माँ काली के प्रिय भोग कौन कौन से है || mata kali ke priya bhog || - Kabrau Mogal Dham

माँ काली के प्रिय भोग कौन कौन से है || mata kali ke priya bhog ||

तो अगर आप मेरे चैनल पर नए हैं तो मेरे

चैनल को सब्सक्राइब कीजिए लाइक कीजिए शेयर

कीजिए साथ ही नोटिफिकेशन बेल को भी प्रेस

कीजिए जिससे मेरी आने वाली वीडियो का

नोटिफिकेशन आपको तुरंत मिल जाए मित्रों आज

का जो विषय है वो विषय ये है की मैन काली

को कौन-कौन से वोट प्रिया हैं देखिए मेरे

से बहुत सारे सब्सक्राइबर हैं या

बच्चे भी मुझे व्हाट्सएप पर मैसेज करते

रहते हैं तो मुझसे पूछते हैं की मैन मैन

को मैन काली को ऐसे कौन से भोग लगे जिससे

मैन प्रसन्न हो जाए और उनके प्रिया भोक

कौन-कौन से होते हैं हम इसका कोई ज्ञान

नहीं है तो ऐसी परिस्थिति में बच्चे

कंफ्यूज रहते हैं उनको नहीं पता होता की

मैन को हमें क्या भोग अर्पण करना चाहिए

जिससे मैन भगवती उनके ऊपर कृपा करें अपनी

दया बरसाए तो उसी से संबंधित यह वीडियो है

वीडियो का पूरा सुनेगा तभी आपको पुरी बात

समझ में आएगी

देखिए मैन काली इस संसार में एक प्रचंड

शक्ति है उग्र शक्ति है उनको प्रसन्न करने

के लिए मनुष्य को थोड़ा परिश्रम तो करना

पड़ता है मैं यह नहीं कहती क्योंकि कोई भी

चीज आपको प्लेट में तैयार नहीं मिलती है

क्योंकि होटल सिस्टम नहीं चलता है भक्ति

के मार्ग में उसमें आपको खुद ही उगाना

पड़ता है और तोड़ना पड़ता है पकाना पड़ता

है तब जाकर के वो भोजन तैयार होता है तभी

उसको आपको मैन भगवती उसका फल आपको देती है

तो ऐसी परिस्थिति में मैन को मनाने के लिए

आपको परिश्रम करना होता है सच्ची भावना

आपके मैन में होनी चाहिए मैन के प्रति

समर्पण होना चाहिए और मैन काली को सबसे जो

महत्वपूर्ण चीज है वह पसंद होती है सबसे

प्रिया चीज उनको यह पसंद होती है की उनका

जो बच्चा है उनका जो भक्त है वह अपने वचन

का पक्का

मुझे वह दे दो लेकिन वह कभी यह नहीं कहता

मैन आप मुझे ये दोगी तो मैं आपको ये दूंगा

आप मेरे लिए यह करोगी तो मैं आपके लिए वो

करूंगा अगर आप ऐसा कोई भी वचन मैन भगवती

से कर लेते हैं तो उसे परिस्थिति में मैन

वचन पर एड जाती है और जब मैन वचन पर जाती

है तो मैन को आप खिला नहीं सकते

फिर आप चाहे कितनी भी जिद करें कितनी भी

प्रार्थना करें मैन नहीं मानती है मैन को

मानना पड़ता है इसलिए वचन वाली भक्ति ना

करें मैन मरवाती से वचन ना भरे मैं यही

बात कहती हूं सबसे की आप मासी कोई वचन ना

करें ना ही किसी देवी देवता से वचन करें

वचन करने के बाद आप फैंस सकते हैं अगर आप

अपने वचन को पूरा नहीं करते हैं और अगर आप

वचन को पूरा नहीं करते हैं तो आने वाली जो

आपके आगे के कम होते हैं वह अटक जाते हैं

और वह कार्य रुक जाते हैं क्योंकि आपने

अपना पुराना वचन पूरा नहीं किया तो ऐसी

परिस्थिति में वचन ना भारी मैन भगवती से

अगर आप मैन भगवती को भोग देना चाहते हैं

अगर दिन निश्चित करना चाहते हैं तो दिन

निश्चित करें और अगर दिन निश्चित नहीं

करना चाहते हैं तो सुविधा अनुसार मैन

भगवती को भोग दें यानी जब आपको सुविधा हो

तब आप मैन को भोग दें कोई एक विशेष दिन आप

अगर नहीं निश्चित करना चाहते तो जब कहीं

जैसे की आप मंदिर जा रहे हैं मैन काली के

मंदिर जाते हैं वहां पर जब जाते हैं तभी

भोग लगा दे ये नहीं की मैन मैं हर शनिवार

को ही ए रहा हूं या मैं हर

तुम्हें कोई ए रहा हूं या हर मंगलवार को

ही मैं ए रहा हूं जब भी मेरा मौका लगता है

मैन मैं आता हूं आपको वो अर्पण करके चला

जाता हूं

तो उसमें मैन को कुछ बुरा नहीं लगता लेकिन

अगर आप मैन से वचन भर लेते हैं मैन में

शनिवार में आऊंगा आपका भोग दूंगा तब मैन

भगवती आपकी प्रतीक्षा करती है यानी वो

प्रतीक्षा करती है की बच्चा पिछले शनिवार

में आया था इस शनिवार को बच्चा क्यों नहीं

आया क्या कारण है तो महामाई आपकी

प्रतीक्षा करती हैं क्योंकि देवता भी

हमारी परीक्षा करते हैं सॉरी प्रतीक्षा

करते हैं तो ऐसी परिस्थिति में जब आप मैन

को भोग देना चाहते हैं देखिए भोग देने के

कई तरीके होते हैं यानी भोग मा भगवती को

तीन प्रकार से दिया जाता है

जो गृहस्थी व्यक्ति हैं जो सात्विक

व्यक्ति हैं यानी सात्विक रूप से पूजा

करते हैं वैष्णव मार्ग से पूजा करते हैं

एक तो होता है

एक होता है तामसिक भोग जो तंत्र में दिया

जाता है यानी तंत्र के माध्यम से दिया

जाता है जो तंत्र साधना करते हैं श्मशान

साधना करते हैं श्मशान काली के साथ ना

करते हैं एक उसे प्रकार से भोग दिया जाता

है और एक दिया जाता है

वह महामाया के लिए दिया जाता है यानी धन

संपदा के लिए और

राजस्व को प्राप्त करने के लिए राजसिक भोग

मैन भगवती को दिया जाता है तो इस प्रकार

से तीन प्रकार से मैन भगवती को भोग दिया

जाता है

है लेकिन आज जो हम बात करेंगे आने वाली

वीडियो में मैं आपको तांत्रिक भोग के बारे

में भी बताऊंगी और राजसिक भोग के बारे में

भी बताऊंगी लेकिन अब जो मैं आपको बताऊंगी

वो केवल आपको सात्विक भोग के माध्यम से

मैन भगवती को आप कैसे प्रसन्न करते हैं वह

मैं आपको बताती हूं देखिए अगर आप एक

ग्रस्त व्यक्ति हैं मैन भगवती की पूजा

करना चाहते हैं मैन काली की पूजा करना

चाहते हैं और सात्विक मार्ग से करना चाहते

हैं यानी आप एक ऐसे व्यक्ति हैं जो लहसुन

प्याज भी नहीं खाती आप इतने सात्विक हैं

इतने शुद्ध हैं लेकिन मैन काली के प्रति

आपके मैन में अतः प्रेम है और आप मैन के

चरणों में समर्पित हैं तो ऐसी परिस्थिति

में आप मैन भगवती को खीर कब भोग लगा सकते

हैं गे की दूध की खीर बना करके मैन भगवती

को अर्पण कर सकते हैं सफेद चीज की वह कब

होगी यानी सफेद मिठाई का मैन भगवती को भोग

लगे प्रकार की मिठाई मैन भगवती को अर्पण

करें मैन को बहुत पसंद है या प्रकार

की मिठाई मैन को अर्पण करें यह सात्विक

भोग है सभी सातवीं

मैन को पैन पेड़ बहुत अति प्रिया होते हैं

तो मैन को पानी पाइड कब होगा अर्पण कर

सकते हैं मैन को सफेद पीढ़ी यानी सफेद

पेड़े जैसे की जो सफेद मावे के माध्यम से

तैयार किए जाते हैं बिना भुने मावे के जो

पेड़े होते हैं वो मैन को बहुत पसंद है वह

पेड़े मैन भगवती को आप पर्पण करें

हलवा मैन को विशेष प्रिया होता है और हलवा

भी कुछ इस रंग का होता है जिसमें आप सूजी

को ज्यादा भून देते हैं यानी जो सामने रंग

का हो जाता है तो ऐसा हलवा मैन भगवती को

प्रसन्न होता है मैन वैष्णो के लिए जो

हलवा बनाया जाता है वह पीले सुनहरे रंग का

बनाया जाता है लेकिन मैन काली के लिए जो

हलवा बनाए जाते हैं वह डार्क कलर का बनाया

जाता है यह आप विशेषण है

मैन को जो पीएम हो गया सबसे बड़ा वह मैन

को एक तो आप पैन दे सकते हैं मीठा पैन मैन

भगवती को बहुत पसंद है मैं आई पैन के बिना

किसी भोग को पसंद नहीं करती है इसलिए अगर

आप छोटा बड़ा कोई भी भोग देने जाते हैं तो

मैन के लिए एक मीठा पैन अवश्य लेकर जाए

क्योंकि मैं तो लेकर जाती हूं अगर मैं कुछ

भी नहीं लेके जाती दर्शन मात्रा के लिए

जाती हूं तो वे मैन के लिए पाना अवश्य

लेके जाती हूं तो मैन को पैन बहुत प्रिया

है इसलिए मीठा पैन आप मैन भगवती को अर्पित

कर सकते हैं

मैन को आप जायफल का भोग दें जायफल की बाली

दी जाती है मैन को लौंग इलायची की भूक दे

सकते हैं लौंग इलायची पैन और पंच या सात

पतासो कब होगा आप मैन भगवती को दे सकते

हैं लेकिन हम सात्विक लोग हैं इसलिए मदिरा

का भोग नहीं लगा सकते यानी शराब हम मैन

भगवती को नहीं चड्ढा सकते क्योंकि हम

सात्विक लोग हैं तो ऐसी परिस्थिति में

भगवती को अर्पण करें यानी अनार का रस जो

होता है वह रक्त का प्रतीक होता है तो

इसलिए अनार के रस का प्रयोग करें मैन

भगवती को anarpan करें लाल अनार जो अंदर

से लाल दानो वाला हो इस प्रकार का अच्छा

नर देखे और दाग रहित दाग वाले फल मैन

भगवती को बिल्कुल भी आप अर्पण ना करें यह

आप विशेष ध्यान रखें अनार में कोई दाग ना

हो बिल्कुल और अंदर से भी लाल हो कोशिश

करें

है तो इस प्रकार से मैन भगवती को आप अनार

का रस और अनार भी मैन भगवती को अर्पण कर

सकते हैं मैन काली को आते का हलवे का भोग

भी लगता है आते का हलवा बनाए घर पर देसी

घी का हलवा बनाएं क्योंकि कोई भी वस्तु

होती है मैन को वो शुद्ध से शुद्ध चीज में

बनी हुई होनी चाहिए इसलिए आपको अगर हलवा

बनाना है तो शुद्ध देसी घी का हलवा बनाएं

आते का हलवा मैन भगवती को बहुत पसंद होता

है घी अच्छा खास डालें उसमें कम घी का

हलवा ना बनाएं मैन के लिए हमने तो हम जब

भी बनके कभी ले जाते हैं तो घी ऊपर तक टर

रहा होता है इतना ऐसा हलवा हम मैन को देते

हैं लेकिन जो इनकी सामर्थ्य नहीं है जिनकी

समर्थ नहीं है आप मेरे बताए हुए किसी भी

भूख से मैन भगवती को प्रसन्न कर सकते हैं

इसमें मैंने हर व्यक्ति के लिए हर प्रकार

का बताया है क्योंकि महामाई केवल आपसे

क्या चाहती हैं केवल आपसे समर्पण चाहती

हैं

वह आपके अंदर धर्म जागृत करती हैं यानी जब

आप उनको भोग देते हैं तो आपका धर्म जागृत

होता है आपका जो धन खर्च होता है वह

धार्मिक कार्यों में खर्च होता है तो

बिरयानी इसमें भी आपके लिए कुछ अच्छा ही

करती हैं तो मित्रों यह कुछ सातवें भोग है

मैन काली

आप मैन काली को आसानी से प्रसन्न कर सकते

हैं उसके बाद भी अगर आपके मैन में कोई

जिज्ञासा रह जाती है तो आप मुझे कमेंट

करें मैं जरूर उसे पर कोई ना कोई वीडियो

बनाऊंगी जैसा भी होगा आपकी समस्या का

समाधान करूंगी मैन भगवती की कृपा से और यह

जानकारी आपके लिए थी महामही से यही

प्रार्थना करती हूं की वो आपके भंडारे

बढ़ती रहे आपकी सभी manokamnaon को पूर्ण

करती रहे आपसे फिर मिलती हूं अपने अगली

वीडियो में तब तक के लिए जय महाकाल जय

महाकाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *