कालिका माता का यह अचूक मंत्र है। गलती से भी एक बार सुन लिया धन की वर्षा होगी और शत्रु का नाश हो जाए - Kabrau Mogal Dham

कालिका माता का यह अचूक मंत्र है। गलती से भी एक बार सुन लिया धन की वर्षा होगी और शत्रु का नाश हो जाए

सो मच बट इसके पीछे एक बहुत बड़ा रीज़न ता

कि मां काली का श्रृंगार स्थापना क्यों

इतना टाइम लग रहा है करने में मां काली तो

मेरे घर पर तीसरे सोमवार पर शांति पर पर

कहने के एक अगस्त पर माता काली बटुक भैरव

बाबा बजरंगबली के साथ आप मेरे घर पदार्थ

चुकी थी मैंने इससे पहले अनपेकिंग वर्क्स

इन वीडियो में भी यह चीज क्लियर करी थी

मां काली मेरे घर पर कब आई थी बर्थडे बात

यहां पर यह कितना टाइम क्यों वेस्ट हुआ

मां कालिका

श्रृंगार स्थापना में या आपको आगे की

वीडियो में पता चलेगा हम यहां पर मां काली

की जो स्थापना कर रहे हैं वह चल स्थापना

कर रहे हैं ताकि हम फ्यूचर में हमारा घर

का भी चेंज हो या कभी बने कुछ यह तुम्हारा

हमसे इजीलि अपनी मां काली को अपने साथ

कहीं पर भी ले जा सकते हैं और जो अ चलता

अपना होती है वह बड़े मंदिर में की जाती

है जो कि मां एक ही जगह पर विराजमान हो

जाती है वह महाकुंभ से दैनिक एक अचल

स्थापना मां को वहां से कहीं नहीं लगा

सकते तुम चलते-फिरते अपनी मां को अपने साथ

ले जा सकते तो यहां पर हम चले स्थापना कर

रहे हैं आपको माता काली की स्थापना के लिए

कौन-कौन सी सामग्री लगे कि वह मैं आपको

बता देती हूं आपको ज्यादा ज्यादा से

ज्यादा चीजें तो वीडियो में आपको दिख भी

रही होगी लौंग इलायची आपको चाहिए कुमकुम

हल्दी आपको चाहिए अश्वगंधा चंदन आपको

चाहिए आपको मिठाई या कुछ भी ले सकते हैं

इससे माता काली को पेड़ का भोग बहुत ही

प्रिय रहता है आप ऐसे कोई भी लड्डू मिठाई

ले सकते हो काजू कतली रह सकते साबुत आपको

चावल चाहिए जयपुर चाहिए नारियल ही कलश

स्थापना के लिए मूली चाहिए आपको और कलावत

चाहिए मौलिक अलावा और कुमकुम चाहिए है

जनेऊ चाहिए सुपारी चाहिए आरती के लिए आपको

धूप चाहिए कपूर चाहिए लौंग इलायची अलग से

चाहिए और जो चीजें में नहीं आ दिखा पाई वह

कि आपको स्क्रीन पर दिख रहा होगा और तेल

की जरूरत चाहिए आपको माता काली के लिए अगर

आपके पास तेल नहीं है तो आप तिल के तेल की

जगह सकते हो वह भी नहीं है तब भी कि

नॉर्मल ज्योत जगा सकते वैसे सरसों के तेल

की माता काली की जो सकती है जनेऊ आपको

चाहिए सुपारी चाहिए कलावा चाहिए आपको और

माता माता की तरह माता काली की स्थापना के

लिए आपको िकन है तू जरूर चाहिए था कि अब

हलवा-पूरी और चने का भोग लगाओ तो कन्या

पूजन जरूर करें घर पर और माता कालिका सोलह

श्रृंगार जब मां काली की स्थापना हो तो

कन्या पूजन के साथ सोलह श्रृंगार भी आप

माता काली के सामने जरूर रखेंगे तो जरूर

चढ़ाएं सर्वप्रथम आपको गणपति बप्पा की

पूजा करनी है और मां काली की फोटो याद

मूर्ति आपके पास तो बहुत अच्छा है और

बजरंगबली भी आपकी घृणा पर फोटो या मूर्ति

वह भी थी अपने और नहीं तो अगर आपके पास

बटुक भैरव बाबा जी नहीं है या गैर वाजिब

घर पर नहीं है तो आप सुपारी रूप में भी

पूछ सकते हैं जहां पर जिनकी पूजा होती है

चलिए मैं बताती इतना टाइम क्यों लगाता मां

काली स्थापना होने के लिए एक महीने से ऊपर

ज्यादा क्योंकि मां काली के लिए सड़क

बनवाने थी मुझे और मैंने यह सड़क के लिए

मैंने बहुत जगह तय किया काफी जगह

घुड़दौड़ी अधिकारी बट कोई भी खड़क नहीं

बना पा रहा था मां काली की क्योंकि आप सब

जानते हो एक खड़क स्पेशल कोलकाता में ही

बनती है मेरा भी कलकत्ता जाना कि बुलावा

माता कालिका आधी रात और ऑनलाइन भी मैंने

काफी जगह पता कि मुझे नहीं मिल रहेगी जब

जाकर फिर मैं दें सोचा फिर वे की ऑप्शन है

सुनार से बनवाने का यानि कि ज्वैलर से

बनवा दूंगा तब जाकर मां काली की सड़क बनी

यह चांदी की खड़ा के ग्राम्स की बनी

है मैंने तो लाइट वेट भी बनवाना सिर्फ

क्योंकि वेट बहुत ज्यादा हो गया था फिर वे

इतना ज्यादा जब मां का है लेकिन सड़क में

होंगे तो उससे भी मुझे प्रॉब्लम थे

क्योंकि माता काली के व हाथ में रहती उससे

पेपर बेटा था इस वजह से इतना टाइम लग गया

माता काली की सड़क बनने में कम से कम एक

महीना लग गया फिर उसको ठीक करवाने में

रिपेयर करवाने में लाइट वेट करने में

उसमें टाइम लग गया तो जो मां की इच्छा

माने जब स्थापना करवानी थी जो होता है

उनकी मर्जी से होता है बट सब्र का फल मीठा

होता है आप सब देख रहे होंगे खड़क इतनी

सुंदर बंद किया है कि जैसे सड़क बन गई

उसके अगले दिन ही माता काली ने को रैडी

होना था फटाफट विक्टिम मां काली भी फटाफट

श्रृंगार के लिए तैयार होने के लिए बहुत

ज्यादा माता रे माता रानी भी रेडी होना

चाहती थी और मैं भी बहुत आप सबसे ज्यादा

महत्व जार करी थी कि कब खड़क वन खैर मैं

कब मां काली अउ सजाऊं और कब उनकी स्थापना

हो मेरी घर पर क्योंकि मैं तो उनको पल-पल

देखती थी और मेरे को बड़ा वह अपना था कि

जल्दी से जल्दी से ऐड मैं माता काली को

सजाऊं का श्रृंगार को रिश्ता आप ना करूं

अब देखिए माता काली की आप जब ताप ना करें

तो सबसे पहले गणेश जी की ही पूजा करनी है

आपने जो जगह कर दो पंचामृत स्नान को

लाएंगे गणेश जी को दूर्वा चढ़ा आएंगे

गुड़हल का फूल चढ़ाएंगे पीले फूल भी चढ़ा

सकते हो पान सुपारी

पंचोपचार आप करेंगे इत्र जरूर चढ़ाएंगे

अलग शिकायत दीपक जलाना चाहिए तो बहुत

अच्छा ना भी जला तो कोई बात नही उनके लिए

मोदक लड्डू और पान का भोग लगाएंगे उनके

लिए पानी जरूर रखिए अलग से जल रखें सबसे

पहले जो जगाकर मां काली की गणेश जी की जोत

जलाकर फिर आपका या गणेश जी की पूजा करने

के बाद फिर आप मकाले कि तापना करेंगे हम

लोग

कि माता काली की स्थापना के लिए उनके लिए

एक लाल कपड़ा आपको चाहिए कॉटन का सॉफ्ट

कोई भी कपड़ा आप ले सकते हो उसको पूरे

अच्छे से कवर कर लें

को कवर करने के बाद मैं एक छोटा सा कपड़ा

आप ले सकते हैं उनकी आंखों के पट्टी रखने

के लिए जब तक माता कालिका स्नान होगा मन

ही मन में माता काली का सवाल करना है गणेश

जी को बुलाना है बजरंगबली को बुलाना है

आपको बटुक भैरव बाबा जी को बुलाना इनके

सबके साथ मां काली घर पधारे विराजमान हूं

जैसी भी मैं पूजा करने जा रही कोई भी भूल

चूक माफ करना महारानी कृपा करके मेरे घर

पधारें और यह पूजा स्वीकार करें मेरे घर

आए मां को पर जीवन में ऐसा भाव रखना

छल-कपट किसी के लिए बुरा ही चुगली चपाटी

यह सब छोड़कर और अच्छे-अच्छे भाग रखकर भजन

चलाने म्यूजिक आजकल YouTube कितने

अच्छे-अच्छे भजन है माता काली के दुर्गे

कि कोई भी मंत्र चला ले और आप चला कि माता

कालिका काली सहस्त्र नाम का भी पाठ कर

सकते दुर्गा सप्तशती का पाठ भी ऐड कर सकते

हैं घर पर कीर्तन कर सकते हैं चौकी करवा

सकते हैं भंडारा कर सकते हैं खुशी से माता

काली की जो आपकी सर्वर और जब तक आपने

पट्टी नहीं हटेंगे जब तक माता काली का

स्नान वृद्ध किसान मंत्री जब मन ई मन में

आप ॐ क्रीं कालीकाए नम ॐ क्रीं कालीकाए नम

इस मंत्र का आपने जप करना है क्या ओम

ह्रिम क्लिम चामुंडायै विच्चे ॐ ह्रीम

क्लीम चामुंडायै विच्चे आगे भी माता काली

का मंदिर बोल सकते हैं वादा गार्लिक

पञ्चमृत से स्नान करवाने के बाद अब हम

बजरंगबली की स्थापना करेंगे

बजरंगबली की स्थापना के बाद हम फिर बटुक

भैरव बाबा जी की स्थापना करेंगे उनको भी

हम जनेऊ चढ़ाएंगे वस्त्र का भाव करेंगे

कलावड़ आएंगे और सिंदूर चढ़ाएंगे दोनों ही

बाबा पर सिंदूर चढ़ता है

लौंग इलायची चढ़ाएंगे बाबा पर अलग से साइड

में आप चाहते पूजा के बाद अपने लॉकर जहां

पर आप के अधीन का स्थान वहां पर भी लौंग

इलायची रख सकते हो इत्र लगाना ना भूले

बाबुओं को गुलाब का इत्र और चमेली का इत्र

बहुत सारी यात्राएं और जो लोग वृंदावन

जाते वहां से एक ही बार महेंद्र लिया है

क्योंकि वह किधर सबसे अच्छे लगते मुझे

पर्सनल यह मेरा डिवाइस है पापा कि आपकी

मर्जी क्योंकि वृंदा बहुत अच्छे-अच्छे

चित्र मिलते हैं तो आप एक ही बार लिए काफी

टाइम चलते दो तीन बोतल पिएंगे तो इन दो

महिला आराम से निकल जाते हैं आप लड्डुओं

का भोग लगाएं गया आप गणेश जी को भोग लगाने

के बाद

बजरंगबली को पांडे का भोग लगाया लड्डू का

भोग लगाएं दोनों बाबुओं को इनसे भी हाथ

जोड़कर यही प्रार्थना करें कि हे बाबा हे

बजरंगबली है बटुक भैरव जी मां काली के साथ

आप भी घर पर विराजमान हों और यह मेरी पूजा

स्वीकार करें मां काली की स्थापना होने

में कृपा करके मेरी मदद करें मां को बुला

है ऐसा इनसे आप आशीर्वाद में प्रार्थना

करें अब हम कलश की स्थापना यहां पर ज्ञान

कलश की स्थापना आलरेडी मेरे YouTube चैनल

वैष्णवी किशोरी कृपा चैनल पर डली हुई है

आप वह जाकर आप देख सकते हो अगर आपको आम के

पत्ते ना मिले कलश की स्थापना के वक्त तो

आप पान के पत्ते भी यूज करते कर सकते हो

और अशोक के पत्ते भी आप यूज कर सकते हो

पैलेस की स्थापना हो गई है अब चलिए माता

कालिका हम करते भव्य युद्ध बहुत ही सुंदर

अयंगार माता कालिका करते हैं और यह है कि

सेम जैसे मैंने दुर्गा मां की ड्रेस

सिलवाई भी वैसे ही मैं कपड़ा लेकर स्ट्रेच

लेकर माता काली की भी मैंने इस ड्रेस

सिलवाई यह ड्रेस मेरी दीदी में इसीलिए

क्योंकि जब मैं दिल्ली गई हुई थी वहां से

मैंने ब्रासिल वाली थी पहले ही कि खड़ा

खूब बनाने में बहुत टाइम लग रहा था तो जब

तक मेरी और भी ऐसा नहीं है कि मेरी तैयारी

नहीं चलती थी स्थापना के लिए मेरी फुल

पूरी तैयारी थी पर वैट सिर्फ खड़क का हो

रहा था सो फाइनली जैसी घटना के अगले दिन

ही माता काली न श्रृंगार ले लिया और

शेयरिंग गोल्डन कोंबिनेशन में माता काली

का यह तरह से और गोटा पट्टी एस यूजुअल जॉब

जयपुरी वर्ग मुझे बहुत पसंद है तो मुझे

पसंद है तो माता काली को भी पसंद आई जाता

है कि माता काली को यह CR ट्रेडिशनल चीजें

मुझे उस पर बहुत अच्छी लगती है और इस बार

में पूरा गोल्ड श्रृंगार माता काली का

करने वाली पूरा फूल ऑन कोई स्टोन वर्क

नहीं कोई जर्मनी पूरा फोल्डर श्रृंगार

माता कालिका यह वीडियो के एंड तक बने रहना

थे तभी आपको अच्छा लगेगा कुछ चीजें पता भी

चलेंगी और जो नॉलेजेबल चीजें होती हैं

चौकस बनाने के बाद आपने फिर छोटा बड़ा जो

भी सेट में भर विडियो में बता दूं

श्रृंगार में बताने की कोई जरूरत ही नहीं

आपने देखिए बिहार बहुत प्यारी बिटिया

वीडियोस को

है इसके बाद आप माता काली को आप घुंघराले

बाल जरूर लगाएं वैसे तो घुंघराले बाल इतने

अच्छे लगते हैं और पिछली मकर थोड़ा बंगाली

बंगाली लुक करता है तो घुंघराले बाल मां

काली के मुझे घर आने वाली अच्छे लगते हैं

आप चाहो तो स्टेट लोग कि दे सकते हो चोटी

भी बना सकते हो जैसा आपके भव जैसा आपका मन

करे वह करें दुनिया क्या बोलेगी उसने क्या

बोला हमारे यहां पर यह उतर पुस्तक उन सब

चक्करों में मत पड़ो किसने क्या बोला वह

उनकी देखो आपको अपना करना है आप अपने मां

काली को सामने बैठे हो आप उनसे बातचीत

करिए जो आपके मन में आया वह कर डालिए बस

तो जो करवाने वाली हूं महारानी करेगी वह

तीसरे का दूसरे का सोचने का जरूरत ही नहीं

है यह देखिए बात जो बेसब्री से इसका

इंतजार तमाम खड़क खड़गदा अमृतसर का कहते

हैं सब्र का फ़ल इतना मीठा होता है आज सच

में मुझे इस अपील व कि मैसेज अच्छा हुआ कि

मैंने इधर उधर से ऑनलाइन से कहीं से मिल

भी नहीं इधर एक जगह मिल भी मीणा हुआ है ए

बर्ड मुझे बिलकुल पसंद नहीं आ रही थी मुझे

उसका साइज भी नहीं अच्छा लग रहा था तो

मैंने सोचा कोई अधिक श्रृंगार वेस्ट हो

रहा कोई बातें होने दो भट्ट मुझे अच्छी सी

बंधवानी है कि देगी चांदी की पायल माता

काली को मैंने पहना दी छोटे-छोटे इस बार

मैंने चांदी के बीच में भी बनवाई कि माता

काली के पैरों का स्पेस बहुत अच्छा मिला

है मुझे अ सजाने के लिए उसको पैर को पैरों

की भजनियां विच वे दोनों पैरों पर बहुत

सुंदर लग रही है माता काली के पैरों की

दर्शन करिए चरण कमल के अगर भोले बाबा भी

है उनके दिव्य दर्शन करिए पूरा श्रृंगार

होने के बाद आप उनको इत्र जरूर चढ़ाएं

दिल्ली की सेवा में अगर आप मां दुर्गे

काली या किसी की भी सेवा करते हैं

कृष्ण-राधे कि दिल्ली की सेवा में आप अपना

इत्र को भी ऐड कर लें इत्र जरूर लगाएं अब

माता काली का श्रृंगार के बाद शाम जरूर

दिखाना होता है शेषा क्योंकि हम तो देख

लेते मां काली भी तो देखें अपने आपको मैं

कैसी लग रही हूं माता काली की हाथ देखिए

कितनी सुंदर लग रहे हो मेहंदी कि मैं भी

कि जैसे उन्हें रेट फिक्स करवाया था पेंट

बहुत सुंदर बहुत ज्यादा ही सुंदर माता

काली का जिम्मेदार हुआ है मेरे को तो यकीन

नहीं हो रहा था कि भी श्रृंगार जब मैं

जैसे-जैसे कर रही थी मुझे ऐसा लग रहा था

कि साक्षत मेरे सामने महाकाली खड़ी है और

एक पल को ऐसा है ताकि माता काली की आंखें

जो है ना ऊपर-नीचे हो रही थी मेरा कैसा

फील हो रहा था पता नहीं मैंने यह कैसे बोल

भी दिया चकमा की जो इच्छा आधी

तो मेरे को तो ऐसा लगता माता बहुत प्यारा

रूप माता का सॉन्ग में रूप में माता क्लिक

करें माता की लाल टिब्बा एकदम मंदिर मत

माता काली मुस्कुरा रही है माता की

बाजूबंद कमर तगड़ी ज्वेलरी चूड़ियां कलीरे

एवरीथिंग बहुत सुंदर श्रृंगार मां काली ने

मुझसे लिया और मां का ख्याल से बैंक बोलते

की मां आपने मुझे यह सेवा का मौका दिया

बहुत-बहुत धन्यवाद माता काली क्योंकि

मैंने कोई तो इस चीज के ना तो कोई

ट्रेनिंग ली है ना कुछ ऐसा देखा है बुद्धि

बुद्धि माता मन में आया कि वह सतगुरु ऐसा

गुरु यह करो वह करो वह मान नहीं वह कहते

हैं जब मैं अपने आप जिससे जो चीज लेनी

होती उसे मिली थी कुछ पता नहीं चलता है तो

शायद मां ने मुझे इस चीज के लिए चुना था

तो मुझे ऐसा फील होता है तो इसमें और अलग

से फिर मैंने माता काली की थी घुंघराले

बाल भी लगाते हैं करली हेयर माता के और यह

जो डिजाइन तो मैंने यह तुलजा भवानी है

मुंबई में उनकी भी साड़ी महालक्ष्मी टेंपल

मुंबई में उनकी भी साड़ी का जो फल होता है

वह थोड़ा सा ब्रांड से घुमाते थे तो मुझे

ऐसा लगा कि मां काली का भी घूमती थी वहां

से थोड़ा राउंड में करके नीचे से साड़ी

साड़ी लहंगा स्टाइल बनी गया था यह पूछेगा

भी लग रहा था कुछ ही साड़ी भी लग रही थी

तो मुझे तो कुछ समझ नहीं आ रहा था क्योंकि

संघार करते-करते इतना टाइम हो चुका था

क्योंकि मेरे जब टाइम देखा तो सच में बहुत

टाइम हो चुका था ढाई से तीन घंटे लग गए थे

माता काली का शिकार होते-होते तो की

वीडियो में तो आपको पर नेट की वीडियो

लगती है लेकिन श्रृंगार करते वक्त बहुत

टाइम लगता है और

जब जाकर ऐसा प्यारा मनमोहक रूप माता

कालिका आता है पीछे कि डेकोरेशन बहुत

प्यारी हुई है अ थोड़े से मेरे पत्ते

लिस्ट लगा दिया अलग से सुंदर सुंदर से

पत्ते स्टाइल में तो कि बोलिए

दक्षिणेश्वरी काली मैया की जय

बहुत-बहुत अध्भुत माता का लेने से गालियां

आपको यह वीडियो कैसी लगी मुझे कमेंट बॉक्स

में जरूर बताना और माता काली का श्रृंगार

आपको कैसा लगा इस कमेंट बॉक्स में इस

वीडियो के कमेंट बॉक्स में अप जय मां

भद्रकाली जय मां काली सबके जिन जो यह

वीडियो देख का यह वह कमेंट बॉक्स में जरूर

लिखिएगा

यह मैं आप सबको बोल रहे हैं इस चीज के लिए

रिक्वेस्ट कर रहे हो है और ज्यादा से

ज्यादा वीडियो को शेयर करें सब्सक्राइब

करें और ऐसे ही जैसे आप पेशंस दिखाते हो

प्यार दिखा दूं वीडियोस को देखकर उनकी

प्यारी-प्यारी कमेंट करके ऐसे अपना प्यार

आप करते रहे इस विवाद मां काली का

श्रृंगार जब आप पूरा कंपलीट कर लें इस

सिंगार कंप्लीट होने के बाद माता कालिका

आप मां कार्य को सिंदूर चढ़ाएं कि चावल

चढ़ाएंगे वस्त्र का अभाव की वारदात अलावा

चढ़ाएंगे माता काली को फिर तो आपने माता

काली के लिए भूख में जो चीजें रखी भी जैसे

कि आप मिठाई लेकर आए होंगे लड्डू लेकर आए

होंगे जो भी चीज या अपने घर पर बनाए योगी

माता काली के भूख में स्थापना के वह मैं

आपको हलवा-पूरी और चने और आलू की सब्जी

बनाना चाहो तो बनाएं बना लीजिए नहीं भी

बनाना चाहें तो कोई बात नहीं बाकी मां का

हलवा पूरी चने का फोटो जरूरी बनाना

स्थापना में और नवकन्या दो लांगुरिया एक

बलवीर यह जरूर जी माई भैरव बाबा नहीं तो

दोनों कंधों को चूमा सकती हो कि एक

कन्याओं को तो जरूर आजमाएं स्थापना के

वक्त माता काली के लिए फूलों का हार मैं

लेकर आई थी बहुत सुंदर और अलग से स्पेशल

बनवाकर वह भी माता काली को पहना दिया मां

का सोलह श्रृंगार जो हमने लिया था माता

काली के लिए सोलह सिंगार मां कुछ बोलेंगे

कि मां महाकाली कृपा करके सोलह सिंगार की

छोटी सी भेंट स्वीकार करो महारानी पंचमेवा

कब लगा सकते हो पांच फल जो भी आप लेकर आए

थे जो भी बन पड़ेगा आपको जो भी हुआ

महाकाली के सामने रख दें हलवा-पूरी चने का

मां को विनती करी कि माता रानी भोग लगाएं

ए स्प्लैश के लिए अलग से थोड़ी-थोड़ी

डेकोरेशन ऑफ साइड में भी कर सकते हो जैसा

भी आपको डेकोरेशन करना उसमें कोई आईएस में

कोई रोक-टोक नहीं है जितना करोगे उतना ही

माता प्रसन्न होंगी अच्छा होगा कि कोई भी

चीज उस करो तो प्लीज दिल से करो अगर ना

नहीं तो फिर मत करो मेरा मानना यह मैं

मेरी पूजा तो ऐसे ही होती कि जितना टाइम

लगने तो मैं अच्छी हूं पूजा तो आप भी मां

को पूरा पूरा टाइम दे अच्छे से करें भाग

दौड़ वाला ना करें कि बस गई आरती की थाली

या घुमाई आरती की थाली और बस लोम आखिरी

ओवर है और सेकंड में मां को हलवा पूरी

बस खर्च करते समय में बांट दिया यह लोग वह

प्रशांत अट लीस्ट कम से कम मिनट तक

मां के सामने रखें और थोड़ी देर के लिए

भूमि मां काली को लगा है वहां से हट जाए

या तो परदे में भोग लगाएं माता काली को यह

सबसे ज्यादा अच्छा होता है वह लगाने के

बाद तुरंत वहां से ऐसा नहीं कि वह लगाते

हुए जाएं तो मां को भोग लगाने के बाद वादा

काली किया क्लिक करें सुंदर तरीके से माता

काली की आरती करें पहले गणेश जी की आरती

होगी फिर जय अंबे जय गौरी के भी कर सकते

हो या फिर अंबे तू है जगदंबे काली या जय

जय काली जय जय महाकाली इसके भी आदमी आरती

कर सकते हो बजरंगबली बटुक भैरव जी के साथ

के साथ आरती करेंगे

माता काली की

पर यह देखिए मैंने लाइट बंद कर दी थी बाद

में माता काली का इतना अ दुग्ध बहुत ही

सुंदर रूप माता काली का लग रहा था बिना

हाइट कितनी मात्रा जगमग आ रही दी नैचुरल

ना तो कोई लिंग लाइट यूज हुई है ना तो कुछ

हुआ है सिर्फ और सिर्फ ज्योति का प्रकाश

माता काली की मुख पर पड़ रहा है

है तो गाइस आपको यह वीडियो कैसी लगी चैनल

को प्लीज प्लीज चैनल को सबस्क्राइब कर

देना शेयर कर देना बैल आइकन द्वारा नाम

बोलना ऐसे ही मैं प्यारी-प्यारी वीडियोस

आपके साथ आने वाले टाइम पर शेयर करती

रहूंगी और नेक्स्ट वीडियो आपको मिलेगी वह

आपको बटुक भैरव बाबा और बजरंग बली बाबा के

श्रृंगार की और उनकी स्थापना कैसे मैंने

कि वह भी आपको पता चलेगा तो माता कालिका

आप सबको बेसब्री से इंतजार था और मुझे भी

बहुत बेसब्री से इंतजार था आपको मां काली

की खड़क कैसी लगी वह भी मुझे जरूर बताना

यह बड़ी मुश्किल से बनी है और मैंने सोचा

भी न था यह बिल्कुल वैसी बन जाएगी जो मुझे

चाहिए थी इसी वजह से बस माता काली का अंत

कितना वेट हुआ वरना माता कालिका का

श्रृंगार बहुत पहले ही हो चुका था माता

काली का यह श्रृंगार आठ तारीख को हुआ है

हाईट

सप्टेंबर को एट नंबर को वह मां काली आई

मेरे घर पर आधारित थी जब एक अगस्त को

बधार्इ दी एक अगस्त के बाद अब आ श्रवण को

माता काली की

की स्थापना हुई है क्योंकि मेरा ऐसा ताकि

शांत से पहले माता काली की एक बार स्थापना

हो जाए और बस माता काली इन्हें वह बात

मेरी सुन ली बोलिए जय मां काली को

[संगीत]

हुआ है

[संगीत]

MP कर दो

[संगीत]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *