नवरात्रि शुरू होने से पहले मैं तुम्हें गुप्त राज बताना.. - Kabrau Mogal Dham

नवरात्रि शुरू होने से पहले मैं तुम्हें गुप्त राज बताना..

मेरे प्रिय बच्चों आज तुम्हारी काली माता तुम्हें कुछ बताना चाहती है यदि तुम्हें

अपनी काली माता पर विश्वास है तो इस संदेश को पूरा सुने इसे बीच में छोड़कर जाने की

गलती ना करें मेरे बच्चे नवरात्रि के पावन दिन शुरू होने वाले हैं जिसमें इस

नवरात्र में मैं घोड़े की सवारी करके पृथ्वी लोक पर आ रही हूं जिसमें मैं सभी

नवरात्र व्रत धारण करने वाले भक्तों को बहुत ही विशेष रूप से आशीर्वाद प्रदान कर

मेरे बच्चे यदि तुम्हें अपनी माता पर विश्वास है तो इस वीडियो को तुरंत लाइक कर

दीजिए और चैनल को सब्सक्राइब करके कमेंट में जय माता रानी और हर हर महादेव जी लिख

दीजिए ताकि मैं तुम्हारे सभी कष्टों को बहुत जल्द दूर कर सकू और मेरा अगला संदेश

तुम्हें बहुत ही आसानी से प्राप्त हो सके मेरे बच्चे नवरात्रि के दिनों में अगर कोई

भक्त मेरी भक्ति सच्चे मन से करता है तो मैं उसे मनवांछित फल प्रदान करती हूं

और उसका जीवन खुशहाल बना देता हूं उसके जीवन में कभी भी कोई दुख दर्द नहीं आने

देती हूं वह एक साधारण मनुष्य नहीं रह जाता है वह सभी से भिन्न हो जाता है

क्योंकि वह मेरा भक्त होता है जो भी मेरा भक्त होता है वह कभी भी साधारण नहीं हो

सकता है उसका तेज हर समय चमकता रहता है और उसकी पताका पूरे संसार में लहराती रहती है

मेरे बच्चे आपके भाग्य में क्या लिख खा है क्या होने वाला है और क्या हो चुका है

आपके पूरे जीवन की सच्चाई आज आप सुन पाएंगे और समझ भी पाएंगे कि आपके जीवन में जो हो रहा

है तो क्यों हो रहा है और आगे जीवन में जो होगा वह क्यों होगा और क्या क्या होगा

मेरे बच्चे आज का संदेश आपको दो फाइलों में दिया गया है एक फाइल में मां काली है

और दूसरी फाइल में मां पार्वती है पहली फाइल से मां काली आपको बताएंगे कि आपके

भाग्य में क्या लिखा हुआ है और क्या होने वाला है और दूसरी फाइल में मां पार्वती

आपको बताएंगे कि आपके जीवन की कड़वी सच्चाई क्या है और आपके भाग्य में क्या

लिखा हुआ है कैसा है आपका भाग्य और क्या-क्या आपको प्राप्त होगा क्या-क्या

आपको खोना पड़ सकता है इसलिए मेरे बच्चे आप दोनों माताओं की बातों को बहुत ही ज्यादा ध्यान से सुने

एक निर्णय करें कि कौन सी माता ने आपके जीवन की पूरी सच्चाई बताई है इसलिए दोनों

फाइलों को बहुत ही ध्यान से सुनि सबसे पहले काली माता जो आपके जीवन के बारे

में बातें बताएंगे और आपके भाग्य के बारे में बताएंगे यदि वह बातें आपके जीवन से

मिलती है तो आप उस फाइल को रख ले लेकिन दूसरी फाइल जिसमें माता पार्वती है उनकी

बातों को भी जरूर सुने क्योंकि आपके जीवन की कुछ ना कुछ सच्चाई माता पार्वती की

फाइल अर्थात माता पार्वती जब आपको बताएंगे पूरी बातें तो उसमें भी आपको अपने जीवन की

कुछ ना कुछ सच्चाई जरूर जानने के लिए मिलेंगी मेरे बच्चे आपको ध्यान होगा कि आप

जब बहुत छोटे थे तो आपने अपने माता-पिता से हमेशा यह शब्द सुना होगा क्योंकि यह

सही नहीं कर रहे तुम यहां पर गलती कर रहे हो यह काम मत करो यह कर ऐसा मत करो वैसा

करो यहां मत जाओ वहां चले जाओ आपको अपनी मर्जी के मुताबिक कुछ नहीं करने गया हर

बात में रोक और तो लगाई गई यहां तक कि आपको शिक्षा में भी आपके माता-पिता ने

हमेशा यह बात बोली कि जो हम कहेंगे वैसे ही तुम्हें चलना है अर्थात तुम्हें वैसे

ही विषय लेकर पढ़ना है आगे भी वैसे ही करना है जब जब आप पढ़ने बैठ थे तब तक बाप को

डांट पड़ती जब जब आप कोई कार्य करते तब तक बास में बहुत ज्यादा डांट सुननी है आप

सहमी रहे डर कर रहे हर वक्त आपको यह डर सताता रहता कि कहीं आपके माता-पिता आपसे कुछ

कहना दे आप सही भी कर रहे होते तो भी आपके मन में हमेशा यह डर चलता रहता कि कहीं

आपके माता-पिता उस सही कार्य में भी आपको दान ना दे और इसी बात से आपका हृदय बहुत

ही ज्यादा डरा डरा सा रहने लगा क्योंकि आप सही करते उसमें भी आपको डांट सुनने के लिए

मिलती और आप छोटी मोटी गलती करते थे तब भी आपने हमेशा डांट सुनी उसके बाद आप थोड़े

बड़े हुए फिर आपको लगा कि आप अपने जीवन में स्वतंत्र नहीं जी पा रहे हैं और

आपको हमेशा डांट पड़ती रहती है फिर आपका मन और थोड़ा सा दिमाग खुलने लगा और आपको

लगा कि आपको अपना जीवन खुलकर जीना चाहिए लेकिन इसके बीच एक रुकावट आती है वह यह कि

आपको अपने माता-पिता की बातें मानते मानते और उनका कहना मानते मानते वह एक आदत पड़

चुकी है कि यदि बहुत कुछ कहते तो आप उनकी बात में अपनी स्वीकृति दे देते और उनकी

बातों का आप उल्लंघन नहीं करते भले ही आपका मन किसी भी बात से दुखी हुआ लेकिन आपने

कहीं ना कहीं उनकी हर बात को माना है उनके सामने अपना सिर झुकाया है उन्होंने जैसा

पढ़ाई के लिए कहा जितना आपसे हो सकता था उतना किया लेकिन मेरे बच्चे बड़े हो चुके

हैं आप भी अपने जीवन में कुछ करना चाहते हो और आपका जीवन आप अपनी मर्जी से जीना चाहते हो

लेकिन इसके बीच में भी एक रुकावट आ रही है कि आप कौन सा रास्ता चुना और कौन सा

रास्ता आपके लिए सही है इस राशि को लेकर आप बहुत ज्यादा भ्रमित हो क्योंकि

मेरे बच्चे आपके माता-पिता जिस रास्ते पर चलने के लिए कहते हैं अर्थात पढ़ाई के

साथ-साथ आपने अपने जीवन में कुछ सोचा है कि मैं ऐसे नौकरी करूंगा या मैं ऐसे नौकरी

कर रहा ह तो मुझे यह नौकरी नहीं करनी या मुझे दूसरी करनी है मुझे ऐसा जीवन साथी

चाहिए मुझे ऐसे जीवन जीना है आपके बड़े-बड़े सपने हैं मुझे ऐसे छोटे से जीवन

को नहीं जीना है मैं कुछ बनूंगा और मुझे बहुत बड़ा मुकाम हासिल करना है मुझे अपने घर

परिवार को देखते हुए जो कि एक एक रुपए के लिए तरसा है मैं यह नहीं चाहता कि ने अपने

जीवन को उसी तरह से जिस तरह से मेरी मां-बाप थोड़े-थोड़े पैसों के लिए तंग रहे

और परेशान रहे मैं चाहता हूं किन्हे अपने जीवन में आराम से जी अपने जीवन का आनंद ले

अपने माता-पिता को भी आनंद दिला मेरे बच्चे आपके जो बड़े-बड़े सपने हैं आप जो

काम कर रहे हैं वह आपको बहुत छोटा दिखाई दे रहा है और आप अपने लक्ष्य को प्राप्त

करने के लिए हर समय बहुत ज्यादा उत्सुक रहते हैं आपके मन में यह बात हमेशा चलती

रहती है कि मैं कैसे किसी भी बड़े मुकाम को हासिल कर आपके मन में यह बात हमेशा

घूमती रहती है कि मुझे कैसे भी कर वह बड़ा मुकाम हासिल करना है बहुत सारे पैसे कमाने

हैं बहुत कुछ अर्जित करना है जिस इससे की जिंदगी में मैं सभी सुख सुविधाओं को जुटा

पाए मेरे बच्चे अपने जीवन में आपको रास्ता भले ही कोई भी हो लेकिन आपका मन हमेशा यही

कहता है कि मुझे कोई भी रास्ता चुनने के लिए कहेगा तो मैं चन लूंगा लेकिन बस मुझे

उस मुकाम तक पहुंचना है और कैसे भी करके मैं वहां तक पहुंचा मेरे बच्चे इस तरह से

आपका मन हमेशा भटकता रहता है और आपकी जो मन की सोच है वह हमेशा इस पर टिकी हुई है

आप इस दायरे में घूम रहे हैं और आपको लगता है कि आपके माता-पिता जैसे कहते हैं अगर

आप ऐसा करते हैं तो फिर आप वही छोटे व्यक्ति र जाएंगे कभी बड़ा नहीं बन पाएंगे

और नहीं ही आप जीवन में किसी भी चीज को ज्यादा प्राप्त कर पाएंगे क्योंकि उनका जो

सूचना है अर्थात माता-पिता का जो सूचना है वह यह है कि आप साधारण से पढ़ाई करने के

बाद आप नौकरी करो और आपको यह लगता है कि आप अगर नौकरी करेंगे तो फिर आप उस चीज को प्राप्त

नहीं कर सकते अर्थात एक बड़े मुकाम को खास फिल नहीं कर सकते और जो आप प्राप्त करना

चाहते हैं उसे भी प्राप्त नहीं कर सकते लेकिन मेरे बच्चे अभी भी आप शंकाओं से

घिरे हुए हैं अर्थात आपका मन हर समय यह सोचता रहता है कि कहीं मैं अपने सपनों को

पूरा करने के चलते किसी गलत रास्ते पर ना चला जाए या अपने माता-पिता के विरुद्ध ना

चला जाए अर्थात उनके हृदय को मेरी वजह से कोई कष्ट नहीं होना चाहिए और नहीं मेरी वजह से

कोई परेशानी होनी चाहिए जिससे कि वह जिस कार्य को करने के लिए कहते हैं अगर मैं उस

कार्य को ना करें अपनी मनमानी करूं या अपने हिसाब से चलो तो उन्हें बुरा ना लगे

मेरे बच्चे आप यह भी सोचते हैं और यहां बड़ा मुकाम हासिल करने के लिए एक ऐसे

कार्य को कर रहे हैं जिस पर आपको बहुत ज्यादा मेहनत करनी हो रही है आप में अपना

दिमाग लगाकर कि एक कार्य को शुरू कर दिया है लेकिन अभी वह कार्य पूरा नहीं हुआ है और आप बार-बार

उस पर दिमाग लगा रहे हैं बार-बार प्रयास कर रहे हैं और अपने घर वालों से भी इस बात

को छुपाने का प्रयास कर रहे हैं क्योंकि मेरे बच्चे आपका मन कहीं ना कहीं कहता है

कि जब आप उस कार्य को पूरा कर लेंगे उसके बाद ही आप अपने परिवार वालों को अपने

माता-पिता को बताएंगे जिससे कि उनको बहुत ज्यादा खुशी होगी और आपको भी

बहुत खुशी होगी और आपके सपनों के साथ-साथ आप माता-पिता के उन सपनों को साकार कर

पाएंगे जिससे कि वह जो चाहते हैं कि आप एक अच्छे मुकाम को प्राप्त करें और आप बहुत

सारे पैसे कमाए उन्नति तरक्की करें जो सपने हैं आपको लेकर के वह पूरे आप करना

चाहते हैं इसलिए मेरे बच्चे आप बातों को छुपा रहे हैं तो आपके भाग्य में यह है कि

आगे आप बड़े मुकाम को हासिल करेंगे क्योंकि आप बहुत ज्यादा मेहनत कर रहे हैं

और आप जो पहले कठिनाई झेल चुकी है माता-पिता की बात सुनी है तो आपने बहुत अच्छा काम किया

है कि आप उनकी बातों को बर्दाश्त किया उनके सामने सर झुकाया स्वीकृति दी और आपने

अगर दान सुनी है तो कहीं ना कहीं अपने बच्चों को समझाने के लिए कोई भी माता-पिता

अपने बच्चे को सही राह पर चलाने के लिए थोड़ा बहुत डांट दे तो उसमें बुराई नहीं

होती है क्योंकि कहीं कोई गलती आप कर रहे होते थे तो उसमें आपके माता-पिता ने कुछ

कहा तो वह आपके भविष्य को लेकर है यानी आपके माता-पिता आपके भविष्य को लेकर

चिंतित थे इसलिए उन्होंने ऐसा किया है और आपका जो भविष्य है वह बहुत ही ज्यादा

उज्जवल है अर्थात आपको वह मुकाम हासिल होगा जिसके बारे में सोच रही है क्योंकि आपने माता-पिता की

स्वीकृति के साथ-साथ जो मुकाम सोचा है वह बहुत ही ज्यादा अच्छा सोचा है और आप वहां

तक पहुंचने के लिए यह प्रयास कर रहे हैं भले ही आप लोगों से छुपा रही हैं या

अपने घर परिवार के सदस्य से छुपा रहे हैं छुपाकर किसी काम को करने का प्रयास कर रहे

हैं तो आपको वह मुकाम हासिल होगा जिसके बारे में आप सोच बैठे हैं दिन रात चिंतित

रहते हैं और बार-बार प्रयास कर रहे क्यों की आपका जो हृदय है ना बहुत कुछ इस प्रकार

का है कि आप विश्वास रखते हैं लेकिन गलत कार्यों से डरते भी हैं आप ऐसे लोगों से

दूर रहते हैं जो कि सही नहीं चलते हैं और नहीं आप ज्यादा किसी से मित्रता निभाते

हैं और आपके कुछ खास मित्र हैं वह आपको इस कार्य में सहयोग दे रहे हैं कि हां आप करो

मैं आपके साथ हूं और आपको जो समझ में नहीं आएगा वह आप मुझसे पूछ लेना तो बहुत सारे

संगीत साथी आपके ऐसे हैं जो आपको सहयोग कर रहे हैं और वही कुछ लोग ऐसे हैं जो आपसे

जल रहे हैं क्योंकि उनको ऐसा आभास हो रहा है कि आप बहुत ज्यादा आगे जा रहे हैं और

वह नहीं चाहते कि आप आगे चली जाए तो बहुत थोड़ा

चिड़चिड़ी द्वेष भावना पूर्वक बातें करते हैं मेरे बच्चे आपका भाग्य बहुत ही ज्यादा

सुनहरा है अर्थात आपके भाग्य में आपने जो सोचा है वह मंजिल तो आपको प्राप्त होगी ही

और जो आपने आगे जाने के बारे में सोचा है जिसके बारे में आप मेहनत कर रहे हैं और

आप ऐसे लोग वो के साथ नहीं रह रहे जो कि आपको दिशाहीन कर दे या फिर आपका समय

बर्बाद करें ऐसे लोगों के साथ नहीं रह रहे तो यह बहुत अच्छा कर रहे हैं और आपको

आपकी मंजिल के साथ-साथ आप बहुत आगे तक जा पाएंगे क्योंकि मेरे बच्चे आप का जो सूचना

है और आपने जो पहले अपने जीवन में कठिनाइयां झेल चुकी है तो उसके फल स्वरूप

आपको आपके जीवन में बहुत ज्यादा सब कुछ प्राप्त होगा इसलिए ज्यादा चिंतित होने की

आवश्यकता नहीं कि आपके भाग्य में कहीं कुछ गलत तो नहीं लिखा गया मेरे बच्चे आपका

भाग्य बहुत अच्छा है और आपने जीवन में जो कठिनाई झेल चुकी है आगे भी थोड़ी बहुत

कठिनाइयां आपको झेलनी है क्योंकि जब जब तक आप किसी मुकाम को हासिल नहीं कर लेंगे और आप जिस

लक्ष्य को प्राप्त करना चाहते हैं उसमें जो मेहनत कर रहे हैं उस मेहनत के अनुसार

आपको जब फल प्राप्त होगा अर्थात आप जिस मंजिल को पाना चाहते हैं तब तक आपको मेहनत करनी

है बस और वह समय शीघ्र ही आने वाला है कुछ ही समय आपको मेहनत करनी है मेरे बच्चे

उसके बाद आपका जो भविष्य है वह सुनहरा है बहुत ज्यादा उज्जवल भविष्य है आपका आपको

जीवन में जब वह एक लक्ष्य प्राप्त जैसे ही होगा उसके बाद आपका आगे का रास्ता बहुत

आसान हो जाएगा मेरे बच्चे आपके माता-पिता के साथ-साथ इस संसार में आपके जो सगे

संबंधी है जो रिश्तेदार हैं उनके सामने भी आपका मान सम्मान बढ़ेगा लोग आपकी तारीफ

करेंगे और लोग आपको सराहे गे लोग यहां तक कि आपका नाम लेकर दूसरों को उदाहरण देंगे

कि वैसे मेहनत करो जैसे उस बच्चे ने किया इसलिए मेरे बच्चे आपको ज्यादा चिंतित होने

की आवश्यकता नहीं है आप मेहनत कर रहे हैं तो आप उस बात को ध्यान रखें कि आपकी

ईमानदारी से की गई जो मेहनत है वह अवश्य रंग लाएगी और आपका भाग्य बहुत ज्यादा

सौभाग्य में परिवर्तित होगा मेरे बच्चे एक बात अवश्य याद रखना कि आप डरना मत विश्वास

रखना मुझ पर खुद पर अपनी मेहनत पर आप अपने माता-पिता का नाम अवश्य रोशन करोगे और आप

अपने ने जीवन में आगे देखोगे कि आपने जो सोचा भी नहीं होगा वो मुकाम को हासिल होगा

मेरे बच्चे में मां पार्वती तुम बचपन से बहुत ज्यादा चुप चुप रहते हो ना किसी से

ज्यादा बात ना करना ना किसी से ज्यादा मतलब तुम्हारे माता-पिता ने जैसा कहा वैसा

तुमने क्या एक जगह यदि बैठने के लिए कहा तो तुम पूरा दिन बैठे रहे पढ़ाई में भी तो

हमेशा अच्छे अंक लेकर के ही पास हुए हमेशा तुम ऐसा आभास करते हैं कि यदि कुछ शांत

थोड़ी भी कम आए तो तुम्हें सबसे ज्यादा परेशानी हो जाती थी और तो धीरे-धीरे करके

इसी प्रवृत्ति से बड़े होने लगे वहीं चुप चुप रहना शांत रहना किसी ने कुछ कहा तो उस

कार्य को कर देना और केवल अपनी पढ़ाई पर विशेष ध्यान देना मेरे बच्चे तुम हमेशा इस

बात को ड मन में सोचते रहे और अभी भी सोचते हो कि

मैं ऐसा कोई कार्य नहीं करूंगा जिससे कि किसी को परेशानी हो मैं ऐसी कोई बात नहीं

बोलूंगा जो बेवजह हो किसी का दिल नहीं दिखाऊंगा किसी को ऐसा ही बात बोलने से

मेरे जीवन में उस पर भारी बोझ चढ़ जाता है मैं हमेशा इस बात को सोचता रहता हूं

अर्थात तुम हर वक्त इस बात को सोचते रहते थे और अभी भी सोचते हो कि संसार में मैं

अपने माता-पिता को हमेशा खुश देखना चाहता हूं मैं अपने माता-पिता का नाम रोशन करना

चाहता हूं और जीवन में केवल अपने साध से जीवन को होगा ना तो तुम्हें ज्यादा पहनने

का शौक है थोड़ा बहुत अच्छा खाने का शौक जरूर तुमने पाला लेकिन मेरे बच्चे अपने

जीवन में तुमने ज्यादा दोस्त नहीं बनाए कुछ साधारण एक या दो ही दोस्त बनाए जिससे

कि तुम्हें मुसीबत के वक्त साथ दे और तुम भी उनका साथ दो और उसमें भी तुम अपने

दोस्तों से ज्यादा बात नहीं कहते क्योंकि तुम्हे काम सेही फुर्सत नहीं होती

तुम्हारा मन शांत होकर अपने काम पर सबसे ज्यादा लगता है समय दर समय तुम हर कार्य

को कर लेते हो क्योंकि मेरे बच्चे तुम्हें अपने कार्य के बारे में बहुत ज्यादा चिंता

रहती है अभी भी और बचपन में भीड़ रहती थी इसी प्रकार से तुम बड़े हो गए और बड़े

होकर के तुम्हारे माता-पिता को तुम पर नाज है गर है हमेशा सोचते हैं कि काश मेरे दो

चार बच्चे और इसी तरह होते तो हमें कितनी खुशी होती लेकिन मेरे बच्चे केवल तुम एक ही क्यों

हुए लेकिन जैसे जैसे तुम बड़े हो रही हो तुम्हारी चिंताएं और भी ज्यादा विशाल रूप

ले रही है अर्थात तुम्हें जीवन में कुछ करना है तुम हमेशा इस बात को सोचते रहते

हुए की मैं पढ़ाई में तो अच्छा सभी कार्यों को सही करता हूं पता नहीं ईश्वर

मेरे भाग्य को कैसा बनाएंगे अर्थात आगे जाकर मुझे वहां मुकाम हासिल होगा या नहीं

जिसको मैं प्राप्त करना चाहता है क्योंकि मेरे बच्चे तो पढ़ाई के साथ साथ अपने दिमाग से भी

होशियार हो और तुम सबकी बातों को सुनकर चुप हो जाते हो तुम किसी का पलायन करना तो

जवाब देते हुए और नहीं किसी की बात का विरोध करते हो हर किसी की बात में सहमत

होती है और बेवजह किसी से फालतू बात करना तुम्हें ज्यादा प्रिय नहीं है हे मेरे बच्चे तुम

अपने माता-पिता से ज्यादा इच्छा नहीं रखते किसी भी चीज की बल्कि तुम्हें जो प्राप्त

हो जाता है उसी में संतुष्ट हो जाते हैं तुम कभी भी ज्यादा इच्छाओं को जाहिर नहीं

करते बल्कि अपनी इच्छाओं को दबाकर रखना जानते थे मेरे बच्चे तुम्हारे मन में

हमेशा यह प्रश्न जरूर उठता है कि एक ना एक दिन ऐसा आएगा जब तो खुले आसमान में लोगे

जिस तरह से पंछी उठते हैं अर्थात तुम सभी इच्छाओं को पूरा करोगे घूमने से फिरने तक

की आने से पीने तक की और तुम्हें जो भी करना है वह करोगे लेकिन अपने बलबूते पर

कुछ बन जाओगे तब तुम करोगे हमेशा यह बात तुम्हे घेरे रखती है और तुम मेहनत पर

मेहनत किए जा रहे हो मेरे बच्चे यही सोचते सोचते तो और आगे बढ़ रही हो तुम किसी भी

कार्य को करने से पहले कई बार सोचते हो बोलने से पहले सैकड़ों बार सोचते हो किसी

को बोलने से पहले तुम यह जरूर सोचते हो कि उसके हृदय को तुम्हारी बात का आभास कैसा

होगा कहीं उसे तुम्हारी बात का बुरा ना लग जाए कहीं किसी के हृदय को तुम्हारी बात से

कोई कष्ट ना हो इसके साथ-साथ बचपन से लेकर अभी तक तुम्हारे माता-पिता तुम्हें कभी भी

डांटते नहीं है पर कभी क्रोध नहीं करते और बचपन से लेकर अभी तक तुम्हारा थोड़ा सा कह

देने पर किसी भी कार्य को शीघ्र ही पूर्व कर देते हैं क्योंकि मेरे बच्चे

तुम्हारा चुप रहना उन्हें अपनी ओर आकर्षित करता है और हर कार्य को करने के लिए विवश

कर देता है तुम्हारा चुप रहना अपने कार्यों को करना और बिना मतलब के किसी से बात ना कर इन कुछ ऐसी बातों से तुम्हारे

माता-पिता के हृदय को तुमने जीत लिया है और साथ ही तुमने मेरे हृदय को भी जीत लिया है मेरे

बच्चे तुमने अपने कार्यों की शक्ति से अपने जीवन के भाग्य को खुद उदय करना

प्रारंभ कर दिया और तुम्हारा भाग्य इतना तेज है कि तुम राजयोग करोगे मैं तुमसे

वादा करती हूं कि तुम्हारे जीवन में जिस प्रकार से बिन मांगे सब कुछ तुम्हारे

माता-पिता तुम्हें दे रही है उसी प्रकार से तुम्हें बिन मांगे सब कुछ प्राप्त होगा

बिन मांगे तुम्हें अपने जीवन में सब कुछ मिल जाएगा मेरे बच्चे इस बात को तो विशेष

ध्यान रखना कि तुमने अपने कर्मों की बहुत ज्यादा शक्ति इकट्ठा कर ली है और तुमने

अपने शांत स्वभाव से सबका विदाई जीत चुके हैं पहले से प्रारंभ से जब से तुमने जन्म

लिया और जब से तुमने शुरू किया केवल तुमने अपने पैरों पर ही चलना शुरू नहीं किया

बल्कि तुमने अपने जीवन में उस ओर चलना शुरू किया जो तुम्हारे भाग्य उदय करता है

तुम्हारा भाग्य यूं ही उदय नहीं हुआ बल्कि तुम्हारा भाग्य परम सौभाग्य में तुमने खुद उदय किया

है अपने कर्मों से तो प्रारंभ से ही ऐसे का यो को करते चले आ रहे हो जिन कार्यों

को तुम सुन ही चुके होंगे मेरे बच्चे तुम्हारे जीवन में तुम्हारा राजयोग

है अर्थात तुम्हें एक ऐसा अवसर प्राप्त होगा यह सब के तुम एक ऐसी राजगद्दी जैसे

पर बैठ जाओगे जहां पर केवल तुम अप हुकुम चलाओगे अर्थात तुम अपना आदेश दोगे और कुछ

लोग तुम्हारे आदेश का पालन करेंगे अर्थात तुम बहुत बड़े इंसान बनो और अपने जीवन में

तो पीछे पलट कर देखोगे कि तुम कहां से कहां आ गए मेरे बच्चे यह मैं तुमसे वादा

करती है और तुम्हें जो बता रही है उसे विश्वास पूर्वक याद रखना क्योंकि आने वाले

समय में तुम्हें शीघ्र ही यह दिखाई दे जाएगा क्योंकि जब तुम बहुत छोटे थे और जब

से तुम बड़े हो रहे हो और बड़े होने तक मैंने तुम्हें भर रूप से देखा है परखा है

मेरे बच्चे तुमने कभी भी माता-पिता की बात का उल्लंघन नहीं किया तुमने कभी भी किसी

को कुछ कहने का मौका नहीं दिया जीवन में तुमने हर उस लकीर को तुमने कभी भी पार

करने की कोशिश नहीं की जो तुम्हारे मान्य को दूर करती है अर्थात तुम्हारा धरती

तुम्हारा सम्मान कम हो ऐसा तुमने कभी कोई काम नहीं किया इस वजह से ही तुम्हें एक

ऐसा मान सम्मान प्राप्त होगा जो तुम्हारे कर्मों के द्वारा ही तुम्हें प्राप्त किया है और यही

कड़वी सच्चाई है क्योंकि जो इंसान अपने लिए मान सम्मान प्राप्त करता है खुद

इकट्ठा करता है खुद संजोता है हर चीज को एकएक मोती की तरह तुमने एक-एक कर को

संजोया है और उसी से तुम्हारे जीवन में तुम अपने भाग्य कोडो उदय कर पाए हैं भले ही तुम्हें अभी

नहीं दिखाई दे रहा है कि तुम्हारा भाग्य उदय होगा औरतो में बहुत ऊंचे मुकाम को

हासिल करोगे लेकिन मेरे बच्चे तुम्हें वह सब कैसे प्राप्त होगा कि तुम जिस कार्य को

करने कि सोच रही हो उस पर सबका आशीर्वाद प्राप्त है मेरा आशीर्वाद प्राप्त है

माता-पिता की दुआएं तुम्हारे साथ हैं दुआएं माता-पिता की सब बच्चों के साथ होती

है लेकिन उस बच्चे के जीवन में फलीभूत माता-पिता की दुआएं होती है जो बिना मांगे और बिना

कुछ कहे अपने कर्मों को लगातार करता रहता है अर्थात माता-पिता को उसे कुछ कहना ही

नहीं होता बल्कि वह आगे से आगे उन कार्यों को करता और समझता चला जाता है जिन

कार्यों को करने का उसका फायदा जब बनता है धर्म बनता है और वो उन कार्यों को अवश्य

करता है और वही तुमने किया है क्योंकि मेरे बच्चे पता नहीं कैसे लेकिन तुम्हारी

बुद्धि ने प्रारंभ से कार्य किया तुम्हारे भाग्य मैं जो लिखा था उस लकीर पर तो पहले

से ही चली हूं कि आगे तुम्हें यह सब प्राप्त होगा भाग्य अपने आप नहीं बनता फल

की सृष्टि बनाती है बचपन से प्रारंभ से जब तुम जन्म लेते हो उस राह पर तुम्हें

प्रारंभ से चला दे देती है मेरे बच्चे इस राह पर चले और इस राह पर चलकर तुम्हें आगे

अपनी मंजिल प्राप्त होगी तोहे एक बहुत ऊंचा मुकाम हासिल होगा और उस बच्चे की

प्रवृत्ति अर्थात उसकी प्रवृत्ति उसका कर उसने जो भी क्या होता है वहां प्रारंभ से

ही उस तरह का ईश्वर बनाते हैं अर्थात मैं बनाती हूं तभी तो आगे जाकर के वह सब

प्राप्त होता है क्योंकि मेरे बच्चे यूं ही कोई चीज प्राप्त नहीं हो जाती हूं कि

तुम में कोई भी कम किया और तुम्हें कुछ भी प्राप्त हो गया बल्कि उसके पीछे तुम्हारे

पिछले जन्म के भी कम जुड़े हुए हैं जो तुम्हें फल के रूप में इस जन्म में

प्राप्त होंगे क्योंकि डोमन कर्मों को पिछले जन्म से ही इकट्ठा करते चले आ रहे हो और तुम्हें फल

तक प्राप्त नहीं हुआ लेकिन मेरे बच्चे तुम इतना समझ लो कि तुम तुम्हारे कर्मों की पोटली तुमने इकट्ठी कर ली है अब केवल उसका

फल तुम्हें प्राप्त होना है और वह फल इसलिए तुम्हें बड़ा और भारी प्राप्त होगा

जिससे कि तुम स्वयं देख पाओगे जी हां सच में तुम्हारा भाग्य कितना अच्छा लिखा है

मेरे बच्चे मैंने स्वयं बनाया है तुम्हारा भाग्य लेकिन बस कुछ ही समय बाकी है कुछ तो

तुम्हारा भाग्य उदय हो चुका है तुम्हें इस बात से समझ लो कि जब तुमने बचपन में

माता-पिता से कभी नहीं खाई माता-पिता से कभी ताने नहीं ही सुने माता-पिता ने

तुम्हें कभी भी कठोर वचन नहीं बोली हमेशा प्रेम किया है आगे से आगे तुम्हें सब कुछ

प्राप्त हुआ है उसका कारण क्या है क्योंकि मेरे बच्चे यह तुम्हारा भाग्य है इसलिए

मैंने तुम्हें इस तरह का बनाया जिससे कि तुम शांत रहते हो तुम चुप रहते हो तुम

अपने कार्यों को नियमित करते हैं जिससे कि सभी को इस बात का ज्ञान होता है कि हां सच

में तुम बहुत ज्यादा अच्छे बच्चे हो माता-पिता को भी इस बात का ज्ञान होता है कि हां सच में तुम बहुत अच्छे बच्चे हो

तुम्हे कभी भी इसी वजह से माता-पिता कुछ नहीं कहते बल्कि लांच करते हैं दुलार करते

हैं प्यार करते हैं और वह हमेशा तुम्हें आशीर्वाद देते रहते हैं मेरे बच्चे तुम

बहुत अच्छा कर रहे हो तुम बहुत आगे तक जाओगे तुम्हारे जीवन में तो वो सब कर लोगे

जो तुम्हें चाहिए उस हर मुकाम को हासिल कर लोगे जो तुम प्राप्त करना चाहते हो इस बात

को ध्यान रखो कि तुम्हारा भाग्य बचपन से ही उदय हो चुका था बस पूर्ण रूप से उदय

होना प्रारंभ हुआ है अब देखना प्रारंभ हुआ है कि तुम्हें जीवन में आगे क्या प्राप्त

होने वाला है मेरे बच्चे उसके कुछ कुछ ऐसा तुम्हें अपने जीवन में अभी से लिखना प्रारंभ हो जाएंगी और कुछ

समय के पश्चात ही तुम्हें पूर्ण रूप से दिखाई देंगे कि सच में तुमने वह प्राप्त

कर लिया जो कि एक भाग्यशाली बच्चा प्राप्त करता है मेरे बच्चे परिस्थिति चाहे कैसी

भी हो नकारात्मक हो या सकारात्मकता हो मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ रहेगा

तुम्हारा कल्याण हो जाए और माता रानी हर हर महादेव मेरे बच्चे यदि तुम हमारे इस

संदेश को देख और सुन पा रहे हो तो निश्चित ही तुम्हें कल सुबह यह शुभ समाचार अवश्य

मिलेगा क्योंकि अब तुम तुम्हारा इंतजार खत्म हुआ वह समय आने वाला है जब तुम्हें

यह शुभ संदेश प्राप्त होगा और वह क्या है वह आज हम तुम्हें बताएंगे क्योंकि अब वह

इंतजार की घड़ियां खत्म होने वाली है और तुम्हें आगे इंतजार करने की आवश्यकता नहीं है एक ऐसा

संदेश जो मां पार्वती तुम्हें देंगी और एक ऐसा ही संदेश में तुम्हें सुनाऊंगा इसलिए

मेरे बच्चे हमारी बातों को विस्तार से सुनना और केवल एक बार इस दिन के संदेश को लाइक

करके जय हो माता रानी जरूर लिखना मेरे बच्चे मैं तुम्हारी मां पार्वती आज तुम्हें एक ऐसा संदेश सुनाने आया हूं जो

कि तुम्हारे जीवन के लिए बहुत ही शुभ होने वाला है इसलिए मेरी बातों को बिल्कुल भी

बीच में सुनना मैच रोकना और पूर्ण रूप से सुनना तभी तुम्हें समझ में आ पाएगा कि वह

कौन सा संदेश है जो तुम्हें शीघ्र ही प्राप्त होने वाला है अर्थात एक ऐसा संदेश

जो तुम्हारे जीवन के लिए बहुत ही ज्यादा शुभ और अच्छा है मेरे बच्चे संदेश दो

प्रकार के होते हैं एक संदेश ऐसा जिसे सुनकर मन दुखी हो जाता है और जितनी भी

उम्मीदें होती हैं वह सब टूट जाती है कई बार किसी ऐसे संदेश को सुनने के पश्चात आपके अंदर

की जो हिम्मत होती है वह भी टूटने लगती है जो तुमने अपने हृदय में धैर्य को बांधा

होता है वह भी समाप्ति की ओर बढ़ने लगता है आता एक ऐसा संदेश जिसे सुनने के

चा तुम्हें किसी भी कार्य पर कार्य करने के लिए हौसला प्राप्त नहीं हो पाता

क्योंकि उस संदेश की ध्वनि कुछ ऐसी होती है जो कि तुम्हारे कानों में पाए एक ही वह

तुम्हारे धैर्य को समाप्त कर देती है क्योंकि मेरे बच्चे तो तुम्हारी सोच के

विपरीत सुनी गई बातें तुम्हारी हिम्मत को तोड़ने के लिए काफी होती है लेकिन यदि कोई

ऐसा संदेश तुम्हें प्राप्त हो जिससे कि तुमने जो सोचा है वह पूर्ण होने की आशा

जागृत हो जाए तो निश्चित ही मन में प्रसन्नता के फूल खिल जाते हैं और मन बहुत ही ज्यादा

प्रसन्न होकर खुशी से झूमने लगता है मेरे बच्चे मैं देख पा रही थे कि तुम्हारे जीवन

में कुछ बहुत बड़ा होने वाला है लेकिन तुम्हें कोई रोकने का जो प्रयास कर

रहा था कुछ समय से अर्थात तुम काफी समय से जिस पर बल लगाकर कार्य को करना चाह रही थी

उस पर कार्य को होने से कोई ऐसी शक्ति रोक रही थी जिसके रोकने पर तुम्हारा कार

पूर्ण नहीं हो पा रहा था अर्थात तुम जैसा सोच रही थी जिस कार्य को करने के लिए

बार-बार प्रयास कर रहे थे तो तुम्हारी बार-बार किसी ऐसी शक्ति के वजह से

तुम्हारा जो बल है बहुत कमजोर पड़ रहा था तो उस पर अपना खून ना बनना तो लगा पा रहे थे और

नहीं तो उस पर खरे उतर पा रहे थे क्योंकि मेरे बच्चे तुम्हारे निकट एक शक्ति

तुम्हारे मस्तिष्क पर कभी-कभी हावी होने लगती और तुम्हें रोक लेती उस कार्य से

लेकिन फिर भी तुम्हारी मां तुम्हारे साथ है इस वजह से मैंने उस नकारात्मक ऊर्जा जो

कि शक्ति के रूप में तुम्हारे जी जीवन में तुम्हें हर कार्य को करने से रोक रही थी

उसे बाध्य कर दिया है और अब जब तुम्हारे जीवन में मैं देख पा रहे हैं कि जिस कार्य

को होना अब संभव हो गया है अर्थात एक ऐसा शुभ समय शुरू हो रहा है शुभ समय में

तुम्हारा जो कार्य है वह खुद होगा क्योंकि मेरे बच्चे तुमने वहां पर परीक्षा पास कर

है जिस परीक्षा को पास करने के लिए तो कब से इंतजार कर रहे थे क्योंकि तुमने पूरी

मेहनत की और उस परीक्षा पर खरे उतरे जो काफी समय से किया गया प्रयास होता है एक

ना एक समय आकर पूर्ण हो जाता है क्योंकि बार-बार प्रयास करने से किए गए कार्य पर शक्तियां

इकट्ठा होती है और उसका परिणाम केवल एक बार में देखने के लिए मिलता है मेरे बच्चे

इस बात को समझो कि तुम आप एक ऐसे संदेश को प्राप्त करने वाली है अर्थात यदि

तुमने कहीं पर कोई कोशिश की है या तुम्हारा ऐसी जगह प्रयास किया हुआ है जहां

पर तुम बार-बार प्रयास कर रहे थे तो वहां से तुम्हारे लिए उत्तीर्ण होने का संदेश

तुम्हें प्राप्त होने वाला है यदि तुम कहीं पर काफी समय से उसमें सिलेक्शन के लिए एग्जाम

दे रहे थे और तो ऐसी जगह प्रयास कर रहे थे तो वहां से तुम्हें उत्तीर्ण का पत्र

अवश्य आएगा था लेकिन मेरे बच्चे एक बात को बहुत अच्छे से समझना कि यह संदेश केवल कल

सुबह कि तुम्हें प्राप्त नहीं होगा बल्कि एक ऐसी सुबह प्राप्त होगा जिस सुबह तुम इस

संदेश को पढ़ने के दिनों के अंदर-अंदर कोई भी एक ऐसी सुधार जो तुम्हारे जीवन में

होगी उस सुबह ही यह संदेश प्राप्त होगा इसलिए धैर्य को तोड़ना और

यदि तुम संदेश को सुन रहे हो तो इस बात को जान लो कि यदि तुम कहीं पर कोई कार्य को

पूर्ण करने के लिए प्रयास कर रहे हो तो लगातार तुम दिनों तक उस इंतजार को खत्म

मत करना मेरे बच्चे जो आज मैं इस संदेश में बता रही हूं तुम्हारा वहां ख्वाब भी

पूरा होगा और तुम्हें तुम्हारे उत्तीर्ण होने का पत्र भी प्राप्त होगा यहां तक कि तो उसमें अच्छे अंक लेकर आगे और तुम जिस

मुकाम को हासिल करना चाहते हो उसे भी प्राप्त कर पाओगे लेकिन मेरे बच्चे इसके

पहले तुम्हें ना तो अपने अंदर के इस विश्वास को छूटने देना है ही अपने आपको

बिखरने देना है क्योंकि तुमने जो मेहनत की है उसका फल तुम्हें अवश्य मिलेगा और यदि तुम किसी

भी परीक्षा में बैठने वाले हो तो तो और भी ज्यादा मेहनत करो क्योंकि परीक्षा देते ही

जो में उत्तीर्ण का संदेश अवश्य आएगा अर्थात इसी दिन में तुम्हारी

परीक्षा का परिणाम भी तुम्हें सुनाया जाएगा और तो उत्तीर्ण भी हो जाओगे लेकिन

यदि तुमने अभी तक परीक्षा नहीं दी है तो तो रूस परीक्षा के लिए बहुत ज्यादा मेहनत

करो और तैयारी करो क्योंकि तुम्हारे उत्तीर्ण होने का समय आ चुका है तुम अपने जीवन में अपने

उस सोचे हुए कार्य पर खरे उतरे वह समय आ चुका है है इसलिए मेरे बच्चे अपने अंदर के

हौसले को जगाओ और देखो कि तुम जिस नौकरी को पाना चाहते थे या जिस इंटरव्यू में

पास होना चाहते थे या जिस कोर्स के लिए तुम काफी समय से प्रयास कर रहे थे उसके

उत्तीर्ण होने पर तुम्हें इतनी ज्यादा होगी कि इसका अंदाजा तो नहीं लगा सकते और

मुझे पता भी है लेकिन शायद तुम नहीं जानते कि वह समय बहुत ही निकट है जब तुम्हें एक

ऐसा संदेश सुनाया जाएगा कि तो उसमें उत्तीर्ण हो चुके हैं लेकिन इससे पहले

तुम्हें अपनी हिम्मत को हार में नहीं है क्योंकि मेरे बच्चे यदि कुछ क्षण पहले ही

तुमने अपनी हिम्मत को हाथ लिया तो तो उस होने वाले कार्य पर उतनी खुशी प्राप्त नहीं कर

पाओगे और यदि तुम्हारे जीवन में तुम किसी ऐसे व्यवसाय को करने वाली जिसको काफी समय

से सोच रहे थे करने के लिए तब भी तो उसमें उत्तीर्ण हो जाओगे और तुम्हें

उत्तीर्ण होने की खबर कोई ना कोई व्यक्ति या कोई ऐसा इंसान जो तुम्हारे बहुत गरीब

रहता है वह इसी में शीघ्र ही देगा लेकिन इस दिन में ऐसा क्या है जो

तुम्हें उत्तीर्ण होने का संदेश प्राप्त होगा वह में तो ही बताऊंगी मेरे बच्चे

सबसे पहले तो तुम इस बात को समझो कि मौसम बदल रहा है ऋतु बदल रही है हवाएं बदल रही

हैं जो बहुत ज्यादा ठंडी हवाएं चलती भी दिन रहा लेकिन अब कुछ गर्म हवाएं भी पृथ्वी पर

प्रवेश करने लगी है सरकार से सूर्य की किरणें तुम्हारे ऊपर पड़ती है तो तुम्हारे

अंदर कुछ गर्मी का आभास होता है अर्थात धीरे-धीरे करके जिस प्रकार से सर्दी जा

रही है उसी प्रकार से एक ऐसा समय आने वाला है जो मैं तुम्हें बताऊंगी लेकिन मेरे

बच्चे उससे पहले तुम इस बात को समझो कि जब तुम यह संदेश पढ़ो उसके दूसरे दिन से

प्रातः काल सुबह-सुबह जागते ही सबसे पहले तुम सूर्य को नमस्कार करें और कुछ पल के लिए

एकांत में बैठकर तुम्हें एक बार यह बात बोलनी है कि मेरा वहां कार्य पूर्ण हो

चुका है मेरा वहां कार्य पूर्ण हो चुका है मेरी मां ने मेरा बहुत कार्य पूर्ण कर

दिया है अर्थात तुम जिस कार्य को पूर्ण कराना चाहते हो हो या जिस कार्य पर खरे

उतरना चाहते हो तुम्हारा कोई व्यवसाय है जिससे पूर्ण कराना चाहते हो या तो किसी भी

कोर्स में या किसी इंटरव्यू में पास होना चाहते हो तो तुम्हें उसी के लिए इस प्रकार

से सोचना है कि वह कार्य तुम्हारा पूर्ण हो चुका है और मैंने तुम्हारा बहुत कार्य

पूर्ण कर दिया है इसलिए मेरे बच्चे कल से तुम्हें यह कार्य करना प्रारंभ करना है और

अगले दिन तक तुम्हें यह करना है क्योंकि अगले जिन में नवरात्रि जो कि

तुम्हारी मां दुर्गा का अध्ययन आएगा और जब तक वह नवरात्रि चलेगी तब तक से लेकर

तुम्हें इस कार्य को करते रहना होगा प्रतिदिन तुम्हारे इन दिनों बोले गए यह

शब्द धीरे-धीरे करके तुम्हारे जीवन में एक ऐसी शक्ति को इकट्ठा करेंगे जो कि

ब्रह्मांड में मौजूद है अर्थात वह शक्ति तुम्हारे किसी भी अधूरे कार्य को पूर्ण

करने के लिए बहुत कि ज्यादा लाभदायक प्राप्त होगी क्यों कि मेरे बच्चे जब तुम किसी भी कार्य

को इस प्रकार से आभास करते हैं अपने हृदय से सोचते हो कि वह कार्य पूर्ण हो चुका है

मेरी मां ने वहां कार्य पूर्ण कर दिया है उनकी कृपा से मेरा कार्य पूर्ण हो चुका है

तो तुम्हारे द्वारा बोली गई यह बात जब तुम लगातार बोलते रहोगे तो किसी ना किसी दिन

प्रातः काल जब तुम इस बात का उच्चारण कर रहे होंगे तुम्हारी जुबान पर सरस्वती

विराजमान होंगे और उसी क्षण तुम्हारे द्वारा बोली गई यह बात तुम्हारे जीवन में सत्य होना

प्रारंभ हो जाएगी क्योंकि मेरे बच्चे जब तुम्हारी जुबान पर उसे क्षण सरस्वती

विराजमान होंगे तो ब्रह्मांड में मौजूद शक्ति जो कि तुम्हारी उस बात को सोच रहे

होंगे जो तू बोल रहे हो उसी समय उसी क्षण एक ऐसी शक्ति उत्पन्न करेंगे कि सभी

शक्तियां इकट्ठी होकर तुम्हारे उस कार्य को तुरंत ही पूर्ण कर देंगी अर्थात उस

कार्य को जिस कार्य के लिए तुम यह बात बोल रहे हो मेरे बच्चे इस बात का विशेष ध्यान रखना और

इस नवरात्रि के आखिरी दिन तक उन्हें यह बात बोलते रहना है और यदि तुम्हारे दिन

पूरे हो जाएं और नवरात्रि गुजर जाए फिर भी जिस दिन तुम मेरे इस संदेश को पढ़

हो तो उस दिन से ही तुम्हें अगले दिनों तक इस बात को भूलते रहना है और बीच में

नवरात्रि आएगी चाहे तुम किसी भी दिन इसको बोलना प्रारंभ करें नवरात्रि गुजरने के

पश्चात जैसे ही तुम्हारे दिन पूरे हो तो तुम स्वयं देखोगे कि तुम्हें एक अच्छी

खुशखबरी प्राप्त हुई है एक ऐसा संदेश प्राप्त हुआ है किसी के द्वारा कि तुम जिस

कार्य को पूरा करना चाहते थे वह पूर्ण हो चुका है और वह होगा सुबह का समय

मेरे बच्चे सुबह का एक ऐसा समय जिस समय तो उस बात को बोल रहे थे और वही बात तुम्हारे

जीवन में तुम देखोगे कि वह सत्य हो चुकी है जिसे तुम होता देखोगे तब तुम्हें

आभास होगा कि यही बात तो तुमने बोली थी कि यह सत्य हो चुकी है अर्थात यह हो चुका है

और वही हो चुका है क्योंकि मेरे बच्चे इसका एक कारण है कि जब तुम रोज-रोज यही

बात बोलोगे तो तुम ब्रह्मांड में मौजूद उस शक्ति को विवश कर दोगे जो शक्ति ब्रह्मांड

में मौजूद है कि तुम्हारी कार्य को करें तो मुझे विवश कर दोगे और बाध्य कर दोगे कि

मैं ना चाहते हुए भी तुम्हारा उस कार्य को करें क्योंकि मेरे बच्चे तुम्हारे

द्वारा बोली गई यह बात कि मैंने तुम्हारे उस कार्य को कर दिया है तो हो तो मुझे

सत्य करनी होगी और पूर्ण भी करनी होगी क्योंकि जिस समय सरस्वती तुम्हारी जुबान

पर विराजमान होंगे तो वह विराजमान होकर उस बात को डो पूर्ण करने के लिए मुझे विवश कर देंगी

और मैं उस कार्य को अवश्य फोन करूंगी मेरे बच्चे सुनने में भले ही साधारण लगे लेकिन

यह सत्य है यदि तुम इस बात को समझ गए तो अपने जीवन में तुम किसी भी कार्य को पूरा

कर सकते हो और किसी भी कार्य को पूर्ण करने की शक्ति को भी इकट्ठा कर सकते हो

क्योंकि उस शक्ति को इकट्ठा करना कोई बड़ा मुश्किल का काम नहीं है है केवल तुम्हारी

सोच पर निर्भर करता है तुम क्या सोच रही हो तुम अपने जीवन में जैसे-जैसे सोच को

इकट्ठा करोगे वैसा वैसा तुम्हारे जीवन में घटित होता जाएगा मेरे बच्चे अब निर्भर तुम

पर करता है कि तुम्हारी सोच कैसी है यदि तुम्हारी सोच अच्छी है तो अच्छी चीजों को अच्छी बातों

को और जीवन में सब कुछ अच्छा होते हुए देख पाओगे और यदि केवल दूसरों की बुराइयों में

अपने जीवन को व्यर्थ गवाह दोगे तो जीवन में केवल बुराई करते हुए ही अपना पूरा समय

गरबा बैठोगे मेरे बच्चे इस बात को हमेशा स्मरण रखना और इसी बात को भी स्मरण रखना

कि जो व्यक्ति हाथ पर हाथ रखकर बैठा रहता है कि किसी कार्य को नहीं करता तो उसके

जीवन में वह चाहे तो कितना भी कुछ भी करो लेकिन उसका कोई कार्य शीघ्र ही पूर्ण नहीं होता

क्योंकि उसका मन केवल यहां वहां की बातों में भटकता रहता है और जो व्यक्ति केवल

अपने काम से काम रखता है उसे संसार के किसी भी व्यक्ति से बुराई भलाई से अर्थ

नहीं होता तो वह किसी भी कार्य को कर लेता है क्योंकि मेरे बच्चे उसके जीवन में बहुत

अच्छी शक्तियों को इकट्ठा करता है और नकार ऊर्जा उससे दूर रहती है मैं तुम्हारी मां

काली आज तुम्हें बताने आई हूं कि क्योंकि एक शोक संदेश प्राप्त होने वाला

है और वह शुभ संदेश क्या है जब तुम जानोगे तो निश्चित ही खुशी से झूम उठे होगी

क्योंकि मेरे बच्चे वह संदेश कुछ ऐसा है बहुत ही प्यारा है जो तुम्हें प्राप्त

होने वाला है यदि तो आज मेरे इस संदेश को सुन रहे हो तो आने वाले कल ही नहीं बल्कि

आने वाले कुछ समय में तुम्हें य हां प्रातः काल संदेश अवश्य प्राप्त होगा यदि

तुम विवाह के योग्य हो चुके हो या विवाह करने वाले हो या तो किसी से बहुत ज्यादा प्रेम कर करो अपने

जीवन में किसी से लगन लगाकर बैठे हो किसी देवीय शक्ति से या किसी स्त्री से या किसी

पुरुष से कुछ भी तुम्हारे जीवन में ऐसा होने वाला है जिसके लिए तुम बहुत

ज्यादा उम्मीद लगाकर बैठे हो तो उसे बहुत प्रेम करते हो और तुम्हारा मन उसके बिना

कहीं नहीं लगता तो हमेशा उसके बारे में पूर्ण विचार करते रहते हो और सोचते रहते

हो कि वह तुम्हारे निकट आकर तुम उसे अपने प्रेम का वार्तालाप करें अर्थात वह तुमसे

कुछ ऐसी बातें करें जिसे सुनकर तुम्हारा मन प्रसन्न हो जाए दो मेरे बच्चे तो

निश्चित ही इस बात को समझ लो कि मैं तुम्हें उस बात को बताने वाली जिसे सुनकर

निश्चित ही तुम प्रसन्न हो जाओगे कि यदि तुम किसी से विवाह करना चाहते हो या तुम्हारे परिवार

के सदस्य तुम्हारा किसी से विवाह करना चाहते हैं और तुम भी उसे पसंद करती हूं

तुम इंतजार कर रहे हो कुछ समय से लेकिन पास समय नहीं आ रहा तो वह समय अब आएगा और वहां

कैसे आएगा वह भी मैं तुम्हें बताऊंगी वह संदेश तो तुम्हें प्राप्त होगा ही लेकिन

मेरे बच्चे तुम इसी गुरुवार से अर्थात जब तुम मेरे संदेश को सुना तो उसके अगले

आने वाले समय में जब भी गुरुवार का दिन आए तो केवल पांच रोटी बनाना और उन पर थोड़ा

सा गुड़ रखना यह कार्य तुम प्रातः काल ही करना वह भी स्नान के पश्चात और इन रोटियों

को गाय को दे देना गुरुवार के दिन यहां पांच रोटियां जैसे ही गाय ग्रहण करेगी वह

भी गुड़ के साथ या किसी मीठे के साथ तो तुम्हारा गुरु मजबूत हो जाएगा जो कार्य

अधूरा है विवाह का या प्रेमिका या तो किसी से बहुत ज्यादा प्रेम करेले में प्रेम का

इजहार नहीं कर पा रहे या फिर वह तुमसे आकर प्रेम का इजहार कर

तुम्हारा संबंध सही नहीं है तो वह संबंध भी सही हो जाएगा तुम्हारा हर अधूरा कार्य

पूर्ण होगा जो भी तुम्हारा प्रेम से संबंध है यह तुम्हारा विवाह से संबंधित है क्योंकि मेरे बच्चे

गाय में सभी देवता निवास करते हैं और तो इस कार्य को करके विष्णु देव को प्रसन्न

कर लीजिए और विष्णु देव जो कि सभी के विवाह के गठबंधन को बांधते हैं तुम्हारे

भी विवाह के गठबंधन को वही बात तुम दोनों के प्रेम को वह स्वीकार करेंगे और तुम

दोनों को मिलाने का कार्य भी वह स्वयं करेंगे क्योंकि मेरे बच्चे जिस प्रकार से वह लक्ष्मी से बहुत ज्यादा प्रेम करते हैं

और उन्हें अपनी आंखों से ओझल नहीं होने देते उसी प्रकार वह तुम्हारे प्रेम को भी तुम्हारे

निकट ले आएंगे तुम्हारे प्रेम को विवश कर देंगे कि वह तुम्हारे निकल जाए उसके हृदय

में भी तुम्हारे लिए प्रेम की ज्योति वह स्वयं जलाएंगे मेरे बच्चे इस बात को ध्यान

रखना कि यह कार्य सुनने में भले ही साधारण हो लेकिन यह बहुत ज्यादा शक्तिशाली कार्य

है जैसे ही तुम करना प्रारंभ करोगे तुम देखना कि तुम्हारे जीवन में धीरे-धीरे

करके तुम सभी लोगों को अपनी जीव में अपनी और आकर्षित कर लोगे प्रेम के लिए और तुमसे

रिश्ता बनाए रखने के लिए क्योंकि मेरे बच्चे इस बात को हमेशा स्मरण रखना कि जब

भी किसी के जीवन से मधुर संबंध समाप्त होने लगे या कोई रिश्ता बनते बनते बिगड़

प्रारंभ हो जाए या कोई भी रिश्ता नहीं रहा हो तो तू विष्णु देव को प्रसन्न करें अपने

गुरु को मजबूत करें अर्थात बिना बुद्धि के कुछ भी नहीं होता है और जिससे

गुरुदेव प्रसन्न रहते हैं उसके जीवन में मधुर संबंध भी रहते हैं और यदि कोई बच्चा

विवाह के योग्य होता है तो उसका विवाह भी शीघ्र ही हो जाता है और यदि तुम विष्णु

देव के मंत्र का उच्चारण करें ओम नमो भगवते वासुदेवाय नम यह अति उत्तम है

क्योंकि मेरे बच्चे इससे विष्णु देव शीघ्र ही प्रसन्न होना प्रारंभ हो जाते हैं

लेकिन तुम्हें यह कार्य केवल एक दिन नहीं करना है बल्कि लगातार करते रहना है तभी तो

विष्णु देव की शक्ति को इकट्ठा कर सकते हो और उन्हें प्रसन्न कर सकते हो अपने और

आकर्षित करने के लिए किसी भी देवीय शक्ति की यदि तुम कोई पूजा करते हो या किसी भी

मंत्र का उच्चारण करते हो तो उस मंत्र का उच्चारण कुछ समय तक करना चाहिए क्योंकि

यदि तुम उस मंत्र का उच्चारण कम समय करते हो तो तो उस शक्ति को शीघ्र ही इकट्ठा

नहीं कर सकते क्योंकि मेरे बच्चे किसी भी शक्ति को इकट्ठा करने के लिए तुम्हारा

पूर्ण ध्यान लगाकर किसी भी मंत्र का उच्चारण करना या तुम्हें इस बात का एहसास होना कि

कोई शक्ति तुम्हारे करीब आ रही है और तुम्हारा साथ दे रही है यदि तुम्हारा हृदय

उससे शक्ति को पूर्ण रूप से महसूस कर पा रहा है तो निश्चित ही तुम यह समझ लो कि वह

शक्ति तुम्हारे निकट आ चुकी है क्योंकि मेरे बच्चे तुम्हारे हृदय में ही तो वह शक्ति विराजमान होती है और तुम्हारा हृदय

केवल उस शक्ति को तब महसूस कर सकता है जब महाशक्ति तुम्हारे निकट सच में आ चुकी हो

और यह केवल तुम अपनी भावनाओं से अपने मंदिरों से और अपने प्रेम से उसे अपनी और

आकर्षित कर सकते हो फिर वह शक्ति तुम्हारे आधी हो जाती है तुम जैसा चाहते हो जैसा

तुम्हारा मन होता है कि वैसा कार्य हो वैसा ही होना

प्रारंभ हो जाता है मेरे बच्चे यदि तुम बताए हुए कार्य को करते हो तो तुम विष्णु

देव को विवश कर दोगे कि वह तुम्हारे जीवन में एक ऐसा संदेश भेजे जो कि तुम्हारे

प्रेम से संबंधित हो या तुम्हारे विवाह से संबंध रखता हो अर्थात तुम्हें विवाह होने

के लिए तुम्हारी सोच है तो तुम्हारे विवाह का पत्र तुम्हें आएगा या तुम्हें ऐसी

सूचना अर्थात एक ऐसा संदेश इसी के द्वारा प्राप्त होगा कि तुम्हारा विवाह

होने वाला है अर्थात एक ऐसा शुभ संदेश तुम्हें प्राप्त होगा कि जिससे तुम पसंद

करते हैं उससे तुम्हारा विवाह होने वाला है और निश्चित ही खुशी से झूम उठे होगी

क्योंकि मेरे बच्चे वह जिससे तुम सबसे ज्यादा प्रेम करते हो वह तुम्हारे जीवन संगीत बने

इससे ज्यादा खुशी की बात तुम्हारे लिए और क्या हो सकेती है लेकिन मेरे बच्चे यदि

तुम किसी के प्रेम को पाना चाहते हो तो इस बात को ड ध्यान रखो कि किसी के प्रेम को तो जो

जबरदस्ती प्राप्त करने के लिए किसी भी मंत्र का उच्चारण भूलकर भी मत करना बल्कि

किसी के प्रेम को पाने के लिए तो केवल उसे अपनी और आकर्षित करना और वह भी केवल प्रेम

से तो मंत्र का उच्चारण तो करना हीली इन उसके सामने कभी भी ऐसी कोई गलत भाषा बोलने

का प्रयास मत करना मेरे बच्चे या मैं तुम्हें पूर्ण विश्वास दिलाती है कि जैसे

जैसे धीरे-धीरे करके तो उसके साथ-साथ कदम से कदम मिलाकर चलते रहोगे उसकी हर बात में

तुम्हारी स्वीकृति होगी तो वह निश्चित ही तुम्हारी हर बात को समझना प्रारंभ भी कर

देगा और तुमसे प्रेम करने लगेगा क्योंकि प्रेम को करने के लिए सबसे पहले तो प्रेम

को दो समझना होगा उसके पश्चात ही तो प्रेम को कर सकते हो मेरे बच्चे किसी के द्वारा

प्रेम को पाना तुम्हारे लिए सौभाग्य की बात तभी होगी जब वह व्यक्ति आकर तुमसे कहे

कि वह तुमसे बहुत प्रेम करता है या करती है और इसके साथ-साथ तुम्हें एक बात का

अवश्य ध्यान रखना है कि प्रेम को पाना यात्री को जीतना दोनों ही बहुत ज्यादा

अलग-अलग बातें हैं प्रेम पाना बहुत ही आसान हो सकता है लेकिन प्रेम को जीतना

अर्थात किसी के हृदय को जीतना इतना आसान नहीं होता उसको जीतने के लिए तुम्हें बड़ी

कड़ी तपस्या करनी पड़ती है और बहुत ही ज्यादा धैर्य रख कर इंतजार करना पड़ता है

उसकी हर छोटी बड़ी बात को जानकर उसके हृदय पर कैसे जी हासिल करनी है मेरे बच्चे उसके लिए

तुम्हें बहुत ही ज्यादा है से किसी भी कार्य को करते जाना होता है उसके साथ रहकर

उसे एहसास भी नहीं होने देना होता कि तो उसके लिए कुछ कर भी रही हो तो उसके

साथ-साथ चल रही हो लेकिन तुम्हारे साथ चलने से उसे

ऐसा नहीं लगना चाहिए कि तुम किसी स्वार्थ बस उसके साथ रह रही हो तो उससे प्रेम करते

हो लेकिन उसे कभी भी इस बात को मत जताना जिस बात को सोचने से भी किसी इंसान को

ड परेशानी आती है मेरे बच्चे किसी के मन में ऐसी सोच या ऐसी भावना उत्पन्न हो

जिससे कि वह यह सोचने पर विवश हो जाए कि तुम्हारे मन के अंदर कोई भी स्वार्थ छुपा

हुआ है या किसी भी कारण वश तो उसके साथ क्यों रह रहे हो क्यों चल रही हो तुम

क्यों उसकी सहायता कर रहे हो यदि उसके मन में ऐसा आने ल लगेगा तो तो उसका मन नहीं

जीत पाएंगे बल्कि वह व्यक्ति तुम्हारे साथ रहे और तो उसके साथ-साथ चलो तो उसके हृदय

को ऐसा आभास होना चाहिए कि उसके बिना तुम्हारा कोई अस्तित्व नहीं है और तुम्हारे बिना

उसका कोई अस्तित्व नहीं है वह आंख बंद करके भी तुम पर विश्वास करें मेरे बच्चे

एक बात को विशेष ध्यान रखना कि कभी भी किसी के विश्वास को मत तोड़ना क्योंकि

विश्वास ही वह कुंजी है जो एक बार हो जाती है तो तुम दोबारा नहीं कमा सकते और नहीं

इसके टूट जाने पर तो दूसरे के हृदय में अपने लिए विश्वास को कभी जुटा पाते हैं

विश्वास टूट जाता है तो उत्पन्न नहीं होता मैदान नहीं किया जा सकता संसार में धन को इकट्ठा

किया जा सकता है अगर धन कोई चुरा ले लो दोबारा इकट्ठा कर सकते हैं लेकिन विश्वास

टूट जाता है तो दोबारा हम उत्पन्न नहीं कर सकते इसलिए मेरे बच्चे जब किसी के साथ रहो

किसी से प्रेम करो उसका विश्वास कभी मत तोड़ो उसका विश्वास हमेशा जीतो और विश्वास

हमेशा उसका उसके लिए सबसे ज्यादा कीमती है इस बात को तुम्हें समझना होगा

यदि किसी के साथ विश्वासघात करते हो तो यह मत भूलना कि तुम्हारे साथ भी विश्वासघात

हो सकता है क्योंकि जैसा तू अपनों के साथ करोगे जो तुमसे सबसे ज्यादा प्रेम करता है

वैसा ही तुम्हारे पास वापस होकर आए अर्थात कई गुण ना होकर आएगा मेरे बच्चे

अगर तुम किसी के साथ धोखा करोगे किसी के विश्वास को तोड़ोगे तो तुम यहां कभी मत

भूलना कि कभी ना कभी एक ऐसा समय आएगा जब कोई व्यक्ति आकर तुम्हारा विश्वास कोड़

देगा उस दिन तुम्हें इस बात का एहसास होगा कि विश्वास टूटने पर कितनी गहरी चोट लगती है

इंसान के हृदय को इंसान पूरी तरह से टूट जाता है इसलिए मेरे बच्चे हर बात को सोचने

के साथ ही जब दो बार-बार किसी के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं तो तुम भी यह मत भूलना

कि कभी ना कभी प्रकृति तो उसे उस चीज का बदला जरूर लेगी और कभी ना कभी ऐसा होगा कि

तुम्हारे साथ खिलवाड़ होगा कोई ना कोई आकर तुम्हारे जीवन से खेल कर जाएगा और उसी बात

को फिर तुम याद करके रो इसलिए मेरे बच्चे अगर विश्वास करोगे तो बदले में तुम्हें

विश्वास मिलेगा प्रेम करोगे तो बदले में तुम्हें प्रेम मिलेगा सम्मान करोगे बदले

में सम्मान मिलेगा अर्थात दूसरों के साथ तुम जो करते चले जाओगे वही तुम्हें

प्राप्त होता चला जाएगा यही मेरा नियम है और यही संसार का नियम है इसलिए मेरे बच्चे

तुम्हें जो संदेश अर्थात प्रेम का विवाह का संदेश मिलने वाला है उसका इंतजार अब खत्म

होने वाला है शीघ्र ही तुम्हें मेरे बताए हुए कार्य को करते ही संदेश प्राप्त हो

जाए मेरे बच्चे मेरा आशीर्वाद सदैव तुम्हारे साथ है मेरा आशीर्वाद प्राप्त

करने के लिए लिखकर मुझे अपनी स्वीकृति प्रदान

करा देना और अपने माता का अगला संदेश प्राप्त करने के लिए अपनी माता के इस

संदेश को लाक करके चैनल को सब्सक्राइब अवश्य कर लेना ताकि आने वाला आपकी माता

का संदेश आपको प्राप्त हो सके जय माता रानी हर हर महादेव तो उस राह पर बहुत आगे

निकल आए हो मेरे बच्चे अब तुम्हें अपने मन को अपने नियंत्रण में लेना है और तुम्हें

अपने मन को यह अनुमति प्रदान करनी है कि वो मेरी बातों को ध्यानपूर्वक अपने जीवन

में उतारे तुम जैसा सहनशील तुम जैसा करुणामय तुम जैसा दयालु मनुष्य मिलना इस

संसार में मुश्किल है मेरे बच्चे अभी तुम इसे समझ नहीं पा रहे हो लेकिन जब तुम

तुलनात्मक रूप से कभी इसका आकलन करोगे तब तुम यह जान

जाओगे कि तुम अपने आसपास उपस्थित सभी लोगों में सबसे ज्यादा दयालु सबसे ज्यादा

करुणामय हो लेकिन मेरे बच्चे परिस्थितियां ऐसी बन ही नहीं पाती कि तोहे इसका

प्रदर्शन कर पाओ क्योंकि कहीं ना कहीं तुम्हारे भीतर शव घर कर जाता है जिसकी वजह

से उन परिस्थितियों में जहां तो खुलकर आना चाहते हो वहां भी खुलकर नहीं आ पाते अपनी

बातों को खुलकर नहीं रख पाते और तुम्हारी भीतर यह चीज कुंठा बन जाती है यह

बचपन एक नासूर बनता चला गया एक घाव के रूप में तुम्हारे जीवन में बनता चला गया कि

तुम अपनी बातों को ठीक ढंग से रख नहीं पाते थे और इस वजह से कई बार तुम्हें

लोगों ने कमजोर भी समझ लिया जबकि वास्तविकता में तुम तो कभी कमजोर रही ही नहीं हो मेरे

बच्चे तुम भले ही साधारण रूप से जीवन जीते आए हो लेकिन वास्तव में तुम्हारा जीवन कभी

साधारण नहीं रहा है वास्तव में तुम्हारा जीवन विशिष्ट है वास्तव में तुम्हारा जीवन

चमत्कारों से भरा हुआ है वास्तव में तुम्हारे जीवन में बहुत से रहे छुपे हुए

हैं बहुत से तर छुपे हुए हैं और तुम अभी तक उसे समझ नहीं पाए हो मेरे बच्चे

व्यक्तिगत रूप से तुम्हें किसी से भी दुश्मनी लेने नहीं है है विभिन्न प्रकार के लोग तुमसे

शत्रुता का भाव रखते हैं और चाहते हैं कि तुम कभी सफल ना हो सके लेकिन तुम्हें उनसे

भी शत्रुता का भाव नहीं रखना है तुम्हें उन्हें भी लगा देना है और अपना पूरा जोर

अपना पूरा न केवल इस बात पर लगाना है कि तुम कैसे सफल हो सकते हैं मेरे बच्चे

तुमने मुझ पर विश्वास रखा है तुमने मुझे अपनी स्वीकृति दी है यह स्वीकृति तुम्हें

अपने आप को भी देवी है ताकि तुम संघर्ष के बाद जब उस ऊंची उड़ान के लिए तैयार हो तब

तुम्हारे भीतर थकान ना बची हो तब तुम्हारे भीतर हताशा निराशा ना बची हो तुम्हारे

भीतर यह भाव ना बचा हो यह सब कुछ तुमने क्या होकर प्राप्त किया है मेरे बच्चे जब

संघर्ष की परिस्थितियां आती है जब संघर्ष विकराल रूप धर लेते हैं तो मनुष्य के भीतर

थकान आ जाती है और वह कई बार निर्णयों के बोझ के तले दब जाता है और ऐसे क्षण में

उसकी आत्मा उसे झकझोर है उसकी आत्मा बार-बार उसे यह याद दिलाती है कि अब उसे

रुक जाना चाहिए अब उसे थम जाना चाहिए लेकिन तुम निश्चिंत रहो क्योंकि मेरे

बच्चे तुम्हारे भीतर ऐसी ऊर्जा विद्यमान है जो तुम्हें हार

मैं नहीं देगी जो तुम्हें हर बिल्कुल भी नहीं मानवीय देगी और इसी वजह से तुम्हारा

बचाव किया जाएगा तुम्हारा चुनाव बहुत सोच समझकर हुआ है मेरे बच्चे मैं जानती हूं कि

तुम्हारी करुणा तुम्हें इस जीवन में आगे लेकर जाएगी इसी करुणा ने तुम्हें कई

बार हानि भी पहुंचाई है लेकिन यह हानि बहुत छोटी है जब तुम छलांग लगाओगे तो वह

इतनी ऊंची होगी कि आकाश को चीड़ देंगे और तुम्हारे पद चिन्हो के पीछे समस्त संसार

चलने लगेगा मेरे बच्चे तुम जीत की राह में बहुत तेजी से आगे चले हो तुम इसे स्वीकार

करो इसे अपने जीवन में आने दो मेरे बच्चे जो तुमने सहन किया है वह सामान्य नहीं है

लेकिन तुम्हारा आने वाला जीवन भी सामान्य नहीं होगा यह सामान्यता से कहीं

ऊपर होगा यह तुम्हारे अब तक के जंजाल भरे जीवन से बहुत ही ज्यादा श्रेष्ठ होगा

इसमें धन होगी इसमें प्रचुरता होगी और और सबसे बड़ी बात यह निडरता से भरा हुआ जीवन

तो साहस प्रदान करेगा इसमें अभूतपूर्व साहस होगा

इसमें तुम्हारी बातों का मूल्य होगा तुम जो बाटे कहोगे वह लोगों के लिए प्रेरणा बन

जाए मेरे बच्चे तुम जिस रास्ते पर हो इस रास्ते पर मैं नहीं कहती कि कोई बाधा नहीं

आएगी मैं नहीं कहती कि कोई रुकावट उत्पन्न करने वाले मनुष्य नहीं होंगे निश्चित तौर पर इस

पर बाधा आएगी निश्चित तौर पर यह चुनौतियों से भरा हुआ होगा निश्चित तौर पर लोगों की

कुटिल राजनीति कूटनीति तुम्हें हराने का तुम्हें गिराने का प्रयत्न करेगी

लेकिन मेरे बच्चे मैं तुम्हें स्पष्ट कर देना चाहती हूं यह सब कुछ विफल हो जाएगा

यह सब कुछ समाप्त हो जाएगा कुछ भी तुम्हें हरा नहीं पाएगा कोई भी तुम्हें पराजित

नहीं कर पाएगा तुम तो विजय तिलक लेकर चलोगे तुम विजय रथ को लेकर चलोगे और

तुम्हारा साथ ही स्वयं में बनूंगी मैं साकार रूप में तुम्हारे सामने ही उपस्थित

रहेंगे मैं हर उस कांड में विद्यमान है जिससे तुम परिचित क्योंकि मैं तुम्हारे ही ऊर्जा

अणुओ में विद्यमान इसलिए मैं तुम्हारे सामने रहूंगी तुम्हारा साथी बनकर मेरे

बच्चे तुम्हें मुझे पहचाना है तुम्हें मेरा साथ देना है और फिर मैं तुम्हें बहुत

ऊंची छला लगवा आंगा तुम्हारे विचारों से मैं ऐसी क्रांति ऐसी ज्वाला उत्पन्न करवाएगी

कि तुम्हारे प्रतिद्वंदी उसमें जलकर खाक हो जाएंगे और तुम्हें चाहने वाले

उसकी लपटों में आराम का अनुभव करेंगे मेरे बच्चे तुम सागर के समान गहरे होगे तुम

सूर्य के समान विकराल होगी और ऐसे ही ऊर्जा के केंद्र बिंदु होगी ऐसे ही ऊर्जा

के स्त्रोत होगी जिससे हर कोई लाभान्वित होगा तो उस वृक्ष के समान होंगे जिसमें इतने फल हो

कि वह निर्ममता से वह सलता से झुका हुआ होगा यह अहंकार के तले नहीं होगा यह किसी

के लिए पश्चाताप के तले नहीं होगा वास्तव में यह पूरी तरह से मानवीय भावनाओं के

तहत और सफलता के लिए होगा मेरे बच्चे मैंने तुम्हें मोक्ष प्रदान करने का

आशीर्वाद दिया है मैं तुम्हें विजय का आशीर्वाद दे रही है मैं तुम्हारी विरासत

को मजबूत कर रहे हैं तुम्हें दृढ़ होना होगा तुम्हें अपनी जिम्मेदारियों का अनुभव करना

होगा सही समय पर यह बताने के लिए कि अब तो आध्यात्मिक स्तर की के सूचना पर हो मैं

तुम्हारे जीवन में एक मुख्य फरिश्ते को भेजूंगी यह फरिश्ता ऊर्जा से भरा हुआ होगा

यह फरिश्ता जब तुम्हारे ऊर्जा क्षेत्र में आएगा तो तुम में अभूतपूर्व साहस और इतना

बल भर जाएगा कि तुम स्वयं को श्रेष्ठ माना लगोगे तुम स्वयं को सर्वोच्च माननीय लगोगे

मेरे बच्चे यही वह क्षण होगा जब तुम्हें अपने भीतर अहंकार को पनपने से

रोकना होगा यही वह क्षण होगा जब तुम्हारे जीवन में खुशियों की बरसात होगी मेरे

बच्चे मुझे ज्ञात है कि तुमने कितने आंसू बहाए हैं कि तुमने कितना विलाप किया है

कैसे कैसे तु रोते गए हैं थोड़े से बेहतर जीवन के

लिए तुमने क्या-क्या सहा है मैं सब कुछ जानती है और मैं यह भली भांती जानती हूं

कि इन सब से निकलने के लिए तुमने अथक प्रयत्न भी किया है मेरे बच्चे में

तुम्हारे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *