काली माँ का संदेश || - Kabrau Mogal Dham

काली माँ का संदेश ||

तुम्हारा मनुष्य के योनि में जन्म इसलिए

हुआ है ताकि तुम अपने चरित्र निर्माण पर

बहुत ध्यान दे स ताकि तुम ज्ञान अर्जित कर

सको ताकि तुम दया की भावना को जागृत करते

हुए औरों की सहायता कर सको पशु पक्षी

इंसान हर किसी की सहायता कर सको और सबसे

बड़ी बात तो यह है कि अपने चेहरे पर

मुस्कान तुम आगे बढो इसलिए भी तुम्हारा

जन्म हुआ है कोई ऐसा मनुष्य नहीं है जिसके

जीवन में कष्ट नहीं आए होंगे ऐसा हो ही

नहीं

सकता क्योंकि मनुष्य का जीवन हुआ है तो

उसे सिखाने के लिए हुआ इस दौरान कई सारे

कष्ट कई सारे पड़ाव आते हैं लेकिन

सर्वश्रेष्ठ वही है जो उनसे घबराए बिना उन

सारे प्रश्नों की उत्तर को ढूंढते हुए

मेरी चरणों में अत्यंत विश्वास आगे बढ़ता

है और मैं चंडी का रूप धारण करके अपने

बच्चों की रक्षा करने उनका मार्ग दर्शन

करने आती हूं और हमेशा

आ बहुत दिनों से मैं यह देख पा रही हूं कि

तुमने शिवालय में जल नहीं अर्पित किया है

मुझे लगता है कि तुम्हें यह करना

चाहिए शिव जी की पूजा नियमित रूप से तुम्ह

करते रहने

चाहिए कुछ दुख की खबर तुमने सुनी है जिसने

तुम्हारे मन को थोड़ा सा विचलित तो किया

है लेकिन तुम डरो मत अगर तुम ध्यान देकर

देखोगे

ना तो कुछ लोगों ने अपनी बीमारी को अपनी

तकलीफों को खुद ही आमंत्रण दिया था अपनी

पुराने कर्मों

से मैं बस तुम्हें इन सारी चीजों से इतना

कहकर सावधान करना चाहती हूं कि आज भी और

भविष्य में कभी भी गंदी चीजों की ओर अपनी

दृष्टि मत डालना चाहे वो तुम्हारे चरित्र

से जुड़ी कोई गंदी चीज हो तो उधर ध्यान मत

देना या तुम्हारे खाने पीने से जुड़ी कोई

नशे की चीज हो उस पर भी ध्यान मत देना मैं

तुम्हारी बात कर रही

हूं सात्विक खाओ मन को सात्विक रखो प्रेम

से मां कहकर पुकारो मैं उतने में ही

प्रसन्न होकर आ जाती हूं तो कोई ऐसी वैसी

विधि विधान करने की जरूरत भी नहीं

है और जब मुझे तुमसे कुछ लेना होगा कुछ भी

लेना होगा ना तो यकीन मानो वो तुम्हारे मन

में खुद

बखुदा ऐसा खुलेगा ना कि वो काम हो

जाएगा लेकिन एक बात मुझे तुमसे कहना है कि

कुछ मैंने तुम्हे कहा था जो तुम भूल गए हो

अभी तक किए नहीं हो उस कार्य को पूर्ण करो

कम से कम पूर्ण नहीं भी कर पा रहे हो तो

उसे करने के विकल्पों पर ध्यान देना शुरू

करो अगली बार जब मेरे मंदिर आना तो नारियल

जरूर लेकर आना वो नारियल चढ़कर अपने घर ले

जाना प्रसाद स्वरूप सभी लोग मिलकर उसे

ग्रहण

करना तुम डरो या घबराओ बिल्कुल भी मत

तुम्हारे साथ जिन लोगों के रिश्ते को

तोड़ने के लिए गलतफहमिया पैदा की गई है वो

रिश्ते अब ठीक हो जाएंगे चिंता मत करो खुश

रहो

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *