किसानों ने बैरिकेडिंग तोड़ डाली, पसीने-पसीने मोदी सरकार! Farmer Protest - Kabrau Mogal Dham

किसानों ने बैरिकेडिंग तोड़ डाली, पसीने-पसीने मोदी सरकार! Farmer Protest

नमस्कार  देख रहे
हैं 4 पीएम न्यूज
नेटवर्क चुनाव में कुछ ही दिन बचे
हैं बहुत बढ़िया व्यू रचना तैयार की थी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

ने नीतीश बाबू पटा लिए जयंत बाबू पटा लिए
और सोचा था कि अब तो सब अपने हाथ में है
बाजी अपने हाथ में है लेकिन प्रधानमंत्री
को अंदाजा नहीं था कि अभी कुछ ऐसे लोग रह

गए जो उनकी सरकार पलटने का माददा रखते
हैं किसानों के नेता तो पटा ले लेकिन
किसान नहीं पटा पाए प्रधानमंत्री जी रसल
में किसानों को जो धोखे दिए गए किसानों के
संग जो वादा खिलाफी की गई वह किसानों को

अंदर से तोड़
गई तीन किसानों के बिल ले आए और बिल ऐसे
थे कि अगर बिल लागू हो जाते तो किसान तबाह
हो
जाते किसान कछ कर गए दिल्ली की तरफ भाई कि

ये हमारे बिल हमारे खिलाफ बिल हम लोग तो
तबाह हो जाएंगे हमारी पीढ़ियां बर्बाद हो
जाएंगी तब लोगों ने कहा कि यह तो
खालिस्तानी है यह तो आतंकवादी है

प्रधानमंत्री जी के चाटुकार ने नहीं गोदी
मीडिया के लोगों ने भी कहा सुधीर चौधरी
अंजना ओम कश्यप रूप का लकत में कितने नाम
बताऊ आपको ये सब इन सबको किसान आंदोलनकारी
नजर आ रहे थे किसान आंदोलन जीवी नजर आ रहे

थे किसान खालिस्तानी नजर आ रहे थे किसान
आतंकवादी नजर आ रहे थे व कह देश के खिलाफ
तो खालिस्तान की मांग करने वाले लोग जो
किसान अपने खून से इस धरती को सीता है

जिसके खून और पसीने की से पैदा हुई रोटी
हम खाते हैं अन्न हम खाते हैं ना जाने किस
कलेजे के लोग होंगे जो इन किसानों को
आतंकवादी कहते हैं जो इन किसानों को

खालिस्तानी कहते हैं तो ऐसे मौके पर जब
प्रधानमंत्री जी ने अपनी सारी गोटे सेट कर
ली कहा कि इस राज्य में इस नेता को तोड़
लो इस में नेता को तोड़ लो और उन्होंने
इसलिए किया उनके राम मंदिर मुद्दे की हवा
निकल

गई
उनको क्षमा कीजिएगा उनको उमी थी की राम
मंदिर मुद्दा इतने उफान पर आएगा कि हमें
किसी और मुद्दे की जरूरत नहीं पड़ेगी 22
जनवरी को जो करोड़ों अरबों रुपए खर्च करके

किया गया यह लगा कि इसके सहारे चुनाव जीत
लेंगे लेकिन 48 घंटे बाद इंटेलिजेंस ने
रिपोर्ट दे दी कि साहब इस मुद्दे में बचा
नहीं लोगों ने कहा कि मंदिर नहीं बनता तो

तो आंदोलन खड़ा हो जाता लेकिन मंदिर बन
गया तो मुद्दे में दम बचा नहीं तब
ऑपरेशन नीतीश बाबू शुरू हुआ भारत रत्न
अलमारी खोल खोल के निकाले जाने लगे झाड़

पोच के इसको भी दे दो उसको भी दे दो उसको
भी दे दो मतलब प्रधानमंत्री जी ने कसम खा
रखी है चाहे देश की संवैधानिक संस्था हो
चाहे चुनाव आयोग हो सेना हो या फिर जो भी

हो भारत रत्न सबकी हालत खराब कर
दे सारी कोटी बिच गई लेकिन तब एक बात भूल
गए प्रधानमंत्री जी कि उन्होंने किसानों
से वादे किए थे और प्रधानमंत्री जी भूल गए

कि आप किसान नेता को तो भारत रत्न दे
देंगे उनके बेटे को तो पटा पुटू के पार्टी
में ले आएंगे लेकिन यह किसान वो हैं जो इस
मिट्टी में मिल जाना भी जानते हैं और मिला

देना भी जानते हैंब हजारों लाखों किसान के
दिल्ली पहुंचने की सूचना है निकल पड़े हैं
महीने महीने दो महीने का राशन लेके कि इस
बार जंग आर पार की होगी इस बार या तो

हुकूमत रहेगी या हम रहेंगे इस बार हुकूमत
को बता देंगे कि किसानों के साथ धोखा देने
का मतलब क्या होता है इस बार बता देंगे कि
किसानों की ताकत क्या होती है इस बार बता
देंगे कि किसानों को खालिस्तानी कहने की

हिम्मत कौन करता है इस बार बता देंगे कि
किसानों को आतंकवादी कहने की जो जरूरत
करता है किसान उसका क्या हल करेंगे क्या
हाल करें और साहब हुकूमत हर बार की तरह

किसानों की रास्ता रोकने के लिए कीले बिछा
रही है बैरियर बिछा रही है जिस देश पर
किसानों का हक है जिस देश की सत्ता
किसानों की है जिस देश की कुर्सी किसानों

की है वह दिल्ली में ना घुसे इसके लिए
तैयारी की जा रही है लेकिन किसान जुनून
में है गुस्से में है और कूछ कर रहे हैं
और यह बात तय है कि पिछली बार की तरह
स्वार नहीं होगा कि 700 800 किसान मर जाए

और सत्ता अटस करती र सत्ता किसान की लाशों
पर हसीब मजाक उड़ाती रहे देश के
प्रधानमंत्री 800 किसानों की मौत पर एक
शब्द ना बोले इस बार ऐसा नहीं होगा
क्योंकि इस बार आंदोलन शुरू हो गया और दो

महीने बाद चुनाव में आंदोलन चला गया चल
गया लंबा चल गया खड़ा हो गया सड़क पर आ गए
किसान तो सरकार की हैसियत नहीं है कि
किसानों पर इस बार लाठी चार्ज कर दे आसू

गैस के गोले छोड़ दे और किसी किसान की मौत
हो जाए सरकार मौन
बैठी क्या होगा किसानों की की ये जंग आर
पार की जंग क्या गुल खिलाएगी इस विषय पर
बातचीत करेंगे आज मेरे साथ बहुत खास

मेहमान मौजूद है मैं सबका आपसे एक-एक करके
परचा कराता हूं पिल प्रताप शाही है
कांग्रेस से जुड़े हुए हैं लेकिन एक बड़े
किसान नेता है और किसानों के हक की बात
हमेशा करते रहे हैं चौधरी पुष्पेंद्र सिंह

जी एक पढ़े लिखे किसान नेता चौधरी चरण
सिंह के अनुना उनके भक्त किसानों की बड़ी
बात कहने वाले और केपी मली जी एक शानदार
पत्रकार भास्कर के राजनीतिक संपादक इन

सबको किसान आंदोलन की किसानों की नवु पता
है इनसे बात करेंगे कुछ मैं सीन दिखाता
हूं पहले पंजाब का सीन देखिए कि पंजाब
मेंप

जिंदाबाद सप जिंदाबाद
जिंदाबाद पंजाब प चल रहे हैं री है पूरी
और ये पंजाब एक जीता जागता जिंदा रहने
वाला राज है पंजाब की
रती डटी बजो
हरियाणा में किसानों को रोने की तैयारी है

पंजाबन
पड़े तैयारी
साने
लिए पंजाब
हरियाणा यह पंजाब हरियाणा
बॉर्डर
लगा किसानों केलिए दिल्ली की सत्ता
किसानों की है दिल्ली हुकूमत को ये नहीं
पता देखो मोटी मोटी
पड

सा कड़ी सुरक्षा की गई है भयंकर ड ड्रोन
से रखवाली की जा रही है बड़े बड़े बॉर्डर
लगाए जा रहे हैं ये देखिए बड़े-बड़े पत्थर
बोल्डर बिछाए जा रहे हैं किसान किसी तरह

गलती से घुस ना जाए आप सोच मैं कह रहा कि
किसानों को क्या दिल्ली आना मना है एक से
एक डके लुटेरे हत्यारे बलात्कारी दिल्ली
में आते हैं दिल्ली की सत्ता से गल बहिया
करते हैं दिल्ली की सत्ता से हाथ मिलाते

हैं लेकिन यह किसान जो इस धरती से सोना
उगाता है हमारे आपके जीवन को जीने की
प्रेरणा देता है अन्न उगाता है उसको रोकने
के लिए यह तैयारी है बड़े-बड़े पत्थर लगा

दिए जा रहे हैं यह वो देश है जहां पर जय
जवान जय किसान का नारा होता है किसान
हमारे भाग्य विधाता है ऐसी बातें चुनाव
में हमारे प्रधानमंत्री जी कहते हैं लेकिन

जब किसान दिल्ली में अपना हक मांगने आते
हैं तो इस तरह उनके रास्ते में बड़े-बड़े
पत्थर लगा दिए जाते हैं कि किसान किसी तरह
दिल्ली में घुस ना जाए ये देश का
दुर्भाग्य है ये देश की बदनसीबी है कि यह

देखिए ड्रोन से किस तरह रखवाली हो रही है
कि किसान किसी और रास्ते से ना आ जाए ऐसा
लग रहा है कि किसान ना आ रहे हो पाकिस्तान
की सेना घुसी आ रही हो किसानों को रोकने

की यह तैयारी ये ड्रोन यह बड़े-बड़े पत्थर
ये दुर्भा जैसा मैं कह रहा हूं कि
प्रधानमंत्री आतंकियों से मिल लेंगे
हथियारों से मिल लेंगे संसद में बलात्कारी
बैठ जाएंगे डके बैठ जाएंगे लेकिन हमारे

किसान दिल्ली ना आ जाए इसको रोकने की बड़ी
बड़ी तैयारी की जा रही है यह देश का
दुर्भाग्य नहीं है तो और क्या है कि
किसानों को रोकने के लिए तैयारी की गई है
पंजाब हरियाणा बॉर्डर पर

हरियाणा ंडे लहराए गए हैं राशन टर में भरा
है इस बार आर पार की बात आर का
लान सरकार के हाथ परले है कुछ मयो को
बातचीत करने के लिए भ जा रहा
है मा

हो आज
ब बहुत
हो में
के हाथ पर फूल गए थे
न किया
था का मूवमेंट देखिए नोएडा के प्रदर्शन से
हाथ प फूल गए थे और ट्वीट किया है लोगों

नेता लोग राजनीति करते हैं तो जाहिर है
प्रियंका गांधी ने कहा है किसानों की
रास्ते में कील काटे बिछाना यह अमृत काल
है या अन्याय काल इसी असंवेदनशील किसान

विरोधी रवैए ने सा स किसानों की जान ले ली
थी किसानों के खिलाफ काम करना उनको आवाज
उठा देना कैसी सरकार का लक्षण है किसानों
से किया वादा पूरा नहीं किया ना एमएसपी

कानून बनाया ना किसानों की आय दुगनी हुई
फिर किसान देश की सरकार के पास नहीं
जाएंगे तो कहां जाएंगे प्रधानमंत्री जी
देश के साथ किसानों के साथ ऐसा व्यवहार

क्यों आपने किसान जब वादा किया था उसे
पूरा क्यों नहीं करते तो जाहिर है कि
राजनेता इस तरह की बातें करेंगे करेंगे
चौधरी पुष्पेंद्र जी मैंने सारे सीन दिखाए

क्या इरादा है किसानों का क्या इस बार एक
बड़ा आंदोलन फिर होगा
संजय जी यह जो दिल्ली मार्च का कार्यक्रम
13 फरवरी का किसानों ने रखा है यह वास्तव

में जो दो साल पहले विशाल आंदोलन और मैं
कहूंगा विश्व में इतना बड़ा कोई आंदोलन
नहीं हुआ जिसमें सा स से ज्यादा किसान भाई
हमारे शहीद भी हो गए थे उसमें जो वायदे

किए गए थे और सबसे बड़ा वायदा था कि
एमएसपी की लीगल गारंटी देने का एक तो हम
काम करेंगे
दूसरा मुकदमे वापसी जो आंदोलन के दौरान

किसानों के ऊपर जबरन ला दिए गए थे उनको जो
है परेशान करने के लिए उनको वापसी लिया
जाएगा तीसरा जो लखीमपुर केरी कांड में जो
अजय मिश्रा

टेनी की संलिप्तता थी उसको बर्खास्त किया
जाएगा और उसको जेल में डालने का काम किया
जाएगा एक वो मांग है इसके अलावा किसानों
की मजदूरों की कर्जा मुक्ति की मांग है तो

ये तमाम मांगों को लेकर के जो है बार-बार
जो है डेलिगेशंस जा रहे थे सरकार के पास
भी जा रहे थे सोशल मीडिया में मीडिया में
किसानों के अलग-अलग संगठन इस मांग को उठा

रहे थे इन्होंने एक कमेटी एमएसपी की लीगल
गारंटी देने के बहाने से बनाई थी लेकिन
उसमें भी लीपापोती करने का काम किया और
अभी तक आज तक उसकी कोई रिकमेंडेशन कोई

रिपोर्ट नहीं आई तो ठंडे बस्ते में सारे
मुद्दे को डालने का काम किया और सरकारों
किसानों के साथ सरकार ने वायदा खिलाफी जो
दो साल पहले की थी उसी के जवाब में

क्योंकि अब चुनाव भी आ रहे हैं और चुनाव
के दौरान अपनी मांग को मनवाने के लिए
प्रेशर बनाने के लिए किसानों ने सोचा कि
भाई इस

सरकार से जो है जवाब तलब किया जाए कि साहब
आप किसान हिताशी बनते हैं एक तरफ आप कह
रहे हैं कि हमने जो है भारत रत्न दे दिया
चौधरी चरण सिंह जी को चलिए ठीक है बहुत

अच्छी बात है वो डिजर्विंग थे और देश के
किसान और गरीब मजलूम के वो वो पहले से ही
भारत रतन थे आपने रिकग्निशन दिया बहुत
बढ़िया बात है धन्यवाद है आपका लेकिन अब

आप वास्तव में जो उनके विचार थे या
स्वामीनाथन साहब के जो विचार थे कि लागत
का डेढ़ गुना मूल्य आपको दिया जाएगा उनकी
रिपोर्ट को उनके विचारों को आप लागू क्यों

नहीं करते हैं आंदोलन के बाद जब आपने
वायदा किया था कि जो आपको लीगल गारंटी
एमएसपी की दी जाएगी तो क्यों नहीं उसको दे
देते हैं तो आज देश का किसान उन वायदा

खिलाफ से परेशान होकर के दोबारा सड़कों पर
उतरने के लिए मजबूर हुआ है और उसका परिणाम
जो आप देख रहे हैं जैसा कि आपने विस्तार
से अपनी रिपोर्ट में भी बताया के यह

लोकतंत्र है या क्या है आदमी अपने घर से
नहीं निकला और उससे पहले ही 200 किलोमीटर
दूर 150 किलोमीटर दूर 250 किलोमीटर दूर जो
है बैरिकेड लगा दिए जाते हैं अभी तो वह

चले नहीं है इतने और आपने कीले बिछा दी
आपने आवाज आई के जो मुख्य मार्ग है मुख्य
मार्गों की मैं बात कर रहा हूं उनको बंद
कर दिया इस तरीके से देश चलाएंगे आप इस

तरीके से लोकतंत्र चलाएंगे आप अरे भाई
किसान के आप इतने हित बनते हैं या किसानों
के विषय में आप कहते हैं कि हमने बड़ी
बड़ी योजनाए लागत हमने आमदनी हमने दोगनी

कर दी और अन्य बातें आप कहते हैं अरे आपको
लीगल गारंटी एमएसपी की देने में क्या
तकलीफ है आप उसको दे दीजिए बाकी आप

पुरस्कार वितरण कितना ही करते रहिए उसका
धन्यवाद तो आपको दे सकते हैं लेकिन वास्तव
में पुरस्कारों से कोई पेट नहीं भर रहा
किसी का आपको लीगल गारंटी फसलों की उचित

कीमत देने की जो बात है वो देनी चाहिए
एमएसपी देनी चाहिए उसको ना देकर के आप
तरह-तरह के अत्याचार और उसके अलावा
गांव-गांव जाकर के पुलिस द्वारा घोषणा की
जा रही है माइक पर कि जो भी किसान इसमें

सम्मिलित होगा उसके खिलाफ कानून का कारवाई
की जाएगी उसके वाहनों को जप्त कर लिया
जाएगा ट्रैक्टर को जप्त कर लिया जाएगा और
यहां तक कहा जा रहा है कि पासपोर्ट रद्द

कर दिया जाएगा क्योंकि पंजाब से काफी लोग
जो है विदेश भी जाते हैं विदेश में बसे
हुए उनके रिश्तेदार तो ऐसी स्थिति जो है
लोकतंत्र में हमने कभी नहीं देखी एक

आंदोलन पहले होता था जब लोग आ जाते थे तो
उसके के बाद हो सकता है कि अगर वो
शांतिपूर्ण ना हो तो उनके ऊपर कुछ सख्ती
बढती जा सकती है लेकिन अभी वो घर से चले

नहीं उससे पहले ही आपने जो है कील कांटे
बिछा दिए दूसरी तरफ आप उनसे वार्ता भी कर
रहे हैं अभी तीन मंत्री वहां गए थे एक
राउंड वार्ता की थी कल भी एक राउंड वार्ता
है तो वार्ता आपका केवल दिखाने का या

किसानों को यह संदेश देने का देखिए हम
वार्ता कर रहे हैं फिर भी आ रहे हैं अरे
वार्ता में आपको दो साल पहले भी ये
वार्ताएं हो चुकी है कि लीगल गारंटी
एमएसपी की आप दे दीजिए उसको आपने अभी तक

जो है पूरा नहीं किया आप कह रहे वार्ता कर
रहे हैं तीन दिन चार दिन पहले तो किसान
दिल्ली हर हालत में आएंगे और पूरे देश का
किसान इसमें सम्मिलित होगा और यह बड़ा

आंदोलन बनने जा रहा है आपके चैनल के
माध्यम से मैं सरकार को चेतावनी देना
चाहता हूं आप अति शीघ्र आपके पास दो दिन
का समय है आप तुरंत इस मांग को मान ले
अन्यथा बड़ा आंदोलन होगा उसका जो भी

परिणाम होगा वह आपको लोकतांत्रिक रूप से
शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन हम करेंगे
लेकिन परिणाम आपको भुगतना पड़ेगा जी
बिल्कुल ठीक बात है और एक सीधी सधी

चेतावनी पुष्पेंद्र जी बता रहे हैं कि देश
की सरकार को चेतावनी है कि किसानों की बात
सुनिए उनकी बात मानिए प्रदीप प्रबल प्रताप
जी क्या लगता है कि आंदोलन सफल हो पाएगा

पहले भी आप बुरा मत मानिए लेकिन आपके
किसान नेता के रूप में बहुत बिचौली सरकार
के साथ जुड़ जाते हैं बड़े-बड़े किसान

नेता होते हैं गोदी मीडिया मैनेज करते हैं
गोदी मीडिया के चैनलों पर बड़े-बड़े
इंटरव्यू देते हैं लेकिन होते सरकार के
दलाल हैं मुझे यह शब्द कहने में कोई

समस्या नहीं है क्योंकि मैं देखता हूं कि
वो लोग इन किसानों के आंदोलन को कैसे रोका
जाए कैसे खत्म किया जाए इसकी पूरी तैयारी
करते हैं मैंने खिलाड़ियों के मामले में
देखा मैंने किसान आंदोलन में देखा वोह आगे

बढ़ जाते हैं चैनल मैनेज रहते हैं चैनल भी
उन्हीं को दिखाते हैं और पीठ पीछे वह
सरकार के लिए काम करते हैं क्या लगता है
इस तरह के जो दलाल किसान नेता के रूप में

सामने आ जाते हैं क्या वो इस आंदोलन को
खत्म करा देंगे या फिर किसानों के हक की
बात की जाएगी सरकार से प्रल प्रता जी
धन्यवाद पहली बार इस इस आंदोलन में जो 13

फरवरी को हो रहा है मेरी जो जानकारी है जो
मेरे सौद हरपाल सिंह बिलारी जी से बात हु
जो भारतीय किसान यस के राष्ट्रीय अध्यक्ष
है और एसएम के पाठ है और वह भी जा रहे हैं

चंडीगढ़ और दलेवाल जी है और इसमें कोई भी
आंदोलन विक्रेता वो पुराना वाला आंदोलन
विक्रेता इसमें
नहीं उस आंदोलन विक्रेता गैंग के कोई भी

सदस्य नहीं है जिसने मुझसे भी कहा था
एसकेम की बैठक में जब संयुत किसान मोर्चा
की अंतिम बैठक चल रही थी और सवाल यह पूछा
गया कि भाई तुम चले गए थे अमित शाह से

अकेले चाय पीने किसान आंदोलन खत्म होने पर
तो भाई क्या हुआ मैंने बोला एमएसपी पर
क्या बात
हुई व आंदोलन विक्रेता इन्हीं के चौधरी
पुष्प जी के केपी मलिक जी के गांव के अगल

बगल के ही है उन्होंने मुझसे कहा नाम लेने

मैं नाम लेने से मैं डरता उता नहीं हूं
युद्धवीर सिंह नाम
है और वह उन्होंने मुझसे कहा कि साहब जो

है भूल जाइए आप
एमएसपी 20 साल तक बैठना बैठ जाओ युद्धवीर
सिंह दिल्ली के हमारे गांव के पास के नहीं
है वो भैया बहुत किलोमीटर का फासला है

नहीं उनके गैंग के गैंग की बात कर रहा
उनके गैंग के प्रमुख गैंग वाले तो गैंग
वालो का भी बता ही
देते जो ऐसे जो ऐसे शपथ ले रहे थे अभी कि
मोदी की सरकार में लाऊ

विकसित भारत बनाऊंगा याद है ना संजीव
बालियान के
साथ 1 जनवरी
को नरेश जी ओब समझे समझे ठीक है क्योंकि
हमारे य तो किसान नेता बहुत है भैया किसान

ही सब लोग अब क्लियर हो ग ना
ठीक जी जी
बताइ व लोग तो वो लोग इसमें नहीं है
फिलहाल तो नहीं और मैंने अभी भी थोड़ी देर

पहले भी चौधरी हरपाल सिंह बिलारी जी से
मेरी बात तो मैंने बोला कि आप जा रहे हैं
जी के जा रहे मैंने कहा देखिएगा सरकार ने
अभी दो मुहा काम य किया मैं अभी नई

जानकारी आपको दे रहा हूं सद शर्मा जी कि
एक तरफ सरकार बुला रही है पत्र लिखकर कि
आप लोग
आइए पाच बजे आइए चंडीगढ़ के सेक्टर 26 में
बैठक करिए और बैठक करने के लिए जब शिव

कुमार कक्का भोपाल से चल रहे हैं तो पुलिस
उनको हिरासत में ले ले ये नई जानकारी दे
रहा हूं आपको अभी एक घंटे डेढ़ घंटे पहले
की जानकारी दे रहा हं ये ये इनकी

सीरियसनेस है ये दोगलापन है सरकार का और
अभी कुछ देर पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष
कांग्रेस पार्टी के श्रीमान मल्लिकार्जुन
खड़गे जी ने ऐलान कर दिया लानिया किया है

कि हम आंदोलनकारी किसानों के साथ है
कांग्रेस पार्टी
साथ यह और किसान आंदोलन के लोग अपने आप को
अकेला ना समझे इस बार कांग्रेस पार्टी भी
उनके आंदोलन के साथ हम पीछे रहेंगे हम आगे

नहीं आना हम बहुत पीछे रहेंगे
लेकिन इस बार एमएसपी गारंटी कानून पर एक
दो दो हाथ होगा जो नरेंद्र मोदी यह सोच
रहे थे कि वह चौदी चरण सिंह जी को भारत

रत्न दे भारत तो देश के किसानों ने पहले
ही दे दिया तो व किसानों के मसीहा थे और
भारत भारत रत्न के से हजारों गुना उनकी
उनकी जो पर्सनालिटी ज्यादा

है चौधरी जयंत जी उनके प हो सकते हैं
लेकिन उनके राजनीतिक आदर्शों के वारिस
नहीं है जो कल चौधरी जयंत सिंह ने जो बयान
दिया है कि नरेंद्र मोदी की नीतियों में

चौधरी चरण सिंह जी की की नीतियों की झलक
मिलती है इससे ज्यादा चौधरी चरण सिंह जी
का अपमान नहीं हो सकता आज चौधरी चरण सिंह
जी जिंदा होते तो उन किसानों के साथ किसान

आंदोलन में शामिल
होते मुझे लगता है कि चौधरी चरण सिह जी को
चौधरी जैन जी ने पढ़ा
नहीं एक मात्र भार रत्न देने के कारण आप
जो है चले जा रहे हैं आप क्या बन जाओगे एक

मंत्री एक
सांसद इस देश का किसान हमें लगता था मुझे
भी दुख हुआ है आत्मी दुख हुआ है मुझे लगता
था कि जयंत चौधरी जो है भविष्य के नेता
किसानों के बनेंगे लेकिन नहीं उन्होंने एक

एक सांसद बनने के लिए मात्र एक दो सीट के
लिए पूरे किसान आंदोलन में जो उनको एक एक
उनके प्रति उनके प्रति जो लोगों का
विश्वास था उस विश्वास को तोड़

दिया यह इतना दुखद है उनको आदर्श पढ़ने
चाहिए चौधरी चरण सिंह जी ने अपने जीवन में
यह कहा था चौधरी हरपाल जी बिलारी जी मुझे
बता रहे थे उन्होंने कहा कि तीन सिद्धांत

है मेरे जीवन में पहला जो व्यक्ति अपनी
पत्नी के प्रति वफादार नहीं हो सकता वह
जीवन में किसी के प्रति वफादार नहीं
नरेंद्र मोदी के क्या नीतियों में य झलक

है व अपने पत्नी के प्रति वफादार है दूसरा
उन्होंने कहा कि मैं जीवन में कभी किसी
कॉर्पोरेट से पैसा नहीं लूंगा केपी मलिक
जी है चौधरी पुष्पन जी है इनके गांव में

लोग अपने खेतों का एक हिस्से का बवाई जो
थी जो फसल होती थी वह लोग चौधरी चरण सिंह
जी को कहते चौधरी चरण सिंह जी का फसल है
वो बेचकर लोग दान देते थे वो लोग फसल के

लिए वो देते थे उनकी पार्टी को चंदा दिया
करते थे लेकिन वही नरेंद्र मोदी अडानी के
हवाई जहाज से उड़ते हैं अडानी के पैसों पर
चलते हैं क्या उनके हवाई जहाज पर जाए मुझे

कोई मतलब नहीं है जाए चौद जैन जी जाए
लेकिन अपने बाबा के वूलो की बात ना करें
अपने बाबा के सिद्धांतों को लांज दे दी
उन्होंने मैं एक चीज कह दे रहा हूं आपसे

बहुत स्पष्टता से इस
बार किसान
आंदोलन बहुत ही व्यापक तरीके से होगा और
फाइ टू फिनिश करेगा एमएसपी गारंटी कानून
लिए बिना नहीं हटेगा एक चीज मैं बता दे

रहा हूं यह सरकार सोच रही थी स्वामीनाथन
जी को भारत देकर अरे स्वामीनाथन आयोग सीटू
प्स का फार्मूला कहां
है जो स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट थी सीट

प् का फार्मूला उसके आधार पर फसलों का दाम
तय करना उसका एमएसपी गारंटी देना कहां है
यही नरेंद्र मोदी चिट्ठी लिखा लिखा करते
थे मनमोहन सिंह जी को एमएसपी को लीगल

गारंटी देनी चाहिए स्वामीनाथन के रिपोर्ट
के हिसाब से उनको फसलों के दाम देने चाहिए
अब नरेंद्र मोदी अडानी के दबाव में और कुछ
इंटरनेशनल कॉर्पोरेट के दबाव में आप वह जो

है कोई फार्मूला नहीं देना चाहते इस देश
के दूसरा कुठाराघात उन्होंने नरेंद्र मोदी
ने किया है इस देश के अंदर अग्निपथ योजना
लाकर इनके इलाकों में चौधरी पुष्पेंद्र जी
के आपके गांव के मेरे गांव में लोग सेना

में जाने के लिए दूसरा काम होता था या तो
खेती करता था किन या उसका बेटा जो सेना
में जाने के लिए सुबह-सुबह प्रैक्टिस किया
करता था अग्निवीर योजना लाकर पहले तो डेढ़

लाख लोग डेढ़ लाख नौजवान जो जॉब जिनको जॉब
मिलनी थी जिनकी नौकरी मिलनी थी सेना में
भर्ती होना था उनकी जॉब को छीन लिया डेढ़
लाख सैनिक कम कर दिए नरेंद्र मोदी ने एक

झटके में और आने वाले समय में चार साल के
लिए कोई जान देने नहीं जाएगा रिटायरमेंट
होने की उम्र नरेंद्र मोदी की है रिटायर
हिंदुस्तान के नौजवानों को कर रहा है

नरेंद्र मोदी आने वाले समय में नरेंद्र
मोदी की इस नीति के कारण हमारे देश की
सेना आधी रह जाएगी संजय जी और चीन हमारे
पूर्वोत्तर भारत पर उत्तर पूर्व के भारत
पर गिद की दृष्टि गाया हुआ है यानी

नरेंद्र मोदी का सीधा निमंत्रण है नेवता
है कि आओ और आकर जो है चाइना कब्जा कर लो
यानी नरेंद्र मोदी चीन के लिए काम कर रहे
हैं क्या और इस देश का किसान अगर आ रहा है
तो उस पर स्ल छोक रहे हो उसको बकेटिंग लगा

रहे हो और वही अडानी को लाल कालीन बिछाओ ग
देश के विरोधी देश का राष्ट्रपति चीन चीनी
राष्ट्रपति के लिए लाल कालीन बिछाओ के जो
हमारे देश के सैनिकों को मरवाता है जो

हमारे देश के सैनिकों को मरवाने वाले नवाज
शरीफ को लाल कालीन बिछाओ ग और वहां जाकर
बिरयानी खाओगे और देश के किसानों को को
अपमानित करने का काम करोगे यह दो दोरा

चरित्र नहीं चलेगा नरेंद्र मोदी को हम
चेतावनी देते हैं और मैं के किसानों को भी
कहता हूं इस देश में अगर एमएसपी गारंटी
कानून मिलेगा आपको तो एक व्यक्ति दे सकता

उसका नाम राहुल गांधी है और अगर कांग्रेस
पार्टी की सरकार आई तो मैं बड़ी प्रणता से
कह रहा हूं एमएसपी गारंटी कानून हम देंगे
2024 के इलेक्शन जीतने के बाद बिल्कुल ठीक

बिल्कुल ठीक है प्रव जी आप कांग्रेस जो है
वो बहती गंगा में हाथ धो रही है उसको लग
रहा है कि चुनाव सिर पर है किसान आ गए क
केही कह रहा हूं ना कांग्रेस को लग रहा है

कि जितना वो नीतीश बाबू और जयंत बाबू ट
किसान अगर आ गए दिल्ली में और आंदोलन खड़ा
हो गया तो सब किए कराए प पानी फिर जाएगा
लेकिन केपी मलिक जी जिस तरह से जयंत चौधरी

आ गए हैं भारत मिल गया चौधरी चरण सिंह को
और कुछ किसान नेता सरकार की तरफ रहती रहती
हैं नाम सब जान ही गए उनका तो क्या इन
स्थितियों में पिछली बार की तरह की एक ये

आंदोलन बड़ा आंदोलन होता हुआ नजर देख रहे
हैं आप और क्या यह बड़ा आंदोलन होगा तो
क्या सरकार दबाव में आएगी इस आंदोलन का
भविष्य केपी मलिक जी आपने बड़े आंदोलन

देखे हैं बड़े करीब से देखे हैं आपका क्या
मानना
है देखो संजय जी पहले तो प्रबल जी ने बहुत
सारी बातें बताई है जैन चौधरी भारतीय जनता
पार्टी के साथ और मोदी जी के खेमे में ऐसे

हवा में नहीं चले गए वो सारी सूची लेकर गए
हैं एमएसपी की सूची लेकर गए हैं जो टेनी
का लड़के ने गाड़ी किसानों पर चढ़ाई थी वो
भी उस सूची में नाम आए व सारी समस्याए हल
कराएंगे बहुत जल्दी आपको को घोषणा हो

जाएगी और ये जो किसान आ रहे हैं इनको आने
की जरूरत ही नहीं पड़ेगी अभी तो सब रास्ते
में है ये बहुत जल्दी घोषणा जैन जी करा
देंगे इसीलिए हमने उनको व भेजा है एक मांग

तो देखिए हमारी पूरी हो गई जो हम पिछले 30
साल से मांग रहे थे अब परपल प्रताप जी
बड़े दावे कर रहे थे कांग्रेस के कांग्रेस
ने आज तक क्यों नहीं दे दिया चौधरी चरण
सिंह को भारत

रत्न इनको रोका था क्या किसी ने दूसरी बात
यह जो कह रहे हैं कि नरेंद्र मोदी जी ने
किसानों का सत्यानाश कर दिया कि
आपने क्यों नहीं दे दिया 10 साल तो आपकी

सरकार भी दी मोदी जी जिस तरह से किसानों
को खुश कर रहे हैं और इतना साढ़े 700
किसान मरने के बाद इतना 13 महीने किसानों
का आंदोलन चलने के बाद बताइए मुझे कौन से
किसान ने वोट नहीं दी भारतीय जनता पार्टी

को दम दबा के वोट दे रहे लोग बम बम चल रहा
रामराज देश में चल रहा है का प्रबल प्रताप
जी बैठे हैं भाई और कांग्रेस उनके लिए
दूसरा नया रामराज ले जाएगी और कि नाचने लग

ऐसा तो कहीं मुझे दिखाई दे नहीं रहा
क्योंकि जो कांग्रेस के टाइम पर कृषि
विशेषज्ञ थे और कृषि के बिलों की रणनीति
बना रहे थे आधे से ज्यादा तो वही है मोदी

जी के कमेटी में भी अगर आप तीन बिलों के
पीछे मुख्य लोगों की लिस्ट निकालो वो वही
है जो कांग्रेस के टाइम पर 10 साल थे वो
इधर आ गए सरकार बदलते ही असली राजपूत वो

है जिसका राज उसी के पूत और वही लोग वापस
कांग्रेस की सरकार अगर कल को आ गई वो नहीं
चले जाएंगे क्या गारंटी प्र जी यहां देंगे
तो मैं यह कह रहा हूं ये सब नूरा कुश्ती

है दूसरी बात जो किले वगैरह लगाई गई है
रोकने के लिए किया किसानों को नहीं रोक
रहे हैं जो असली किसान है कुछ नकली किसान
आ जाते हैं कुछ आतंकवादी खालिस्तानी कुछ

दूसरे असामाजिक तत्व आ जाते हैं व ले उनके
लिए लगाई गई है संजय जी किसानों के लिए
नहीं है किसान आए उनका स्वागत है सरकार
बहुत अच्छी

च बात करने लगे बताइए अब बताइए तंज की बात
और राहुल गांधी आते ही राहुल गांधी पहली
बात तो दूर दूर तक मुझे तो लग नहीं रहा
आते हुए तो ख्याली पुलाव पकाई है दूसरी

बात ये है दूसरी बात ये है कि राहुल गांधी
आते ही दे देंगे इसकी गारंटी राहुल गांधी
ने तो दी नहीं है अभी तक और प्रवल जी दे
रहे हैं और मल्लिकार्जुन खड़के जो है पहले

कुछ बोले नहीं अब उन्होंने तुरंत बोल दिया
क्योंकि पता है आपने सही कहा संजय जी कि
इलेक्शन आ रहा है इसलिए कांग्रेस ने सोचा
बहती गंगा में हाथ धो लो दो डब्बे गंगा जल

भी भर के रख लो अपने घर के पास गंगा आ गई
है तो यह कुछ होना जाना नहीं है मोदी जी
का बहुत बढ़िया बम बम चल रहा है कोई
दिक्कत नहीं है किसानों को किसान खुश है

मैं संजय जी आपको बता दूं अगर यह सा स
किसान नहीं मरे होते राकेश टिक नहीं रोया
होता तो राष्ट्रीय लोकदल की यह सात आठ सीट
नहीं आती समझ रहे थोड़ा सा किसान नाराज थे
लेकिन आप मुझे बताइए आपकी गाड़ी भी

लखीमपुर खीरी में च चड़ गई वेस्टर्न यूपी
का किसान भी नाराज हो गया यूपी का किसान
भी नाराज हो गया फिर भी बंपर वोट भारतीय
जनता पार्टी को आ ग तो ये कौन सा इंजेक्शन

मोदी जी लगा रहे हैं किसानों को हैं और आप
मुझे बताइए पहले तो हम कहते थे कि
जुमलेबाजी भारतीय जनता पार्टी कर रही है
जब पूछा गया सवाल कल पार्लियामेंट में जैन

जी से कि भै आप तो कह रहे थे वो मैं कोई
चवन्नी हूं जो पलट जाऊंगा तो उन्होंने कहा
ये तो चुनावी रैलियों का जुमला है फ चलता
रहता भाई चुनावी भाषा है तो चुनाव में कह

देते हैं तो नेता लोग है ये अब हम कैसे
मान ले कि प्रबल प्रताप जी कह रहे कि
मल्लिकार्जुन खरगे ने कह दिया है उनकी बात
तो पत्थर की लकीर हम मान ले और जो इधर
मोदी जी क उनकी बात हम माने ना क्यों ना

माने मोदी जी प्रधानमंत्री है खरगे जी अभी
कुछ नहीं भाई तो हम लोग इसलिए मोदी जी की
बात को ज्यादा मानेंगे हम मोदी जी को वोट
बम बम देंगे 400 मोदी जी ने कह दिया है
400 पार कराएंगे उनको इस बार पूरा के देश

का किसान उनके साथ है प्रबल जी तो आपको
फायदा मिलने वाला नहीं अभी इंतजार कीजिए
आप देखिए आपके इतने क्रांतिकारी नेता को
आपने निकाल दिया आपने क्रांतिकारी नेता को

प्रमोद जी को निकाल दिया आचार्य प्रमोद
कृष्णम जी को प्रधानमंत्री जी ने कहा आइए
यहां स्वागत है और हमारी आपकी कल बात हुई
थी कि आपके हरियाणा के भी कुछ नेता जा रहे

हैं उनको आसाम वाले पैटर्न पर सरकार बनाने
के लिए दिया जा रहा है आप घूमते रहिए उधर
रैली में आप यात्रा न्याय यात्रा निकालते
रहिए अन्याय चल रहा है आप न्याय करवाते

रहिए पिछली बार जो आप भारत जोड़ो यात्रा
चला रहे थे उसम भारत जुड़ गया वो भारत का
जो गठबंधन
आपने किया था वो टूट टाट गया सब भाग गए

नीतीश कुमार जी तो मैं ये कह रहा हूं भाई
साहब अभी रामराज चल रहा है तेज आंधी चल
रही है कहीं आंधी में कांग्रेस ही ना उठ
जाए उसको पकड़ के बैठिए और गांव में किसान

यह कहते थे जब तेज आंधी आए पेड़ को पकड़
के बैठ जाइए जब आंधी बंद हो जाए तब सोचिए
क्या करना है तो अभी आंधी के सामने आओगे
तो उड़ जाओगे तो इसलिए मुझे लग रहा शांत

रहो थोड़े दिन प्रब जी जी संजय जी अब आप
बताइए कुछ नया क्या पूछना चाह रहे मैं
पूछना चाह रहा हूं कि यह किसान दिल्ली तक
आएंगे आएंगे तो क्या आंदोलन खड़ा करेंगे

और खड़ा करेंगे तो सरकार निपटे कैसे देख
संजय मैं अब आपको सीधी बात बताता हूं मेरा
जो अपना पर्सनल आकलन है एक किसानों को
दिल्ली तक आने की जरूरत पड़ेगी अगर आए भी

तो बॉर्डर पर य 10 पाच दिन रहेंगे और
सरकार इनको कुछ नया जुमलेबाजी देने वाली
है और यह बहुत खुशी के साथ वापस जाएंगे
सरकार ने इसी बीच अपने जो उनके और जैसा कि
आपने भी कहा जो सरकार के खास आदमी है

किसानों के बीच में वह आएंगे और वो एक ऐसी
स्पेशल मांग उठा देंगे जो जो हल्दी लगे ना
फिटकरी और सरकार कह वाह वा बहुत बढ़िया
मांग है सरकार इसको मान ले रही है और व वो
तुरंत अनाउंस कर देंगे भाई सरकार ने हमारी

य मांगे मान ली है आंदोलन समाप्त किया
जाता है और अगर बाद में इन्होने नहीं किया
तो हम यह कर देंगे वो कर देंगे इसी बी
चुनाव आ जाएगा अब आप ये देखिए ना आंदोलन

खत्म किस शर्त पर हुआ था कि भाई आंदोलन
खत्म हो गया है हम आपको एमएसपी दे रहे हैं
और हमने बिल वापस एमएसपी हो गई क्या ऐसा
ही एक नया जुमला इनको दे दिया जाएगा और
इसी बीच में चुनाव चले जाएंगे तो ये ऐसा

मामला होने वाला है इस बार चुनाव का इसका
किसान आंदोलन का टेंपो नहीं बनेगा संजय जी
मेरा अनुभव है कि 202 साल में एक बार
किसानों का बड़ा आंदोलन होता है और यह इस

तरह के आंदोलन रोज-रोज नहीं होते इन
आंदोलन में बहुत ताकत लगती है बहुत जान
लगती है बहुत मैन पावर लगती है क्या आप
जानते हैं कि 750 किसान की जो जान गई है

वो कोई मामूली बात है एक साल आंदोलन को
चलाना सर्दी गर्मी बरसात कि इसको मामूली
आप मान रहे हैं तो इतना बड़ा टेंपो इस बार
बन पाएगा मुझे नहीं लगता और दूसरा क्या है

कि इस बार जो है बड़े तरीके से सरकार चल
रही सरकार को भी अंदाजा है तो सरकार ने इस
बार कोई लोकल पुलिस या दिल्ली पुलिस को
यूज नहीं किया बीएसएफ को बुलाया गया और
बीएसएफ सीधी गोलियां चलाएगी

अगर ऐसा भी हुआ तो सरकार को कोई दिक्कत
नहीं आई क्योंकि सरकार को चुनाव जीतना है
कैसे भी करके चाहे उनको जुमलेबाजी करनी
पड़े चाहे गोली चलानी पड़े श्याम धाम दंड

भेद कुछ भी करना पड़े हमें जो है नारा
प्रधानमंत्री जी ने पार्लियामेंट के अंदर
दे दिया है देखिए किसी रैली में बोलना और
संसद भवन के अंदर बोलना जहां आपको मालूम

है कि एक एक वर्ड आपका रिकॉर्ड में जाता
है वहां प्रधानमंत्री का 370 की घोषणा
करना कि 370 भारतीय जनता पार्टी और एनडीए
400 के पार 402 तो वो नारा इन्होने हवा

में नहीं दे दिया तो प्रधानमंत्री
सीरियसली इस काम पर लगे हुए हैं और आप
देखिए अगर आप उत्तर प्रदेश के बारे में ही
देखें एक एक सीट प एक एक सीट पर मंथन हो
रहा है कि एक एक सीट कैसे बढ़ाई जाए और

उसके लिए सब सब चीजें की जा रही है क्या
जैन चौधरी की या एका एक भारतीय जनता
पार्टी को आ गई है क्या एका एक इतनी जल्दी
भारतीय जनता पार्टी को पड़ गए मैंने जो

आपको बताया कि हरियाणा में भी कांग्रेस
टूटने जा रही है और हरियाणा का जहां हम और
आप लंच पर कुछ दिन पहले मिले थे वहां पर
वही पूरा का पूरा परिवार ही चला जाएगा

भारतीय जनता पार्टी और उन्हीं को आसाम
आसाम के पैटर्न पर उन्हीं को दे दिया
जाएगा कि जाइए आप हरियाणा संभालिए और
भाजपा को जो है सीट दिलाए लोकसभा की सारी
और नीचे अपना स्टेट आपका कहने मल कि

दीपेंद्र हुड्डा भारतीय जनता पार्टी के
सीएम हो जाएंगे देखिए दिल्ली के राजनीतिक
गलियारों में लुटन जोन में यह चर्चा बहुत
तेजी से चल रही है क्योंकि वो भूपेंद्र
हुड्डा अपनी मर्जी से चले जाएंगे ऐसा नहीं

है कांग्रेस के लोग ही उनको भेजेंगे अभी
पुष्प जी से हमारी डिस्कशन हुई थी प्रबल
जी से भी हुई थी वहां एक एसआर के चल रहा
है एसआर के शाहरुख खान वाला एसआर के नहीं
है वो वो शैलजा किरण चौधरी रणदीप हुड्ड

वाला वो चल रहा है तो ये बड़े नेता है तो
कांग्रेस का जो रणनीति है कांग्रेस ये कह
रही है कि हुड्डा इतना काम नहीं कर पाएगा
जितना तीन लोग मिलकर कर ले कांग्रेस की

सोच भी सही है कहां वो एक और कहां ये तीन
तो ये तीनों को लगाया गया हरियाणा संभालने
के लिए तो इसलिए हुड्डा जी की मजबूरी है
कि वो भारतीय जनता पार्टी के साथ जाए और

तोते भी लगे उनके पीछे तोते गिद बिच्छू सब
लगे हुए हैं फाइल उनके है अब 1ते घंटे
पूछता आज तो भूपेंद्र हुड्डा से हो रही है
एसर के से तो हो नहीं रही है तो इसलिए कई
सारे कारण बनेंगे उनके जाने के और जाते ही

वहां तो फिर वो जो है उसम आपकी जो वाशिंग
मशीन आपने बता रखी उस लेंगे और साफ सुथरे
बढ़िया जैकेट सफेद कुर्ता पहन के जय श्री
राम शुरू मजेदार
बात

बता द के म
जीज जी संजय जी मैं ये कह रहा था कि आज
केपी मलिक जी का दुख मैंने देखा संज के
आधार पर बोल रहे थे जिस हिसाब से
उने पत्रकार का क रहा इन्होने कहा इन्होने

कहा कि जैन चौधरी को हमने भेजा य मु को
लेकर मुझे लग रहा है कि ने बनाई
है जैसे लग रहा था लेकिन ये बहुत दुखित है
अंदर से मैं जान रहा हूं ये दुखित बहुत है
और अंदर से तंज है रामराज की जो बात तंज

है ये मैं इसलिए कह रहा हूं कि देश की
जनता को समझना चाहिए कि केपी मलिक जी बहुत
ज्यादा दुखित अंदर से बहुत दुखित किसानों
के सच्चे ख इसम कोई दोराई नहीं है बहुत

बहुत शुक्रिया केपी मलिक जी पुष्प जी प्रव
जी आपने समय दिया बहुत-बहुत
आभार हम लोग चर्चा कर रहे थे किसान आंदोलन
की और निगाह बनी रहेगी 4 पीएम की टीम

लगातार किसानों के संपर्क में रहेगी हम
लोग आंदोलन को कवर करेंगे आपको आंदोलन की
एकएक खबर बताते रहेंगे देखते रहिए गोदी
मीडिया को देखने से कोई फायदा नहीं है वो
साहेब को 370 और 400 पार कराता रहेगा वो

कभी नहीं बताएगा कि बंगाल में भी यही साहब
जो अब कह रहे हैं 370 पार कह रहे थे बंगाल
में दीदी ओ दीदी बंगाल में प्रचंड बहुमत
से बीजेपी की सरकार बनने जा रही है

कर्नाटक में यही साफ कह रहे थे जय बजरंग
बरी का नारा लगाओ क्योंकि यहां सरकार बनने
जा रही है पिछड़ा वर्ग का प्रधान
मुख्यमंत्री बनने जा रहा है इस तरह के
तमाम वादे हमने मोदी जी के देखे हैं जो

गलत साबित हुए हैं चुनाव की मेला तैयार है
किसान भड़के तो डिब्बा गोल है अपनी राय से
अवगत कराइए चैनल को जवाइन कीजिएगा
सब्सक्राइब करिएगा हमारे राज्यों के चैनल

है 4 पीएम यूपी बिहार गुजरात महाराष्ट्र
राजस्थान मध्य प्रदेश कर्नाटक और फोर प
बॉलीवुड उन्हें भी सब्सक्राइब करिएगा
शुक्रिया थैंक
यू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *