माँ काली का सन्देश आज से तुम्हारी किस्मत बदलने वाली है मां काली का संदेश - Kabrau Mogal Dham

माँ काली का सन्देश आज से तुम्हारी किस्मत बदलने वाली है मां काली का संदेश

मेरे बच्चे भले ही तुम कितनी भी गलतियां

कर लो मगर यदि तुम स्वयं से सच्चे हो तो

तुम सफल अवश्य

होंगे हर दिन कुछ ना कुछ सीखकर तुम एक नए

रूप में परिवर्तित हो रहे

हो तुम्हें जीवन में स्वयं को कभी भी धोखा

नहीं देना चाहिए चाहे तुम किसी से सच्चे

होना हो परंतु तुम्हें स्वयं से सदैव

सच्चा रहना चाहिए

जो व्यक्ति स्वयं से झूठ बोलता है या अपने

ही मन को धोखा देने का प्रयास करता

है वह व्यक्ति कभी प्रसन्न नहीं रह सकता

है संसार में तीन चीजें अधिक समय तक छुपी

नहीं रह सकती

हैं सूर्य चांद और सच यदि तुम स्वयं से

सच्चे हो तो यह बात याद रखना वह कभी ना

कभी सामने अवश्य आएगी

और तुम्हें उसका फल भी प्राप्त

होगा स्वयं से सच्चे मनुष्य कभी भी अपने

प्रयास में कोई कमी नहीं रखता

है चाहे कितनी भी कठिनाइयां उसकी समझ

क्यों ना आ जाए परंतु वह उम्मीद नहीं

छोड़ता

है वह उम्मीद का साथ कभी भी नहीं छोड़ता

है अपनी बुरी आदतों को अपने जीवन के मार्ग

में बाधा नहीं बनने देता

है जीवन में हर छर कुछ ना कुछ सीखने का

प्रयास करता

है किसी भी परिस्थिति में यदि तुम्हे

परेशानी हो रही हो

तो तुम्हें अपनी उस परिस्थिति का उल्लेख

करना

चाहिए तुम्हें जीवन में किसी भी गुरु की

खोज नहीं करनी

चाहिए यदि तुम ध्यान से देखो तो तुम्हारे

आसपास की सभी वस्तुएं तुम्हारे गुरु

है सभी तुम्हें कुछ ना कुछ सिखाती

है बस आवश्यकता यह है कि तुम उनकी बातें

सुनते

जाओ तुम्हें चाहे बाहर कितनी भी गलतियां

कर लो मगर उन गलतियों का दंड उतना बड़ा

नहीं हो सकता जितना स्वयं से झूठ बोलने का

होता

है झूठ और सच की लड़ाई में जी सदैव सच्चाई

की ही होती

है यदि तुम स्वयं से झूठ बोल रहे हो तो

तुम स्वयं में ही हार जाओगे और स्वयं से

हारा हुआ व्यक्ति कभी भी किसी भी समस्या

के सामने नहीं कर सकता

है सदैव स्वयं से सच्चे रहो और अपने आसपास

भी हर चीज हर लोग मेरे बच्चे में सब कुछ

देख रही हूं और अब मुझसे तुम्हारी यह हालत

नहीं देखी जा

रही मेरा दिल भर जाता है जब मैं तुम्हारे

जीवन के बारे में सोचती हूं और दिल भरा

आता

है जब मैं यह सोचती हूं कि मेरा बच्चा

कितने कष्ट में रहा मेरे बच्चे को जीवन भर

क्या कुछ नहीं देखना पड़ा पर मेरे बच्चे

यह कर्म में

था तुम्हारे पिछले जन्म के कर्म थे जो

तुम्हें इस जन्म में भोगने पड़े

तुम्हारी माता चाकर भी कुछ नहीं कर पाई पर

ऐसा नहीं है कि बाकियों की तरह मैंने

तुम्हारा साथ छोड़

दिया तुम्हारे एक-एक आंसू का हिसाब रखा है

मैंने मैं बस इंतजार कर रही हूं कि कब

तुम्हारे जीवन का यह पड़ाव खत्म हो और मैं

तुम्हारा दामन खुशियों से भर

दूं मेरे बच्चे अब तुम बिल्कुल भी परेशान

ना हो

क्योंकि अब तुम्हारे जीवन में सब कुछ

बदलने वाला

है अब तुम्हारे परिवार का वह सदस्य भी

सुधारने वाला

है वह सभी से माफी भी मांगने वाला

है तुमसे भी वह क्षमा मांगेगा और साथ ही

याद रखो कि तुम्हारे जीवन में कोई और

प्रवेश करने वाला

है क्या तुम जानते हो कि वह कौन होगा

प्रिय बच्चे तुम्हारे बचपन का साथी

तुम्हारा आत्म संगी तुम्हारा वास्तविक

प्रेम मेरे बच्चे तुम्हें तो पता भी नहीं

है कि आखिर कौन था जो तुम्हें बचपन से ही

प्रेम किया करता था और तुम्हें बताया भी

नहीं तो आज इस सच्चाई को सुन लो कोई है जो

तुम्हें सदा से ही सच्चा प्रेम करता आया

है और आज भी वह तुम पर चुपके से नजर बनाए

रखता है

कनो तुम क्या कर रहे

हो किससे बातें कर रहे हो किसके जीवन साथी

बन रहे हो यह सब कुछ वह निरंतर पता लगाया

करता

है मेरे बच्चे उसको जब भी तुम्हारी याद

आती थी बचपन से ही तब वह तुम्हारी छवि को

याद करके तुम्हारे तस्वीर को सीने से

लगाकर तुमसे प्रेम की बातें किया करता

था और प्रतिदिन तुमसे मिलने की दुआएं भी

किया करता

था तुम जब भी उसके घर के सामने से गुजरते

थे तो वह अपने छत पर खड़े होकर तुम्हें

देखा करता

था नॉइस उसे महसूस होता था कि तुम उसके

करीब हो और उसे देख रहे हो सुन रहे हो

मेरे प्यारे बच्चे वह तुम्हें अपना बनाने

के लिए बहुत सारी मान्यताएं भी मांग बैठा

है कभी-कभी तो वह यह सोचता है कि क्या

मेरी दुआएं बेअसर हो गई

है वह सदा से ही तुम्हें पाने के लिए क्या

करता

था तुम्हारी लंबी उम्र के लिए भी

प्रार्थनाएं किया करता

था लेकिन जब भी वह तुम्हें किसी और के साथ

देखता था उसे ऐसा लगता था कि उसकी दुआएं

बे असर हो चुकी

है वह डूब चुका

है उसे ऐसा लगता था जैसे उसके पैरों तले

जमीन खिसक जाया करती

है वह कुछ समझ भी नहीं पाता

था वह तो सदा से ही तुमसे प्रेम करता आया

है और वह यह जानता है कि तुम उसके प्रेम

से अपरिचित

हो वह निरंतर यह सोचता था कि जब वह

तुम्हें इतना प्रेम कर रहा है तो आखिर यह

तुम्हें समझ क्यों नहीं आ रहा

है

कनो मेरे प्रिय वह सदा से ही तुमसे अपनी

बातें कहना चाहता था तुम भी उससे प्रेम

करते हो यह सुनने के लिए वह सदा से ही

बेकरार

था मेरे प्रिय बच्चे तुम्हारा आत्म संगी

है कई सदियों से वह तुम्हारा साथी है

तुम्हारे साथ उसने अपना संपूर्ण जीवन

व्यतीत किया है तुम्हारे साथ ही साथ उसका

उठना बैठना भी रहा

है यहां जिस रूप में तुम देखते हो वैसा

नहीं हा यह भिन्न था मेरे प्रिय जो इस जगत

में होता है ऐसा ही मनुष्य के विचारों में

भी होता

है यह गुण रहस्य है

नॉइस तुम सदा से ही उससे प्रेम करते आए थे

हर जन में तुमने उसका साथ दिया

था उसकी आंखों में एक आंसू भी तुम

बर्दाश्त नहीं कर पाते

थे जब भी कोई उसे तंग करता था तो तुम उसके

लिए सबसे लड़ भी जाया करते थे और सबसे

कहते थे कि वही तुम्हारा सच्चा साथी

है कोई उसे कुछ भी ना कहे उसे कुछ भी ना

बोले मेरे

बच्चे तुम मेरे आदेशों का पालन नहीं कर

रहे

हो मेरे लाख मना करने के पश्चात

भी तुम अपना समय व्यर्थ कर रहे

हो कुछ लोग तुम्हारी जिंदगी से तुम्हारे

भविष्य से खेल रहे

हैं और तुम उन्हें अवसर दे रहे हो यह

जानते हुए

भी कि लोग तुम्हारी मासूमियत का फायदा उठा

रहे

हैं फिर भी तुम उनकी संगति कर रहे हो

चूंकि तुम उन्हें बहुत प्रेम करते

हो उन्हें दुखी नहीं देख

सकते उनसे दूर नहीं रह

सकते इसलिए उनकी खुशी के लिए तुमसे जो बल

पड़ता

है तुम कर रहे

हो परंतु वह लोग फिर

भी तुम्हारे साथ गलत बर्ताव कर रहे हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *