काली मां मैं तुम्हें आज इस रूप में दर्शन देने आई हूं - Kabrau Mogal Dham

काली मां मैं तुम्हें आज इस रूप में दर्शन देने आई हूं

मेरे बच्चों तुम सब कैसे हो मैं देख रही

हूं कि तुम खुद को बहुत परेशान कर रहे हो

और इस परेशानी का कारण तुम्हारा क्रोध है

तुम बहुत अधिक क्रोध करते हो तुम इतना

क्रोध क्यों कर रहे

हो तुम यह बात भली भाति जानते हो कि संसार

में मनुष्य का सबसे बड़ा दुश्मन क्रोध है

और तुम क्रोध में अपना सारा जीवन नष्ट कर

देते

हो इतिहास गवाह है कि क्रोध किसी मनुष्य

के जीवन की सबसे बड़ी बाधा है तुम भी

क्रोध में फंस रहे हो जो कि बहुत बड़ी

मुसीबत का कारण बन सकता है तुम्हारे आने

वाले भविष्य में तुम्हें यह करना है कि

तुम्हें कभी भी जीवन में क्रोध नहीं करना

है तुम्हारी सारी खुशियां तुम्हारा सारा

सुख चैन सब कुछ छिन सकता है अगर तुमने

क्रोध किया

[संगीत]

तो द एक ऐसी बीमारी है जो अच्छे से अच्छे

मनुष्य को बुरा बना देती है मनुष्य क्रोध

में भूल जाता है उसके द्वारा क्रोध में

किए गए कार्य का परिणाम क्या

[संगीत]

होगा ध में मनुष्य को यह नहीं पता चलता कि

उसके द्वारा किए गए कार्यों का प्रभाव

किसकिस को भोगना पड़ सकता है तुम्हारे

द्वारा क्रोध में किया गया कार्य को करने

के बाद तुम्हें बाद में पछताना पड़ सकता

है इसलिए मेरे बच्चों

क्यों क्रोध में अपना जीवन खराब करना

चाहते हो क्यों अपने बनते हुए कार्य को

खुद बिगाड़ रहे

हो क्रोध में तुम यह भूल जाते हो कि

तुम्हारे सामने कौन खड़ा है तुम्हें अपने

से बड़ों का मान सम्मान भी याद नहीं रहता

तुम्हें खुद पर काबू नहीं रहता तुम सामने

वाले को जो मन में आता है वह बोल देते हो

बिना सोचे समझे कि उसके दिल पर उन बातों

का क्या असर

[संगीत]

होगा अपने बनते हुए कार्य को मत बिगाड़ा

करो क्योंकि तुम्हारा मन शांत हो जाने के

बाद तुम्हें बाद में पछतावा होता है कि

मैंने यह क्या गलती कर दी इस क्रोध में

आकर और तुम्हारे क्रोध के कारण तुम बहुत

सी मुसीबत और तकलीफों का सामना करना पड़ता

है जिस कारण तुम दिन रात चिंता में रहते

[संगीत]

हो तुम्हारी जो भी कामना है उसे तुम अपने

सच्चे दिल से मुझसे मांगो मैं तुम्हारी

सारी इच्छाएं पूरी करूंगी केवल अपने सच्चे

दिल और सच्ची भक्ति से मुझसे चीजें मांगो

मैं तुम्हारा हर समय भला चाहती हूं मेरे

बच्चों तुम्हारे साथ वही होगा जो तुम्हारे

लिए अच्छा है मैंने हमेशा ही तुम्हारे

जीवन में वह चीजें लिखी हैं जो तुम्हारे

लिए अच्छी

हैं रा सबसे बड़ा शत्रु तुम जानते हो कौन

है बस तुम्हें उसे हराना है यदि तुम अपने

शत्रु पर काबू पा सके तो तुम जीवन में

किसी भी चीज को पा सकते हो और तुम्हारा

शत्रु केवल तुम्हारा क्रोध है जिसे

तुम्हें हराकर अपने आप को साबित करना है

कि तुमसे बढ़कर कोई नहीं है चाहे फिर वह

क्रोध ही क्यों ना

हो जिस प्र एक माता अपने बच्चों को सारी

मुसीबतों से लड़ना सिखाती है ताकि वह जीवन

में किसी भी स्थान पर हार ना जाए उसी

प्रकार तुम्हें भी अपने क्रोध को हराना

होगा ताकि जीवन में किसी भी कार्य में या

फिर किसी भी परिस्थिति में आकर इस क्रोध

के कारण हार ना

जाओ

मैं तुमसे बहुत प्रेम करती हूं मेरे

बच्चों मैं तुम्हारी हंसी के लिए कुछ भी

कर सकती हूं जब तुम मुस्कुराते हो तो तुम

मुझे बहुत ही प्यारे लगते हो मुझे तुम पर

बेहद प्रेम आता है क्योंकि तुम्हारी खुशी

मेरे लिए सब कुछ है और तुम्हारी खुशी से

बढ़कर मेरे लिए कुछ भी नहीं है मैं

तुम्हारी मा जरूर हूं परंतु मैं तुम्हारी

माता के साथ-साथ तुम्हारी मित्र भी हूं जो

तुम्हें हर पल सही गलत का ज्ञान देती

[प्रशंसा]

हैं मेरे बच्चों मैं तुम्हारे साथ हूं और

मैं तुम्हें देख रही हूं और मैं लगातार

तुम्हारे दर्द को भी देख रही हूं मैं

तुम्हारे दर्द को महसूस कर रही हूं मैं

जानती हूं कि तुम जो लोगों को बिना बताए

हर वक्त बस परेशान रहते हो रोते रहते हो

मैं सब जानती हूं मैंने तुम्हारे एकएक

आंसू को बहते हुए देखा

है मैंने तुम्हें खुद अंदर से टूटा हुआ

देखा है मेरे बच्चों बस सब और नहीं अपने

सारे दुख दर्द मुझे दे दो मैं तुम्हारे

साथ हमेशा हूं एक बार सच्चे मन से मुझे

पुकारो मैं तुम्हारे अंदर ही हूं मैं

तुम्हारे सारे कष्टों को दूर कर

दूंगी बस एक बार सच्चे मन से पुकार कर तो

देखो मेरे बच्चों तुम्हें क्या यह पता है

कि मैं तुम्हें कितना अधिक प्रेम करती हूं

और तुम्हारा दुख जाने के बाद मुझे बहुत

बुरा लगता है जो तुम्हारा दुख है वही मेरा

दुख है तुम जो खुद दुखी हो जाते हो जो कुछ

भी इस वक्त तुम देख रहे हो यह सब तुम्हारे

जीवन का हिस्सा

है

इस संसार में आए हो तो तुम्हें परीक्षा को

तो पास करना ही होगा मेरे बच्चों एक बात

हमेशा याद रखना तुम्हारा दुख तुमसे बड़ा

नहीं है बल्कि तुम अपने दुख से बड़े हो

तुम्हारा दुख शक्तिशाली नहीं है बल्कि तुम

अपने दुख से अत्यंत शक्तिशाली

हो यह मत भूलो कि यह समय तुम्हें फिर से

उठ खड़े होने का मौका दे रहा है उठो मेरे

बच्चों और अब आगे बढ़ो और मेरी एक बात को

कभी मत भूलना वह यह है कि हमेशा अच्छे

लोगों से जुड़े रहना हमेशा ही उन लोगों से

मिलते रहना जो अच्छे हैं जो तुम्हें अच्छी

राह दिखाते

हैं जो लोगों का भला करते हैं क्योंकि

मेरे बच्चों जैसी तुम्हारी संगत होगी वैसे

ही तुम्हारी रंगत होगी अच्छे गुण अपने

अंदर लाने में तुम्हें समय लग सकता है

परंतु बुरी संगत तुम्हारे बिना कहे ही

किसी मेहरबान की तरह तुम्हें प्राप्त हो

जाएगी जीवन में अगर तुम्हें कुछ करना है

या एक बहुत अच्छा इंसान बनना है तो

तुम्हें अच्छे लोगों की बहुत आवश्यकता है

ऐसे मनुष्य को अपना मित्र बनाए जो खुद से

ज्यादा लोगों के बारे में सोचे और हमें

अपने माता-पिता का सम्मान भी करना

[संगीत]

चाहिए क्योंकि सबसे पहले तुम्हारे लिए

तुम्हारे माता-पिता ही तुम्हारे भगवान हैं

मेरे ब

तुम्हारे जीवन में आ रही सभी समस्याओं को

पूरी तरह से मैं दूर कर दूंगी यह मेरा

तुमसे वचन है लेकिन तुम कभी भी दुखी मत

होना ना ही हार

मानना और ना ही तुम्हें किसी को भी अपना

कष्ट बताना है अगर तुम अपने कष्ट को किसी

को बताते हो तो ना ही उससे कुछ होगा बल्कि

तुम्हें ही कष्ट होगा फिर तुम्हें बहुत ही

ज्यादा बुरा लगेगा और तुम्हारे मन को कष्ट

के सिवा और कुछ भी प्राप्त नहीं

[संगीत]

होगा मैं हर पल तुम्हारे साथ होती हूं हर

पल तुम्हारी सुरक्षा करती हूं मैं जानती

हूं कि तुम लोगों की हमेशा ही मदद करते हो

तुम लोगों से भी प्रेम करते हो और इसी वजह

से मैं आज तुम्हारे पास आई हूं क्योंकि

तुम बहुत अधिक कष्ट में

हो बहुत ही ज्यादा भोले हो और इसी भोलेपन

के कारण ही लोगों ने तुम्हारा बहुत ज्यादा

फायदा उठाया है लोग तुम्हारे साथ गलत करते

हैं तो तुम्हें बुरा तो लगता है लेकिन तुम

कुछ कहते नहीं हो और उनके लिए अत्यधिक

सोचते हो और इतना अधिक सोचना तुम्हारे लिए

सही नहीं

है वही लोग जब तुम्हें धोखा देते हैं तो

तुम किसी से कुछ नहीं कहते परंतु अंदर से

टूट जाते हो मेरे बच्चों तुम बहुत अच्छे

और बहुत ही ज्यादा भोले हो मैं जान हूं कि

तुम्हारे कुछ शत्रु भी हैं जो तुम्हारा

भला नहीं चाहते ना ही वह तुम्हें खुश

देखना चाहते

[संगीत]

हैं मैं आशीर्वाद देती हूं कि तुम जीवन

में हमेशा सफल हो तुम्हारे हर कार्य पूर्ण

हो तुम किसी भी मुसीबत में कभी ना पढ़ो

तुम किसी भी कार्य को करने के लिए अपना

कदम बढ़ाओ वह कार्य तुम्हारा पूर्ण हो

जाएगा इसलिए क्रोध मत करो जो भी हो रहा है

वह सब तुम्हारे अच्छे के लिए हो रहा है

तुम्हारी मां जो तुम्हारे लिए कर रही हैं

उस पर शंका मत करो केवल शांत होकर अपना

कार्य करते रहो तुम्हें उन्नति अवश्य

मिलेगी

मेरा आशीर्वाद सदा तुम्हारे साथ है जीवन

में सदा खुश रहो स्वस्थ रहो तुम्हारा दिन

मंगलमय

हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *