"बिहार में मोदी को रोक कर दिखाऊंगा!" हार के जीतने वाले को 'तेजस्वी' कहते हैं! - Kabrau Mogal Dham

“बिहार में मोदी को रोक कर दिखाऊंगा!” हार के जीतने वाले को ‘तेजस्वी’ कहते हैं!

मैं आखिर क्यों बोल रहा हूं कि हार के
जीतने वाले को तेजस्वी कहते हैं माना कि
यह डायलॉग शाहरुख खान की फिल्म बाजीगर का
है मगर आज विधानसभा में नीतीश कुमार के

विश्वास मत के दौरान तेजस्वी यादव ने जिस
तरह से अपनी बात रखी उन्होंने आधे घंटे से
ऊपर के अपने भाषण में नितीश कुमार भारतीय
जनता पार्टी दल बदलने वाले लोग पाला बदलने

वाले लोग विचारधारा बदलने वाले लोग सबको
एक्सपोज करके रख दिया मगर आप जानते हैं उस
आधे घंटे के भाषण में कहीं पर भी तेजस्वी
यादव में कड़वाहट दिखाई नहीं दी वह लगातार

बोलते रहे कि नितीश जी के लिए मेरे मन में
इज्जत है यही नहीं भारतीय जनता पार्टी के
लिए भी पूरी इज्जत के साथ उन्होंने अपना
संबोधन
दिया उनकी पार्टी को छोड़ के तीन लोग

भाजपा के पाले में बैठ गए थे और उसे
स्पष्ट हो गया था कि इस विश्वास मत में
नीतीश कुमार और भाजपा का जीतना तय है यानी
की भाजपा और नीतीश कुमार ने पीछे खेला कर

दिया था मगर आज का यह दिन इसलिए अहम था
क्योंकि विधानसभा में तेजस्वी यादव ने एक
ऐतिहासिक भाषण दिया मैं चाहूंगा कि आप इस
पूरे भाषण को सुने और देखें किस तरह से आज

सही मायने में में एक राजनेता का उदय हुआ
है देखते हैं हम इस नई सरकार के विरोध में
खड़े और सबसे
पहले हम माननीय मुख्यमंत्री जी

को धन्यवाद देना चाहते
हैं कि लगातार नौ बार उन्होंने शपथ लेकर
के इतिहास रखने का
काम

और बार तो लिया ही महोदय लेकिन एक ही टर्म
में तीन-तीन बार लिया ऐसा अदभुत नजारा हम
लोगों ने नहीं
देखा

माननीय
दोनों सम्राट चौधरी जी डिप्टी सीएम बने
बड़ी खुशी
है कि य डिप्टी सीएम

बने इनका बयान हमने
देखा
भाजपा जो है इनकी
मां भाजपा पार्टी जो है मां लेकिन हम तो

कहना चाहते आडी आपकी मा हुई
ओरिजनल तो आप तो पहले हमारे दल में ही
थे अच्छा चलिए ठीक चलिए कोई बात नहीं आप
अस्वीकार कीजिए लेकिन जनता तो इस बात को
जानती है हमें खुशी है कि साथ में दोदो

डिप्टी सीएम बने और विजय सिन्हा जी भी
डिप्टी सीएम बने स्पीकर पद प भी रह लिए
नेता विरोधी दल भी रह लिए और डिप्टी सीएम
भी रह लिए इन्होंने भी इतिहास रच दिया एक

टर्म में तीन-तीन पद इन्होंने भी
पालिया तो ये आप सोचे थे कि नहीं विजय
बाबू अरे आपके दिमाग में आया था कि आप एक
टर्म

में एक टर्म में स्पीकर भी डिप्टी सीएम भी
और नेता विरोधी दल भी आप बन गए तो इसके
लिए आप तीनों लोगों को विशेष तौर पर हम
बधाई देना चाहते हैं माननीय मुख्यमंत्री

जी हमारे लिए आदरणीय थे है और हमेशा
रहेंगे हम इनकी इज्जत
हमेशा करते आए हैं और करते
रहेंगे और हम

तो कई बार इनके ने में काम करने का मौका
मिला और हम लोगों ने काम किया मिलकर के
इसमें कोई दोरा नहीं आगे हम सारी बात को
भी हम

अपने आप लोगों के समक्ष जो है रखने का काम
करेंगे अब कई बार माननीय मुख्यमंत्री जी
जो है इस बात को बोलते रहे कि तुम मेरा
बेटा जैसा हो कई बार बोलते हैं और हम भी

अपना मानते हैं अपने गार्डियन मानते हैं
और आप लोग भगवान राम की चर्चा करते हैं हम
आप सबके मन में तो राम है ही शांति शांति
लेकिन एक बात समझना

पड़ेगा हम तो नितीश जी को एक दशरथ जो पिता
है उनके रूप में ऐसा गार्डियन मानते
हैं कि भाई कई
बार जो है इन्होंने कई बार आप लोगों के
सामने भी बोला अब तो यही करेगा यही आगे

बढ़ेगा तो चलिए नौजवान लोग आगे बढ़ेगा आगे
काम करेगा लेकिन कई बार मजबूरिया रही
होंगी इनकी जैसे दशरथ की मजबूरी थी राजा
दशरथ की कि राम को जो है बनवास जो है भेज

दिया गया लेकिन उस बात
को हम मानते हैं कि हम बनवास नहीं आए हैं
बल्कि हमको इन्होंने भेजा है जनता के बीच
उनके सुख और दुख के भागीदार बनने

पहले बारी अपने से दूर किए वह भी क्या
मजबूरियां रही हमको नहीं
पता ना आपको
पता किसी को नहीं पता क्या मजबूरिया रही

लेकिन इन्होंने ज पहली बार जब दूर किया तो
एक ही बात निकल के आया क्या बात निकल के
आया
कि आप जो है एक्सप्लेन कर

दीजिए आपके ऊपर जो है मुकदमा है केस है जब
दोबारा जब इन्होंने अपनाने का काम किया तो
इन्होंने कहा कि सब बीजेपी वाला सब फसाने
का काम करता है ईडी और सीबीआई लगा देने का

काम करता है देखि हम तो आपको इज्जत देते
हैं और आगे भी देते रहेंगे लेकिन य बात
समझना पड़ेगा और बिहार की जनता यह जानना

चाहती है कि आखिर ऐसा क्या कारण है कि आप
कभीर रहते हैं कभी उधर रहते हैं यह तो सब
लोग जानना चाहता सब लोग की इच्छा आखिर
क्या ऐसा हो गया कि आपको यह निर्णय लेना

पड़ा 2020 का हम लोग चुनाव जीत करके आए
मात्र बेईमानी के बाद 12000 का डिफरेंस था
पूरे महागठबंधन और एनडीए में आप क्यों
छोड़ के आए आपने यही बोला था ना कि हम

एनडीए इसीलिए छोड़ रहे हैं
क्योंकि हम
पार्टी को तोड़ा जा रहा है हमारे विधायकों
को प्रलोभन दिया जा रहा
है और आपने यह कहा था मर जाएंगे मिट

जाएंगे तो आप कहते ही रहते हैं हमेशा
लगातार ही कहते रहते
हैं उस उस परे हम नहीं जाएंगे लेकिन आपने
तो ये कहा था कि भाई हम लोगों का एक ही
लक्ष्य है ना प्रधानमंत्री बनना है ना

किसी को मुख्यमंत्री बनना है देश भर के
विपक्ष को गोल बंद करके जो तानाशाह है
उसको दोबारा नहीं आने देना है इसीलिए ना आ
पाए

थे और आप जब गवर्नर हाउस गए
महोदय मुख्यमंत्री जी जब आप बाहर आए तो
आपने बोला कि आपका मन नहीं लग रहा
था आपने यह बोला कि मन नहीं लग रहा था मन

नहीं लगेगा तो हम लोग नाचने गाने के लिए
थोड़ी है आपका मन लगाने के लिए हम तो आपका
साथ ना देने के लिए थे कि जो काम आप बोलते
थे असंभव है उसको हम लोगों ने मुमकिन करके

दिखाने का काम
किया आपने 2020 के चुनाव में क्या कहा
था झूठ मत बोलिएगा देखिए हम आप लोग से
उम्र में

छोटे अपने बाप के पास से लाएगा जेल से
पैसा लाएगा नौकरी बाटे का और संभव
है क्या
बोले और हमने उस समय के
दौरान रोजगार पर विशेष र पर हमने बोला था

हमने साइंटिफिक अध्ययन किया रिक्त पद है
इतनी इतनी है उसको हम लोग जो है भरने का
काम
करेंगे
हमको दुख इस बात का नहीं है कि हम लोग

विपक्ष में आ गए हमको तो खुशी है कि उन 17
महीनों में जो देश में किसी सरकार ने नहीं
किया उसको हमारी महागठबंधन सरकार ने करने
का काम
किया

आप बताइए आपको याद होगा जब आप बीजेपी को
धोखा देना चाह रहे
थे हम तो नहीं आना आपके साथ आना चाहते थे
ये बात हम आपको कहे भी थे कि हम तो नहीं

आना चाहते हैं मुख्यमंत्री जी लेकिन देश
भर के सभी नेताओं का दबाव है कि भाई एक
बार 2024 के चुनाव में हम लोग एकजुट हो
जाए और एकजुट होकर के मोदी जी को हराने का

काम करें तब हमने क्या कहा था मुख्यमंत्री
जी याद है विजय जी है आप भी सामने हम कहते
मुख्यमंत्री जी हम सरकार में नहीं आएंगे
हम बाहर रह करके आपको समर्थन देंगे और

आपके सरकार को कोई खतरा नहीं होगा आप
चलाइए सरकार नि फिकर हो कर के चलाइए
क्योंकि हम लोगों का भी लक्ष्य है कि
भाजपा को देश से भगाने का काम करे उस

संप्रदायिक शक्तियों को जो विचारधारा है
जो समाज में जहद बोने का काम करती है उसको
लोग भगाने का काम कर इसीलिए ना हम लोग एक
साथ आए थे और तो कोई कारण नहीं था अब हम

को बताना हम नहीं चाहते
हैं कि दशरथ तो नहीं चाहते थे राम बनवास
जाए लेकिन केकई जरूर चाहती थी कि राम जो
है बनवास चले
जाए मुख्यमंत्री जी आप हमको बेटा कहे हैं

हम चाहते हैं कि आप लंबी उम्र रहिए और जो
सिलसिला आपने चलाया था उसको जरूर आगे
चलाइए उसमें हमारा समर्थन रहेगा रोजगार
बाट नौकरी पाटी जो गांधी मैदान से आपने

ऐलान किया था लेकिन केकई को भी पहचानी कौन
कौन केकई बैठा हुआ है आपके
पास सम्राट चौधरी जी पगड़ी पहनते फालतू
पहनते उतारने का बात करब करो फिल्म का

शूटिंग चल रहा है महोदय
बांध पगड़ी चलो आओ मैदान में आप
खोलिए अरे हम कोई गलत बात नहीं सुन लो यार
नवीन जी सुनिए ना पथ निर्माण मिल जाए बहुत
कृपा होगी आप आगे काम कीजिएगा बैठिए

ना बठ जा बठ जा बो मान सद बठ जाइए बठ जाइए
बोलने
दीजिए तो उपाध्यक्ष महोदय
बोल बैठिए आप लोग शांति से बैठिए आपके आप
जब बोलिएगा इधर से को बोलेगा शांति से
बनाए रखे हमें विश्वास है कि हमारे एक और

चाचा विजेंद्र जी बैठे हैं यहां हमको जरूर
लगता कि इन्होंने जरूर सलाह दी होगी
सम्राट चौधरी जी को पगड़ी उतार
लो दिए कि नहीं दिए आप तो हमको सलाह देते

थे हमको पता है आपके मन में भी पीड़ा है
दर्द है लेकिन आप एकदम अपने नेता के के
साथ जो निर्णय है उसी में लेते हैं लेकिन
नेता तो निर्णय लेते हैं साथ देना चाहिए

लेकिन कभी कोई सलाह और एक स्टैंड भी लेना
चाहिए कि कोई गलत निर्णय ना
हो इससे नेता का ही नुकसान
होता इससे नेता का ही नुकसान होगा तो इस
बात की तो हमको चिंता रहेगी अभी सम्राट

चौधरी जी क्याक बोलते थे उस परे हम नहीं
जाना चाहेंगे लेकिन सम्राट चौधरी जी के भी
हमारे दल में रहे हैं और उनका शब्द
मुख्यमंत्री जी के लिए क्या क्या रहा है
वो हम यहां नहीं बताना चाहता हूं आपके भी
दिल में है आपके भी कान में है आप लोगों

के भी होश में है और पूरा बिहार बच्चा
बच्चा से पूछ
लीजिए कोई सुन लीजिए ना अरे सुन तो लो
भाई किसी भी बिहार में बच्चा बच्चा से पूछ
लीजिए कि क्या होने जाए

नितीश जी पर भरोसा है कि नहीं है वह क्या
क्या शब्द का प्रयोग करेगी जो लेना नहीं
चाहते
और मोदी जी का गारंटी तो बहुत मजबूत वाला
गारंटी है मोदी जी के गारंटी वालो क्या

मोदी जी गारंटी लेंगे फिर से पलट कि नहीं
पलट जरा बता के दिखा
दो बताइए मोदी जी के गारंटी वालो बताओ
बताइए पलते कि नहीं पलटे मोदी जी का
गारंटी खैर हमको इसकी चिंता नहीं

है विजय सम्राट चौधरी
जी विजय सिन्हा जी जब हां चेर पर थे
व्याकुल मत
होइए खूब जोरी है आप लोगों का कमाल का लगे
रहिए लेकिन आप लोग तो क्या क्या बोलते थे
अब उस परे तो हमको बताने का जरूरत नहीं है

सब लोग जानते हैं एकही बतावा क्या दोबारा
तिवारा जो है रटा जाए कहा जाए इसका कोई
मतलब नहीं लेकिन एक बात समझ लीजिए कि
नीतीश कुमार जी आदरणीय हैं कम से कम एक
बार बता तो देते कि हम नहीं रहना चाहते जा

इस बार तो आपने कुछ कहा भी
नहीं अरे भाई आप मुख्यम उप मुख्यमंत्री है
आप मुख्यमंत्री है सबसे बड़ा दल हमारा है
कम से कम एक बार बुला के बोल देना चाहिए
को आपको हम कुछ

कहते आप बताइए हम आपको कुछ कहे
हैं कितना अच्छा हम लोग बातचीत करते थे हर
चीज करते थे लेकिन अब चलिए ठीक है अच्छे
पल को तो हम जिंदगी भर याद करेंगे सुजो को
रखेंगे उसमें हमारे मन में कोई खोट नहीं
है
और हम लोग एकदम मजबूती के साथ टा गाड़ के
खड़े हैं कि आपने जो संकल्प महोदय
मुख्यमंत्री जी आज तो आपसे हम कह ही सकते
हैं आप तो बुलाए नहीं खुद ही चले गए
गवर्नर हाउस लेकिन आज हम इतना तो आपसे कह

सकते हैं ना इतना बात तो कह सकते थे कि आप
बुला लेते हम लोग बात कर लेते नहीं है ठीक
है तो उसका भी व्यवस्था कर देते अगर हमारे
सरकार से हमारे मंत्रियों से दिक्कत है तो

फिर से बाहर से समर्थन दे देते और कोई
माइका लाल हिला देता उस सरकार को
मन में शंका मत पालिए जब हमने आपसे
कमिटमेंट कर दिया था तो मन में कभी भी
शंका आपके मन में भी हम बोलते थे कोई

कन्फ्यूजन होगा तो बुला करके बात कर लीजिए
दूर कर लीजिए क्यों क्योंकि हम आपको अपना
परिवार समझते हैं हम लोग समाजवादी परिवार
के हैं मुख्यमंत्री जी और इसको ध्यान में

रखना चाहिए विजेंद्र जी विजय जी सब लोग को
बात रखना चाहिए और हम कहना चाहते हैं जो
आप झंडा लेकर के चले थे कि मोदी जी को देश
में रोकना है आपका भतीजा झंडा उठा करके
मोदी जी को बिहार में रोकने का काम
करेगा एक

कोई यह कोई पहली बार नहीं
है यह कोई पहली बार नहीं है मुख्यमंत्री
जी जो आप लोगों के साथ हम लड़ रहे हैं
अकेले हमारे साथ कांग्रेस है माले है
महागठबंधन हम लोगों ने बनाया

था 2020 में और 20 में तो क्या रिजल्ट हुआ
था उसी का ना पीड़ा आज मुख्यमंत्री जी का
कि तीसरे नंबर का पार्टी हो गए और चर्चा
तो बाजार में य भी चल रहा है आप
मुख्यमंत्री जी एक और पूरी बिहार की जनता

मीडिया के साथी है अरे कब्जा छुड़वाने चले
थे अब तो खुद ही कब्जा इन पे हो गया
अब देख लीजिए
लेकिन जितने मीडिया के लोग हैं अरे कब्जा

ना हो गया
है आप लोगों पर कुछ लिखने देगा कुछ बोलने
देगा तो अब तो कब्जा आप ही पर हो गया है
खैर जो भी अमित शाह जी कहते रहे हमारा तो
दरवाजा बंद है खैर उनका क्या उनके बात में

दम
है बात में दम है खैर हम लोग जो कहते हैं
वो करते हैं और हम लोगों ने 17 महीने काम
कर करके दिखाने का काम किया
है नौकरिया तो निकल ही रही है और कई बार

मुख्यमंत्री जी जब हम आपसे मिलने गए थे जब
सरकार बनाना था हम लोगों को तो मेरा सबसे
पहला कंडीशन विजेंद्र जी आपको याद होगा
हम बोले थे कि हम अगर आपके साथ आएंगे तो

भाजपा के रोकने के लिए तो आएंगे लेकिन साथ
में आप हमको विश्वास
दिलाइट मेंट करने का काम किया कि 10 लाख
सरकारी नौकरी देंगे आप व करवाइए अपने
नेतृत्व में मुख्यमंत्री जी बोले हो जाएगा

हो जाएगा दूसरा दिन अपने अधिकारी को भेज
देते हैं जब हम लोग ले
अपने सिद्धार्थ जी होंगे ठीक है विजेंद्र

जी विजय जी ठीक है
ना वि मंत्री थे ना तो वि सेक्रेटरी थे उस
समय सिद्धार्थ जी तो सिद्धार्थ जी को भेजा
गया बहुत काबिल अधिकारी बहुत समान है

हमारा तो सिद्धार्थ जी आकर के हमारे पास
बोलते हम बोले मुख्यमंत्री जी को क्या हुआ
नौकरी का क्या हुआ दीपक जी को बोले
मुख्यमंत्री जी को बोले विजय जी को बोले

सब बोल रहा है कि आपने कियाना लाक हम सीएम
बने नहीं कि हम कट कर देते लेकिन उप
मुख्यमंत्री बने फिर भी हमारे पर
जिम्मेदारी थी

फ कई बार जो है कहा उसके बाद फोन आता है
और कहा जाता है की सिद्धार्थ जी जा रहे
फाइनेंस से है मुख्यमंत्री जी के भी
प्रधान सचिव है व आपको एक्सप्लेन कर
सिद्धार्थ जी

आते फाइल
दिखाते कैसे होगा सर कुछ नहीं है पैसा
कैसे होगा हमने बोल दिया किसी भी हालत में
यह काम हम लोगों को करना

है आप असंभव बोलते थे आप मेरे पिताजी को
बाप का पैसा लाकर के दिलाएगा लेकिन इस 17
महीने में कहां से एक विभाग में एक दिन
में 70 दिनों के अंदर दो लाख से भी ज्यादा

सरकारी नौकरी कैसे
मिला
इच्छा शक्ति होनी
चाहिए विल पावर होना चाहिए तो मुख्यमंत्री
जी जो थके हुए मुख्यमंत्री थे उनको हमने
दोहराने का काम

कि तो हम लोग सही बात बोलते थे बोलिए कि
जातीय
जनगणना जाती आधारित गणना के बारे में यही
ना हाउस हम यही ना बैठे थे यही से ना हमने
प्रस्ताव किया था हालाकि आप पहले से मांग
करते रहे हमारे पिता भी मांग करते रहे ली

भाजपा वालो को छोड़
के सही बात है कि नहीं और आप बताइए ना
क्या क्या भाजपा वाले लोग बोलता था उस समय
हा सॉलिटर जनरल कौन है वहा बड़ा

महाधिवक्ता
क्या नाम है उनका सुप्रीम कोर्ट में करा
दिया था रोकने के लिए तुषार मेहता को खड़ा
कर दिया था जो हम लोग जाति आधारित गना करा
रहे थे आप तो जानवे ना करते
हैं

सब बात जानते हैं फिर भी वहां चले गए अब
बताइए करपुरी जी को मिला हमको तो बहुत
खुशी की बात है करपुरी जी को मिला आप
कपूरी जी के साथ हमारे पिता के साथ आप काम
कर चुके हैं आप उस वक्त थे हम भले ही मेरा

जन्म ना हुआ हो या हम बहुत छोटे होंगे
लेकिन आप तो जवान थे आपको तो य पता था कि
करपुरी जी जब आरक्षण बढ़ाए थे उनकी सरकार
थी तो जन जो था उस सरकार में था जब करपुरी
जी जब आरक्षण बढ़ा दिए तो यही जन संघ वाला

करपुरी जी को मुख्यमंत्री पद से
हटाया कौन हटाया और आप कहां बैठ गए आप
करपुरी जी का नाम लेते हैं और आप कहां बैठ
गए मुख्यमंत्री जी और वही जन संघ वाले
भाजपा

वाले कहते थे क्या बोलते थे आरक्षण कहां
से आई कहां से आई कपरी जी हम नहीं बोलेंगे
नहीं बोलेंगे नहीं बोलेंगे यह बोलते आप
हैं और आप कहां चले गए मुख्यमंत्री जी

बताइए हम अगर गलत बोल रहे तो इस बात को
बताइए विजेंद्र जी विजय जी आप लोग सब लोग
उस समय रहे भाई सब लोगों ने नेतृत्व में
काम किया

है हालांकि पता नहीं उस समय विजय जी शायद
कांग्रेस में
थे लेकिन मन से ये समाजवादी भी रहे
हैं तो इतना सब लोग का सहयोग रहा करपुरी
जी को भारत रत्न मिला तो ये लोग तो भारत

रत्न डील बना लिया डील करने के लिए हमको
वोट मिलेगा डील कर लो भारत रत्न दे देंगे
भारत रत्न दे देंगे डील कर लो सम्मान नहीं
करते आप लोग डीलिंग करते हैं डीलिंग करते

हैं भाजपा के लोग सम्मान नहीं करते डीलिंग
करते हैं केवल वोट बैज की राजनीति के लिए
करते हैं और हम लोगों ने कितना आरक्षण
बढ़ा दिया 75 पर लालू जी का जब सरकार था

तो उस समय शद 12 या 14 पर था राबरी जी के
सरकार में 18 पर हुआ उसके बाद जो है आप आए
तो और बढ़ गया हम लोग आए तो 75 पर तो हम
लोग ले ही गए लेकिन 24 के आसपास जो है अति
पिछड़ों का आरक्षण जो है वो मिला तो हम

लोग तो य सब काम करते रहे और हम लोग
विचारधारा को मानने वाले लोग हम लोग
सिद्धांत वादी लोग है एक जगह खड़े रहते
हैं तो मजबूती के साथ खड़े रहते
इधर उधर हम लोग नहीं करते तो

इसलिए उपाध्यक्ष महोदय
हमको किसी बात का डर नहीं फिकर
नहीं हमारे पिता लालू जी है और उनका खून
मेरे अंदरम लालू जी का बेटा है इन सब
चीजों से घबराते और डरते नहीं है संघर्ष

करते हैं और लड़ते हैं तो हम लोग लड़ाई जो
है लड़ने का काम करेंगे और आप मुख्यमंत्री
जी कह रहे थे कि उधर चला गया जब इस्तीफा
दे कर के आए थे गवर्नर हाउस से य बात बोले

की मन नहीं लग रहा था दूसरा बात य
बोले क्रेडिट ले रहा
था मेरा डिपार्टमेंट विभाग आरजेडी
का हमारे
मंत्री हम लोगों ने नौकरी दिया 17 महीने

में पहले तो नहीं मिलता था तो क्रेडिट
क्यों ना ले एक मिनट अब आप लोग सरकार बना
लिए एक मिनट सुनिए ना भैया सुन तो लो
सुनना ही नहीं चाहते आप ही के हित में

बोलना चाह रहे
हैं तो आप बोले क्रेडिट का समराट जी विजय
सिन्हा जी

य हम आप लोग को पहले सचेत कर दे रहे हैं
सचेत इस बात का करे कि महागठबंधन की सरकार
तो हम लोग नहीं रहते तो फिर से
मुख्यमंत्री नहीं बनते लेकिन एक बात
समझिए अगर आप लोग अभी सरकार में है जो काम
होगा

उसका क्रेडिट नहीं
लीजिएगा तो मुख्यमंत्री जी हम लोग 17
महीने जब थे सरकार में तो उसका क्रेडिट
क्यों ना ले आप लोग बताइए क्यों ना ले अब
आप लोग सरकार में आए भाजपा के लोग और

लेना क्रेडिट केवल मेरा तो आप लोग क्या
कहिए क्या
कहो क्या

अरे भाई शांति
शांति हम हम
लोग पिछला जब सत्र चल रहा था उपाध्यक्ष
महोदय जब पिछला सत्र चल रहा
था तो मांझी जी मांझी जी अपनी बात को रख

रहे थे अपनी बात को रख रहे
थे तो मुख्यमंत्री जी
मिनट मुख्यमंत्री जी जो है गुस्सा में
आए गुस्सा में तो आए तो
आए लेकिन उसके बाद मांजी जी का रिएक्शन

बाहर हुआ था मुख्यमंत्री जी अब बाहर जाके
बोले थे कि आपको जो है कोई गलत सल दवा
खिला देता है बोले थे हम नहीं बोले गलत सल
दवा खिला देता है और उनकी मानसिक स्थिति

ठीक नहीं है उनको जो है इलाज कराना चाहिए
था बो थे कि बो थे माजी अब अब हमको अब अब
अब हमको पूरा मांजी जी पर भरोसा है कि अभी
अच्छा दवाई कराएंगे

मांजी जी ख्याल जरूर
करिएगा आप बड़े हैं आपका सब जवाब मेरे
यहां कोई नहीं जरूर दीजिए ना कोई दिक्कत
नहीं हमको तो आप दवाई अच्छे से खिलाइए
पिलाए और थोड़ा बगले में कमरा ले

लेते जाके ले लीजिए अगर जाय सच में अगर
चिंता
है तो आप कमरा ले लीजिए वरना आज अगर आप
बोलिएगा तो अपना वचन वापस ले लीजिएगा जो

मुख्यमंत्री जी के बाहर बाहर
बोले नहीं आप बोलिएगा आपका बाड़ी आएगा
अरे आपको मौका मिलेगा माननीय सदस्य बैठ
जाइए मौका मिलेगा आपको आप बोलिएगा बोलिएगा
अच्छा से बोलिएगा बैठिए

कन नया बात बोलिए ना व हट गए तो हमने उनको
बोल दिया तो साथ आ गए तो हमने तारीफ कर
दिया वो उधर चले गए तो हमने बुराई कर दिया
कौन नहीं करता सब तो कर ही रहा है अ कौन
नहीं कर रहा है इसमें नया बात क्या बोल

रहे हम तो चिंता की बात ना कर रहे हैं कि
आपको अगर सही में चिंता है तो बगल में
कमरा लेकर के ठीक से दवाई कीजिए नहीं है
तो अपना शब्द वापस हम तो यही कह रहे अ इस
कोई बुरा बात लगने वा बात नहीं है हम तो

छोटे हैं बड़ा आपका हृदय है इतने बुजुर्ग
है हमारे अभिभावक है बच्चा को गलती गलती
करता है तो क्षमा कर देना चाहिए दिल बड़ा
रखिए तो इसम नहीं कना अब हमको बच्चे ना
बोल रहे थे कलूड कीजिए अध्य बोलने दीजिए

आज ही तो मौका मिला
है आज ही ना मौका मिला इसके बाद तो हम
जनता के बीच है जो हमारी मालिक है
जनता सदन कैसे चलेगा व तो हमको पता है
भाजपा का शद स्पीकर है आने वाला जो भी

होगा तो सदन कैसे चलेगा तो हमको पता है तो
कोई मतलब नहीं हम तो जनता के बीच रहेंगे
काम करेंगे जनता के बीच रहेंगे तो उसकी
हमको कोई चिंता नहीं तो इसलिए हम सब लोग
जो है इस बात को ध्यान रखें कि हम सब लोग
यहां है तो बिहार के हित के लिए बिहार के

तरक्की के लिए और
स्थिरता जब तक नहीं रहेगी कोई सरकार में
जब तक कोई स्टेबिलिटी नहीं रहेगी सरकार
में तब तक विकास संभव नहीं है और हमको तो
पीड़ा होती है जनता दल यूनाइटेड के

विधायकों के
प्रति इस बात के लिए कि मुख्यमंत्री जी तो
इधर से उधर भाग गुना कर लेते हैं जो करना
है कर लेते हैं लेकिन जनता के बीच तो व
विधायक लोग जाक के जवाब

देगा आप ही लोग ना दीजिएगा अब आपसे कोई
पूछेगा काहे बताओ नीतीश जी तीन बार शपथ
लिए तो क्या
बोलिए त गरिया रला पहले अब तू पढ़ाई करत र
क्या

बोल हमने नौकरी दिया
कहेंगे क्या बात कर रहे
हो
तो
दूसरा
दूसरा एक विधायक
अगर मेरे को झुठला दे कि आप सच बात बोल
रहे हैं भाजपा का लोग का तो शपथ ग्रहण जब

हुआ उससे एक दिन पहले ही सारा टंस
पोस्टिंग हो गया अब तो यही बोलेंगे
मुख्यमंत्री जी अ अभी तो हुआ आप लोग क नाम
दे रहे खैर बात अलग है सर सही अरे हमको
क्या है अब बोलेंगे वो नहीं किए नहीं किए

कर दि कर दिए तो भी खुश नहीं भी खुश आप
लोग अपना चिंता कीजिए तो एक बात समझिए
अफसर शाही इतना हावी है अफसरशाही इतना हवी
है कि हम
नहीं हम नहीं आप ही लोग बोलते

हैं आप ही लोग बोलते
ं जी पहले बो फुटेज है कौन कन बोला है
सबका फुटेज है सब दिखा
देंगे य तो सम्राट चौधरी सम्राट चौधरी जी

शपथ से पहले दिल्ली में इंटरव्यू देके जरा
फिर से देख लीजिएगा हमको बोलने की क्या सब
तो अपने आप लोग बोलते हैं करते हैं तो हम
इतना कह मुख्यमंत्री जी की कुछ भी लोग
किया भाजपा इतनी डरी हुई थी हमारे गठबंधन
से महागठबंधन से

आज
मजबूरन देख लीजिए कुछ भी लोग इवेंट
मैनेजमेंट करते रहे हो कुछ भी धर्म के ना
राजनीति करते रहे हो लेकिन हिंदुस्तान में
अगर सबसे ज्यादा किसी को डर भाजपा को था
तो बिहार से

र आपसे डर था हम साथ थे उसका डर था हम दिल
से बोल रहे हैं और मुख्यमंत्री जी शांति
शांति आपको चिंता की जरूरत नहीं है आप हम
जब हेल्थ मिनिस्टर थे तो दो तीन कैबिनेट

से फाइल अटका पड़ा है भाई हेल्थ पब्लिक
हेल्थ कैडर का जिसमें स्वास्थ विभाग के
कर्मी का हमने बोल दिया एकज लोगों का
वैकेंसी का है व करवा दीजिए करवा कितना
बार हम फोन करे मेरे पास मैसेज है विजय जी

को मैसेज के सब रिकर्ड में है प्रत अमृत
आपके होनार अधिकारी उनसे पूछिए दीपक जी से
पूछिए हम आपको क बार बोले विजेंद्र यादव
जी को बोले विजय जी को बोले कि कम से कम

यह वाला पब्लिक हेल्थ जो हम कर दिए हैं और
यह कैबिनेट ही भी नहीं आ रहा है कम से कम
इस पर तो कीजिए लोगों को बहाली होगी रिक्त
पद है हड़ जाएगा काम किया जाएगा मैसेज

लोगों का अच्छा जाएगा यही तो एजेंडा था तो
हम तो देखिए ना आप लोग अगर 12 हज वोट के
अंतर से छल कपट करके जीत के 2020 में
आए तो 5 साल कला था 5 साल में 5 साल में
अभी तो साती साल चल रहा है उसमें से हम

लोग ती 17 महीना रह
ली उसमें
17 चोर अच्छा अच्छा अच्छा भैया चोर दरवाजे
से अगर हम घुसे तो चोर का दरवाजा किसने
खोला अरे बताओ

भाई माननीय सदस्य कृपया समाप्त करें 4 बजे
तक
समय आप
लोग आप लोग अरे आप लोग आप लोग छोड़ ना आप
लोग को तकलीफ

होगा जब पीड़ा मिलेगी वहां से तो तेजस्वी
खड़ा
होगा
समझे और आज हमारे प्रहलाद जी सबसे
बुजुर्ग शांति शांति देर नहीं बिहार की
जनता सुनना चाहती जानना चाहती है कि नौ

बार शपथ आप क्यों लिए एक साल में तीन बार
शपथ क्यों लिए लेकिन हम तो यही ना खाली कह
रहे कि जो प्रहलाद
जी हम आपका धन्यवाद करते इतना दिन तक आपने
पार्टी का झंडा बुलंद करके

रखा और आप स्वस्थ रहिए माननीय मुख्यमंत्री
जी और सरकार से यही आग्रह होगा जो आपका
बात हुआ है उस पर वो खड़े
उतर कोई आए ना आए जब समय आएगा तो तेजस्वी
आएगा ठीक है समा किया जाए याद कीजिएगा

मेरा छोटा भाई चेतन जब थक थका करके कहीं
आप लोगों ने कुछ नहीं किया तो हमने टिकट
इसको दे कर के जिताने का
काम और इनके पिता के गुल प नहीं इनके
गुण नौजवान लोग रोडप लंबा चलना नया टीम

बनाना है नौजवानों को हम लोगों ने टिकट
दिया नौजवान आए राजनीति में राजनीति करें
सकारात्मक राजनीति करे बिहार को आगे लेकर

के जाए थका हुआ लोग नहीं चाहिए था हमको
लेकिन हमको पता है क्या क्या मजबूरी
है यह कोई नई बात नहीं है बहुत दिनों से
पीड़ित है और इस पीड़ा में कहीं भी रहे हम
इसके साथ
है और नीलम

जी जो आप महिला है आपने जो ले लिया हम
स्वागत करते
हैं शांति
शांति शांति
शांति बस दो मिनट मिट दो मिनट कलूड करेंगे
नीलम जी

नीलम जी आप महिला है हम आपके निर्णय का
स्वागत करते हैं बात बने ना बने बाद में
हमको जरूर याद
कीजिएगा और एक काम और मुख्यमंत्री जी हमने
फाइल कर दिया था आगे भी बढ़ा दिया था विजय
बाबू देख लेंगे देख लेंगे देखते ही रह रहे

अभी तक फलवा कर कैबिनेट में तो जीविका लोग
का तो आशा दलो का मानने वाला करवा दीजिएगा
आशा मंगता हम लोग के सरकार में हम लोग
सबका राय बना था जिसम जितने आप लोग सब लोग
मीटिंग में थे सब लेफ्ट के पार्टी सब नेता

को आप बुलाए थे इसम आपका भी निर्णय था
नहीं मना कर रहे आपका काम किया है उस पर
हम उंगली नहीं उठा रहे आपने काम किया
मानदेव बढ़ाया हम लोग काभी साथ रहा हमने

भी बोला कि भाई यह कर रहे हैं यह भी कीजिए
य भी कीजिए जितना मुह था उतना हम कहते थे
इजत सम्मान अपने मुह से ज्यादा हम नहीं
कहते थे तो हम तो एक एक चीज और शांति
शांति शांति हम कलूड करेंगे बस अब आप

लोगों की सरकार बनी है आप
लोग आप लोगों की जो सरकार बनी है हम यही
कहना चाहते हैं कि आपकी सरकार जो है हमारी
मांग है कि ओल्ड पेंशन नीति को आप लोग

जरूर लागू
कराइए सम्राट
जी इधर उधर सिद्धार्थ जी को ना भेजा
जाए सिद्धार्थ जी का मत

सुनिए ओल्ड पेंशन
नीति आप करवाइए क्रेडिट हम आपको
देंगे ओल्ड पेंशन और आप
तो विजेंद्र जी को जब भी देख तो हमको
केंद्र का योजना में कितना घट कर दिया
बिहार के लिए वही याद आता

है केंद्र से काने क्या जम के बोलो ये
किया वो किया तो य सब ठीक है लेकिन अब
क्या इस पर जाए मुख्यमंत्री जी तो आग
बबूला हो जाते थे कैबिनेट में कोई भी

प्रस्ताव अगर केंद्र का जितना भी ंश था
शेर था अगर केंद्र का नाम आ तो फाइ हटाओ
कौन लिख दिया
हटाओ कोई मदद नहीं करता है तो आप जरूर
मुख्यमंत्री जी जो है केंद्र जो पैसा दे

हमको पता है कि कहां दे रहा है बिहार
लेकिन कुछ देता है तो व मोदी जी के पॉकेट
का नहीं है बिहार के लोगों का
है व जरूर

लीजिएगा इसमें कोई नहीं आज जिसको भी
स्वास्थ्य मंत्री बनाएगा प्रत्यय अमृत जी
से पूछ लीजिएगा कार्ड बनता है ना जिसका
मोदी जी प्रचार करते हैं बिहार का भी वैसे

ही योजना हम लोग लाए हैं कि जो मजदूर बाहर
रहेंगे उनका 5 लाख तक का जो है
तुरंत अब क्या होता पहले रिवर्स होता था
इलाज करा लो तो पाद में पैसा अपना दो फिर
बाद में पैसा बजाते रहो इसमें क्या पहले

ही पैसा इमीडिएट जो है मिल जाएगा यह सब
काम करा दीजिए बाकी डबल इंजन की सरकार हो
गई है आप लोगों की तो हमको पूरा विश्वास
है कि प्रधानमंत्री जी सा मिले होंगे तो
आपने विशेष पैकेज की मांग की होगी लेकिन

विशेष पैकेज नाम देकर के अंदर गुब्बारा
नहीं होना चाहिए और कम से कम विशेष राज का
तो दर्जा दे दे हम लोग तो निकलने वाले थे
ना कि बिहार को विशेष राज का दर्जा मिलेगा

चलिए आप नहीं कीजिएगा अब तो आप तो सब लोग
कब्जा ना कर लिया है उसको हम ही आगे हम
लोग लड़ेंगे काम
करेंगे कृप समात कर अध्यक्ष महोदय हम सभी

अपने महागठबंधन उनके साथियों को तहे दिल
से धन्यवाद देते हैं कि इस लड़ाई में आप
लोगों ने हम लोगों का साथ देने का काम
किया है और आप सब लोगों को हमारी तरफ से

बहुत-बहुत शुभकामनाएं हैं मुख्यमंत्री जी
स्वस्थ रहिए कभी कोई बात होगा कुछ भी अगर
कोई बात हो तो हम हाजिर है उस पर कोई
चिंता की बात नहीं है लेकिन य सब काम जरूर
की बहुत-बहुत धन्यवाद

जय स्वतंत्र और आजाद पत्रकारिता का समर्थन
कीजिए सच में मेरा साथी बनिए बहुत आसान है
दोस्तों इस जॉइन बटन को दबाइए और आपके
सामने आएंगे ये तीन विकल्प इनमें से एक
चुनिए और सच के इस सफर में मेरा साथी बनिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *