तुम्हारा शत्रु तुम्हारे जीवन में ताक झांक कर रहा है अनदेखा ना करे। - Kabrau Mogal Dham

तुम्हारा शत्रु तुम्हारे जीवन में ताक झांक कर रहा है अनदेखा ना करे।

[संगीत]

मेरे

बच्चे कुछ लोग तुम्हें रोते हुए देखना

चाहते

हैं तुम्हारे

शत्रु तुम्हें रुलाने के हर संभव प्रयास

कर चुके

हैं परंतु उन्हें किसी भी कार्य में सफलता

नहीं मिली

है इसलिए अब वह तुम्हें बर्बाद करने के

लिए नई योजनाएं बना रहे

हैं

कुछ ऐसे लोगों से मिल रहे

हैं जो तुम्हारे बहुत करीबी

हैं जो तुम्हें बहुत अच्छे से जानते

हैं मेरे बच्चे वह एक स्त्री

है तुम्हारे घर से उसका संबंध बहुत गहरा

है तुम्हारे परिवार के हर उत्सव

में वह शामिल होती

है तुम्हारा शत्रु तुमसे बहुत दूर

है तुम्हारे निजी जीवन में क्या चल रहा

है उसे बिल्कुल भी पता नहीं

[संगीत]

है परंतु तुम्हारे चेहरे की चमक

देखकर उन्हें अंदाजा लग गया

है कि तुम कुछ तो चमत्कार करने वाले

हो

कुछ समय पहले

तक तुम्हारी संगति गलत लोगों के साथ

थी उनके साथ तुम भी गलत रास्ते पर निकल

पड़े

थे परंतु तुमने अपनी जिम्मेदारियों को

देखते

हुए गलत लोगों का साथ छोड़

दिया और अपने कर्तव्य पथ पर चलने लगे

हो मेरे बच्चे तुम्हारे शत्रु बहुत समय

से तुम्हारे पीछे पड़े हुए

हैं किसी ना किसी के माध्यम

से वह तुम्हारे जीवन में ताक झाक कर रहे

हैं कुछ लोगों के साथ

मिलकर उसने तुम्हें गलत रास्ते पर चलने के

लिए विवश कर दिया

था और तुमने बर्बादी के रास्ते

पर कदम भी रख दिया

था तुम्हारे शत्रु अपनी चाल में सफल होने

पर बहुत खुश

थे उन्हें लग रहा

था कि उनकी योजना सफल हो गई

है अब गलत संगति और गलत आदतों में पड़कर

तुम अपना और अपने परिवार का

का भविष्य जला

दोगे परंतु अचानक ही तुमने अपना रास्ता

बदल

दिया और गलत आदतों को छोड़कर

तुमने सही दिशा में चलने का फैसला लिया

है मेरे बच्चे तुम्हारे इस निर्णय

से तुम्हारे शत्रु बहुत परेशान हो गए

हैं

उनका विवेक काम नहीं कर रहा

है इसलिए अब वह

लोग उस स्त्री का सहारा ले रहे

हैं जो तुम्हारी करीबी

है मेरे बच्चे वह स्त्री तुम्हारी शत्रु

तो नहीं

है परंतु वह तुम्हें खुद से

आगे निकलता हुआ नहीं देख सकती

इसलिए वह तुम्हारे शत्रुओं के साथ

मिलकर षड्यंत्र कर रही

है तुम्हारी हर छोटी बड़ी बात का भर

ढंडोरा पीट रही

है मेरे बच्चे तुम्हारे परिवार

के कुछ गुप्त रहस्य भी उसे पता

है तुम्हारे घर के लोग उस पर बहुत विश्वास

करते

हैं उन्हे लगता

है कि वह स्त्री तुम्हारे रहस्यों को

गुप्त रखेगी

परंतु वह सबसे तुम्हारी बुराई कर रही

है तुम्हारे रहस्यों को बता रही

है परंतु तुम चिंता मत

करो उस स्त्री की बात पर कोई भी विश्वास

नहीं

करेगा क्योंकि झूठ बोलना बुराई

करना चुगली करना उसकी आदत

है उसकी इस हरकत से सभी परिचित

हैं इसलिए कोई भी उसकी सच्ची बातों पर

भी विश्वास नहीं

करता मेरे बच्चे इस संदेश के माध्यम

से मैं तुम्हें सतर्क करने आई

हूं तुम बहुत समझदार हो

बाहर के लोग चाहे कितने भी षड्यंत्र कर

ले तुम्हारा कुछ नहीं बिगाड़

सकते परंतु तुम्हारा परिवार

ही एक दिन तुम्हें हारने पर विवश कर

देगा तुम्हारे घर की एक स्त्री बहुत ही

भोली और भावुक

है आसानी से लोगों से अपने दिल का हाल बता

देती

है कोई भी उससे हंसकर प्यार से दो बातें

कर

ले तो वह उसे अपना तैसी समझ लेती

है और अपने जैसा

मानकर उससे कुछ महत्त्वपूर्ण गुप्त बातें

भी कह देती

है इसलिए कभी-कभी तुम्हारे

शत्रु अपनी चाल में कामयाब हो जाते हैं

मेरे बच्चे वह तुमसे बहुत प्रेम करती

है तुम्हारी बात को सुनती

है तुम्हारे अतिरिक्त पूरे परिवार

में वह किसी की बात पर विचार नहीं

करती परंतु तुम्हारे आदेशों का पालन वह

अवश्य करती

है इसलिए उस स्त्री

को

भले बुरे की पहचान

करवाओ मेरे बच्चे तुम्हारा स्वभाव जितना

शांत

है उतना ही तुम्हें क्रोध भी आता

है परंतु तुम्हें अपने क्रोध

पर नियंत्रण करना

होगा तुम्हें उस स्त्री पर क्रोध नहीं

करना अन्यथा वह तुम्हारी बात का भी

मान नहीं रखेगी

तुम्हें प्रेम से ही सम्मान के

साथ उस स्त्री को समझाना

होगा तभी वह तुम्हारी बात समझेगी

[संगीत]

और तुम्हारे परिवार में खुशी का वाश

होगा वह करीबी स्त्री और तुम्हारा शत्रु

भी मुह के बल गिरेंगे

और फिर कभी तुमसे उलझने का प्रयास नहीं

करेंगे खुश

रहो तुम्हारा दिन मंगलमय

हो सच्चे मन से

कहो जय

माहाकाली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *