माँ काली तुम्हारी आंखों का तेज उसे जलाकर भस्म कर देगा। अब अपनी सच्चाई सुन लो। - Kabrau Mogal Dham

माँ काली तुम्हारी आंखों का तेज उसे जलाकर भस्म कर देगा। अब अपनी सच्चाई सुन लो।

मेरे

बच्चे मैं जानती

हूं तुम जो कुछ भी सोच रहे

हो सब कुछ उसके विपरीत हो रहा

है परंतु तुम्हें हार नहीं

मानना डटे रहना

है पूरी ऊर्जा पूरी हिम्मत के

साथ हर समस्या का सामना करना है

क्योंकि तुम अब सफलता के इतने करीब आ गए

हो कि किसी भी

समय तुम्हारे भाग्य का सिक्का पलट सकता

है मैं देख रही

हूं इस समय तुम्हारी ऊर्जा निम्न तल पर जा

रही

है तुम्हें स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याएं

हो रही हैं

हर समय पूरे शरीर में दर्द रहता

है आलस और थकान से भर गए हो

तुम तुम्हें बहुत अधिक क्रोध आ रहा

है किंतु तुम्हारे क्रोध का कारण यह भी

है कि तुम जो करना चाहते हो वह कर नहीं पा

रहे

हो जैसे तुमने भविष्य के सपने देखे

जो खुशियां अपने परिवार

को अपनों को देने का तुमने वादा किया

है वह वादा तुम्हें टूटता हुआ दिखाई दे

रहा

है तुम्हारा मन निराशा की गहरी खाई में

गिरा जा रहा

है तुम्हें कुछ भी समझ में नहीं आ रहा

है कि आखिर प्रकृति तुम्हारे साथ क्या खेल

खेल रही

है मेरे बच्चे तुम्हारे कर्म बहुत पवित्र

और निश्छल

है प्रकृति जो कुछ भी तुम्हें दे रही

है उसे खुले मन से स्वीकार

[संगीत]

करो यह तुम्हारे लिए हितकारी

होगा यदि प्रकृति पर नहीं तो अपने पर

भरोसा

रखो तुम्हें वह खुशी वह सफलता अवश्य

मिलेगी जिसके तुम पात्र

हो मेरे बच्चे यह याद

रखना तुम बहुत शक्तिशाली

[संगीत]

हो जिन समस्याओं ने तुम्हारी आंखों में

आंसू ला

दिए यदि तुम अपनी क्षमता खाने पर आ

जाओ तो हर समस्या हर

मुश्किल तुम्हारे समक्ष घुटने टेक

देगी जिसे सोचकर तुम्हें सुकून की नींद भी

नहीं

[संगीत]

आती वह तकलीफें तुम्हारे

सामने धूल के कण के समान भी नहीं

है तुम घबरा इसलिए रहे हो

[संगीत]

क्योंकि तुम अपने भीतर छुपे रहस्यों

से पूरी तरह से अनभिज्ञ

हो आज उन्हीं रहस्यों को उजागर करने आई

हूं

मैं मेरे बच्चे तुम्हें लगता

है कि तुम्हारा कोई सम्मान नहीं

[संगीत]

करता हर कोई तुम्हारे दिल से खेलकर चला

जाता

है जिसके मन में जो आता

है वह तुम्हें बोलकर चला जाता

है तुम्हें उनकी बातों से कितनी तकलीफ

हुई इसकी परवाह कोई नहीं

करता यहां तक कि तुम्हारे कुछ खास सपने

भी तुम सोच हो ऐसा इसलिए

है क्योंकि तुम बहुत भोले

हो तुम्हारी आंखों में प्रेम है दया

है तुम किसी को दुख नहीं

पहुंचाते किसी का अपमान नहीं

[संगीत]

करते किसी की गलत बातों का जवाब नहीं

[संगीत]

देते इसलिए लोग तुम्हें कमजोर और कमतर आते

हैं और अपनी इच्छा

अनुसार तुमसे व्यवहार करते

हैं मेरे बच्चे जो लोग तुम्हें कमजोर

समझते

हैं तुम्हारा अपमान करते हैं तुम्हें

उल्टा सीधा बोलते

हैं वह अपने स्वभाव के अनुसार कार्य कर

रहे

[संगीत]

हैं इसमें उनका कोई दोष

नहीं दोष केवल तुम्हारा

[संगीत]

है क्योंकि तुमने स्वयं को नहीं

पहचाना मेरे बच्चे तुम में प्रेम है तो

क्रोध भी है दया है तो क्रूरता भी

है सहन शक्ति है तो संघार करने की क्षमता

भी

है किंतु तुमने सदैव प्रेम को ही महत्व

दिया सहना सीखा है सहना उचित

है किंतु कहां सहना है कहां कहना

है किसे प्रेम करना है किसका संघार करना

है तुम्हें ज्ञात ही

नहीं तुम नहीं जानते कि तुम्हारी आंखों

में केवल प्रेम और दया

नहीं बल्कि क्रोध की अग्नि और आत्मरक्षा

का वह तेज

है जो किसी के तीखे शब्दों को जलाकर राख

कर सकते

हैं तुम्हारी ओर उठने

वाली हर कु दृष्टि का संघार कर सकती

है मेरे बच्चे अभी उचित समय है

अपनी छुपी ऊर्जा को जागृत

करो अपने सम्मान के लिए अपनी खुशियों के

लिए अपनी सुरक्षा के लिए लड़ना

सीखो मैं यह नहीं

कहती कि तुम्हें कोई अप शब्द कह

दे तो तुम उससे लड़ने लग

जाओ किंतु यदि कोई बार-बार तुम्हें परेशान

करे तो सहना भी

मत यही धर्म

है हाल फिलहाल में कुछ

लोग तुम्हें बहुत परेशान कर रहे

हैं हालांकि वह तुम्हें शारीरिक क्षति

नहीं पहुंचा

रहे किंतु तुम्हारी आत्मा पर घाव कर रहे

हैं तुम्हारी भावना से खेल रहे

हैं जिसके कारण तुम अपना

ध्यान अपनी तरक्की पर नहीं लगा पा रहे

हो अधिक मानसिक तनाव होने के

कारण तुम शारीरिक रूप से भी कमजोर हो रहे

हो मेरे बच्चे बहुत बड़े बदलाव

के बहुत करीब आ गए हो

तुमने जिसके लिए दिन रात कड़ी मेहनत

की अब कुछ लोग तुम्हें भ्रमित कर रहे

हैं अपनी बातों अपनी मोह में उलझा

करर तुम्हें मार्ग से भटकाने का प्रयास कर

रहे

[संगीत]

हैं यही सही समय है संभल

जाओ ऐसे लोगों से ऐसी मित्रता से ऐसे

प्रेमी से से दूर

रहो जो तुम्हें आगे बढ़ने से रोक रहा

है ध्यान रहे तुम्हें वह मिलने वाला

है जिसके लिए तुम बहुत तर से

हो सफलता के इस अंतिम पड़ाव

[संगीत]

पर यदि तुमने कोई छोटी सी भी त्रुटि कर

दी तो तुम बड़ी कामयाबी से चूक जाओगे

खुश रहो सतर्क

रहो मेरा आशीर्वाद तुम्हारे साथ

है तुम्हारा कल्याण

हो सच्चे मन से

कहो जय माहाकाली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *