माँ काली का संदेश अब तुम्हारे जीत का भयंकर परिणाम मिलेगा | - Kabrau Mogal Dham

माँ काली का संदेश अब तुम्हारे जीत का भयंकर परिणाम मिलेगा |

मेरे बच्चे तुम बार-बार प्रयास करते हो

लेकिन फिर भी तुम्हारा काम बिगड़ रहा है

ऐसा क्यों हो रहा है यह आज मैं तुम्हें

बताऊंगी इसलिए तुम ध्यान पूर्वक सुनना यदि

आज भी तुमने मेरी बातों को पूर्ण रूप

से नहीं सुना तो फिर मत

कहना कि मैंने बताया नहीं क्योंकि गलती

इसमें तुम्हारी होगी इसलिए जो बता रही हूं

उसको ध्यान पूर्वक सुनो तुम्हारे जीवन में

यदि ऐसा हो रहा है तो इसके पीछे पांच कारण

है जिन कारणों

को जानकर तुम्हें उन पर ध्यान देना

होगा और उन्हें अपने अंदर

धारण करना होगा सबसे पहला कारण यदि जीवन

में तुम अपने

लिए अथक प्रयास कर रहे हो तो

इस बात का विशेष ध्यान

रखो कि किसी के बनते हुए कार्य को यदि तुम

बिगाड़ देते हो तो जीवन

में कभी भी तुम चाहे कितना भी

प्रयास कर लो तुम्हारा कोई

भी कार्य कितना भी चाहने के

बाद बनेगा नहीं क्योंकि जो तुम

दूसरों के साथ कर रहे हो वही तुम्हारे साथ

होगा और दूसरी बात तुम मेहनत कर रहे हो

जिस कार्य के लिए उस कार्य के लिए मेहनत

अभी

और बाकी है क्योंकि कोई भी कार्य पूर्ण

होने में जितना परिश्रम करना होता है वह

परिश्रम अभी भी तुम्हारे कार्य को पूर्ण

करने में कम पड़ रहा है इसलिए तुम अपने

परिश्रम

की गति को और तीव्र करो उस पर इतनी मेहनत

करो कि

तुम्हारे मेहनत की हद पार हो

जाए जिस प्रकार लोहा अत्यधिक

गर्म करने पर पिघल जाता है उसी प्रकार तुम

अपने आप को कर्मों की अग्नि में पिघला लो

और तीसरा

तुम जिस कार्य को कर रहे हो उस कार्य को

लेकर तुम पूरी आशा

रखते लेकिन उससे कहीं अधिक तुम

प्राप्त होगा लेकिन किसी भी चीज को

प्राप्त होने का एक

निश्चित समय होता है जिस प्रकार

विद्यार्थी परीक्षा देने के पश्चात उसका

उत्तरण होना एक निश्चित समय पर निर्धारित

करता है उसी प्रकार

तुम्हारा उस चीज को प्राप्त करना एक

निश्चित समय पर निर्धारित करता है तो

तुम्हें उस समय का

इंतजार करना ही होगा और लगातार अपनी

मेहनत जारी रखना भी होगा

क्योंकि यदि तुम मेहनत करना छोड़ दोगे तो

सफल नहीं हो

पाओगे चौथा तुम किसी भी कार्य को खुद यदि

जबरदस्ती कर रहे हो और तुम्हें उस कार्य

को करते हुए

खुशी ही प्राप्त नहीं हो रही तब भी तुम

कार्य को नहीं कर पाओगे

और तुम्हारा कार्य नहीं

बनेगा बनकर भी बिगड़ने लगेगा क्योंकि ना

तो तुम उस पर ध्यान लगा पाओगे और ना ही

तुम्हा रा उस कार्य

पर मन लग पाएगा क्योंकि जब तुम्हें उस

कार्य को करने में खुशी नहीं

होगी तो तुम केवल अपना समय

ही बर्बाद करोगे इसलिए ऐसे कार्य को भी मत

करना जिसे करने में तुम्हें खुशी प्राप्त

नहीं

होती मेरे बच्चे और पांच

यह कि अगर तुम आलसी व्यक्ति हो और कर्मस

नहीं हो हाथ पर हाथ रखकर

बैठकर केवल सपने देखने वालों में से हो तो

तुम्हारा कार्य निश्चित ही नहीं बनने वाला

क्योंकि कार्य को बनाने के लिए मेरी

पूजा प्रार्थना के साथ साथ मैं

करना भी अति आवश्यक

है इसलिए यदि तुमसे सहायता हो पाए तो करना

मेरे बच्चे

लेकिन अपने अंदर घमंड को कभी मत आने

देना क्योंकि कौन छोटा है कौन

बड़ा अर्थ इससे नहीं तुम्हें अपने आप

को देखना है कि तुम क्या हो यदि तुम खुश

हो अपने जीवन में तुम्हें वह सब कुछ

प्राप्त हो रहा है जो

तुम्हें चाहिए तो तुम्हें भूलकर भी किसी

को ना तो छोटा समझना है और ना ही तुम्हारी

बातों से किसी के स्वाभिमान को चोट नहीं

पहुंचा चाहिए मेरे बच्चे कार्य तभी

बिगड़ते हैं और बनते नहीं जब तुम

अपने पैरों से खुद कुल्हाड़ी मारते हो

अर्थात या तो तुम आलस करते

हो कर्म नहीं करते या तुम कर्म करते हो तो

तुम्हें उस कर्म में खुशी प्राप्त नहीं

होती या तुम सच्चाई

ईमानदारी के पथ पर चलते हुए

कार्य नहीं करते या तुम जिस कार्य को करते

पूरी मेहनत के साथ नहीं करते हो तो

तुम्हें उस कर्म में खुशी

प्राप्त नहीं होती या तुम सच्चाई

ईमानदारी के पथ पर चलते हुए कार्य नहीं

करते या तुम जिस कार्य को करते पूरी मेहनत

के साथ नहीं करते

तुम्हारा पूरा बल उस पर नहीं होता यदि तुम

ध्यान लगाकर किसी कार्य को करो तो

तुम्हारा कोई कार्य नहीं बिगड़ेगा मेरे

बच्चे तुम्हें जानने का समय आ गया है

इसलिए तुम्हें आज मेरा यह संदेश प्राप्त

हुआ है जैसे ही तुम इसे समझोगे तुम्हारा

जीवन निश्चित ही खुशियों से भर जाएगा यह

मेरा तुमसे वादा है मैं अपने वादों को

पूर्ण रूप से

[संगीत]

निभाऊंगी मेरे बच्चे और इसे जानकर

तुम्हारे होश उड़ जाएंगे और शायद तुम्हें

मेरी बातों पर यकीन भी ना हो मेरे बच्चे

परंतु यह सत्य नहीं कि मैं तुम्हें कुछ

देती नहीं या तुमको कुछ मेरे द्वारा

प्राप्त होता नहीं सच यह नहीं है मेरे

बच्चे

बल्कि सच यह

है कि तुम जो सोचते हो वही तुम्हें

प्राप्त होता

है बस फर्क इतना है कि तुम जो मांगते हो

उसके पीछे कुछ बजा है उसको जानना तुम्हारे

लिए अत्यंत आवश्यक

है क्योंकि तुम जो चाहते हो कि तुम्हें

बैठकर सब कुछ मिले तो मेरे बच्चे मैं

तुम्हें बता देना चाहती हूं कि कि इस

संसार में कर्म के बिना कुछ भी संभव नहीं

है तुम मांगते तो हो लेकिन उसके लिए पूण

प्रयास नहीं करते अधूरा किया गया प्रयास

तुम्हें वहां तक नहीं पहुंचा सकता

तुम्हारी अधूरी इच्छा को पूर्ण करने की

शक्ति नहीं रखता अधूरा कार्य अधूरी शक्ति

रखता

है इसलिए जब भी कोई बड़ी मंजिल तुम्हें

प्राप्त करनी हो या कोई बहुत बड़ा मुकाम

हा हासिल करना हो तो उस बड़े मुकाम के लिए

तुम्हें कार्य भी बड़े-बड़े करने होंगे

तुम शांत बैठकर यही सोचते रहोगे तो

तुम्हें कुछ भी प्राप्त नहीं

होगा यह संसार में भीख मांगकर कुछ प्राप्त

नहीं किया जा सकता मेरे बच्चे बल्कि साहस

हिम्मत रखो और अपने आप को ताकतवर समझकर

महसूस करो कि तुम्हारे साथ एक शक्ति है

तुम किसी भी कार्य को कर गुजरने में उसकी

सहायता ले रहे

हो और उसकी सहायता से तुम कुछ भी कर लोगे

जो तुम चाहते हो यदि तुमने इस शक्ति को

समझ लिया तो तुमने मुझे समझ लिया यदि तुम

ऐसा महसूस कर पा रहे हो कि वह शक्ति

तुम्हारे साथ है तो निश्चित ही मैं

तुम्हारे साथ

हूं यदि तुम अविश्वास से भरे हुए हो और

तुम्हें ऐसा लग रहा है कि कोई तुम्हारे

साथ नहीं है तो सच यही है मेरे बच्चे

तुम्हारे साथ कोई नहीं है क्योंकि सब कुछ

तुम्हारे हृदय पर निर्भर करता है तुम्हारा

हृदय क्या महसूस करता

है अगर तुम्हारे हृदय के अंदर नकारात्मकता

भरी हुई है तो फिर तुम्हें अपने हृदय में

एक शक्ति को विराजमान करने के लिए मंत्रों

का नहीं साफ दिल का होना बहुत जरूरी है

लोगों की भलाई करना बहुत जरूरी है सबके

लिए अच्छा सोचना जरूरी

[संगीत]

है सबका आदर सम्मान करना जरूरी है उस तरह

के महकते हुए फूल की तरह बन जाओ जो कोमल

होता है और सबको अपनी खुशबू से महका है और

सब तुम्हारे करीब आना चाहे ना कि कांटों

की तरह जो लोग कांटों से दूर रहना चाहते

हैं क्योंकि जब तक तुम्हारे पास कोई शक्ति

रहेगी तब तक जीवन में तुम्हें सही मार्ग

दिखाती रहेगी तुम्हारे पूरे शरीर पर उसका

अधिकार रहेगा सोचने समझने की शक्ति प्रबल

रहेगी जीवन में खुशियां तब प्राप्त होती

हैं जब तुम्हें खुशी का आभास होता

है तब नहीं जब तुम्हें सब कुछ मिलता है

लेकिन फिर भी तुम किसी और इच्छा के लिए

उदास रहते हो बल्कि जब तक तुम्हें जो मिल

रहा है तुम उसमें खुश रहते हो तो स्वयं

तुम्हारे अंदर हर एक शक्ति विराजमान रहती

है मेरे बच्चे यदि कुछ कमी है तो सिर्फ

तुम्हें पहचानने की तुम्हारे जीवन में कोई

भी खुशी तुमसे दूर नहीं रहेगी यदि तुम

केवल हाथ पर हाथ रख कर बैठ जाओगे और कोई

कार्य ही नहीं करोगे और ऐसा अपने जीवन में

आभास

करोगे कि मुझे कोई चीज प्राप्त ही नहीं

होती और उस चीज के लिए रोते रहोगे तो आगे

के मार्ग बंद होने लगेंगे इसलिए उठो खड़े

हो सभी चिंताओं को त्याग दो और कार्य पर

लग जाओ जैसे जैसे तुम कार्य करोगे

वैसे-वैसे आगे के मार्ग खुलते चले जाएंगे

तुम्हें अपने आप वह मार्ग दिखाई देने

लगेगा जो तुम्हें

चाहिए मेरे बच्चे होकर तुम कमजोर कैसे बढ़

सकते हो मैं जानती हूं हर दिन एक समान

नहीं होता किंतु तुम यह कैसे भूल जाते हो

कि तुम विशेष

[संगीत]

हो तुम एक सर्व श्रेष्ठ बच्चे हो तुम्हारे

लिए कुछ भी असंभव नहीं है जो तुम्हारे

संपर्क में आते हैं वह भाग्यशाली हो जाते

हैं तुम्हारे साथ बात करके दूसरों को सुख

का अनुभव होता है लोग तुमसे प्रेरित होते

हैं और तुम खुद को ही इतना कम क्यों समझ

लेते

हो मेरे बच्चे तुम वह रत्न हो जो खुद अपनी

चमक नहीं देख पाता कभी-कभी चुप हो जाना

अच्छा है किंतु मायूस होना

नहीं मेरे एक प्रश्न का उत्तर दो पिछले

कुछ दिनों में या कुछ महीनों में तुमने

अपने आसपास अथवा अपने

भीतर कुछ बदलाव महसूस नहीं किए हैं एक

कागज और कलम उठाओ और अपने हाथ से उन

बदलावों को उसमें लिखो

छोटी सी छोटी उपलब्धियां को स्मरण करो और

उसे लिखो तब तुम पाओगे तुमने हर दिन एक

जंग जीती है कुछ ऐसी घटनाएं तुम्हारे जीवन

में होने वाली

थी जो तुम्हें दुर्भाग्य का भागी बना देती

लेकिन मैंने पहले ही तुम्हें बचा लिया

है संकट में जाने से पहले ही तुम्हारा

भाग्य दिव्य तरीके से परिवर्तित कर दिया

गया है यह सब कौन कर रहा था जो घटना मानव

नहीं देख पा रहे वह आखिर कौन करता है

तुम्हारे हृदय में वह जो सकारात्मक ज्योति

जलती रहती

है क्या तुम उसे अनुभव नहीं कर

पाते मेरे बच्चे तुम स्वयं जानते हो तुम

सही हो मैं जानती हूं कभी-कभी हिम्मत

टूटती है लगातार संघर्ष करते हुए

सफलता ना मिलने पर व्यक्ति कमजोर होता है

लेकिन तुम्हारे जैसे विशेष बच्चे के लिए

यह करना उचित नहीं

है तुम तो मेरे बहादुर और सबसे प्यारे

बच्चे हो यदि तुम अपने मार्ग पर विचलित हो

गए तब तुम समाज में उदाहरण स्थापित कैसे

करोगे मेरे बच्चे ऐसा मौका कुछ विशेष

प्राणियों को ही मिलता है जो युग युगांतर

में उदाहरण स्थापित करते हैं

[संगीत]

तुम्हें अपने जीवन के उद्देश्य के साथ-साथ

अपनी आत्मा के उद्देश्य का स्मरण रखना

चाहिए अंतता जीत तुम्हारी होगी यह सत्य है

कि तुम मेरी सुरक्षा कवच में सदैव

सुरक्षित हो अब तुम उठोगे फिर से चलोगे और

फिर से रफ्तार से दौड़

लगाओगे जब जब तुम प्रश्न करते हो कि इस

वर्ष ने मुझे इतनी सारी परेशानियां क्यों

दी

[संगीत]

है तुम मुझे आध्यात्मिक दुख पहुंचाते

हो मैं तुम्हारी जन्मदाता हूं भला मैं

अपने ही बच्चों को क्यों पीड़ा दूं कैसे

दुख पहुंचा सकती हूं मेरा हाथ पकड़ लो और

मेरे दिखाए मार्ग पर चलो जीत तुम्हारी

[संगीत]

होगी मेरे अगले संदेश की प्रतीक्षा करना

मैं फिर आऊंगी तुमसे मिलने मेरा आशीर्वाद

सदैव तुम्हारे साथ है तुम्हारा कल्याण हो

[संगीत]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *