इन 7 अंगों में आपको खिंचाव या दर्द होता है तो मां काली की शक्ति आ चुकी है - Kabrau Mogal Dham

इन 7 अंगों में आपको खिंचाव या दर्द होता है तो मां काली की शक्ति आ चुकी है

कैसे हैं आप सब जय मां दुर्गा जय मां काली

हर हर महादेव राधे राधे आपका मां दुर्गा

महाकाली कृपा चैनल पर हार्दिक स्वागत है

कैसे हैं आप सब आशा करता हूं आप सब स्वस्थ

होंगे मस्त होंगे प्रसन्न होंगे यदि आप

थोड़े से भी परेशान है तो मैं मां काली से

मां दुर्गा से प्रार्थना करता हूं कि मा

शक्ति दे आपकी मनोकामना पूर्ण हो आपके दुख

रोग दूर हो आपके घरों में मान निवास करें

और जिन भी देवता की आप सेवा पूजा करते हैं

व भी आपके घर में निवास करें ऐसी मा से

प्रार्थना करता हूं आज का जो विषय है वो

ये है कि अगर आपके शरीर के इन अंगों में

दर्द शुरू हो गया है या होता है आपको पता

नहीं है क्यों होता है डॉक्टर को भी दिखा

लिया फिर भी हो जाता है तो आपको शक्तियां

प्राप्त हो रही है मां की भी मां काली की

प्राप्त हो सकती है आप जिन देवताओं की

पूजा कर रहे हैं मां दुर्गा की साधना कर

रहे हैं पूजा कर रहे हैं उनकी भी हो सकती

है या आप कोई और देवता की पूजा कर रहे हैं

जैसे भगवान शिव की कर रहे हैं या हनुमान

जी की कर रहे हैं भैरव बाबा जी की कर रहे

हैं या अन्य कोई भी ग्रामीण देवता है आपके

उनकी कर रहे हैं जिनकी भी आप साधना कर रहे

हैं वह आपको संकेत दे रहे हैं उनकी

शक्तिया आ रही है आपके पास वही संकेत दे

रहे हैं और आपको इन अंगों में दर्द शुरू

होने लग गया है यदि आपके शरीर के इन अंगों

में दर्द होना शुरू हो जाता है तो यह आपको

बताता है कि आप आपको जो है ना शक्ति

प्राप्त हो गई है मां काली की या जिन भी

देवता की आप पूजा करते हैं उनकी या माता

शेरावाली भी हो सकती है उनकी भी हो सकती

है या कोई भी मकान स्वरूप हो या कोई भी

अन्य देवी देवता हो उन सबकी उनकी कृपा

आपके ऊपर है उनकी शक्तिया आपके साथ है और

चलती है इन अनुभवों को तीव्र करने के लिए

अगर आपको पता चल रहा है आपके साथ य दर्द

हो रहा है शरीर में या कुछ भी हो रहा है

तो आपको अपने अनुभव को बढ़ाने के लिए अपने

पूजा के स्तर को बढ़ा देना चाहिए आप जो भी

भोग प्रसाद देते हैं ठीक है उसे आप देना

शुरू कर दीजिए अगर आप आप साल में देते हैं

आप महीने में देने लग जाइए अगर आप महीने

में दे रहे हैं तो हफ्तो में दे दीजिए

जैसे माहाकाली की बात करूं अ माहाकाली को

जसे शनिवार का दिन माहाकाली का होता है तो

आप माहाकाली को शनिवार को भोग दे सकते हैं

ठीक है हर शनिवार भोग दे मां को बा के खंड

जो जलाए जरूर घी की जलाए अगर आपका सामर्थ

तो घी की जलाए देसी घी की नहीं है तो तेल

की जलाए जैसा आपका सामर्थ हो वैसे आप जलाए

मां की जो शक्ति होती है या जो देवी की

शक्ति होती है वो आसानी से ऐसे नहीं आपको

पता चलता कि आपके पास शक्ति है या नहीं क्

शुरुआती समय में आप उनको नहीं समझ पाते

जैसे मैं बात करूं आपकी माता जी है मां है

तो जब आप एक छोटे बच्चे थे तब आपको बात

करना नहीं आता था तो आप क्या करते थे ढंग

से नहीं बोल पाते थे और मां आपकी बात को

अच्छे से नहीं समझ पाते थ शरवाती दवार में

लेकिन जब आप बड़े होने लग गए चार पाच साल

के हो गए तो आप बोलने लग गए और आपकी इन

भावना

प्राकृतिक भाग होता है इनकी वजह से क्या

होता है आप चीजों को समझने लग जाते हो तो

झट से समझ मा भी झट से समझने लगती है उसी

प्रकार शक्तिया होती है जब आप आप को नहीं

समझ पाते शक्तिया आ रही होती है तो आप

शुरू शुरू में नहीं समझ पाते लेकिन जब आप

अनुभवी हो जाते हैं उस रास्ते में आगे

जाने लगते हैं तो आप समझने लगते हैं

शक्तियों के संकेत आपको पता चलने लगते हैं

जैसे कि आपको जो है अचानक से कुछ आपके मन

में आया भाव और व घटित होने लग गया ठीक है

आपके मन में कुछ कुछ बेचैनी सी हुई आपको

लगा कि किसी के साथ कुछ गलत हो गया और

आपको पता चलता है किछ गलत हो गया है तो ये

कहीं ना कहीं शक्तिया आपको बताती है तो आज

बात करने वाला हूं उन अंगों की जहां पर

आपको दर्द होता है ठीक है तो सबसे पहला जो

अंग होता है वो होते हैं हमारे हमारी जो

आंखें होती हैं उन पर सबसे ज्यादा जोर

पड़ता है उस समय आंखों से बहुत आंसू आते

हैं भारी उ बासिया आती है इस से आंखों में

थोड़ी चुबन होती है दर्द होता है जलन भी

होती है तो लाल हो जाती है आख कई बार तो

इसका अर्थ ये होता है कि जो आप आप जो है

ना सूक्ष्म जगत की ओर आगे बढ़ रहे हैं

आपको कुछ शक्तिया कुछ दिखाना चाहती है ठीक

है आपको जैसे मूर्ति आपको कभी ऐसा आभास

होता है आखों से जब आप देखते हैं तो आप

माता के केश लहरा रहे हैं माली के मां

काली के हाथ हिल रहे हैं मां का खप्पा इधर

उधर हो रहा

है मां की आंखें बड़ी हो गई छोटी हो गई

कभी मु मुस्कुरा रही है या कुछ और कर रही

है तो वह भी आपको दिख सकता है तो या फिर

आपको यह दिख सकता है कि भूत प्रेत आपको

दिखने लग जाते हैं भूत प्रेतो को मार लग

रही है उनको दूध पिटाई कर रहे हैं उनकी यह

भी आपको दिखने लग जाता है जब आपकी आंखों

पर दर्द शुरू होता है और आंख आपकी आप

आंखों में माता की जत हो जाती है देवता की

शक्ति आपकी आंखों में बिने लगती है दूसरा

जो अंग है वो है व है कमर कमर में आपको

दर्द होने लगेगा क्यों दर्द होने लगता है

आप देखोगे कमर में दोनों तरफ जो होते हैं

इनम दर्द बहुत ज्यादा होता है आपकी जो

शक्ति है व मूलाधार चक्र पर जागृत हो जाती

है इसकी वजह से क्या होता है कि आप जो

शक्ति है व जब ऊपर की तरफ उठती है तो आपके

शरीर के जो शक्ति है वो कम होती है और जो

शक्ति देवता की है वो ज्यादा होती है तो

इस से जब शक्ति ऊपर की तरफ चलती है तो

आपको दर्द शुरू हो जाता है ऐसा लगता हैसे

सांप रंग रहा हो चींटिया से चल रही हो या

कुछ ऊपर की तरफ जा रहा है खुजली सी महसूस

होती है ऊपर की तरफ तीसरा आपको कानों में

गुदगुदी होती है हल्का सा दर्द होता है

जिससे आपकी जो कान की जो क्षमता है जो श

है वो आपके कान के माध्यम से आपको बताना

चाहती हैं कि वह आपके साथ रहती है आपकी जो

कान हैब आपके कान बहुत ज्यादा आपके कानों

में गुदगुदी शुरू होती है तो आपके जो कान

है वो बहुत ज्यादा सेंसिटिव हो जाते हैं

यानी उस चीज को सुनने लग जाते हैं

छोटी-छोटी बारीक बारीक चीजों को या जो

घटना हो रही है बारीक बारीक चीज हो रही है

जैसे पत्थर गिर रहा है कहीं पर वो आपको

पता चल जाएगा कि ये क्यों गिर रहा है ठीक

है शक्तिया आपको बताती है आपको छनछन की

आवाज सुनाई देती है भारी भारी पैरों की

आवाज सुनाई देती है ये सिर्फ आप ही को

सुनाई देगी तो ये सब आपके साथ होने लग

जाएगा जब आप आपको आपके इन अंगों में इस

कान या फिर आपके जो भी अंग मैंने बताए हैं

इन अंगों में आपको दर्द शुरू हो जाएगा तो

शक्तिया आपको यहां पर आभास कराने लगती है

वो है जो चौथा जो अंग है वो है आपके जीभ

पर बहुत ज्यादा खिंचाव रहता है कई कई बार

आप साधनाए करते हैं तो आपकी जीभ हल्की सी

कट जाती है जब आप मंत्र उच्चारण कर रहे हो

या ध्यान में हो कभी कभार हो जाता है ऐसा

गले में दर्द भी रहता है बहुत ज्यादा आपकी

जो जीवा है वहां पर शक्तिया बैठने लगती है

बैठती है तो आप जो भी बोलते हैं वह सच हो

जाता है ठीक है जैसे आपने बोल दिया

कि कि तेरा यह काम हो जाएगा तू यहां सफल

हो जाएगा या या हो जाएगी या तेरे साथ यह च

ये हो रहा है या दिन में तेरे ते तेरे

साथ ऐसा हो जाएगा या आपको घटनाएं वो है ना

जो चीज जो घटनाएं हैं किसीके साथ घटने

वाली आपको पहले सेही दिखने लग जाएंगी या

आप बोल दोगे तो हो जाएगी तो इसका अर्थ यही

है कि शक्तियां आपके आभास करा रही है वह

आपके साथ है और आपको समझना चाहिए ठीक है

इन लक्षणों को पांचवी जो चीज है वह है

आपके माथे पर आपका जो अंग है वह है आपका

माथा माथे पर खिंचाव होने लग जाएगा ठीक है

बहुत ज्यादा खिंचाव होगा कभी दर्द महसूस

होगा कभी हल्की चुबन होगी कभी गुदगुदी

होगी कभी भारीपन रहेगा ठीक है बहुत जल्दी

कहीं पर ध्यान लग जाएगा आते जा आप कहीं से

जा रहे हो आ रहे हो तो आपको वो चीज क्या

होने लगेंगी आपके माथे पर बहुत खिंचाव

रहेगा कई को बैठने के बाद खिंचाव होता है

किसी को चलते फिरते खिंचाव होता है को

घंटे ही रहता है तो ये क्या है ये इसका

अर्थ है कि आपकी जो कुंडली शक्ति है वो

जागृत रही आपका आज्ञा चक्र जागृत हो रहा

है आप चाहे कितनी भी दवाइया ले लो चाहे

कितने भी इंजेक्शन लगवा लो चाहे आप कोई भी

दवाई खा लो जिससे आप आपको इस चीज से

छुटकारा मिले तो क्या होगा कुछ दिन तो यह

दर्द आपका बंद हो जाएगा लेकिन फिर से जब

आप पूजा साधना में बैठोगे फिर से हो जाए

इसलिए दवाई ना खाए ऐसी चीज ना खाए अगर कोई

परेशानी है तो आप डॉक्टर को दिखाए अगर

रिपोर्ट नॉर्मल आती है तो आपको आप समझ

जाइए शक् का इशारा है धीरे-धीरे ये जो

दर्द होता है खत्म होने लग जाता है और

आपकी देव दृष्टि खुल जाती है आपको साफ

दिखाई देने लगता है छठा जो अंग है वह है

कि आपके हाथ पैरों में दर्द होने लगता है

झनझनाहट होती है आपके हाथों में कंपन होती

है आपका हाथ इधर उधर हिलने लग जाता है ठीक

है या पैरों में झनझनाहट होने लग जाएगी

पैर भारी होने शुरू हो जाते हैं तो इसका

अर्थ है कि जो आपके हाथ हैं वहां पर

शक्तियां आपकी विराजमान होने लगी है

कई बार हाथों में करंट भी लगता है ठीक है

करंट सा महसूस होता है तो यह सब आपके साथ

होता है इसका अर्थ है कि आपकी शक्तियां जो

है आपके हाथों से प्रवेश कर रही है आप

किसी के परर हाथ रख दोगे तो उसका दर्द

खत्म हो जाएगा किसी पर अगर कोई क्रिया की

गई है किसी पर कोई भूत प्रेत है या आप

कहीं किसी के घर पर जाते हो किसी के ऊपर

ऐसे हाथ रख देते हो तो वह ठीक हो जाता है

कई लोग क्या चौकी दरबार पर देखते हो कि वो

जाड़ा लगा देते हैं हाथ रख देते हैं कई

फूंक मार देते हैं तो क्या होता है ठीक और

आराम मिलना शुरू हो जाता है लोगों को

क्यों होता है क्योंकि आपके उन अंगों पर

शक्तियां विराजमान है नाक में भी हल्की सी

जलन सी महसूस होती है नाक के अंदर बहुत

ज्यादा कभी तो ज्यादा होती है कभी कम होती

है इससे क्या है आपके जो सूंघने की जो

ताकत है व बढ़ जाती है आप सकारात्मक ऊर्जा

की खुशबू को महसूस कर पाते हो जैसे गुलाब

की खुशबू आने लग जाएगी आपको अचानक से किसी

के साथ बैठे हो उसको खुशबू नहीं आ रही

लेकिन आपको आ रही है ठीक है हवन सामग्री

की खुशबू आ रही है हलवे की खुशबू आ रही है

ठीक है केवड़े के फूल की खुशबू आ रही है

दूध की खुशबू आ रही

है अलग अलग सी खुशबु आपको आने लग जाती है

ऐसा लगता है किसी ने इत्र छिड़क दिया हो

या इत्र की खुशबू आ रही है तो यह सब आपके

साथ होने लगेगा मिट्टी की भी सुगंध आती है

बहुत ज्यादा तो इसका अर्थ है कि आपकी इन

अंगों में शक्तियां प्रवेश कर रही हैं और

आप पता भी कर सकते हो बस आपको ध्यान रखने

की जरूरत है अपने आसपास देखिए कि यह सब

आपके साथ अपने अंदर देखिए आपके साथ हो रहा

है या नहीं हो रहा है आपके घर में भी अगर

आप ये चीजें करते हो जैसे किसी के ऊपर हाथ

रख देते हो किसी को बोल देते हो ठीक है तो

घर में भी काम होने शुरू जाते है हम घर

में भी पता कर सकते हो तो आशा करता हूं

आपको यह वीडियो पसंद आया होगा कमेंट बॉक्स

में जय मा काली जय मां दुर्गा हरे हर

महादेव राधे राधे जरूर लिखिए नेक्स्ट

वीडियो में फिर से मिलता हूं जय महाकाली

जय महा दुर्गा हर हर महादेव राधे राधे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *