इस शक्ति के कारण हार के मुँह से भी जीत को खींच लोगे तुम इग्नोर ना करे - Kabrau Mogal Dham

इस शक्ति के कारण हार के मुँह से भी जीत को खींच लोगे तुम इग्नोर ना करे

मेरे प्रिय बच्चे आज नियति ने तुम्हारे

लिए एक बेहद सुनहरा और ज्योतिर माण संदेश

भेजा

है यह संदेश तुम्हारे जीवन से जुड़ा हुआ

है मेरे प्रिय तुम्हारे लिए इस प्रकार का

संदेश आना कोई सामान्य बात नहीं

है लेकिन यह संदेश तुम तक पहुंच रहा है

क्योंकि तुम वास्तव में एक दिव्या आत्मा

हो और इसमें तुम्हारे लिए बहुत कुछ अच्छा

छुपा हुआ

है जो तुम्हारे उज्जवल भविष्य को आशीर्वाद

प्रदान

करेगा एक दिव्य देवता ने तुम्हारे संरक्षण

के लिए अपनी स्वीकृति जाहिर की

है इस वजह से आज तुम तक यह संदेश पहुंचा

हुआ है मेरे प्रिय यही कारण है कि तुम्हें

हर हाल में इस संदेश को पूर्णत अंत तक

सुनना

है किसी भी परिस्थिति में चाहे तुम जिस भी

हाल में हो तुम्हे इसे बीच में छड़ कर

जाने की भूल नहीं करनी

है मेरे प्रिय मैं तुम्हारे जीवन में कुछ

ऐसा करने वाला हूं जिससे तुम अपने जीवन की

सभी समस्याओं को आसानी से हल कर

पाओ जिससे तुम्हारे जीवन में समृद्धि आ

सके और इस कार्य में तुम्हारी सहायता करने

के लिए एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण देवता ने

अपनी स्वीकृति प्रदर्शित की

है वह देवता यह चाहते हैं कि तुम तुम्हारे

जीवन को ना केवल समृद्धि प्रदान की जाए

बल्कि एक ऐसे मार्ग पर प्रशस्त किया जाए

जहां से समाज का और इस संसार का अभूतपूर्व

कल्याण किया जा

सके और इसलिए वह तुम्हारे जीवन में आने को

उत्सुक हो रहे

हैं तुम्हें ऐसा प्रतीत होगा कि अब

तुम्हारे जीवन में बहुत से चमत्कार घटित

हो रहे

हैं वास्तव में यह चमत्कार उन देवता के

लिए बहुत ही सामान्य बात है लेकिन तुम चकि

एक सीमित जगत में रहते

हो एक ऐसे जगत में जहां मनुष्य के लिए कुछ

क्रियाएं कर पाना असंभव सी

है भले ही उसकी अवचेतन शक्ति में यह शक्ति

विद्यमान हो फिर भी वह अपनी पूर्ण ताकत को

पहचान नहीं पाता

है इस जगत में मनुष्य को बहुत से चीजें

सीमित मालूम पड़ती

है इसलिए जब कुछ ऐसा घटित होता है जो उसकी

सीमा से बाहर हो वह उसे चमत्कार जैसा

प्रतीत होता

है ऐसा नहीं है कि यह कार्य मनुष्य की

कल्पना से बाहर

है मनुष्य की कल्पना में जो कुछ भी आता है

वास्तव में यह इसी देह के द्वारा किया

जाना संभव होता

है लेकिन चूंकि मनुष्य अपनी शक्तियों से

परिचित नहीं होता वह अपनी कल्पनाओं को मात

देख कल्पना के रूप में ही देखता

है वह उन्हें मात्र विचारों के रूप में ही

संजोता है वह उन्हें हकीकत के दौर पर नहीं

देख

पाता वह यह नहीं समझ पाता कि वास्तव में

यह सब भी संभव हो सकता

है और इसी वजह से वह देवता जैसा स्वरूप

धारण करके भी सामान्य मनुष्य ही रह जाता

है मेरे प्रिय तुम्हारे भी जीवन में ऐसे

ही कुछ चमत्कार घटित होने वाले हैं जो

तुम्हारी कल्पनाओं में संभव होते हुए

तुम्हें दिखाई देते

हैं किंतु वास्तविक जगत में तुम उन्हें

संभव होते हुए नहीं देख रहे हो अब तुम उसे

संभव होते हुए देख

पाओगे मेरे प्रिय ब्रह्मांड की रचनात्मक

ऊर्जा अब तुम में निवास कर रही है वह

तुम्हारे भीतर धीरे-धीरे उतरती जा रही

है और इस तरह से यह इस पर्यावरण को इस

वातावरण को और इस परिवेश को शुद्ध करने का

कार्य कर रही

है वास्तव में तुम ही शुद्ध करने के

माध्यम हो चले हो तुम सफल होने के लिए बने

हो और तुम में सफलता के लिए आवश्यक सभी

प्रकार के धर्म मौजूद

है तुम चुनौतियों पर काबू पाने और दिन

प्रतिदिन मजबूत होने में बहुत ताकत

प्रदर्शित कर रहे

हो और इससे भी बड़ बड़ी बात कि तुम इस

ताकत को हासिल करने के लिए काफी प्रयत्न

कर रहे

हो मेरे प्रिय मुझे विश्वास है कि तुम

अपने जीवन में आ रही सभी बाधा को एक एक कर

समाप्त

करोगे और ऐसा करने में विभिन्न प्रकार के

ऊर्जा शक्तियों द्वारा तुम्हारा समर्थन

अवश्य ही किया

जाएगा एक दिव्य देवता अब तुम्हारे जीवन

में प्रवेश होने को तैयार है तुम्हें

उन्हें अपने जीवन में प्रवेश करने की

अनुमति देनी

है तुम्हारी स्वीकृति आवश्यक

है क्योंकि ऐसा करने से मनुष्य अपनी ऊर्जा

शक्ति को परलोकिक जगत की ऊर्जा शक्ति से

मिला लेता

है तुम संख्या लिखकर अपनी पुष्टि

जाहिर करो यह प्रदर्शित करो कि तुम तैयार

हो नए देवता नई ऊर्जा शक्ति को अपने जीवन

में उतारने के लिए संर करने के लिए और

उनके द्वारा संकेतों को समझकर

सही मार्ग पर आगे बढ़ने के लिए मेरे प्रिय

तुम दिन प्रतिदिन सकारात्मक दिव्य ऊर्जा

के पुंज बनते जा रहे

हो और तुम्हारी चमक हर जगह धीरे-धीरे कर

फैल रही है वहां जहां पहले बहुत अंधेरा

हुआ करता था जहां रोशनी का नामो निशान भी

नहीं था जहां मनुष्य एक दूसरों को काट

खाने को दौड़ते थे वहां भी अब तुम्हा

ऊर्जा जाने से आध्यात्मिकता का संचार होगा

आध्यात्मिक ज्योति चारों ओर फैले

गी प्रतिबिंबित होकर तुम्हारे ही अक्ष के

रूप में यह सकारात्मक ऊर्जा हर जगह

विद्यमान होगी तुम्हारा नाम धीरे-धीरे

सबके जुबान पर

होगा धीरे-धीरे सबके होठों पर केवल

तुम्हारी बातें होंगी और ऐसा होना भी

चाहिए क्योंकि नियति की यही चाहत भी है

मेरे प्रिय अबलो तुम री ओर आकर्षित हो रहे

हैं तुम्हारी दिव्य ज्योति हर कोने में

चमक रही है क्या तुमने कभी महसूस किया कि

तुम्हारी सकारात्मक ऊर्जा दिन प्रतिदिन

कैसे शुद्ध होती जा रही

है तुम्हारा चेहरा अब पहले से ज्यादा चमक

रहा है और यही कारण है कि लोग तुम्हारे

आसपास अच्छा और सुरक्षित महसूस करते हैं

तुम्हारा दिव्य प्रकाश सर्वत्र फैल रहा

है अपने जीवन के बदलाव को स्वीकार करो और

इस परिवर्तन पर ध्यान केंद्रित करो

तुम्हें अब वह सब कुछ मिलेगा जिसके लिए

तुमने प्रार्थनाएं की

है यहां तक कि वह चीजें भी तुम्हें

प्राप्त होंगी जो तुम्हें कल्पना में भी

विचार नहीं आता जो वास्तविकता में दिव्यता

से घटित होता

है तुम यह महसूस करोगे कि अब तुम्हारे साथ

कुछ परिवर्तन कार्य चीजें घटित हो रही है

मेरे प्रिय तुम री मुस्कान अब तुम्हारे

भाग्य का निर्माण

करेगी इसलिए परिस्थिति चाहे कैसी भी हो

चाहे कितनी भी चुनौतियां तुम्हारे समक्ष

क्यों ना आ जाए तुम घबराना मत तुम कभी

अपने चेहर पर शिखर मत आने

देना कभी यह मत प्रदर्शित होने देना कि

तुम में कोई खोट है कभी यह जाहिर नहीं

होने देना कि तुम जरा सा भी बेचैन

हो प्रिय बच्चे वह देवता तुम्हारे जीवन

में एक विशेष व्यक्ति के रूप में प्रवेश

करेंगे और उनकी दिव्य ऊर्जा से तुम्हें

सहारा

मिलेगा तुम जहां कहीं भी तकलीफ महसूस

करोगे तुम उन्हें अपने आसपास ही पाओगे भले

ही तुम उनके परिचित ना हो लेकिन तुम्हें

धीरे-धीरे इसका एहसास

होगा धीरे-धीरे यह आभास होगा और ऐसा होने

पर तुम्हारे भीतर से आवाज आएगी कि वह

तुम्हारे लिए क्या है और कौन है तुम अपने

दोनों हाथों को इकट्ठा जोड़कर प्रार्थना

करो अपनी आंखें बंद कर मेरा स्मरण करो

मेरी बातों को सुनो इसे स्वीकार करो और

अपने हृदय में उतर जाने दो अपने हृदय के

भीतर यह देखने का प्रयास

करो कि कैसे तुम्हारा हृदय दिव्या उत्पन्न

कर रहा है कैसे तुम्हारी सासे तुम्हारे

शरीर के भीतर प्रवेश कर रही है कैसे तुम

ऊर्जा के स्रोत बनते जा रहे हो

आपको अपनी आंखें बंद करके मेरी बातों को

ध्यानपूर्वक सुनो और स्वयं के लिए अच्छे

वाक्य महसूस करो मैं भाग्यशाली हूं

परमात्मा प्रतिदिन प्रतिपल मेरे साथ

है यह जो मुश्किलें मेरे सामने आ रही है

यह चुनौतियां केवल इस बात के लिए है कि

मैं अपने आप को मजबूत बना सकूं यह

चुनौतियां मुझे कभी हरा नहीं

सकती क्योंकि ईश्वर का हाथ सदैव मेरे ऊपर

है यह बस एक तरह से खेल है इसलिए मेरे

प्रिय इसे अपनाओ तुम जीत रहे हो इस जीत को

अपने जीवन में उतरने

दो तुम्हारी चमक चारों ओर फैल रही है इस

चमक को चारों ओर फैलने दो संख्या

लिखकर अपने जीत की तत्काल पुष्टि

करो ऐसा करके तुम यहां प्रदर्शित करते हो

कि तुम परमात्मा के साथ सामंजस्य बिठा रहे

हो ऐसा करके तुम अपनी पुष्टि जाहिर कर

लेते

हो यह तुम्हारा मेरे साथ जुड़ने का

सर्वोत्तम तरीका है तुम आज इस संदेश को

सुन रहे हो क्योंकि तुम्हारा भाग्य

निर्मित किया जा चुका

है क्योंकि तुम्हारे भाग्य में जी प्रति

लिखी जा चुकी है अब तुम ऊपर उठकर देखो अब

अपनी नजरों को ऊपर उठाकर देखो तुम दिव्य

ऊर्जा को महसूस

करो आपको इस दिव्य ऊर्जा को अपने भीतर

उतरने दो इन चुनौतियों से घबराओ मत और भय

को अपने जीवन से त्याग

दो सदा याद रखो कि चाहे परिस्थिति कैसे भी

हो कोई तुम्हारे साथ हो या ना हो मैंने

तुम्हारी जीत लिख दी है तुम्हारी जीत

निश्चित तौर पर होकर

रहेगी इसके लिए सदा अपने आप को तुम्हें

तैयार रखना है तुम्हारा मन शांत होता

जाएगा इतने सालों से तुम अपने आप को अकेला

महसूस कर रहे हो अब यह विचार हटता चला

जाएगा अब तुम्हारे भीतर एक अलग प्रकार की

शांति आने वाली है और यह शांति तुम्हें

समृद्धि भी प्रदान करेगी और तुम्हें

खुशियां भी प्रदान

करेगी अब जबकि तुम्हें मदद की सबसे ज्यादा

आवश्यकता है तुम्हें हासिल होने वाला है

वह जो आ रहा है तुम्हारे जीवन में और

तुम्हारा समर्थन करने ही आ रहा

है एक ऐसे व्यक्ति के रूप में जिस जिसे

तुम्हें प्रेम होगा जिसके पास जाकर

तुम्हें सुकून का एहसास होगा जिसके पास

होकर तुम अपने आप को पूरी तरह से सुरक्षित

महसूस करोगे तुम अपने मन को शांत होता

पाओगे तुम्हारे भीतर जो कोलाहल उत्पन्न हो

रहा है तुम स्वयं को इससे दूर होता देख

पाओगे और इन क्षणों का तुम्हें ज्यादा से

ज्यादा लाभ उठाना है तुम्हें फायदा लेना

है तुम्हें आगे बढ़ना है वह सब कुछ जो

तुम्हें लग रहा था कि तुम हासिल नहीं कर

पाओगे जिसके वजह से तुम अपने जीवन को

निरर्थक और व्यर्थ मान बैठे थे अब वह

दुर्लभ चीजें भी तुम्हें हासिल होंगी अब

तुम्हारे भीतर के गुणधर्म बढ़ते चले

जाएंगे यह सही समय है जब तुम समस्त

चिंताओं को त्याग दो जब तुम नए लक्ष्य की

ओर बढ़ चलो जादुई पिटारे से जादुई तरीके

के चमत्कार घटित

होंगे और यह केवल तुम्हारे लिए नियति

द्वारा रचा हुआ है यह तुम्हारे ही लिए आया

हुआ है इसे पूर्णता स्वीकार करना तुम्हारे

लिए आवश्यक

है मेरे प्रिय अपनी आंखों को बंद करते रहो

और अपने मस्तक के बीच में अपना ध्यान

केंद्रित करो और स्वयं को दिव्य ऊर्जा से

जोड़ते

जाओ तुम्हारी जीत हो चुकी है मेरे आने

वाले संदेशों के प्रतीक्षा करना मैं

तुम्हें जीत दिलाने और तुम्हें सही मार्ग

पर ले जाने के लिए अवश्य

आऊंगा तुम्हारा हाथ पकड़कर तुम्हें सभी

मुश्किलों से बाहर निकालने के लिए मैं

स्वयं आऊंगा तुम मुझे भी महसूस कर सकोगे

तुम एक बात याद रखो तुम मुझसे भिन्न नहीं

हो मैं तुम में ही वास करता हूं और तुम

मुझ में ही वास करते हो हम दोनों एक हैं अ

दवाय है दवाय समझने की भूल ना करना मेरे

प्रिय याद रखो इस संसार में तुम तुम जो भी

बांटते

हो वही प्राप्त करते हो फिर चाहे वह प्रेम

हो धन हो समर्पण हो या ईर्षा हो तुम इसे

कभी भी मत भूलना मेरी शक्तियां तुम्हारे

संरक्षण में निरंतर कार्य कर रही

है सदा सुखी रहो तुम्हारा कल्याण

होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *