माँ काली अब तुम्हारी हर मांग मैं पूरी करूंगी। मेरी परीक्षा में तुम सफल हो गए। - Kabrau Mogal Dham

माँ काली अब तुम्हारी हर मांग मैं पूरी करूंगी। मेरी परीक्षा में तुम सफल हो गए।

मेरे

बच्चे कैसे हो

तुम यह संदेश तुम्हें अगले घंटों के

भीतर पढ़ना बहुत आवश्यक

है यदि तुमने यह संदेश ढूंढ लिया है तो

तुम अत्यंत सौभाग्यशाली हो इसे अंत तक

सुनना इसे नजरअंदाज करके इसका अपमान मत

करना क्योंकि अगले घंटे

में कुछ अद्भुत

होगा बहुत दिनों से कोई

सवाल तुम्हें बहुत परेशान कर रहा

है तुम्हारा जीवन चारों ओर

से निराशा से घिरा हुआ

है अपने सुख के लिए अपनी सलता के

[संगीत]

लिए अपने उज्जवल भविष्य के

लिए तुम्हें आगे क्या करना

[संगीत]

है यह प्रश्न बार-बार तुम्हारे मन को रेत

रहा

है अगले घंटे

में तुम्हें तुम्हारे प्रश्नों के उत्तर

[संगीत]

मिलेंगे मेरे बच्चे एक ही रात में

तुम्हें कोई अभूतपूर्व सफलता नहीं मिलने

वाली किंतु घंटे के भीतर

ही तुम्हें वह रास्ता

दिखेगा जिस पर चलकर तुम्हें अथाह सफलता

मिलेगी मेरे बच्चे पिछले कुछ वर्षों

[संगीत]

से तुम्हें बहुत आर्थिक नुकसान हुआ है

दुख दर्द

बीमारी हर तरह का उपद्रव तुम्हारे परिवार

में हो रहा

है बहुत दुख सहा है तुमने और तुम्हारे

परिवार

ने परंतु अब तुम्हारी हर तकलीफ का अंत

होगा मेरे बच्चे मैंने तुम्हारे सब्र

की तुम्हारी भक्ति की कठिन परीक्षा ली

इस कठिन यात्रा में कई बार तुम्हें चोट

लगी तुम्हारा मन हुआ कि सब छोड़

दूं किंतु तुमने धैर्य

रखा तुम्हारा सब्र नहीं

टूटा तुम्हारी आस्था कमजोर नहीं

पड़ी तुम्हें मुझ पर पूरा विश्वास

है कि तुम्हारी माता तुम्हे कभी अकेला

नहीं छोड़ेगी

चाहे कैसी भी परिस्थिति

[संगीत]

हो हमेशा साथ

रहेगी मेरे बच्चे तुमने

डटकर हर संकट का सामना किया

है ना जाने कितने दिन कितनी

रातें तुमने रोकर गुजारे

लेकिन रोने के दिन बीत

गए क्योंकि इस परीक्षा में तुम जीत

गए अब बहुत

जल्द तुम अपने जीवन को बदलते हुए

देखोगे चमत्कार होते हुए

[संगीत]

देखोगे तब वह लोग भी

रोएंगे जिन्होंने तुम्हारे बुरे समय में

भी तुम्ह

लाया तुम्हारा साथ देने के

बजाय तुम्हारे साथ छल

किया तुम्हारी मजबूरी का उपहास

बनाया तुम्हारी कमजोरी का फायदा

[संगीत]

उठाया बहुत से लोग ऐसे

थे जिन पर तुम्हें बहुत विश्वास था

तुम्हें उनसे बहुत सारी उम्मीदें

[संगीत]

थी किंतु उन्होंने तुम्हारी हर उम्मीद को

तोड़

दी यह साबित कर

दिया कि सुख में भले ही वह तुम्हारे

हैं किंतु दुख में कोई अपना नहीं

होता मेरे बच्चे मैं जानती

हूं तुम मुझसे बहुत प्रेम करते हो

चाहे सुख हो या दुख

हो तुम मेरा नाम पुकारते

हो मैंने तुम्हारी पुकार सुनी

है किंतु मैंने मौन साथ

[संगीत]

लिया क्योंकि तुम्हें अभी बहुत कुछ

सीखना बहुत कुछ जानना बाकी

था तुमने जो मुझसे

मैंने सब सुना

है किंतु मैं उच समय का इंतजार कर रही

थी परंतु अब इंतजार खत्म

[संगीत]

हुआ वह समय आ गया है मेरे

बच्चे अब तुम्हारी हर इच्छा हर मांग मैं

पूरी

करूंगी अब मैं तुम्हें वह प्रदान

करूंगी जो केवल तुम्हारे लिए मैं मैंने

सजो कर रखा

है अब तुम्हें वह भी

मिलेगा जो तुमने मुझसे कभी मांगा भी

[संगीत]

नहीं खुशियों का उपहार तुम्हारे पास पहुंच

रहा

है क्योंकि मैं भी तुमसे अथाह प्रेम करती

हूं खुश

रहो मेरा आशीर्वाद तुम्हारे साथ

है तुम्हारा कल्याण

[संगीत]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *