माँ काली कोई इस भेष को बदलकर तुम्हारे घर आने वाला है ।। - Kabrau Mogal Dham

माँ काली कोई इस भेष को बदलकर तुम्हारे घर आने वाला है ।।

मेरे बच्चे तुमको मेरा संदेश मिलना कोई

इत्तेफाक नहीं बल्कि कोई है जो अपने साथ

कुछ गलत करना चाहता है अर्थात वह खुद के

साथ एक ऐसा अन्याय कर रहा है जिसको करने

से तुम्हें रोकना है और वह क्या अन्याय है

वह तुम्हें मैं आज ज्ञात भी

कराऊंगा कि तुम्हारा कोई अपना बहुत बड़ी

मुसीबत में फंस रहा है उसके मन में जो

दुविधा चल रही है उसको लेकर बहुत बड़ी

टेंशन है और वह उनसे निकल नहीं पा रहा

कहीं ऐसा ना हो कि तुम उन बातों को जान ना

पाओ तुम्हारी इस गलती के कारण तुम्हें बाद

में रोना या पछताना पड़े इसलिए समय रहते

उसको समझा बुझाकर सही रास्ते पर लाने का

जिम्मा तुम्हारा है मैं केवल तुम्हें

संकेत बताऊंगी कि उसके जीवन में क्या चल

रहा है और तुम्हें कैसे भी हो क्योंकि

उसके दिल में गलत भावना उत्पन्न हो रही है

वह अपने जीवन की समाप्ति करना चाहता है

नहीं चाहता इस जी जी वन को जीना और वह

चाहता है कि वह इस संसार को छोड़कर चला

जाए लेकिन मेरे बच्चे जीवन में बहुत बार

ऐसा होता है कि कुछ घटनाएं ऐसे ही जाती

हैं इंसान के साथ जब इंसान को ऐसा लगता है

खुद का जीना मुश्किल लगने लगता है लेकिन

ऐसे में अपने किसी भी कीमत पर हुए अपने आप

आपको सहारा देने के साथ-साथ ऐसे भी है जो

अपनों का सहारा मिल जाता है तो उसी तरीके

से काम करता है जिस तरीके से गिरते हुए

पेड़ को यदि सहारा मिल जाता है तो वह संभल

जाता है क्योंकि जो कोई तुम्हारा अपना है

जो अपने साथ कुछ गलत करने वाला है दरअसल

वह किसी तरह चक्रव्यू में फस गया है और

उसका कारण है कि वह उसका भोलापन उसके

भोलेपन के कारण उसने इस संसार में छली

लोगों को पहचाना नहीं और ऐसे में वह फस

चुका है जिससे वह निकल नहीं पा रहा इसी

कारण वह अपने आप के साथ अत्याचार करने का

प्रयास कर रहा है लेकिन तुम्हें पह चानना

है यदि वह गुमसुम रहने लगा है आपसे कटा

कटा रहने लगा है या आपकी कोई बात को सुनकर

भी कहीं खोया खोया रहता है यदि उसके

बर्ताव में बदलाव आ रहा है और आपको ऐसा

लगता है कि मन ही मन कोई आपका अपना बहुत

ज्यादा सोच में डूबा रहता है तो आपका धर्म

बनता है कि आप उसके साथ बैठे और उससे मन

की बातें पूछे जिससे कि वह आपको अपने मन

की बातें बता सके तो कि अगर उसने अपने मन

का बोझ हल्का नहीं किया तो यह जो बातें

उसके मन में चल रही हैं यह उसे अपने जीवन

को समाप्ति की ओर ले जाने के लिए मजबूर कर

देंगे और आप देखते ही देखते उसको खो

बैठेंगे इसलिए उससे अच्छा है कि समय रहते

ही आप उसे एक ऐसा नया मोड़ दें कि जीवन

में जो उसके साथ गलत हुआ जिसने भी किया और

जो भी गलत हुआ है उससे उसको उभरना होगा और

अपने जीवन को नया मोड़ देने के साथ जीवन

को नए तरीके से जीना होगा पुरानी बातों को

भूलकर क्योंकि यदि वह पुरानी बातों को

नहीं भूला तो बातें हमेशा उसका पीछा करती

रहेंगी और वह हमेशा सोच में डूबा है और

सोच में डूबा हुआ व्यक्ति ज्यादा चिंतित

रहता है जो अपने जीवन को जी नहीं सकता और

ऐसे में जीवन का समाप्त होना निश्चित हो

जाता है जिससे आपको ही उसे बचाना है

क्योंकि अगर उसके मन का भोज बढ़ता चला

जाएगा तुम्हें अंदर ही अंदर से खोकला कर

देगा उसके जीने का सहारा उससे छीन लेगा वह

एक शक्ति एक आत्मविश्वास होता है और एक

उम्मीद होती है जीने की वह भी छीन जाती है

और इंसान रिश्ते को तोड़ने की कोशिश आपसे

भी बहुत दूर चला चाहता है मैं सदैव

तुम्हारे साथ

हूं मेरे बच्चे मैं तुम्हारी मां काली

तुम्हें कुछ बताना चाहती हूं क्या

तुम्हारे पास आज मेरे लिए थोड़ा समय है

यदि हां तो तुम मेरी बात को पूरा सुनना

तभी समझ पाओगे कि मैं तुमसे क्या कहना

चाहती हूं और मेरी बात को पूर्ण रूप से

समझना तुम्हारे लिए अत्यंत आवश्यक है तभी

तुमको समझ में आएगा कि तुमको क्या कब कैसे

करना है और कौन सा कार्य सही कौन सा कार्य

गलत है यदि तुम यह समझ जाओगे तो जीवन में

निश्चित ही आगे बढ़ते कदम गलत मार्ग पर

नहीं जाएंगे साथ ही तुमको पूर्ण ज्ञान भी

होगा जिससे कि तुम जीवन भर सुख भोग करर

मोक्ष प्राप्त करोगे और तुम्हारे जीवन का

असली सार है उस शक्ति को समझना बहुत जरूरी

है जो तुम्हारे साथ तो है परंतु तुम्हें

साधारण आंखों से दिखाई नहीं देगी उसे तुम

महसूस तो कर सकते हो हो लेकिन देख नहीं

सकते यदि देखना चाहते हो तो तुम देख सकते

हो लेकिन तुम्हें उस शक्ति को देखने के

लिए मन की आंखों की आवश्यकता होगी तो मन

की आंखों से उस शक्ति को देख सकते हो उस

शक्ति को केवल देख सकता है जिसके अंदर यह

कुछ गुण होते हैं संसार में तुम केवल इन

बातों को समझो जिस प्रकार मैं पार्वती मां

काली मां के रूप में तुम्हारे समक्ष तुमसे

मिलती हूं उसी प्रकार जीवन में कौन सा

व्यक्ति किस रूप में आकर तुम्हें मिलता है

तुम्हें उसके असली रूप को पहचानना होगा

क्योंकि कोई भी भी ऐसा व्यक्ति जो

तुम्हारे जीवन को संवार सकता है या बिगाड़

सकता है उसके हृदय पर निर्भर करता है और

तुम्हें वह चीज पहचानना बहुत जरूरी है

किसी के साथ रहने से तुम्हारा मान सम्मान

बढ़ता है तो तुम समझ लो कि वह व्यक्ति

तुम्हारे जीवन में एक भगवान के समान है

क्योंकि ऐसा व्यक्ति निश्चित ही अच्छे

कार्य करता होगा दूसरा यदि तुम किसी ऐसे

व्यक्ति के साथ रहते हो उसके साथ रहने पर

तुम्हारा सम्मान गिरने लगे तो ऐसे व्यक्ति

का साथ तुरंत छोड़ दो क्योंकि वह व्यक्ति

जो दूसरों की नजरों से गिरा हुआ है या

दूसरे उसे सही नहीं समझते यदि तुम उसके

साथ रहोगे तो निश्चित ही तुम भी वैसे ही

बन जाओगे जिस प्रकार एक चोर महापंडित के

साथ एक साल रहे तो वह पंडित के सभी गुणों

को अपना लेता है उसी प्रकार जो जिसके साथ

रहता है वैसा ही बन जाता है क्योंकि साफ

पानी में तुम जिस चीज को मिला दोगे उसका

रंग वैसा ही हो जाएगा दूध को मिलाओ ग तो

सफेद हो जाएगा लाल रंग को मिलाओ ग तो लाल

हो जाएगा पीले रंग को मिलाओ ग तो पीला हो

जाएगा यदि तुम उसमें राख मिला दोगे तो

निश्चित ही वह काला और बेकार हो जाएगा इसी

तरह तुम्हारा जीवन है तुम्हा रा साथ किसी

के स्पर्श से गंदा ना हो उससे बचना

तुम्हें बहुत जरूरी है क्योंकि जीवन में

सही वही है जिसे लोग सही समझते हैं यदि

तुम सही होकर भी किसी गलत के साथ रह रहे

हो तब भी तुम्हें लोग सही नहीं समझेंगे और

संसार की नजरों से गिरा हुआ व्यक्ति

निश्चित ही अपने सम्मान को खो बैठता है और

उसके साथ ही अपने मन के संतुलन को क्योंकि

जब तुम्हारा सम्मान ही नहीं रहेगा तो तुम

पूरे संसार में कमाए हुए धन का क्या करोगे

प्राप्त की हुई चीजों का कैसे इस्तेमाल कर

पाओगे संसार के लोगों की नजरों में सही

होकर भी गलत हो जाता है और अच्छा होकर भी

बुरा हो जाता है इसलिए यदि तुम सही हो तो

सही दिखना भी पड़ेगा जीवन में पैसे कमाए

भी जाते हैं और खर्च हो जाते हैं लेकिन

तुम्हारा कमाया हुआ असली धन केवल तुम्हारा

आचरण है जिसने आचरण को सही रख लिया उसने

जीवन में सबसे बड़ी धन दौलत को कमा लिया

अब निर्भर तुम पर करता है कि तुम अपने लिए

क्या चुनो ग जय मां काली तुम्हारा कल्याण

हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *