ऐसी रहस्यमयी जीत होगी जो किसी ने देखी ना होगी दिव्य संदेश भूलकर भी इग्नोर ना करे - Kabrau Mogal Dham

ऐसी रहस्यमयी जीत होगी जो किसी ने देखी ना होगी दिव्य संदेश भूलकर भी इग्नोर ना करे

मेरे प्रिय बच्चे आज का यह संदेश तुम्हें

बहुत खास कारणों से मिला

है केवल पवित्र आत्माओं के लिए भेजा गया

यह संदेश तुम्हें मिलना इस बात की

प्रमाणिकता है कि वास्तव में तुम एक दिव्य

आत्मा

हो और जो दिव्य आत्मा होता है उसके ऊपर

दिव्य शक्तियों का प्रभाव पड़ ही जाता है

फिर चाहे

परिस्थल और यही कारण है कि तुम भी उस

ऊर्जा प्रवाह क्षेत्र में आ चुके

हो मेरे प्रिय अब समय हो चला है एक बहुत

बड़ी सकारात्मक और दिव्य जीत के इस संसार

में आने

का वह जो तुम्हारी कल्पनाओं से परे हुआ

काफी समय से रुका हुआ है अब उसके

वास्तविकता में परिणत होने का समय आ गया

है और इस वजह से तुम तक यह दिव्य संदेश

पहुंचाना नियति की चाहत

है मेरे प्रिय मैं जानती हूं कि इन में

तुम पर क्या गुजर रही है अभी तुम बहुत तरह

की दुविधा में फसे हुए

हो कोई सही फैसला लेने से तुम निरंतर बच

रहे हो कारण यह नहीं कि तुम उससे बचना

चाहते

हो किंतु नियति ऐसी परिस्थितियां उत्पन्न

कर रही है जिसकी वजह से तुम वास्तव में

उचित फैसले नहीं ले पा रहे

हो तुम्हारे पारिवारिक माहौल का तुम्हारे

बचपन का इस रस्ता से बहुत बड़ा संबंध है

तुम सदैव अपने आप को इससे बचाने का प्रयास

किया है लेकिन तुम इसमें कामयाब ना हो

सके क्योंकि तुम्हारे आसपास इतनी काली

शक्तियों का गिराव रहा है कि तुम चाकर भी

इससे बच नहीं सकते

थे लेकिन तुम्हारे प्रयास में और तुम्हारे

निरंतरता में कभी भी प्रश्न चिन्ह खड़ा

नहीं हो

सकता क्योंकि तुमने सदैव बेहतर राह चुनने

का ही विकल्प चुना

है लेकिन नियति जिस व्यक्ति को जिस मनुष्य

को सर्वश्रेष्ठ देना चाहती है उसे बेहद

तोड़ती

है उसकी बहुत परीक्षाएं ली जाती है तुमने

अपने जीवन में बहुत सी परीक्षाएं दी है

बहुत से ऐसे खतरों से गुजरे

हो इसका तुम्हें आभाष भी नहीं रहा है तुम

जो कि सदैव हसमुख और सकारात्मक रहना चाहते

हो ऐसा चाहकर भी संभव नहीं बना पाते

तुम्हारा मिजाज वास्तव में खुश मिजाज जी

का ही

है लेकिन तुम सदैव मजबूर रहे सदैव

परिस्थितियों से घिरे रहे तुम्हें बाहर

निकलने का अवसर ही ना

मिला लेकिन अब चीजें बदल रही है वास्तव

में अब चीजें बदलेगी

भी इसका बदलना बहुत आवश्यक है ना केवल

तुम्हारे

लिए बल्कि ब्रह्मांड की संरचना को सुचार

रूप से क्रियान्वित करने और सही दिशा

दिखाने के लिए भी यह अत्यंत आवश्यक है

कि तुम्हारे जीवन में प्रचुरता साधि और

प्रेम भर जाए क्योंकि जब तक तुम्हारा मन

स्वस्थ नहीं

होगा तुमसे तुम्हारे उद्देश्य की पूर्ति

नहीं कराई जा सकती और अब तुम्हारे

उद्देश्य को पूर्ण कराने का समय आ चला

है तुम्हारे जीवन का लक्ष्य अब तुम्हें

सौंपा जाने वाला है तुम पर अब दिव्य

शक्तियों का वास होने वाला

है मेरे प्रिय बच्चे तुम्हारे भीतर एक

दिव्य ऊर्जा का समागम हो रहा

है अपनी आंखें बंद करके तुम मेरी उपस्थिति

को महसूस

करो अपने घर की हर दिशा में हर कोने में

चाहे तुम अकेले हो चाहे भीड़ में

हो तुम जहां भी हो मेरी उपस्थिति को महसूस

करो अपने भीतर उतर रही दिव्य ऊर्जा तरंगों

को महसूस

करो क्योंकि ऐसा करने पर तुम्हारे भाग के

बंद दरवाजे खुल

जाएंगे और तुम्हारे जीवन में इतने बड़े

जीत का आगमन होगा कि तुम सोच भी नहीं

सकते मैं तुम्हारे जीवन को बेहद ही

शक्तिशाली तरह से नई दिशाएं दे रही हूं और

तुम अब इसके साक्षी

बनोगे आशीर्वाद की एक बड़ी श्रृंखला

तुम्हारे जीवन में उतर रही है अब तुम अपना

उपचार स्वयं से कर सकने में सक्षम हो

सकोगे मेरे प्रिय इस ऊर्जा शक्ति को अपने

भीतर ग्रहण करने के लिए तुम्हें इस दिव्य

संदेश को पूरा अंत तक सुनना

है चाहे कोई भी परिस्थिति हो इसे बीच में

छोड़कर जाने की भूल नहीं करनी

है अब समय आ गया है कि आशीर्वाद रूपी

उपचार अब तुम्हें हासिल हो जाए ताकि तुम

बड़ी सफलता की ओर बढ़

सको तुम्हारा विश्वास पूर्णता से सार्थक

होगा अब यह व्यर्थ नहीं जाएगा यह निरर्थक

नहीं

होगा मैं सदैव तुम्हारी प्रार्थनाएं सुनता

हूं मैं विभिन्न रूपों से तुम्ह देखती हूं

तुम्हारे भक्ति को देखती हूं तुम्हारा

विश्वास देखती

हूं मैं देखती हूं कि तुम विभिन्न

परिस्थितियों में कैसा व्यवहार करते हो और

तुम्हारे भीतर की करुणा और दया को देखकर

मैं अत्यंत प्रसन्न

हूं मैं यह जानकर बहुत खुश होती हूं कि

तुम्हारे दिल में दूसरों के लिए अपार

स्नेह भरा है और अपनों के लिए फिक्र भरी

है तुम अपने परिवार को अनगिनत खुशिया देना

चाहते हो वह सभी लोग जो तुमसे प्रेम करते

हैं उनके लिए तुम बहुत ज्यादा प्रयत्न

करना चाहते

हो लेकिन तुम्हारी परिस्थितियां जब इसका

साथ नहीं देती तो तुम दुखी हो जाया करते

हो तुम्हारे अंतर मन से आवाज आती है कि यह

सब कुछ व्यर्थ

है तुम अपने आप को कमजोर मान लेते हो अपने

आप पर ही संदेह करने लगते हो और ऐसा करने

से तुम अपना विश्वास कमजोर कर लेते

हो मूलता अपना आत्मविश्वास खो बैठते हो और

ऐसा होने पर तुम अपनी शक्तियों को पहचान

नहीं पाते हो और उनसे अनजान रह जाते

हो जो तुम्हारे जीवन में तुम्हारे लिए

रचित हुआ है मेरे प्रिय तुम्हें ऐसा लगता

है कि चीजें तुम्हारे विपरीत कार्य कर रही

है तुम्हें ऐसा लगता है कि कोई तुम्हारा

साथ नहीं दे रहा

है कोई तुम्हें सुन नहीं रहा है लेकिन

वास्तविकता में यह सत्य नहीं है सत्य तो

इससे परे है सत्य इससे अलग है सत्य तो वह

है जो तुम अभी देख नहीं पा रहे

हो सत्य तो यह है कि तुम बहुत बड़े जीत की

ओर बढ़ चले हो और इसका कारण तुम्हारा

व्यवहार तुम्हारा अंतर्मन तुम्हारी आत्मा

और तुम्हारी सच्चाई

है बल्कि इसके बजाय तुम चाहते हो कि

तुम्हारा जीवन बेहतर हो जाए तुम दूसरों के

जीवन में भी प्रभाव डाल सको उनका भी जीवन

बेहतर बना सको ऐसा तुम्हारा प्रयास रहता

है तुम्हारे लिए कैसे रचित किया जा रहा है

कैसे विभिन्न योजनाएं बनाई जा रही हैं

ताकि तुम जीत की बुलंदियों तक पहुंच सको

ताकि तुम जीत को अपने भीतर समा

सको मेरे प्रिय तुम्हारे जीवन में बहुत

बड़ा दिन आने वाला है और बहुत बड़ी घटना

घटने वाली है बल्कि तुम्हारे परिवार में

भी असीम खुशियां आ

जाएंगी और तुम सदा सदा के लिए आभारी होने

लगोगे मेरे प्रिय बच्चे इस जीत को इसी

क्षण आकर्षित करो संख्या लिखकर यह

दर्शा कि तुम इस जीत को पाकर बहुत खुश हो

जाओगे यह दर्शा कि तुम इसके योग्य हो यह

दर्शा कि यह पाने की तुम्हारी असीम लालसा

है ऐसा करने पर तुम्हें यह जीत अवश्य मिल

जाएगी मेरे प्रिय बच्चे मेरी एक एक बात को

बहुत ध्यानपूर्वक सुनो यह तुम्हारे लिए

अत्यंत आवश्यक है क्योंकि अभी यह संदेश जो

कि तुम्हें मिल चुका

है यह प्रमाणित है तुम्हारी पुण्य आत्मा

होने का प्रिय बच्चे इस संसार में खुश

रहना बहुत आसान है लेकिन आसान होकर जीवन

जीना लोगों के लिए बहुत मुश्किल होता जा

रहा

है संसार में जटिलता की इस अवधि में

मनुष्य स्वयं ही अपने लिए सब कुछ जटिल

करता जा रहा

है अपने विचारों में वह ऐसी कल्पनाएं बुन

रहा है कि वह अपने लिए सब कुछ मुश्किल

करता जा रहा है चाहे वह उसके रिश्ते हो

सामाजिक संबंध

हो या जीवन में कुछ कर सकने का लक्ष्य हो

उसने स्वयं को इस कदर कठिन और जटिल बंधनों

में जकड़ लिया है कि वह चाहकर भी ऊंची

उड़ान भर नहीं

पाएगा अपने लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर

पाएगा मेरे प्रिय पुण्य आत्मा तुम अति

विशिष्ट हो और आज तुम्हें यह संदेश मिल

रहा

है क्योंकि तुम्हें जटिलता से मुक्त करने

का कार्य किया जा रहा है परमात्मा द्वारा

निर्मित विभिन्न योजनाओं में तुम अब उसके

लिए प्राथमिकता हो

मेरे प्रिय इस संसार में सभी व्यक्ति एक

ही प्रकार के कार्य नहीं कर सकते लेकिन हर

एक व्यक्ति कुछ ना कुछ विशेष अवश्य कर

सकता

है और अब तुम्हें तुम्हारी विशेषता बताने

का कार्य किया जा रहा है कि तुम यह समझ

पाओ कि जीवन को किस ओर ले जाना

है लेकिन तुम निरंतर अपने विशेषताओं को

नजर अंदाज करने लगते हो तुम उसे अनुदान की

तरह से लेने लगते हो मेरे प्रिय इस संसार

में सब कुछ सुंदर है

इस संसार में सब कुछ सरल है इसे कठिन

बनाने का कार्य मत करो कोई भी मनुष्य

वस्तु स्थान या किसी भी तरह की परिस्थिति

तुम्हें खुशी नहीं दे

सकती क्योंकि प्रसन्नता की परिभाषा मनुष्य

ने चमकते और मादक खिलौनों को समझ लिया है

वास्तविक प्रसन्न रहना मनुष्य ने छोड़

दिया है मेरे प्रिय बच्चे भीतर ध्यान

लगाओ मुस्कुराते चमकते चेहरे जिन्हे सफलता

की ऊंचाई समझा जा रहा है ऐसे चेहरे

जिन्हें देखकर तुम्हारे मन में भ्रम पैदा

हो रहा है उससे तुलना एं करना बंद

करो मेरे प्रिय तुम्हें जो

चकाचौंध

प्रशंसनीय है वास्तव में उसके पीछे का सच

तुम जान नहीं रहे होते

हो और तुम माया के भ्रम जाल में फंस जाते

हो मेरे प्रिय सफलता की अपनी परिभाषा

तुम्हें स्वयं ही गढ़नी होगी एक बार सहज

होकर देखो

एक बार सलता को ही अपना श्रृंगार बनाकर

देखो एक बार अपने भीतर उतर कर देखो

प्रशंसा तुम्हारे कदम चूमेगी सुकून से भरा

तुम्हारा जीवन

होगा और तुम निरंतर इसके विपरीत कार्य कर

रहे हो तुम स्वयं को हतोत्साहित कर रहे हो

संघर्ष के बोझ को उठाते उठाते तुम्हारे

कंधे झुकने लगे

हैं तुम जीवन युद्ध में लड़ते लड़ते थक

चुके हो और अब जी भर के रो लेना चाहते हो

मेरे प्रिय अब रो बैठो लेकिन स्वयं को

हतोत्साहित ना

करो तुम्हारे जीवन में जितने कष्ट आए हैं

वह सामान्य है लेकिन उन्हें भह जाने दो यह

वही समय है जब तुम्हें एहसास कराया जा रहा

है कि तुम क्यों निर्मित किए गए

हो यह समस्त संसार तुम्हारे लिए ही

निर्मित किया गया है इसमें कुछ भी ऐसा

नहीं है जो तुम्हारे लिए ना हो मिट्टी में

बोया बीज जब टूटता है तो ही वह वृक्ष

अंकुरित होता

है बादल जब टूटता है तो धूप में तपती

मिट्टी को जल देता है तभी पेड़ पौधे जन्म

लेते हैं वनस्पतियां जन्म लेती हैं मेरे

प्रिय इस संसार में टूटने से नया सृजन

होता

है विनाश ही नए सृजन को जन्म देती है मेरे

प्रिय इस संसार में जबजब कुछ नया जन्म

लेता है तब तब कुछ पुराना टूटता है चाहे

वह बंधन हो मान्यता

हो या फिर इस संसार में उपस्थित कोई भी

वस्तु हो मेरे प्रिय किसी भी चीज को बेहतर

बनाने से पहले उसे तोड़ा जाता

है मुझे पता है तुम हताश होते हो मुझे पता

है कि तुम निराश होते हो तुम्हें राह नजर

नहीं आती लेकिन एक बार अपने मन में

उत्पन्न हो रहे भ्रम जाल को तोड़क

देखो एक बार जो तुम्हारे भीतर का मायावी

जाल बुना हुआ है उसमें छेद करके देखो

तुम्हारे लिए कुछ भी यहां मुश्किल नहीं है

यहां तुम्हें निरंतर तोड़ा जा रहा है तकि

तुम अंकुरित

हो ताकि तुम विशाल बनो तुम्हें हर तरह के

दुख मिले हैं तुम हर तरह के दुख को झेल

चुके हो लेकिन इसके बावजूद तुम्हारा जीवन

चलायमान है तुम्हारा जीवन चल रहा

है क्योंकि अभी कुछ ऐसा है जो तुम्हें

करना है कुछ पूरा नहीं हुआ है मेरे प्रिय

कठिन समय तुम्हारे जीवन में भले ही आ रहा

हो तुम्हें कठिन समय से नहीं घबराना

है उस कठिन चुनौतियों को तुम पार कैसे

करोगे इसका विचार करो यह वही समय है जब

तुम इतिहास रचो ग यह वही समय है जब

तुम्हारी गाथा हर कोई

गाएगा यह वही समय है जब हर कोई तुम्हारी

ही चर्चा करेगा भले ही लोगों ने पहले

तुम्हारा उपहास उड़ाया हो भले ही लोग

तुम्हें कमजोर नाकारा समझते आए

हो लेकिन अब वह समय बीत चुका है क्योंकि

अब लोग तुम्हें कमजोर नहीं समझ पाएंगे

तुम्हें अपने भीतर की ताकत को बाहर

निकालना

है तुम्हें अपने भीतर छुपे हुए इस तत्त्व

को बाहर निकालना है तुम्हारे साथ जो भी

हुआ है वह घटित होना ही था लेकिन उसके

पीछे बहुत बड़ा उद्देश्य नहीं

था तुम्हें इस बात को समझना है अपने

विशेषता को पहचानने है तुम सहज हो और

जितना ज्यादा तुम सहज होते जाओगे उतना ही

ज्यादा तुम प्रसन्न होते जाओगे जो मनुष्य

जितना सहज होता है वह उतना ही ज्यादा

प्रसन्नता को अंगीकार करता है मेरे प्रिय

चाहत से ज्यादा आवश्यकता पर ध्यान

दो जब तुम अपनी आवश्यकताओं को भली भाति

समझोगे तब तुम अपनी चाहतों को भी चुनकर ले

जाओगे तुम्हारी चाहतें पूरी ही की जा रही

है कोई भी तुम्हारी चाहतों को तुमसे दूर

नहीं कर सकता लेकिन कोई तुम्हारे अंतःकरण

में प्रवेश नहीं कर सकता तुम्हें स्वयं ही

अपने अंतःकरण में प्रवेश करना

होगा जटिलता को छोड़ तुम्हें सरल होना

होगा प्रसन्न होना तुम्हारा स्वभाव बन

जाएगा और तब तुम पाओगे कि तुम्हारे आसपास

का समस्त वातावरण खुश में

है तब तुम पाओगे कि हर किसी के चेहरे पर

मुस्कान है तब तुम पाओगे कि तुम पर विजय

तिलक लगने वाला है अब तुम उस जल के धार की

भाती बहते चले

जाओगे जो अंततः समुद्र में विलीन हो जाती

है लेकिन यदि तुम संघर्ष करते रहोगे तो

तुम्हारी राह में बहुत सी चट्टाने आएंगी

और तुम उन चट्टानों से पार नहीं पा

सकोगे इसलिए मेरे प्रिय साधारणतया या सरल

रूप में बहना प्रारंभ करो गिरना प्रारंभ

करो तुम्हें जोर नहीं लगाना है तुम्हें

प्रयत्न नहीं करना

है बस दृष्टा की भाति अपने जीवन को देखते

जाओ तुम्हारे जीवन में जो कुछ भी घटित हो

रहा है उसे मुस्कुरा करर सहज से स्वीकार

करो और विचार करो कि अब तुम्हारा यह मन

तुम्हारी यह बुद्धि तुम्हारी यह चेतना

तुमसे क्या कह रही

है और उन क्षणों में भी तुम्हें अपने आप

को मन बुद्धि अधि चेतना से अलग रहकर देखना

होगा तुम्हें अपने भय के बादलों को उतार

फेंकना

होगा इन भय का वास्तविकता में कोई मूल्य

नहीं है यह केवल तुम्हारी कल्पना से जन्म

लिए हुए हैं यह घटित नहीं होगा बस तुम्हें

लगता है कि ऐसी घटना घटित

होगी इसलिए तुम भयभीत हो रहे हो जबकि

तुम्हें भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है

समस्त ब्रह्मांड में कोई भी तुम्हें नहीं

पहुंचा

पाएगा किसी में इतनी क्षमता नहीं कि

तुम्हें नुकसान कर सके इसलिए मेरे प्रिय

तुम्हारी हानि हो नहीं सकती तुम्हें कोई

नुकसान दे नहीं

सकता हर तरफ से तुम्हारे लिए केवल लाभ ही

लाभ आ रहा है इस लाभ को स्वीकार करो इस

जीत को अंगीकार करो और भय को उखाड़

फेंको मेरे प्रिय जीत को स्वीकारो इसकी

पुष्टि करो संख्या लिखकर अपनी जीत की

पुष्टि करो और साथ ही यह भी बोलो कि मैं

अत्यंत सौभाग्यशाली

हूं मेरे जीवन में चारों तरफ से केवल सुख

ही सुख आ रहा है हर कोई यहां पर मेरे लिए

कार्य कर रहा है हर कोई मेरे जीवन को

बेहतर बनाने का कार्य कर रहा

है मैं इस संसार का सबसे सौभाग्यशाली

मनुष्य हूं मुझे चारों तरफ से प्रेम ही

प्रेम प्राप्त हो रहा है मेरे प्रिय बच्चे

तुम स्वयं को ऊर्जा का केंद्र बिंदु मानकर

यह जीवन जियो

कोई भी संसार में तुम्हें हानि पहुंचाने

वाला नहीं हो सकता है इसलिए तुम सभी तरह

के भय का त्याग कर दो मैं जानता हूं कि

कुछ ऐसी बातें तुम्हारे साथ तुम्हारे जीवन

में घटी

है जिसकी वजह से तुम्हारे मन में विभिन्न

प्रकार की निराशा छाई हुई है जिसकी वजह से

तुम कई बार स्वयं का आत्मविश्वास कमजोर कर

बैठते

हो लेकिन इसके बावजूद कि तुम्हारे साथ

जीवन में कोई भी घट घटी हो तुम्हें अपने

आप को कमजोर नहीं होने देना है तुम्हें

किसी भी हाल में किसी के भी आगे झुकना

नहीं

है तुम्हारा पूरा समर्पण केवल मेरे प्रति

हो तुम्हारा पूरा समर्पण केवल परमात्मा के

प्रति हो इस संसार में जो भी वस्तु

व्यक्ति जीव अजीव है सब पूर्णतः परमात्मा

को समर्पित हो जाते

हैं फिर उन्हें प्रगति करने से कोई रोक

नहीं सकता किसी में इतनी क्षमता नहीं होती

कि उनके साहस को गिराकर उनके तरक्की को

टाल

सके प्रिय बच्चे तुम्हारी भी प्रगति को

कोई टाल नहीं सकेगा किसी में वह क्षमता

नहीं होगी कि तुम्हें हानि पहुंचा सके

लेकिन तुम्हें अपने आप को कमजोर नहीं

मानना

है नहीं किसी के समक्ष अपने आप को कमजोर

प्रदर्शित करना है जब जब तुम किसी के

समक्ष अपने आप को कमजोर प्रदर्शित करते

हो तो उसके हाथों में एक ऐसी चाबी दे रहे

होते हो जिससे वह सदैव तुम्हारी दुखती

नसों पर अपनी उंगलियां रख देगा अपने हाथ

रख

देगा इसलिए तुम्हें अपने आप किसी भी हाल

में कमजोर साबित नहीं होने देना है तुम

सदा ही जीतने के लिए बने हो इसलिए सदैव

जीत का विचार

करो और प्रसन्नता के साथ अपना जीवन जियो

चाहे तुम्हारे जीवन में दुख के अवसर भी

क्यों ना आ रहे हो तब भी तुम्हें दुखी

नहीं होना

है दुखों का विचार नहीं करना है ना ही

अपने दुख की चर्चा किसी अन्य मनुष्य से

करनी है क्योंकि जब जब तुम अपने दुख की

चर्चा किसी अन्य से करते

हो तुम उसे बढ़ाने का ही कार्य कर रहे

होते हो इसलिए किसी भी हाल में अपने दुख

की चर्चा किसी से नहीं करना प्रिय बच्चे

तुम पर मेरा आशीर्वाद सदैव बना था और सदैव

बना

रहेगा तुम्हारे जीवन में जो भी कर्म घटित

हो रहे हो चाहे वह अच्छे हो चाहे बुरे तुम

उनका पूरी तरह से त्याग करके पूरा समर्पण

मेरे प्रति प्रदर्शित कर

दो जब तुम पूर्णत सच्चे हृदय से मेरे

प्रति समर्पित हो जाओगे उसके बाद तुम्हारे

जीवन में वास्तव में कोई दुख रहा ही नहीं

जाएगा इसलिए किसी भी तरह के चिंता को अपने

जीवन में स्थान मत दो और खुश होकर जीवन

जीते जाओ सुख हो या दुख स्वीकार करते

जाओ और जो छूटता जा रहा है उसे परमात्मा

की मर्जी मानकर त्याग दो यही जीवन है और

जब तुम इस तरह से जीवन जीना प्रारंभ कर

दोगे तो तुम्हारे जीवन से सभी दुख समाप्त

हो जाएंगे और बचेगी तो केवल खुशियां इतनी

प्रसन्नता इतनी भव्यता इतनी आसानी से होगा

कि तुम अंदाजा भी नहीं लगा

सकते कि तुम्हारा जीवन कैसे परिवर्तित हो

रहा है तुम्हारे जीवन में जो घटनाएं घट

उनकी तुम कल्पना भी नहीं कर सकते यह सब

कुछ प्रेम में होगा करुणा में

होगा और तुम्हें ऐसा प्रतीत होगा जैसे

तुम्हारा जीवन कितना सरल है कितना आसान है

इसलिए तुम्हें अपने जीवन से सभी प्रकार की

जटिलता को समाप्त करना ही होगा यह चीजें

जो तुम्हें जीवन में जटिलता प्रदान कर रही

हैं उनका त्याग करना ही जीवन में सबसे

आवश्यक है जीवन में बहुत से ऐसी चीजें हैं

जो देखने सुनने में बहुत आसान लगती

हैं लेकिन वास्तविकता में बड़ी जटल होती

हैं इसलिए चाहे कोई भी परिस्थिति हो मैं

तुम्हारा साथ कभी नहीं छोडूंगी मैं सदैव

तुम्हारा साथ दूंगी तुम्हें आगे बढ़ाती

रहूंगी ऐसा करना आवश्यक है इसलिए यह होकर

रहेगा मेरे प्रिय बच्चे मेरे आने वाले

संदेशों की प्रतीक्षा तुम अवश्य करना यह

तुम्हारे लिए आवश्यक

है क्योंकि मैं पुनः आऊंगी तुम्हारा मार्ग

दर्शन करने तुम्हें सही राह दिखाने के लिए

तुम मेरे साथ चलना क्योंकि अब जो भव्यता

घटित होने वाली है तुम उसके साक्षी होने

वाले

और तुम दृष्ट में इसके साक्षी अवश्य हो यह

तुम्हारे लिए आवश्यक है मेरे प्रिय मैं

तुम्हारा साथ कभी भी नहीं छोडूंगी किसी भी

परिस्थिति में

नहीं मेरा आशीर्वाद हर हाल में तुम्हारे

साथ है मेरी ऊर्जा हर हाल में तुम्हारे

साथ है मेरी शक्तियां हर हाल में तुम्हें

संरक्षण प्रदान करती

रहेंगी और अब ना तुम्हें भयभीत होने की

आवश्यकता है ना ही किसी भी तरह की चिंता

करने आवश्यकता

है अब तुम शुद्ध परिवेश और शुद्ध वातावरण

के साथ ही सकारात्मक ऊर्जा के घेरे में आ

चुके हो यह शुद्धता तुम्हारे मन को पूरी

तरह से बदल देगी इसे तत्काल स्वीकार करो

मेरे

प्रिय संख्या लिखकर अपने जीत की

पुष्टि करो और शुद्ध वातावरण को और

सकारात्मक ऊर्जा को अपने भीतर प्रवेश

करो संख्या लिखकर अपने जीत की पु

करो तुम्हारा कल्या होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *