दुर्गा मां मां दुर्गा का यह रूप सिर्फ उनके भक्तों के लिए है - Kabrau Mogal Dham

दुर्गा मां मां दुर्गा का यह रूप सिर्फ उनके भक्तों के लिए है

शुक्रवार का दिन शक्ति की आदि शास्त्री

देवी मां दुर्गा का होता है शुक्रवार के

दिन मां दुर्गा की पूजा अर्चना करने से

भक्तों को विशेष फल मिलते हैं सारी

मनोकामनाएं पूरी होती हैं और जिंदगी से

सारी परेशानियां दूर होती हैं अगर आप भी

मां दुर्गा का विशेष आशीर्वाद पाना चाहते

हैं तो यह सभी उपाय और यह संदेश आपके बहुत

काम

आएंगे गणपति जी का पूजन करने से मां भगवती

दुर्गा की विशेष कृपा प्राप्त की जा सकती

है दुर्गा जी का आशीर्वाद प्राप्त करने के

लिए मां दुर्गा के नामों का जप

प्रतिदिन

करें नवरात्रि के दौरान अपने घर में माता

रानी की अखंड ज्योति जरूर जलाएं जब भी मां

दुर्गा की पूजा करें तो उसके बाद आप

छोटी-छोटी कन्याओं को फल और मिठाई का

प्रसाद जरूर

बांटे कभी भी माता की पूजा करने के तुरंत

बाद खाना ना खाएं नवरात्रि के दौरान मां

दुर्गा की विशेष साधना

करने का विधान और नवरात के दौरान कभी भी

किसी महिला का अपमान ना

करें मां भगवती दुर्गा शक्ति की देवी है

और व असुरी प्रवृत्तियों का नाश करने के

लिए ही शस्त्र धारण करती हैं मां भगवती के

सौम्य और उग्र स्वरूप समेत अन्य भी कई

स्वरूप हैं जैसे जब कोई बच्चा सिद करता है

तो उसकी माता पहले उसको प्यार से समझाती

है और जब वह बच्चा नहीं मानता तो वह उसे

झड़ कती भी

है भगवती दुर्गा के मंत्रोचार के दौरान

अपने मन में कभी भी छल कपट और किसी प्रकार

की

दुर्भावना नहीं रखनी

चाहिए जगत जननी मां

दुर्गा संपूर्ण संसार को जन्म देने वाली

आदि शक्ति का ही अंश अवतार है हिंदू धर्म

में आदि शक्ति की तुलना उस परब्रह्मा से

की गई है जो संसार के पालन करता है हिंदू

धर्म में ऐसी मान्यता है कि अन्य देवी

देवताओं की तुलना में मां दुर्गा की साधना

अति शीघ्र फलदाई होती है

संसार में सबसे पवित्र रिश्ता मां बेटे का

है उसी रूप में ही भक्त मां दुर्गा की गोद

में बैठकर साधना करने के भाव से उपासना

करता है तो मां अपने पुत्र के ऊपर कभी भी

किसी संकट को नहीं आने

देती प्रतिदिन प्रातः काल घर के पूजा स्थल

पर गाय के घी का दीपक जलाकर मां दुर्गा के

इस बीज मंत्र का एक माला जप करने से माता

शीघ्र प्रसन्न हो जाती हैं यदि आप यह

मंत्र बोलते हैं तो आप पर माता की कृपा

जरूर होगी ओम हीम दू दुर्गाय

नमः मां दुर्गा की पूजा में उन्हें

लाल पुष्प अर्पित करने से मां दुर्गा

प्रसन्न हो जाती हैं पढ़ने वाले

विद्यार्थी अपनी टेबल पर एवं कर्मचारी

व्यापारी भी अपने कार्य करने की जगह पर

माता दुर्गा की छोटी सी तस्वीर जरूर लगाएं

एवं कार्य शुरू करने से पहले मां का ध्यान

अवश्य

करें मेरी प्यारे भक्तो हिंदू धर्म

शास्त्रों में सूर्य भगवान को जल अर्पित

करने के लिए अनेकों गुण बताए गए हैं सूर्य

भगवान को जल अर्पित करने से अनेकों लाभ

प्राप्त होते हैं जिनमें से कुछ लाभ हमारे

जीवन के लिए बहुत आवश्यक

[संगीत]

हैं किंतु बहुत सारे लोगों को यह बात पता

नहीं है तो आज मैं तुम्हें कुछ ऐसी बातें

बताने वाली हूं यदि तुम उनका पालन करते हो

तो तुम्हारे जीवन में परिवर्तन होना

निश्चित

है यदि आप सूर्य भगवान को जल अर्पित करते

हैं तो उनकी सभी मनोकामनाएं जल्दी ही पूरी

होंगी और साथ यदि तुम मेरा संदेश सुनते हो

तो मेरे संदेश में ऐसी शक्ति है जो हिंदू

धर्म में किसी भी शुभ कार्य के लिए भगवान

के संदेश को सुनना बहुत ज्यादा जरूरी माना

जाता

है आज में आपको सूर्य भगवान के बारे में

कुछ बातें बताने वाली हूं यदि आप उनके

संदेश को ध्यान से सुनेंगे और सूर्य भगवान

को जल अर्पित करते हैं तो सूर्य भगवान को

जल अर्पित करते समय यदि मन में कोई कामना

करते हैं तो वह मनोकामना अवश्य पूरी होती

है फिर चाहे वह कामना धन के लिए हो घर में

सुख शांति की कामना हो या फिर अपने जीवन

में या अपने व्यापार में तरक्की की कामना

करना चाहते हैं या अपने बच्चों के भविष्य

के लिए आप कामना करना चाहते हैं तो संदेश

को एक बार अवश्य सुनिए

किंतु कुछ भक्त ऐसे हैं जो संदेश को सुनने

में असमर्थ हैं तो वह भक्त सूर्य भगवान के

संदेश को जल अर्पित करते समय अपने मोबाइल

फोन में लगाकर चलाकर रख सकते हैं ऐसा करने

से भी उनकी मनोकामनाएं पूरी हो जाएंगी तो

चलिए आज इस संदेश को ध्यानपूर्वक सभी भक्त

जन सुनेंगे

[संगीत]

ओम घृण सूर्याय नमः इस मंत्र का अर्थ है

कि यह सूर्य देव जब मैं आपको अगर देता हूं

तो मैं आपकी आराधना करता हूं आप मुझे

ज्ञान के प्रकाश से प्रकाशित करें आप

ज्ञान के निर्माता है आप मुझे बुद्धि

प्रदान करें आप मेरे मन को रोशन

करें यदि आप यह सूर्य देवता को जल चढ़ाते

समय बोलते हैं तो आपकी सभी मनोकामनाएं

जल्दी ही पूरी

[संगीत]

होंगी जब भी आप सूर्य देव को जल चढ़ाते

हैं तो उस समय आप पूर्व दिशा की तरफ अपना

मुख रखिए सूर्यदेव को जल अर्पित करने से

पहले उस लोटे में अक्षत रोली फूल को जरूर

रखिएगा जितनी जल्दी हो सके सके सूर्य उदय

होने के एक घंटे के अंदर ही आपको जल देना

चाहिए साथ ही धरती मां को भी प्रणाम करना

चाहिए इससे तुम्हें बहुत सारी शक्तियां

मिलेंगी और तुम्हारा मन भी ऊर्जावान होगा

जिससे तुम सभी कार्य करने में सक्षम होंगे

मेरे प्यारे भक्तों आगे के संदेश को भी आप

आज ध्यानपूर्वक सुनिए

का प्यारे

भक्तों मेरी शक्ति से संसार में बड़े से

बड़े

अंधकार दूर हो जाते

हैं मैं वह शक्ति हूं जिससे मानव समाज का

कल्याण हुआ है यदि तुम्हारी माता आज

तुम्हें अपने दर्शन देने आई हैं तो इसका

सीधा सा अर्थ है

कि तुम्हारे जीवन के सभी दुख दर्द आज से

ही समाप्त होने लग

जाएंगे जो मेरी भक्ति नहीं करता है उसका

संसार में जीवन जीना बेहद मुश्किल हो जाता

है क्योंकि मेरे बिना इस संसार में कुछ भी

पाना बहुत मुश्किल है मैं जिसको अपनी

शक्ति देती हूं वह मुश्किल से मुश्किल

कार्य को भी आसानी से पूरा कर लेता

है अब मैं अपना आशीर्वाद अपने प्रिय

भक्तों को देती हूं और यही कहना चाहती हूं

कि तुमने जो नौ दिनों में प्रण लिया है

उन्हें अवश्य पूरा करना मैं हमेशा

तुम्हारे साथ हूं यदि तुम सही रास्ते पर

चलोगे तो तुम्हारे जीवन में

किसी प्रकार की कठिनाइयां नहीं आएंगी तुम

जीवन में खुश रहो स्वस्थ रहो तुम्हारा दिन

मंगलमय

[संगीत]

हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *