्रेम और शांति का जीवन जीना चाहते

हो परंतु यह तुम भी जानते

हो कि तुमने जितना लोगों को प्रेम दिया

सम्मान दिया उतना ही तुम्हारे

साथ लोगों ने विश्वास घात

किया तुम्हें दुख

दिया तुमने जिसे अपना

समझा उसने ही तुम्हें अपार पीड़ा

दी जिस कारण तुम कुछ वर्षों

तक मानसिक तनाव से गुजरे

हो कई घटनाएं तुम्हारे जीवन में ऐसी हुई

हैं जिसे तुम अब भी याद करते

हो परंतु बार-बार दुख मिलने के बाद

भी तुम्हारे स्वभाव में कोई परिवर्तन नहीं

आया है

तुम आज भी प्रेम के भूखे

हो तुमने अपनी गलतियों से कोई सीख नहीं

ली तुम सोचते तो बहुत

हो कि अब किसी पर विश्वास नहीं

करोगे किसी को अपना नहीं

समझोगे परंतु वह कुछ दिन तुमसे मीठी बातें

कर

ले तो तुम उसे सीधा सच्चा और अपना समझने

लगते हो और फिर वही लोग तुम्हारे जीवन से

खेल कर चले जाते हैं मेरे बच्चे मैं यह

नहीं

कहती कि तुम गलत

हो परंतु बिना सोचे

विचारे किसी पर विश्वास

करना किसी से प्रेम करना गलत

है मेरे बच्चे अपनी आदतो

को समय रहते सुधार लो क्योंकि तुम्हारे

जीवन का बहुत बड़ा लक्ष्य

है तुम्हारी ऊर्जा रिश्तों को सुधारने में

व्यर्थ हो रही है मेरे बच्चे तुम बहुत

चंचल प्रकृति के

हो तुम्हें लोगों से मिलना बात

करना और बहुत सारे मित्र बनाना अच्छा लगता

है और तुम में भी वह आकर्षण

है कि लोग शीघ्र ही तुम्हें अपना बना लेते

हैं परंतु कई बार तुम्हारे ही अति के

कारण तुम्हारे संबंध खराब हो जाते

हैं तुम्हारी एक बहुत बुरी आदत

[संगीत]

है किसी एक चीज को पकड़ कर

रखना अत्यधिक किसी व्यक्ति को

जब तुम किसी को अपना मान लेते

हो तो उसे अपने जीवन में सर्वश्रेष्ठ

स्थान देते

हो उसे ही खुश करने में तुम्हारी पूरी

ऊर्जा चली जाती

है हर समय उससे बात

करना उसके आसपास रहना तुम्हारी आदत बन

जाती

है ऐसे में वह

व्यक्ति तुम्हारा और तुम्हारे प्रेम का

मूल्य समझ ही नहीं

पाता और तुम्हारी भावनाओं से खेलकर चला

जाता

है तब तुम्हें अथाह पीड़ा होती

है मेरे बच्चे होश पूर्वक किया

गया कोई भी कार्य सही होता

है फिर चाहे वह कोई महत्त्वपूर्ण निर्णय

हो या किसी से प्रेम हो

प्रेम जीवन का आधार

है सुख पूर्वक जीवन जीने के

लिए प्रेम आवश्यक

है परंतु तुम किससे प्रेम कर रहे

हो और क्यों कर रहे हो यह जान लेना

महत्त्वपूर्ण है मेरे बच्चे अधिक मित्र

होने से अच्छा

है कि कोई एक मित्र अच्छा

हो जिसके साथ तुम जीवन को ऊंचाई तक ले जा

सको जिसकी संगति में तुम्हारी

बुद्धि तुम्हारी चेतना का स्तर ऊंजा

हो मेरे बच्चे तुम बहुत मेहनती

हो बहुत सच्चे हो बस यही एक त्रुटि सुधार

लो फिर तुम्हें कोई खुश रहने से सफल होने

से रोक नहीं सकता यह संदेश मिलने का अर्थ

यह है

कि बहुत जल्द तुम्हारे जीवन

में एक छोटा सा भटकाव आने वाला

है कोई व्यक्ति है वह तुम्हें अपनी बातों

में भावनाओं में उलझा करर पत भ्रष्ट करना

चाहता

है परंतु तुम अपने लक्ष्य से दृष्टि मत

हटाना तुमने बहुत मेहनत की है और उस मेहनत

का उचित फल पाने का

उचित समय आ गया

है खुश रहो मेरा आशीर्वाद तुम्हारे साथ

है तुम्हारा दिन मंगलमय

हो सच्चे मन से

कहो जय

माहाकाली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *