काली माँ का संदेश || MAA KALI SANDESH TODAY - Kabrau Mogal Dham

काली माँ का संदेश || MAA KALI SANDESH TODAY

तुम्हें ना अब जो लोग तुम्हारे जीवन से

बाहर निकल गए हैं उनके बाहर चले जाने का

दुख बिल्कुल नहीं मनाना चाहिए क्योंकि

तुमने ही मुझसे प्रार्थना किया था कि बिना

कुछ बोले ही खुद

बखुदा महसूस हो तो कुछ भी मत करने जाना

किसी के आगे तुम्हें गिड़गिड़ा की जरूरत

नहीं है सिर्फ एक ही काम करना तुम काली

चालिसा उठाना और उसे पढ़ना शुरू करना तुम

बस मेरी चालिसा को मन लगाकर पढ़ो और तुम

देखो तुम्हारे रास्ते अपने आप निकलते चले

जाएंगे तुमने ना कभी किसी के लिए गलत सोचा

है कहा है और ना कभी कोई गलत तरह की विधि

विधान किए है तो तुम्हें डरने की कोई

जरूरत नहीं है और तुम्हें मन में दुख

पालने की भी जरूरत नहीं है एक बात आज मैं

तुम्हे कह रही हूं ना तुम याद रखना ये आज

नहीं एक डेढ़ साल के बाद तुम्हारे जीवन

में घटित होगा जो तुम्हारे पीछे पड़े हुए

हैं ना जिन लोगों ने बहुत बुरी तरह से

तुम्हारा अनादर करके अपने जीवन से बाहर

निकालने की कोशिश की है वो तुम्हारे ना

पाव पर आकर गिर कर तुमसे माफी भी मांगेंगे

और वो ये चाहेंगे कि दोबारा वो तुम्हारे

जीवन में शामिल हो तुम्हें बस इस बात का

ध्यान रखना है कि तुम्हें कभी भी किसी की

बेइज्जती नहीं करनी है वो माफी भी मांगने

आए तो माफ करो या ना करो कभी दुद काना मत

चुप रह जाना हट जाना कह देना कि माफ नहीं

कर पाओगे पर अपशब्द कभी मत कहना और इन

बातों का अहंकार भी मत मानना मैं तो

तुम्हें भविष्य की बातें इसलिए वर्तमान

में बता रही हूं ताकि तुम पूरी तरह से

तैयार रहो और सुनो तुम्हारे अंदर इतनी

शक्ति भरने जा रही हूं मैं ऐसे अनोखे

दर्शन तुम्हें देने जा रही हूं जिससे

तुम्हारे नजरों से पूरी दुनिया मेरे दर्शन

करेगी तुम्हें मेरे लिए बहुत बड़े-बड़े

काम करने हैं तो अब ये निश्चित है कि

तुम्हें कुछ लोगों को कुछ चीजों को अब हटा

हो मेरे लिए वक्त निकालना होगा तो यह जो

हट रहा है ना वो मेरे लिए हो रहा है मेरी

कारण हो रहा है क्योंकि तुमसे मैं बहुत

बहुत बड़ी सेवा लेने वाली हू मैं तुमसे

सिर्फ श्रृंगार करवाने तक ही नहीं बल्कि

तुम्हारे माध्यम से जब मेरे मंदिर का

निर्माण होगा और वहां मैं विराजित हो

जाऊंगी उसके पश्चात एक एक काम की

जिम्मेदारी भी तुम्हें देने वाली और वो

मंदिर यूंही नहीं

बनेगा तुम्हारे अनेक शुभ कर्मों से और

मेरे अत्यंत आशीर्वाद से बनेगा और वो

आशीर्वाद तु किस्मत में मिल सके इसलिए ही

तो अभी से मैं तुम्हें धीरे-धीरे तैयार

करती जा रही हूं और मुझे पता है कि तुम जो

भी मेरे लिए कर रहे हो वो तुम अपने दम पर

जिम्मेदारी उठाना चाह रहे हो किसी और के

ऊपर तुम कुछ नहीं करना चाह रहे क्योंकि

तुम्हारे परिवार के सभी सदस्य उस कार्य को

पूरी तरह निर्वाह कर पाएंगे या नहीं इस पर

तुम्हे शक है लेकिन मैं तुमसे एक बात कह

रही हूं कि मैं स्व इच्छा से प्रसन्न होकर

तुम्हारे से सेवा ले रही हूं तुम्हें

प्रेम दे रही हूं तो तुम्हें डरने की कोई

जरूरत

मुझे तो किसी खाना पीना किसी भोग की जरूरत

नहीं है लेकिन तुम्हारे भक्ति से लगे हुए

भोग की जरूरत है मुझे और बस वही लेने के

लिए मैं आ रही हूं तुम्हारे भक्ति से भरा

नमस्कार तुम दुनिया में कहीं पर बैठकर

करते हो ना किसी भी वक्त करते हो मैं बस

वो स्वीकार करती हूं और मुझे किसी चीज की

जरूरत नहीं तुमने जो भी एक दो दिन पहले

अपने स्वन में देखा है ना वो गलत नहीं है

वो सही ही है एक तरह से लेकिन वो पूरी तरह

से सही होने दूंगी क्योंकि मुझे पता है

तुम उसके कारण चिंता हो रही है चिंता जनक

कोई बात नहीं होगी आपसी सुला हो जाएगी

चिंता मत करो

खुश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *