काली मां मैं आज अपना आशीर्वाद तुम्हें देने आई हूं - Kabrau Mogal Dham

काली मां मैं आज अपना आशीर्वाद तुम्हें देने आई हूं

मेरे

बच्चों आज मेरे संदेश को अंत तक सुनना आज

आपकी चिंता का आखिरी दिन होगा मैं

तुम्हारी माता हूं मैं ब्रह्मांड की

निर्माता हूं मुझसे ही शुरुआत और अंत

है आज मुझे तुम्हें बताते हुए खुशी हो रही

है कि इस महीने तुम्हारी सभी आर्थिक

समस्याएं समाप्त हो जाएंगी और आपको इस

पूरे महीने खुशी और प्यार

[संगीत]

मिलेगा इस महीने ऐसा चमत्कार

होगा कि आपका पूरा जीवन ही बदल जाएगा आपने

जो सपने देखे थे वह सभी सपने पूरे होंगे

बस आपको अपनी पूरी मेहनत और सच्चाई के साथ

कार्य करते जाना

है आपके जीवन की जितनी भी समस्याएं हैं

चाहे वह आपके जीवन में किसी भी प्रकार का

कोई कर्जा हो या आर्थिक रूप से तंगी से

गुजर रहे हो या आपके जीवन में प्यार की

कमी हो या आपका मान सम्मान आपको ना मिल

रहा हो वह सभी कमियां इस महीने में दूर हो

जाए

और आप हर जगह तरक्की

करेंगे मेरे बच्चों निराश मत हो यदि कोई

आपसे बहुत समय से बात नहीं कर रहा है या

किसी प्रकार की कानूनी दौर से आप गुजर रहे

हैं तो वह सभी समस्याएं भी आपकी जल्द ही

दूर हो

जाएंगी आपके जीवन की जितनी भी समस्याएं

हैं वह बस कुछ समय के लिए ही बची है फिर

आपका जीवन एक सुंदर फूल की तरह खिल उठेगा

लेकिन आपको बस मेरी कुछ बातों पर ध्यान

रखना है ऐसे आपको जीवन में सभी की सहायता

करते हुए चलना है कभी भी अहंकार को जीवन

में नहीं अपनाना

[संगीत]

है मैंने तुम्हारे लिए जो योजनाएं बना रखी

है बस तुम्हे उन पर ही चलना है हमेशा सत्य

और अहिंसा का मार्ग जीवन में अपनाना है

अपने जीवन के हर एक पल को खुशी के साथ

बिताना है यह मत सोचो कि मेरा जीवन खराब

है मुझे भगवान ने यह नहीं दिया वह नहीं

दिया आपको हर पल भगवान का शुक्रिया अदा

करना चाहिए कि आपको जितना भी दिया है वह

सब बहुत अच्छा दिया

[संगीत]

है अब जो खुशी का समय तुम्हारे जीवन में

आने वाला है एक ऐसा समय होगा जैसे कोई

जादू हो गया तुम्हारे जीवन में मेरे

बच्चों यह जादू अपने आप नहीं हुआ है यह

जादू सिर्फ तुम्हारी मेहनत सच्ची लगन और

सच्चाई के रास्ते

पर चलने से ही हुआ है तुम्हारे कर्म ही

तुम्हें वह फल दे रहे हैं जिसके तुम हकदार

हो क्योंकि इस जीवन में संयोग जैसी कोई

चीज नहीं होती है आपकी अपनी खुद की मेहनत

और कर्म होते हैं और भगवान के आशीर्वाद के

साथ ही और आपके माता-पिता के आशीर्वाद के

साथ ही आपको जीवन में सभी कुछ मिलता है

जिसे आप पाना चाहते

हैं मेरे बच्चों जीवन में एक बात याद रखना

कि कभी भी किसी का बुरा मत करना और कभी भी

किसी असहाय और निर्बल व्यक्ति को नहीं

सताना है हमेशा गरीबों की और निर्बल

व्यक्तियों की मदद करनी

है और ना ही कभी जीव जी वन में आने वाली

परेशानियों को देखकर उदास होना है क्योंकि

परेशानियां तो सभी के जीवन में आती हैं

इसलिए उनसे घबराकर या पीछे हटकर आपका जीवन

नहीं चल

सकता ऐसी भी परिस्थिति आपके जीवन में आए

आपको अनुकूल रहना है क्योंकि अनुकूल रहने

पर ही आप

सभी कार्य समय पर कर सकेंगे और अपनी

बुद्धि का सदुपयोग कर

पाएंगे आज जो रास्ते तुम्हें कठिन लग रहे

हैं एक समय ऐसा आएगा जब तुम्हें वही

रास्ते आसान लगने लगेंगे क्योंकि तब

तुम्हें उन रास्तों का अनुभव हो जाएगा जो

रास्ते आज तुम्हारे लिए नहीं है इसलिए

हमेशा याद रखो कोई रास्ता शुरुआत में नया

होता है जैसे ही तुम आगे बढ़ते जाते हो वह

चीजें तुम्हें आसान लगने लगती

[संगीत]

हैं तुम्हारा अनुभव ही तुम्हारी पहचान है

और तुम्हारी पहचान तुम्हारा अनुभव इन

दोनों चीजों को तुम्हें हमेशा मिलाकर रखना

चाहिए जो कार्य तुम सीखते हो उससे तुम्हें

अनुभव प्राप्त होता है और वही कार्य

तुम्हें तुम्हारी पहचान दिलाता

है कभी तुम किसी वस्तु को पाने के लिए

अपना पहला कदम उठाते हो और यदि तुम्हें

थोड़ी बहुत कठिनाई लगने लगती है तो तुम

अपने कदम पीछे रख लेते हो यही तुम्हारी

सबसे बड़ी कमजोरी है बस तुम यही अपने आप

में तुम्हें सुधार है

मेरे बच्चों कभी भी तुम्हें अगर ऐसा महसूस

होता है कि तुम अकेले हो तो उस समय केवल

मुझे याद करना मैं तुम्हें वचन देती हूं

कि मैं तुम्हारी माता तुम्हारा साथ कभी

नहीं छोडूंगी तुम्हें हर मुश्किल हर घड़ी

में मैं रास्ता

दिखाऊंगी मेरे बच्चों आज मैं तुम्हें जीवन

से जुड़ी हुई एक खास बात बताने वाली हूं

यह शरीर जो भगवान की देन है यह तुम्हारे

लिए सबसे अनमोल है तुम्हारे जीवन में इसकी

कीमत किसी बहुमूल्य रतन से भी ज्यादा होनी

चाहिए क्योंकि जब तक शरीर है और वह भी अगर

स्वस्थ है तो तुम कभी भी जिंदगी में किसी

भी चीज से हार नहीं मान सकते

और आजकल के इस कलयुग में इस भागदौड़ भरी

जिंदगी में आप अपने शरीर में अनेकों

चिंताएं समाते जा रहे हैं और यह शरीर

धीरे-धीरे अंदर से खोखला होता जा रहा है

और साथ ही साथ आप जो भोजन करते हैं अगर वह

सात्विक नहीं है तो भी आपका शरीर अंदर से

मलिन हो जाता है

[संगीत]

आजकल हम सब इतने ज्यादा अपने कार्य में

व्यस्त रहते हैं कि जो भी हमारे सामने आता

है वह सब

हम बिना सोचे समझे ही खा लेते हैं कि

हमारे शरीर के लिए यह सही भी है या नहीं

मेरे बच्चों आपको ध्यान रखना है कि जैसा

आप खाएंगे वैसा ही आपका मन होगा वैसा ही

आपका तन होगा वैसा ही आपके विचार होंगे और

वैसे ही आपका शरीर बनेगा जो भी हम खाते

हैं उन सबका हमारे शरीर पर हमारे दिमाग पर

हमारे मन पर बहुत ज्यादा असर पड़ता

[संगीत]

है इसलिए जो भी आप खाना खाते हैं आप कोशिश

करें

कि आप सभी के साथ मिलकर खाना खाएं शांत मन

से खाना खाएं और घर में बना हुआ खाना खाएं

क्योंकि जिन विचारों के साथ आप खाना बनाते

हैं वैसे ही खाने में गुण मिलते जाते हैं

अगर आप गुस्से के साथ खाना बनाएंगे तो वह

खाना भी आपके शरीर में वैसी ही ऊर्जा देगा

लेकिन अगर आप प्यार से शांत मन से खाना

मनाएंगे तो वह खाना आपको वैसे ही ऊर्जा

देगा जिससे आपका मन स्वस्थ रहेगा और खुश

[संगीत]

रहेगा अगर आप इन छोटी-छोटी लेकिन मोटी

बातों को अपने जीवन में अपनाएंगे तो आप

देखना आपका शरीर सुचारू रूप से कार्य

करेगा जब आपका शरीर स्वस्थ होगा तो आपका

मन भी स्वस्थ होगा और आप सभी कार्य सही

समय पर कर सकेंगे

[संगीत]

आप यह कोशिश करें कि आप जब भी खाना खाएं

एक उचित समय पर एक उचित स्थान पर शांत मन

से ही खाएं क्योंकि शांत मन से जब आप खाना

खाते हैं तो वह आपके पूरे शरीर को एक

अच्छी ऊर्जा प्रदान करता है और वही ऊर्जा

आपको पूरे दिन कार्य करने में मदद करती है

और आपके चेहरे पर एक अलग ही चमक आ जाती

है और महत्त्वपूर्ण बात है मेरे बच्चों

यदि आप अपने सोने जागने का भी कोई समय

निश्चित नहीं करते हैं तो ऐसे व्यक्ति को

बीमार होने का भी कोई समय निश्चित नहीं

होता है वह कभी भी किसी भी समय बीमार पड़

जाता है और फिर यह सोचता है कि हमने तो

ऐसा कुछ नहीं किया हम बीमार क्यों हो

गए लिए आपको अपने जीवन में कुछ नियमों का

पालन करना चाहिए ऐसे नियम आपके जीवन को

बहुत ही सुंदर बना देंगे कुछ समय के लिए

तो आपको लगेगा कि यह नियम निभाना बहुत

मुश्किल है कठिन कार्य है लेकिन ऐसा नहीं

है बच्चों धीरे-धीरे नियमित प्रयास से इन

नियमों को अपनाकर आप अपने जीवन में सफल हो

सकते

हैं और आजकल आप अपने जीवन में एक शब्द

बहुत ज्यादा इस्तेमाल करते हैं वह है कि

आज हम बहुत दुखी हैं हमारा मन नहीं लग रहा

है आज मुझे बहुत ज्यादा स्ट्रेस फील हो

रहा है ऐसा हम अक्सर अपने रिश्तेदारों

अपने परिवार जन

और अपने मित्रों से कहते

हैं लेकिन मेरे बच्चों अगर आप छोटी-छोटी

बातों से ऐसे ही परेशान रहेंगे इतने

ज्यादा दुखी रहेंगे तो आप अपने आप में ही

गुम हो जाएंगे आप अपने जीवन में छोटी-छोटी

खुशियों को ढूंढना है और आगे बढ़ना है और

देखना है कि हमारा जीवन कितना खूबसूरत

[संगीत]

है मैं तुम्हें उन्नति के मार्ग पर ले

जाना चाहती हूं जहां तुम्हारी किस्मत

तुम्हारा इंतजार कर रही है और मेरा क्रोध

भी तुम्हारे बारे में चिंता करने वाला

प्रेम ही है और इसी कारण से ही मुझे तुमसे

नाराजगी होती है कि मेरे बच्चों तुम कोशिश

ही नहीं कर रहे हो

[संगीत]

तुम व्यर्थ की चिंता में अपना कीमती समय

गुजार रहे हो मेरे बच्चों मैं तुमसे प्रेम

से बंधी हुई हूं इसलिए तुम्हारा

मार्गदर्शन करना मेरा कर्तव्य है और

तुम्हारी सभी समस्याओं से मुक्ति दिलाना

मेरा धर्म

है मेरे बच्चों मुझे किस प्रकार से खुश कर

पाओगे मैं तुम्हारी श्रद्धा और भावनाओं की

भूख हूं तुम जिस प्रकार से खुश करना

चाहोगे मैं उसी प्रकार से खुश हो जाऊंगी

बस तुम्हारी भक्ति और श्रद्धा सच्चे दिल

से होनी चाहिए और ऐसा करते ही तुम्हारे

अंदर सकारात्मक शक्ति

होगी जो कि तुम सभी समस्याओं से तुम्हें

मुक्ति दिलाएगा और नकारात्मक शक्ति को

नष्ट कर देगा मैं तुमसे अपने असली रूप में

नहीं मिल सकती क्योंकि यह सृष्टि के

नियमों के विरुद्ध होगा मेरे बच्चों और यह

निश्चित है कि जब भी तुम मुझे पुकारते हो

मैं तुम्हारे पास आ जाती

हूं मैं तुम्हारे समक्ष खड़ी हो जाती हूं

परंतु सृष्टि के चलते तुम्हें दिखाई नहीं

देती इसलिए तुम कभी भी अपने आप को अकेला

महसूस मत करना मेरे बच्चों सदियों से मैं

तुम्हारे साथ हूं और साथ रहूंगी मुझसे

तुम्हारी यह हालत देखी नहीं

जाती इसलिए मेरे बच्चों अब मैं तुम्हारे

जीवन में भारी परिवर्तन अगले ही कुछ घंटों

में करने वाली हूं और यह परिवर्तन तुम्हें

आश्चर्य में डाल देगा क्योंकि तुम्हारे

साथ जो भी व्यक्ति कार्य को कर लेता है उस

पर साक्षात मेरी कृपा दृष्टि होती है

तुमको यह चमत्कार खुद अपनी आंखों से देखने

को मिलेगा बस तुम इस बीच में ऐसी गलती मत

करना यदि तुम कोई गलती कर भी हो

[संगीत]

तो मेरे बच्चों तुम कुछ कदम पीछे चले

जाओगे और यदि तुम इस समय को थोड़ा भी भूल

गए तो आगे आने में तुमको दोबारा बहुत समय

लगेगा इसलिए यह गलती मत करना तुम अपने

सच्चे मन से किए हुए कार्य पर पूर्ण भरोसा

करना मेरा आशीर्वाद सभी अपने प्यारे

भक्तों के साथ है जीवन में खुश रहो स्वस्थ

रहो तुम्हारा दिन मंगलमय हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *