माँ काली अगले 2 वर्षो में तुम्हे क्या मिलकर रहेगा। भूलकर भी अनदेखा न करे। - Kabrau Mogal Dham

माँ काली अगले 2 वर्षो में तुम्हे क्या मिलकर रहेगा। भूलकर भी अनदेखा न करे।

[संगीत]

मेरे

बच्चे कैसे हो

तुम मैं देख रही

हूं अपने भविष्य को

लेकर तुम बहुत चिंतित

हो यह प्रश्न तुम्हारे मन में बार-बार आता

है कि क्या कभी तुम्हारे सपने पूरे

होंगे तुम्हारे जीवन में खुशियां

आएंगी या आज के जैसे

ही आने वाले भविष्य में

भी तुम्हें दुख और निराशा का जीवन व्यतीत

करना

[संगीत]

होगा मेरे बच्चे इस संदेश के माध्यम

से आज मैं तुम्हें यह बताने आई

हूं कि आने वाले दो वर्षों में

तुम्हारे जीवन में क्या कुछ बदल

जाएगा क्या कुछ है जो तुम्हें मिलकर

रहेगा मेरे बच्चे फिलहाल तुम बहुत तनाव से

गुजर रहे

हो तुम बहुत मेहनती भी

हो जो भी कार्य करते

हो उसमें अपना प्रतिशत देते हो

किंतु फिर भी तुम्हें हार मिल रही

है असफलता मिल रही

है इसलिए आने वाले कल को

लेकर तुम्हारे मन में किसी बात का डर

[संगीत]

है कुछ ऐसा है जो तुम्हारे

लिए तुम्हारे प्राणों से भी अधिक मूल्यवान

है

उसे खो देने का भय तुम्हें व्याकुल कर रहा

है किंतु मेरे बच्चे चिंता ना

करो आने वाले दो वर्षों

में बहुत कुछ अच्छा होने वाला

है सर्वप्रथम तुम किसी ऐसे व्यक्ति से

मिलोगे जो तुम्हारे जीवन को खुशहाल बनाने

में

तुम्हारी मदद

करेगा जब भी तुम किसी मुश्किल में

होंगे तो वह तुम्हारा मार्गदर्शन

करेगा और वह तुम्हें इसी माह

के अंतिम दिनों में

मिलेगा मेरे बच्चे तुमने बहुत धोखे खाए

हैं इसलिए अब तुम किसी व्यक्ति

पर विश्वास नहीं करना

चाहते किसी से मित्रता नहीं करना

[संगीत]

चाहते किंतु हर व्यक्ति एक समान नहीं

होता जो व्यक्ति तुमसे मिलने वाला

है वह तुम्हारे भरोसे पर खरा

उतरेगा तुम्हारे मन में जो भी डर है

जो तकलीफ

है वह दूर

करेगा मैं देख रही हूं तुम अपनी

योजनाएं अपने मन की

बातें किसी से बताने से डरते

हो क्योंकि बहुत बार लोगों

ने तुम्हारे साथ विश्वासघात किया है

किंतु यह व्यक्ति तुम्हारे ही जैसा

होगा इसके साथ तुम अपना

दर्द अपनी तकलीफ बांट सकते

हो मेरे बच्चे तुम महादेव के भक्त भी

हो महादेव के आशीर्वाद

से तुम्हें अपार खुशियां

मिलेंगी अपने शत्रुओं पर भी तुम विजय

प्राप्त

करोगे धन समृद्धि सफलता का मार्ग भी

खुलेगा मेरे बच्चे तुम्हारे मन में जो भी

डर है गंदगी है उसे बाहर निकाल

[संगीत]

फेंको तुम मन के सच्चे हो भोले

हो इसलिए कई बार तुम्हारे साथ लोग गलत कर

देते

हैं किंतु तुम्हें डरने की आवश्यकता नहीं

है तुम्हें यह प्रकृति अपने संरक्षण में

रखती

है पूरा ब्रह्मांड तुम्हारा सत्य जानता

है तुमसे अनंत प्रेम करता

है कोई कितना भी गंदी चाल

चले तुम्हें क्षति पहुंचाने का प्रयास

करें किंतु तुम्हारा अनिष्ट नहीं कर

सकता क्योंकि तुम्हारे

पूर्वज और अन्य कई अदृश्य दिव्य शक्तियां

भी तुम्हें लेकर रक्षात्मक

है मेरे बच्चे भविष्य की चिंता त्याग

दो आज तुम जो मेहनत कर रहे

[संगीत]

हो वह तुम्हारे भविष्य को खुशी और उत्साह

से भर

देंगे मैं जानती

हूं तुम बहुत पीड़ा में

हो तुम्हारे जीवन में बहुत व्यस्तता

है अपने करियर के साथ-साथ

अन्य कई जिम्मेदारियां तुम उठा रहे

हो तुम्हें सुकून से सोने तक की फुर्सत

नहीं है

शारीरिक थकान और दर्द होने के बाद

भी तुम अपनी जिम्मेदारियों को भली भाति

निभा रहे

हो इसलिए भी तुम्हारा मन उदास

है तुम सोचते हो कि इतने

संघर्ष इतनी मेहनत के बाद

भी तुम्हें वह खुशी वह सफल नहीं मिल

रही जिसके सपने तुम पिछले पांच वर्षों से

देख रहे

हो मेरे बच्चे वह घड़ी आ गई

है तुम्हारा जीवन पूरी तरह से बदलने वाला

है बहुत जल्द राजसी जीवन जीने वाले हो

तुम और यह सब कुछ

तुम्हें तुम्हा मेहनत के बल पर

मिलेगा मेरे बच्चे तुम्हारा एक सपना

है कि तुम्हारा खुद का एक शानदार घर हो

वाहन हो और वह तमाम सुख

[संगीत]

सुविधाएं जो किसी धनवान व्यक्ति के पास

होता

है तुम्हारा यह सपना अगले दो वर्षों के

भीतर ही पूरा होगा

तुम्हारी सोच से ज्यादा तुम्हें

मिलेगा और यह सब

तुम्हें तुम्हारे कठिन परिश्रम अटूट

श्रद्धा और प्रेम पूर्ण स्वभाव के फल

स्वरूप

मिलेगा मेरा आशीर्वाद तुम्हारे साथ

है तुम्हारा दिन मंगलमय

हो सच्चे मन से

कहो जय k

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *