औरतों के ऐसे सोने से घर में आती है गरीबी लक्ष्मी रूठकर चली जाती है | Vastu tips - Kabrau Mogal Dham

औरतों के ऐसे सोने से घर में आती है गरीबी लक्ष्मी रूठकर चली जाती है | Vastu tips

पिलाओ कैसे सोने से रूठ जाती है मां लक्ष्मी धन का नाश होता है आती है दरिद्रता किसी भी स्त्री को ऐसे कभी नहीं सोना चाहिए नमस्कार आपका स्वागत है दोस्तों हमारे प्राचीन ऋषि मुनि अत्यंत ज्ञानी और विद्वान थे संसार

के कल्याण हेतु उन्होंने ब्रह्मचर्य व्रत का पालन करते हुए जब तक आदि प्रकार के महान कार्य किए हैं उन्होंने अपनी योग विद्या ज्ञान तथा अनुभव के आधार पर प्राचीन शस्त्र और पुराणों का निर्माण किया है तथा देवताओं

द्वारा प्राप्त ज्ञान को भी उन्होंने शास्त्रों के माध्यम से मनुष्यों तक पहुंचाने का उत्तम कार्य किया है हमारे धर्म शास्त्रों में स्त्री और पुरुष दोनों के लिए ही महत्वपूर्ण नियमों का वर्णन किया गया है सुबह जागने से लेकर रात्रि

को सोने तक किए जाने वाले सभी नित्य कर्मों से जुड़े महत्वपूर्ण नियमों के बारे में हमारे शास्त्रों में बताया गया है एक मनुष्य को उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति के लिए अपने शरीर को कैसे शुद्ध रखना हैऔर इस शरीर को पवित्र

करने के लिए नित्य कौन से कार्य करने चाहिए इसका वर्णन भी हमारे विद्वान ऋषियों ने किया है श्री कृष्ण कहते हैं मनुष्य को अपने शरीर से अत्यधिक मोह नहीं करना चाहिए किंतु उसे परमात्मा से प्राप्त इस शरीर का नाश

भी नहीं करना चाहिए कई बार मनुष्य नाना प्रकार के अनिष्ट कार्य करके अपने पवित्र शरीर को मलिन करते हैं इस दूषित करते हैं तथा पाप युक्त बना देते हैं जिस कारण से शरीर में रोग उत्पन्न होते हैं मनुष्य की आयु कम

होने लगती है और उसे अकाल मृत्यु प्राप्त होती है आज हम बात करने वाले हैं मनुष्य को अपने शरीर को पवित्र कैसे रखना है और रात्रि को सोते समय कौन से नियमों का पालन करना चाहिए खासकर महिलाओं को इस एक

महत्वपूर्ण नियम का पालन अवश्य करना चाहिए अन्यथा जीवन में दुर्भाग्य आता है सबसे पहली बात है कि मनुष्य को नित्य स्नान करना चाहिए बिना स्नान किया कभी नहीं रहना चाहिए स्नान से ही शरीर की शुद्धि होती

हैस्नान करने के पश्चात ही मनुष्य देव पूजा आदि धार्मिक कार्य करने के योग्य बन जाता है बिना स्नान किया कभी भोजन तथा पूजा पाठ नहीं करना चाहिए बिना स्नान किया भोजन करने वाले मनुष्य के घर में लक्ष्मी का वास नहीं

होता है दोस्तों हमारे सभी धर्म शास्त्रों में बालों के विषय में महत्वपूर्ण ज्ञान दिया गया है मनुष्य को अपने बालों को कैसे रखना चाहिए किस दिन कटवाना चाहिए तथा किस दिन नहीं कटवाना चाहिए बालों को कितना लंबा रखना श्रेष्ठ होता है और बालों से संबंधित क्या तांत्रिक कारण होते हैं इसके बारे में शास्त्रों में बताया गया है दोस्तों हिंदू

धर्म में सप्ताह का प्रत्येक दिन किसी न किसी देवता को समर्पित होता है और सप्ताह के प्रत्येक दिन के कुछ नियम भी आवश्यक होते हैं इसी तरह बाल कटवाने से संबंधित भी कुछ नियम होते हैं जो हर दिन के हिसाब से अलग-अलग बताए गए हैं शास्त्रों के अनुसार मनुष्य को अपने बाल मंगलवार गुरुवार और शनिवार के दिन कभी

नहीं कटवाने चाहिएदोस्तों शास्त्रों के अनुसार वातावरण में कुछ ऐसी लहरें अर्थात सूक्ष्म ऊर्जा होती है जो हमें आंखों से दिखाई नहीं देती है यह सूक्ष्म ऊर्जा हमारे सभी क्रियाकलापों पर प्रभाव डालती है लेकिन कुछ विशेष तिथियां पर यह लहरें बहुत अधिक सक्रिय अथवा तेज हो जाती है इसीलिए इन तिथियां पर बाल नहीं कटवाने

चाहिए अमावस्या पूर्णिमा के दिन बाल कटवाना बहुत ही अशुभ माना गया है इस दिन जो अपने बाल काटता है उसके जीवन में नकारात्मकता और दुर्भाग्य आता है साथ ही मध्य रात्रि में भी अपने बाल नहीं कटवाने चाहिए इस

समय पर वातावरण में तामसिक और नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह अधिक होता है जिसका सीधा असर हमारे

मस्तिष्क पर पड़ता है इसीलिए रात्रि में बाल न काटने की सलाह दी जाती है लिए अब जानते हैं महिलाओं के लिए बालों से संबंधित कौन से महत्वपूर्ण नियम बताए गए हैं शास्त्रों के अनुसार काले घने और लंबे बाल स्त्री का आभूषण होते हैं बालों से हीस्त्रियों में पवित्रता और सकारात्मक आती है प्राचीन काल से ही स्त्रियों के लंबे बालों

को उनके सौंदर्य का प्रतीक माना जाता है लेकिन लंबे बालों से जुड़ी महत्वपूर्ण बात आप सभी को ध्यान में रखनी चाहिए शास्त्र कहते हैं कि स्त्रियों के बाल कमर के नीचे तक नहीं होने चाहिए और यदि हो तो उन्हें इस तरह से बांधकर रखना चाहिए कि वह जमीन को स्पर्श न करें स्त्रियों के बाल बहुत ही संवेदनशील होते हैं बाल जमीन पर टकराने से जमीन पर फैली नकारात्मक ऊर्जा बालों के माध्यम से मस्तिष्क में प्रवेश करती है इसके नकारात्मक

परिणाम भोगने पड़ते हैं साथ ही शास्त्रों में कहा गया है कि स्त्रियों को अपने बाल कभी गंदे नहीं रखना चाहिए इससे मां लक्ष्मी रूठ जाती है साथ ही स्त्रियों को अपनी मांग में सिंदूर अवश्य लगाना चाहिए इससे स्त्रियों को सौभाग्य की प्राप्ति होती है स्त्रियों को अपने बालों को हमेशा स्वच्छ रखना चाहिए इसके पीछे

धार्मिक कारण यह है कि बाल स्वच्छ रहने पर सिर में खुजली नहीं होती है इसे स्त्रियों को सौभाग्य की प्राप्ति होती है स्त्रियों को अपने बालों को हमेशा स्वच्छ रखना चाहिए इसके पीछे धार्मिक कारण यह है कि बाल स्वच्छ रहने पर सिर में खुजली नहीं होती है और सर में हमेशा खुजली करते रहना शास्त्रों में अशुभ फलदाई माना जाता

है गरुड़ पुराण में कहा गया है जो स्त्री अपने बालों को खुजलाते हुए पूजा पाठ करती है उसकी पूजा सफल हो जाती है स्त्रियों को दोनों हाथों से जोर-जोर से अपने बाल खुजलाते हुए गुरुजनों तथा बड़े बुजुर्गों से बातें नहीं करनी चाहिए बालों को सुलझाते समय जो बालों का गुच्छा निकलता है उसे अच्छे से फेक उसे यहां वहां फेंकने पर उसका दुरुपयोग हो सकता है क्योंकि तंत्र-मंत्र साधना और जादू टोने में हमेशा लंबे बालों का उपयोग किया जाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *